Skip to main content

मैंने देखी पहली फिल्म : सुमन दीक्षित


स्मृतियों के झरोखे से : भारतीय सिनेमा के सौ साल –29

जुड़वा बहनों की कहानी से माँ ने मुझे प्रेरित करने का प्रयास किया



भारतीय सिनेमा के शताब्दी वर्ष में ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ द्वारा आयोजित विशेष अनुष्ठान- ‘स्मृतियों के झरोखे से’ में आप सभी सिनेमा प्रेमियों का हार्दिक स्वागत है। गत जून मास के दूसरे गुरुवार से हमने आपके संस्मरणों पर आधारित प्रतियोगिता ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ का आयोजन किया है। इस स्तम्भ में हमने आपके प्रतियोगी संस्मरण और रेडियो प्लेबैक इण्डिया के संचालक मण्डल के सदस्यों के गैर-प्रतियोगी संस्मरण प्रस्तुत किये हैं। पिछले अंक में प्रस्तुत किये गए प्रतियोगी संस्मरण को हमने इस श्रृंखला का समापन संस्मरण घोषित किया था। परन्तु हमे विलम्ब से हमारी एक श्रोता/पाठक का एक और संस्मरण प्राप्त हो गया। आज के अंक में उसी संस्मरण को प्रस्तुत कर रहे हैं। अब हम इस प्रतियोगिता का परिणाम जनवरी के दूसरे गुरुवार को घोषित करेंगे। ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ प्रतियोगिता के आज के समापन अंक में हम प्रस्तुत कर रहे है, लखनऊ निवासी, एक गृहणी श्रीमती सुमन दीक्षित का संस्मरण। सुमन जी ने बचपन में सबसे पहले फिल्म ‘दो कलियाँ’ देखी थी।


मेरा रुपहले पर्दे का साक्षात्कार पहली बार तब हुआ जब मैं 7 या 8 वर्ष की थी। फिल्म थी ‘दो कलियाँ’। मुझे वह अवसर भी अचानक मिला था, एक आकस्मिक घटना के जैसा। पाँच भाई बहनों में मैं सबसे छोटी थी। मुझसे मात्र एक वर्ष चार माह बड़ी बहन हैं। बचपन में हम दोनों के बीच गजब की प्रतिस्पर्धा हुआ करती थी। हमारे बीच खूब लड़ाई हुआ करती थी। यहाँ तक कि मुहल्ले में हमें ‘गुलाबो-सिताबो’ के खिताब से नवाजा गया था। माता-पिता और घर के और बड़े हमारी इन हरकतों पर कभी डाँटते तो कभी झुँझलाते, किन्तु हम बहनों के बीच का युद्ध बदस्तूर जारी रहता था।

उस समय हमारे ऊपर फिल्में न देखने का कठोर प्रतिबन्ध तो नहीं था, परन्तु हम घर के किसी बड़े सदस्य के साथ केवल चुनी हुई फिल्म ही देख सकते थे। हम दोनों बहनों के बीच प्रायः होने वाले वाद-विवाद से चिन्तित मेरी माँ को एक दिन हमारी एक पड़ोसन ने बताया कि दो जुड़वा बहनों के बिछड़ने और मिलने की कहानी पर बनी एक फिल्म पास के सिनेमाघर में लगी है। इस फिल्म से हमें प्रेरणा मिले और हम दोनों बहनो के बीच के झगड़े दूर हों, इस इरादे से माँ हमें फिल्म ‘दो कलियाँ’ दिखाने ले गई थीं। विश्वजीत और माला सिन्हा अभिनीत यह फिल्म माता-पिता के आपसी मतभेद की कहानी पर आधारित थी। इस अलगाव का बच्चों पर क्या असर पड़ता है, फिल्म की कहानी में इसी बात पर ज़ोर दिया गया था। आगे चलकर दोनॉ जुड़वा बहनें अपने माता-पिता को आपस में मिलाती हैं किन्तु इससे पूर्व अलग-अलग परिवेश में पल रहीं दो हमशक्ल बच्चियाँ इस बात से अनभिज्ञ थीं कि वे आपस में बहनें हैं और ठीक उसी प्रकार आपस में लड़ती रहीं, जिस तरह हम दोनों बहनें बचपन में लड़ती थीं।

फिल्म 'दो कलियाँ' को देखकर हम कुछ शिक्षा लें और आपस में लड़ना बन्द करें इस विचार से हमारी माँ और बड़ी बहन हमें फिल्म दिखाने ले गई थीं। फिल्म के कई भावुक दृश्य भी थे जिन्हें देखकर हमारे भाव तत्काल परिवर्तित भी हुए और सिनेमाघर से बाहर निकलने से पहले ही यह दृढ़ निश्चय कर लिया कि अब हम कभी नहीं लड़ेंगे। हम इतने प्यार में डूब गए कि एक दूसरे का हाथ पकड़कर बाहर निकले और घर पहुँचने तक एक दूसरे का हाथ थामे रहे। पूरा एक दिन हम बड़े प्यार से रहे, मिल-बाँट कर खाते। घर वाले बहुत खु्श हुए कि बच्चियाँ सुधर गई हैं। अब आपस में नहीं लड़ेंगी। परन्तु घरवालो की ये खु्शी ज्यादा समय तक नही रह पाई। कुछ ही समय में हम अपने असली रुप में आ गए और फिर उसी तरह लड़ने-झगड़ने लगे।

कुछ भी हो, बहाना कोई भी हो, पर पहली बार फिल्म देखने का रोमांच अलग ही था जो आज तक चेतना-पटल पर ताज़ा बना हुआ है। पिक्चर हाल में पहली बार जाने का अनुभव, गीत-संगीत सुनना, और हीरो-हीरोइन को देखना हमारे जीवन की एक बड़ी उपलब्धि से कम न थी। फिल्म का एक गाना- 'बच्चे मन के सच्चे...' हम काफी समय तक गुनगुनाते रहे। नीतू सिंह का बचपन उन बच्चियों के रुप में बहुत अच्छी तरह याद है। आज भी नीतू सिंह का नाम याद आते ही या उन्हें टेलीविज़न के परदे पर देखते ही ‘दो कलियाँ’ वाली नीतू सिंह याद आ जाती है और याद आ जाता है, हम बहनों के बचपन का युद्ध।

इतेफाक सें मैं भी दो जुड़वा बेटों का माँ बनी। अब तो दोनों वयस्क हो गए हैं, लेकिन उनके बचपन के दौर में मैं हमेशा सतर्क रहती थी कि हमारे बच्चे वह गलती न दुहराएँ, जो हमने अपने बचपन में की थी।

सुमन जी की देखी पहली और प्रेरक फिल्म ‘दो कलियाँ’ के बारे में अभी आपने उनका संस्मरण पढ़ा। अब हम आपको इस फिल्म के दो गीत सुनवाते हैं, जो सुमन जी को ही नहीं आपको भी पसन्द आएगा। 1968 में प्रदर्शित फिल्म ‘दो कलियाँ’ के संगीतकार हैं रवि और गीत लिखे साहिर लुधियानवी ने।

प्लेयर का पहला गीत - फिल्म – दो कलियाँ : ‘बच्चे मन के सच्चे...’ : लता मंगेशकर


प्लयेर का दूसरा गीत - फिल्म – दो कलियाँ : ‘चितनन्दन आगे नाचूँगी...’: आशा भोसले 



आपको सुमन जी का यह संस्मरण कैसा लगा, हमें अवश्य लिखिएगा। आप अपनी प्रतिक्रिया radioplaybackindia@live.com पर भेज सकते हैं। ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ प्रतियोगिता का यह समापन संस्मरण था। इस प्रतियोगिता का परिणाम और विजेताओं के नाम 10 जनवरी, 2013 के अंक में घोषित करेंगे। नए वर्ष से हम इस स्तम्भ के स्थान पर एक नई श्रृंखला आरम्भ करेंगे। आप अपने सुझाव, संस्मरण और फरमाइश अवश्य भेजें।  

प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 


Comments

शिशिर कृष्ण शर्मा said…
उत्तम !!!...मर्मस्पर्शी...और अंत में भीतर तक गुदगुदाने वाली !!! :)
Pankaj Mukesh said…
bahut hi sunder yadein, ek marmsparshi shailee poorn prashtuti!!!!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया