Saturday, December 22, 2012

'सिने पहेली' में आज क्रिस्मस स्पेशल


22 दिसम्बर, 2012
सिने-पहेली - 51  में आज 

पहचानिये सैण्टा क्लॉस के पीछे छुपे चेहरों को


'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, पिछली कड़ी में हमने आपसे जो सवाल पूछा था, उसके जो जवाब आप सब ने भेजे हैं, उसे देख कर हम सचमुच चकित रह गए हैं। हमने तो यही सोचा था कि आप ज़्यादा से ज़्यादा 40-50 गीत चुन कर भेजेंगे, पर आप में से कई प्रतियोगियों ने तो इससे कई गुणा अधिक गीत लिख कर भेजे हैं। पर दोस्तों, कई बार क्या होता है कि क्वान्टिटी के अधिक होने से क्वालिटी पर असर पड़ता है, आप सब के साथ भी वही हुआ। बिना जाँच-पड़ताल किए सीधे इंटरनेट से उपलब्ध जानकारी के अनुसार गीतों की सूची भेजने की वजह से कई गीत आप ने ग़लत भी भेज दिए हैं। तीन गायकों वाले कुछ गीतों में चौथा नाम डाल कर भी कुछ गीत आये हैं (उदाहरण - फ़िल्म 'राम लखन' के गीत "माइ नेम इज़ लखन" को मोहम्मद अज़ीज़, अनुराधा पौडवाल और नितिन मुकेश ने गाया है, जबकि कुछ प्रतियोगियों ने अनुराधा श्रीराम का नाम भी शामिल कर दिया है, जो ग़लत है)। इसी तरह से पाँच गायकों वाले गीत में से एक नाम हटा कर भी कुछ गीत हमें मिले हैं (उदाहरण - "दुक्की पे दुक्की हो या सत्ते पे सत्ता", "मिस्टर लोवा लोवा तेरी आंखों का जादू" आदि)। कुछ प्रतियोगियों ने एक ही गीत को एकाधिक बार अपनी सूची में शामिल किया है। एक प्रतियोगी ने तो एक गीत को तीन बार लिखा है। इन सब के चलते केवल दो दिनों में पिछली पहेली के परिणाम व विजेताओं की घोषणा कर पाना हमारे लिए असंभव हो गया है। हम आपके द्वारा भेजे गये हर गीत की जाँच कर रहे हैं, और यह जाँच पूरी होने पर ही 'सिने पहेली-50' के विजेताओं के नाम घोषित किए जायेंगे। सम्भवत: अगली कड़ी या उसकी अगली कड़ी में यह संभव हो पाएगा।

'सिने पहेली - 50' तथा पाँचवे सेगमेण्ट के परिणामों की घोषणा 29 दिसंबर अथवा 5 जनवरी के अंक में की जाएगी। इस विलम्ब के लिए हम क्षमाप्रार्थी हैं।


तो चलिए 'सिने पहेली' के सफ़र में आगे बढ़ते हैं और शुरू करते हैं इस प्रतियोगिता का छ्ठा सेगमेण्ट, अर्थात् 'सिने पहेली - 51'। क्योंकि नये सेगमेण्ट की शुरुआत हो रही है, इसलिए हम नये प्रतियोगियों का एक बार फिर से आह्वान करना चाहेंगे...


नये प्रतियोगियों का आह्वान

नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। अगले सप्ताह से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के साथी, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बताएँ और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम। अब महाविजेता कैसे बना जाये, आइए इस बारे में आपको बतायें।

आज की पहेली : 'मेरी' क्रिस्मस, तेरी पहेली


'सिने पहेली' के सभी प्रतियोगियों को हमारी तरफ़ से क्रिस्मस की हार्दिक शुभकामनायें। सैण्टा क्लॉस क्रिस्मस का अभिन्न अंग हैं। सैण्टा के बिना बच्चों और बड़ों, सब की क्रिस्मस अधूरी है। इसलिए आज की पहेली को तैयार करने में सैण्टा क्लॉस का ही हमने सहारा लिया है। हमने दस अभिनेता और गायकों को सैण्टा का जामा पहनाया है, अब आपको इस अभिनेताओं व गायकों की शिनाक्त करनी है। तो ये रहे वो दस कलाकार, ध्यान से इन तसवीरों को देखिये और पहचानिये सैण्टा क्लॉस के पीछे छुपे इन चेहरों को....













जवाब भेजने का तरीका

उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 51" अवश्य लिखें, और अन्त में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें गुरुवार, 27 दिसम्बर, शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।



कैसे बना जाए 'सिने पहेली महाविजेता'

1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स।

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा।

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। चौथे सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...


4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।


'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, आज के लिए मुझे अनुमति दीजिए, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी, आप सभी को एक बार फिर से "मेरी क्रिस्मस",  नमस्कार। 



30 comments:

Pankaj Mukesh said...

Sujoy ji, har photo kisi gayak ya abhineta ka hai? ya phir gayak tatha abineta jaise kishor kumar, amitabh bachchan, sonu nigam.

Pankaj Mukesh said...

SUJOY JI GAUTR FARMAYEN-फ़िल्म 'राम लखन' के गीत "माइ नेम इज़ लखन" को मोहम्मद अज़ीज़, अनुराधा पौडवाल और नितिन मुकेश ने गाया है, जबकि कुछ प्रतियोगियों ने अनुराधा श्रीराम का नाम भी शामिल कर दिया है, जो ग़लत है"
WIKKIPEDIA PAR YE NAAM DIYA GAYA HAI.
http://en.wikipedia.org/wiki/Ram_Lakhan
AAP AGAR POORA GANA SUNENGE TO AAPKO MILEGA KI-
ANIL KAPOOR-MD. AZIZ.
MADHURI DIXIT-ANURADHA PAUDWAL
JAIKKEY SHROFF-NITIN MUKESH
RAKHEE GULZAR- ?????
"KAHNA BADON KA TUM MAN LO.....NAHIN HO 2 DONO HO NO. 1, JIYO RAM LAKHAN...KIS KI AAWAAZ MEIN HAI???PAUDWAL YA PHIR SRIRAM???AAP HI DECIDE KAREIN!!!
http://www.youtube.com/watch?v=EsYQ8ttvYUg

Mahendra said...

ये तो होना ही था । क्‍योंकि पहेली के अंको का आधार ही गलत था । जो जितने ज्‍यादा गीत भेजेगा उसे उतने ही ज्‍यादा अंक मिलेंगे । और कौनसा गीत सही है और कौनसा गलत इसका सर्वाधिकार भी आपके पास ही सुरक्षित है । जैसा कि भई पंकज मुकेश ने बताया है कि इंटरनेट पर यही विवरण उपलब्‍ध है । और आपके मुताबिक ४० से भी कई गुना ज्‍यादा गीत भेजने वालों ने भी गीत की सत्‍यता की जांच थोडे ही की है । जो इंटरनरेट पर मिला उसे ही शामिल कर लिया । और इंटरनेट पर भी अलग अलग साईट पर अलग अलग जानकारी होती है । तो इसमें विवाद की संभावना ज्‍यादा रहेगी । मेरा मत है कि इस प्रतियोगिता को दोबारा करना सही रहेगा और अधिकतम अंक सीमा का निर्धारण भी होना चाहिए । आपकी प्रत्‍येक पहेली लगभग १० अंक की होती है तो इस पहेली में २०० से २५० अंक क्‍यों । बाकी पहेली को चलाने वाले आप हैं तो सर्वाधिकार तो आपके पास ही सुरक्षित है ।

gautam kewaliya said...

पिछली पहेली में एक बचकाना पहल आयोजकों द्वारा की गयी थी जिसका अनुसरण प्रतिभागियों द्वारा किया गया. श्री सुजॉय चटर्जी का कहना है कि 'हमने तो यही सोचा था कि आप ज़्यादा से ज़्यादा 40-50 गीत चुन कर भेजेंगे, पर आप में से कई प्रतियोगियों ने तो इससे कई गुणा अधिक गीत लिख कर भेजे हैं।' क्या श्री सुजॉय चटर्जी ये स्पष्ट कर सकते हैं कि उनकी इस तथाकथित सोच का आधार क्या है?
अगर क्वांटिटी और क्वालिटी का आपको इतना ही ख्याल रखना था तो 'नेगिटिव मार्किंग' का प्रावधान रखा जा सकता था. कोई भी पहेली एक परीक्षा की तरह होती है और हर परीक्षा में प्रतिभागी अपनी सोच और अपने ज्ञान के आधार पर अपने जवाब देता है. अब ये तो परीक्षक के विवेक पर निर्भर करता है कि वो 'सार-सार को गहि रहे और थोथा देय उडाय' की उक्ति को कैसे चरितार्थ करता है.
पहेली में भेजे गये जवाबों को उदाहरण दे कर प्रकाशित कर, वस्तुतः आयोजकों ने अपनी खिसियाहट को ही उजागर किया है.
पिछली पहेली ने जहाँ पहेली की रोचकता को समाप्त किया है वहीँ श्री सुजॉय चटर्जी की टिप्पणी ने हतोत्साहित करने का कार्य किया है. अगर पहेली के आयोजकों द्वारा यही रवैया जारी रखा गया तो पहेली में सम्मिलित ना होना ही श्रेयस्कर होगा!!
Hari Bol...

Pankaj Mukesh said...

Sathiyon,!! aap sabhi itna jyada uttejit mat hoiye!!aisa hota hai!!!
maine apna poora 5 din lagay, yahan tak ki thursday ka lunch bhi miss kar gaya, phir bhi mujhe santushti nahin hui, ki maine apna 100 % diya.
aisa sabke sath huwa hoga. ab hum logon ka role khatam ho gaya. sujoy ji ko badi samajhdaari se nirnay lena hoga!!!hum sabki samasya ab unki ban gayi hai, aap log soch sakte hai kam se kam 10 guna!!!
Mahendra i kahna bilkul sahi hai...hum sabhi ke paas sabhi filmon ka EP/CD/DVD/CASSETTES available nahin hain jo 100 % sahi answer likhein, maine to sabse jyada authetic website wikkipedia ka anusaran kiya hai. ispar bhi agar ayojako ko sandeh ho to to mamla jatil hoga hi....goldenjublee episod phir se hona chahiye...behatar sujhaaw jayi hai.. sujoy ji ka bhi sardard khatam ho jayega!!!chaliye hum logon ne apna 5 din bhajan kirtan mein raam raam jap karne mein laga diya...mere khayaal se golden jublee jaisee quawality ka episod nahin tha... prashna mushkil bhi rahta to bhi sukoon thaa. magar is tarah ka mairaathan daud to mazdoori jaisaa lag raha tha...
kshama prarthi hoon agar kuchh aasha se pare tippadi mujhase hui ho !!!!!

Pankaj Mukesh said...

ek aur taza taza udaharan yaad aaya- rafi sahab ka naushad ji ke sath pahale gane mein Md. Rafi ka naam record par nahin tha... Rafi sahab ko chahne wala aadmi aise gaane ko ignore nahi karega. mukesh ji ke bhi aise gaane hain jo uncredited hain aur naam chorus diya gaya.
PAG GHUNGHARU BANDH MEERA- NAMAK HALAAL KA SINGER LIST HAMESHA KISHOR KUMAR HI MILTA HAI, MAGAR EK AUR SINGER THEY IS GAANE MEIN, JISKI CHARCHA CINE PAHELI MEIN HO CHUKI HAI..
YAHI HAAL ANURADHA PAUDWAAL KE ABHIMAAN FILM KE SANSKRIT SHLOK KA BHI HAI.
AISEE PARISTHITI MEIN SAMASHYA TO AAYEGI HI. PRASHNA ULJHAAANE WALA JAROOR HO MAGAR, ULAJHANE WALA NA HO.. AISA PRASHNA JISKA SIRF AUR SIRF EK HI JAWAB HO....

प्रकाश गोविंद said...


जो हुआ ... अच्छा हुआ
जो हो रहा है ... अच्छा हो रहा है
जो होगा ... वो भी अच्छा ही होगा !

-----------------

आयोजकों से दो शब्द :
---------------
हम सभी प्रतियोगी बहुत ही मामूली संगीत प्रेमी भर हैं .... संगीत विशेषज्ञ नहीं हैं !

मेरा तो इस बार पहेली में हिस्सा लेने का कोई संयोग ही नहीं बन रहा था ... कंप्यूटर ही खराब था ! आखिरी दिन किसी तरह हड़बड़ी में कुछ गाने खोजे और समय सीमा ख़त्म होने से पहले भेज दिए !
जिस तरह की पहेली थी उसमें गलतियाँ होनी स्वाभाविक हैं ! हमारी जानकारी का अधिकाँश स्रोत अंतरजाल है ...और वहां पांच जगह पांच तरह की जानकारियां हैं ... प्रतियोगी आखिर क्या करेगा ?

कभी हमारी भी परेशानी सोच लीजिये .... किसी तरह समय निकालकर पहेली को सुलझाने में लगे तो लाईट गायब ... कभी कंप्यूटर खराब ... नेट स्पीड इतनी वाहियात कि एक साईट खुलने में ही दस मिनट लग रहा है ... यूं ट्यूब पर तो गाना सुनना ही असंभव हो जाता है ! गाने के नीचे लिखा है सिर्फ एक गायक का नाम और गाना सुनने लगो तो पता चलता है कि चार गायक हैं ! लिखा है तीन गायक ... और सुनने लगो तो पता चलता है पांच गायकों ने गाया है :)

क्या ये बेहतर न होता की आपने यूँ कहा होता कि प्रतियोगी चार गायकों वाले बीस गाने बताएं ! सबसे पहले जवाब देने वाले को पांच अंक बोनस में दिए जायेंगे ! गलत जवाब देने पर एक/दो अंक काट लिया जाएगा !
-
-
आप आयोजक हैं तो हम प्रतियोगियों को आपका प्रत्येक निर्णय स्वीकार करना ही होगा ! अब अगर आप इस पहेली को निरस्त करते हैं तो भी स्वीकार है ! लेकिन अगर आप परिणाम घोषित करते हैं तो इतना अनुरोध अवश्य करूँगा कि भले ही आप रिजल्ट दो-चार हफ्ते विलम्ब से घोषित करें लेकिन परिणाम में इतना तो बताया ही जाए कि किस प्रतियोगी ने कितने गाने भेजे थे और उसके कितने एवं कौन से गाने गलत थे !

मैं तो बहुत पीछे हूँ किन्तु जिन प्रतियोगियों ने दो-तीन सौ गाने भेजे हैं ... उन्होंने गानों को खोजने में बहुत परिश्रम किया होगा !

सादर व सप्रेम

gautam kewaliya said...

अभी-अभी, श्री पंकज मुकेश जी का आह्वान पढ़ा-'साथियों उत्तेजित मत होइए!'
मैं उनसे पूछना चाहूँगा, क्यों उत्तेजित ना हों?
क्या सिने-पहेली बनाने और चलाने वालों का कोई उत्तरदायित्व नहीं है कि आने वाली टिप्पणियों का कोई सार्थक जवाब दें?
जैसा कि श्री पंकज मुकेशजी ने कहा-'chaliye hum logon ne apna 5 din bhajan kirtan mein raam raam jap karne mein laga diya...'मैं उनके इस कथन से इत्तेफ़ाक नहीं रखता और ना ही उनकी इस बात का समर्थन करता हूँ कि-'....goldenjublee episod phir se hona chahiye..'
बेहतर होगा, अगर आयोजक इस पहेली की गरिमा को बनाए और बचाये रखने में असुविधा महसूस कर रहे हैं तो अपना जुलूस निकलवाने की बजाय सिने-पहेली को स्थगित कर दें!!
Hari Bol...

Sujoy Chatterjee said...

साथियों, 'सिने पहेली-50' को लेकर जो विवाद खड़ा हुआ है, उसके लिए सबसे पहले मैं आप सभी प्रतियोगियों से क्षमा चाहता हूँ। इस तरह का प्रश्न मैंने यही सोच कर पूछा था कि जिस प्रतियोगी को चार गायकों वाले सर्वाधिक गीत मालूम होंगे, वही सर्वोच्च स्थान पर रहेगा। मैंने ऐसा सपने में भी नहीं सोचा था कि आप सब खाना-पीना और काम-काज छोड़ कर इंटरनेट पर बैठ जायेंगे गीत ढूंढने के लिए। यह तो तरीका ही ग़लत हो गया। हो सकता है कि एक प्रतियोगी ने अपने ज्ञान और स्मृति शक्ति से 10 गीत चुन कर भेजा हो, और दूसरी तरफ़ एक प्रतियोगी इंटरनेट में खोज कर 200 गीत भेजा हो। ऐसे में तो सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का आंकलन नहीं हो सकता। और जब कि यह निर्णायक एपिसोड है पाँचवे सेगमेण्ट का, इसलिए यह बहुत ही अनुचित होगा अगर हम इस पहेली को बरकरार रखें। मेरे ख़याल से 'सिने पहेली-50' को दुबारा आयोजित करना ही ठीक रहेगा, बाकि मैं कृष्णमोहन जी और सजीव जी पर छोड़ता हूँ। और साथियों, क्रिस्मस और न्यू यीअर का मौसम है, मुझसे जो आप सबकी नाराज़गी है, उसे थूक दीजिए और ख़ुशी-ख़ुशी year-end का मज़ा लीजिए। मैं विश्वास दिलाता हूँ कि किसी भी प्रतियोगी के साथ अन्याय नहीं होगा। गौतम

आपका,
सुजॉय चटर्जी

Vijay Vyas said...

कृष्णमोहन जी और सजीव जी से अनुरोध है कि सुजॉय भाई को 'सिने पहेली-50'दुबारा आयोजित करवाने का आग्रह करें क्‍योंकि जब यह पहेली रखी गई थी तभी से शीर्ष पर पहुँचे हुए अधिकांश प्रतियोगी इस पहेली से खफा हैं। मैं पंकज मुकेश जी, महेन्‍द्र जी,गौतम जी और प्रकाश गोविन्‍द जी की बातों से पूर्णत: सहमत हूँ। रेडियो प्‍लेबैक के संचालक एवं सभी प्रतियोगियों को मेरी ओर से क्रिस्‍मस और नूतन वर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाऍं।

Pankaj Mukesh said...

Ab lijiye Prakash Govind ji ki bhi pareshani suniye!! har koi pareshan raha poore saptah!!!
Cine paheli-50 ko nirast kar dubara kiya jaay ya nahin, mere khayal se polling karvani chahiye!!! for and against!!!jitne jyada peatiyogi dubara karvane ki ichchha rakhenge, to bubara hi hona chahiye!! kyonki hum sab ne badi mehanat ki hai to wo mehanat waste bhi na ho!!iska bhi dhyan rahna chahiye!!!paksh dono barabar aur shashakt hai!!!bahut soch samajh kar sanchalak mandal fasla lein..mera agrah hai ki kripaya har episod ka maximum marks fix kar dein, agar koi fer-badal karnee ho to ek episod pahle hi ghoshna kar dein ki agle cine paheli mein kuchh is tarah hi pherbadl hoga, sab log taiyaar rahein...
Gautam kevaliya ji se kahna chahunga ki 'साथियों उत्तेजित मत होइए!' likhane ka mera purpose sirf ye tha ki is tarah ye lambe discussion koi naya roop na le le..
agar aap ya hum ko is tarah ki paristhiti ka nirnay karna ho to kitnee muskil ho sakti hai...har koi insaan hai, galatiyan hoti hai. Sujoy ji ne bhi apni baat kah dee!!mere khayaal se ab bas "wait and watch" aur chein to 2 kya 2 maheene ka samay le magar hamari mehnat ka parinam zaroor baya jaay. jaisa prakash govind ne kaha.. mere kitne songs galat hain, ye jaanane ka haq har kisi ko hai. bakisab log aanand poorvak is saal ko alvida kahein mukesh ke kuchh gaane gaate- TUMHARI BHI JAI JAI, HAMARI BHI JAI JAI, NA TUM HAARE NA HUM HARE....DIWAANA
SAAL MUBARAK SAHAB JI!!!-do jasoos
"MARRY KRISHMAS"

सुजॉय चटर्जी said...

साथियों, संचालक मंडल से विचार-विमर्श करने के बाद हम इस नतीजे पर पहुँचे हैं कि 'सिने पहेली-50' को निरस्त कर दिया जाये और अगले सप्ताह इसे दोबारा आयोजित किया जाये। 'सिने पहेली-50' के लिए आप सब ने जो जी-तोड़ मेहनत की है, उसका हम सम्मान करते हैं और एक बार फिर से क्षमा माँगते हैं। आप सब ने जो सुझाव दिये हैं, उन पर हम ग़ौर करेंगे। आप सब 'सिने पहेली' से अपना नाता बनाये रखें।

'सिने पहेली-51' के जवाब भेजना मत भूलियेगा....

आपका,
सुजॉय चटर्जी

Sajeev said...

कभी कभी जिस सोच के साथ कोई काम किया जाता है उस अनरूप परिणाम नहीं प्राप्त हो पाते. जब सुजॉय ने इस तरह का सवाल किया था तो मुझे भी लगा कि ये एक बढ़िया प्रयास है, और इससे दिलचस्पी बढ़ेगी कि आखिर कौन बनेगा विजेता...मगर बात कुछ उलटी पड़ गयी लगता है. मेरे ख्याल से हम सब इंसान गलतियाँ करते हैं और हर फैसला सही निकले इसकी गैरंटी कोई भी नहीं दे सकता. मुझे लगता है गौतम केवलिया जी ने हम पर कुछ ज्यादा ही गहरे इल्जाम मढ दिए हैं. हम सब कभी न कभी इस तरह के फैसले कर बैठते हैं जो अपेक्षित परिणाम नहीं दे पाते. क्या इंसान होने के नाते हमें भूल करने का हक नहीं है ? ऐसे में हमारी यानी संचालक मंडल की नीयत पर सवाल उठाना कहाँ तक सही है ? खैर आज सुबह मेरी सुजॉय से बात हुई है और सुजॉय और कृष्णमोहन जी इस एपिसोड को दुबारा से करवाने के पक्ष में है, आप सब से अनुरोध है कि अपनी राय दें...ताकि भूल सुधार किया जा सके मगर इस निर्णय के बाद फिर कोई नयी शिकायत न करे इस लिए आप सब की राय आवश्यक है, यदि आप निर्णय हम पर छोड़ते हैं तो ये माना जायेगा कि आप हमारे फैसले से सहमत हैं

चन्द्रकांत दीक्षित said...

पहेली देख कर मुझे आश्चर्य हुआ था क्यों कि इस पहेली में संचालकों को उतनी ही गुना मेहनत करनी थी जितना कि भाग लेने वाले लोग होते |अब उचित होगा कि पहेली को दोबारा कराया जाये पर चूँकि सभी प्रतिभागियों ने मेहनत की है अतः ये तो बताया ही जाये कि आखिर किसने कितने सही गीत भेजे, मैंने तो केवल पास उपलब्ध सीडी कवर से देख कर गीत लिख कर भेजे थे.

gautam kewaliya said...

अभी-अभी श्री सजीव सारथी जी की टिप्पणी पढ़ी. उनका ये कहना कि,"मुझे लगता है गौतम केवलिया जी ने हम पर कुछ ज्यादा ही गहरे इल्जाम मढ दिए हैं..." मुझे उचित नहीं लगा. मैंने अपने अनेक जरूरी कामों को दरकिनार करके पहेली में पूछे गये गीतों को ढूंढने का प्रयास किया था मगर शनिवार को जब सिने-पहेली-५१ प्रकाशित हुई तो आयोजकों ने जिस परिहसात्मक अंदाज़ में सिने-पहेली-५० के प्रतिभागियों का उदाहरण दे-दे कर मखौल उड़ाया गया, वो मुझे नागवार गुज़रा. क्या प्रतिभागियों के प्रयासों का इस प्रकार सार्वजनीकरण आवश्यक था?
मेरे विचार से हमारी एक सप्ताह की अथक मेहनत को यूँ जाया किया जाना उचित नहीं होगा और मैं इसे दोबारा करवाए जाने के विरुद्ध हूँ.
मेरा वोट इस पहेली को दोबारा ना करवाए जाने के लिए रहेगा!
Hari Bol...

Vijay Vyas said...

सजीव जी, आपने कहा कि सभी प्रतियोगियों की राय आवश्‍यक है जब कि आपसे पहले सुजॉय भाई लिख चुकें हैं कि 'साथियों, संचालक मंडल से विचार-विमर्श करने के बाद हम इस नतीजे पर पहुँचे हैं कि 'सिने पहेली-50' को निरस्त कर दिया जाये और अगले सप्ताह इसे दोबारा आयोजित किया जाये'। नतीजे के बाद रायसुमारी हो रही है। संचालक मण्‍डल इसे अन्‍यथा न लें परन्‍तु रेडियोप्‍लेबैक के संचालकों के बीच आपसी सामंजस्‍य का अभाव एकदम साफ प्रतीत हो रहा है। सभी वक्‍तव्‍यों को ध्‍यान से पढने के बाद मेरा मानना है कि यह एक शुद्ध बहस है क्‍योंकि अपने अपने मन की बात सभी ने सच्‍चाई के साथ प्रस्‍तुत कर दी और यह बहुत अच्‍छा संकेत है कि संचालक मण्‍डल के अलावा भाग ले रहे प्रतियोगी भी संजीदा और स्‍पष्‍टवादी है। साथी प्रतियोगियों के कमेन्‍ट पढकर मैनें ऊपर एक पोस्‍ट में लिखा था कि यह पहेली दोबारा आयोजित की जाऐ परन्‍तु गौतम जी का पहला ही मत विरोध में आ गया है। संचालक मण्‍डल की भी सहमति-सी ही है कि गल्‍ती पहेली बनाने में हुई है न कि किसी प्रतियोगी के उत्‍तर के कारण। हॉं, यह सही है कि जी-तोड़ मेहनत की है, इस वजह से इसका परिणाम जारी किया जाना उचित है। कन्‍फ्यूजन तो बहुत है परन्‍तु परिणाम जो भी हो देखा जाऐगा। सिने पहेली 50 के परिणाम की रोचकता का बेसब्री से इन्‍तजार है।

Amit said...

मेरे हिसाब से इस पहेली का परिणाम प्रकाशित किया जाना चाहिए लेकिन इसके अंको को न जोड़ा जाए। सभी लोग बहुत मेहनत करते हैं और कोई भी नहीं चाहेगा कि रेडियो प्लेबैक इण्डिया परिवार का कोई सदस्य नाराज हो।जहाँ तक सर्वाधिकार की बात है तो विश्वास कीजिये की उत्तरों की सत्यता की जांच पूर्णतया करने के बाद ही अंक दिए जाते हैं न कि इन्टरनेट पर दिए गए लेखों के आधार पर। इन्टरनेट पर हम आप जैसे लोग ही लेख लिखते हैं जिसके ऊपर 100 प्रतिशत भरोसा नहीं किया जा सकता। उत्तरों की जांच के लिए हर मंदिर सिंह 'हमराज़' द्वारा लिखा 'हिन्दी फिल्म गीत कोश' का इस्तेमाल किया जाता है। पंकज जी विकिपीडिया 100 प्रतिशत विस्वसनीय नहीं है। इसे कोई भी अपडेट कर सकता है।
आप सभी लोगों की बातें ही हमें प्रोतसाहित करती हैं। नाराजगी छोड़िये और अपने सुझावों से आपकी अपनी साईट को नयी ऊंचाइयों तक पंहूचाइये

Pankaj Mukesh said...

मेरे हिसाब से संचालक मंडल को बिना प्रतिभागियों का वोट लिए बिना फैसला नहीं करना चाहिए। अभी भी समय है, संचालक मंडल को सभी सिने पहेली 41 से 50 तक (केवल 41 से 50 तक भाग लेने वाले प्रतिभागी ही वोट दें) प्रतिभागियों से आग्रह करें की वो अपना मत सिर्फ एक शब्द में ( रिपीट/ डोन्ट रिपीट ) गुप्त रूप से लिख कर e-मेल करें, जैसा आम चुनाव में होता है। अगर कोई प्रतिभागी आगामी 2 दिन तक अपना वोट नहीं देता है तो संचालक मंडल के फैसले से सहमती को दर्शायेगा। मै गौतम केवलिया और विजय कुमार व्यास जी से 100 % सहमत हूँ। अगर गलती प्रश्न बनाने में हुई तो प्रतिभागी लोग इसका खामियाजा क्यूँ भुगतें ?? हम सबने जी जान लगा के मेहनत की है, किस किस परिस्थिति में पूरे 5 दिन लगाये। इसका परिणाम घोषित किया जाना चाहिए, अंक स्कोर कार्ड में जुड़ने चाहिए या नहीं ये संचालक मंडल निर्णय करे। हम सब इंतज़ार करेंगे, और सुजोय जी अपना पूरा समय लगा कर 2-3 महीने में बिना किसी व्यक्तिगत कार्य / समय / समस्या की हानि होते, कौन सा गीत गलत है इसका विवरण दें ताकि भविष्य में हम लोगों को भी तो इस बात की शत प्रतिशत जानकारी रहे की फला गाना 4 गायकों की श्रेणी में नहीं आता ! सिने पहेली न केवल हमारे फ़िल्मी ज्ञान का आकलन करती है, बल्कि हमारे गलत जवाब का सही हल बता कर हमारा फ़िल्मी ज्ञान में इजाफा भी करती है।

अब अमित तिवारी जी से मैं यह कह देना चाहता हूँ, की विक्किपेडिया को कोई भी अपडेट कर सकता है मगर authenticity गलत होती है तो अपडेट रेजेक्क्ट 1 सप्ताह में हो जाती है ! अब हर मंदिर सिंह 'हमराज़' द्वारा लिखा 'हिन्दी फिल्म गीत कोश' का भी मैं अपना अनुभव बताता हूँ वो भी 100 % सहीं नहीं है, मैं केवल मुकेश के गीतों को लेकर बयां कर रहा हूँ, बाकि बहुत सारे गायक लोग हैं। इसी किताब को आधार बना कर एक वेबसाइट बनाई गयी है 10-15 साल पहले जो 100 % करेक्ट नहीं है। ये सही बात है की हमराज जी ने और हरीश रघुवंशी जी (मुकेश गीत कोष लेखक)गानों को सुन सुन कर भी गानों का डिटेल लिखे हैं जिनके डिटेल्स मौजूद नहीं थे। खैर ये वाद विवाद का विषय बहन जायेगा। संचालक मंडल जिस किसी को फॉलो करेंगे मुझे स्वीकार है।

Sujoy Chatterjee said...

Dear all,

It has been decided to have voting on the issue of whether to dismiss CP-50 or not.

Please visit www.radioplaybackindia.com on Tuesday morning (25th Dec) 9 am to cast your vote.

Voting lines shall be open till Friday (28th Dec) 5 pm.

Participants who have taken part in atleast one episode of the 5th segment (CP-41 to 50) are eligible to cast vote.

Voting result shall be declared in CP-52 (29th Dec). In case, majority is in favour of repeating CP-50, then same shall be done on 5th Jan. Otherwise, result of CP-50 shall be declared once we validate EACH & EVERY SONG sent by the participants, which shall take time.

If a participant does not cast his/her vote till Friday, then it will be considered to be in favour of repeating CP-50.

Regards,
Sujoy Chatterjee

gautam kewaliya said...

श्री सुजॉय चटर्जी की टिप्पणी पढ़ी. मैं उनसे एक बात पूछना चाहूँगा, क्या भविष्य में किसी पहेली विशेष के सन्दर्भ में अधिसंख्य प्रतिभागी, उस पहेली विशेष को दोबारा करवाने के लिए वोटिंग करवाना चाहेंगे तो क्या आयोजक-मंडल उसके लिए तैयार हो पायेगा?
श्री सुजॉय चटर्जी का ये कहना कि,"If a participant does not cast his/her vote till Friday, then it will be considered to be in favour of repeating CP-50." मैं उनसे यहाँ ये पूछना चाहूँगा, क्या वर्तमान सरकार ये घोषणा कर सकती है कि आगामी चुनावों में जो मतदाता, मतदान नहीं करेगा- उसका मत सरकार के पक्ष में मान लिया जायेगा?
जिस प्रतिभागी ने सिने-पहेली-५० में शिरकत ही नहीं की हो, उसे वोटिंग का अधिकार देने का आयोजक-मंडल का निर्णय भी पूर्वाग्रह से ग्रसित जान पड़ता है.
Hari Bol...

gautam kewaliya said...

मेरे विचार से वोटिंग करवाना और पहेली को आयोजकों की सुविधा के लिए निरस्त किया जाना, एक गलत परम्परा की शुरुआत करना होगा जो ना सिर्फ़ सिने-पहेली की साख पर बट्टा लगाने जैसा होगा बल्कि आयोजकों की विश्वसनीयता पर प्रश्न-चिन्ह लगाने वाला कृत्य होगा.
Hari Bol..

Sujoy Chatterjee said...

Gautam sahab,

1. CP-50 ko lekar vivaad participants ne hi shuru kiya hai. maine sirf itna likha tha ki jahaan quantity par zor diya jaata hai wahaan quality nahi mil paati. ismein galat kya tha? bas itni si baat ko lekar aap ne hungama khadaa kar diya.

2. humne to yeh kaha bhi nahi tha ki CP-50 ko cancel kiya jaaye. participants khud hi sure nahi the ki karwana kya hai. Mahendra Kumar Ranga ne hi CP-50 ko dobara karwane ka sujhaav diya tha.

2. mujhe CP-50 ke results declare karne mein koi problem nahi hai, haan thoda samay zaroor lag sakta hai. aap yeh mat sochiyega ki hum CP-50 ke results declare karne ke soch se pareshaan hain.

3. Voting karwane ka sujhaav bhi aap participants ki taraf se hi aaya tha.

4. Now its final that voting will take place. CP_50 mein total 10 participants ne bhaag liya tha. sabke votes liye jayenge. jinke votes nahi aayenge, unhe SMS karke unse poochhaa jayega. ab isse zyada main aur kuch nahi kar sakta.

Pankaj Mukesh said...

Mre hisaab se bahut sahi nirnay huwa hai. Gautam ji! ab sab bhool jaiye crismas ka dinh hai, achha mahaul banaiye!! aayojk log bhi hum logon ki tarah insaan hai, kisi ko cine paheli se koi fayada nahin milta, milta hai to bas toda manoranjan, cine gyaan!!! sabhi ne apni baat kah daali! batein jitnee hogi, utnee hi badhatee jayegi!!! mere hisaab se shayad yahi participents ko jo bhi kahna hai, vo votin ke dwara kahein. bas ek sudhar itnee hi ki janee chahiye, ki jitney vote "yes" or "no" ke liye diye gaye hon utney par hi faisla honi chahiye..
hum sab ko Ayojakmandal ke har kadam par poorn wishwas raha hai, aur rahega!!!aasha karta hoon ki mera ye aakhiri post is lambe bahas ka hum sabke taraf se aakhiri post hoga.. Marry crismas!!!

प्रकाश गोविंद said...


I would like to quit this Cine paheli now.

It was a good experience. I am happy that I could maintain lead till now. It is really difficult for me to spend so much of time and continue participating for another 50 weeks to get one result!

Thanks to all friends and organizers of this quiz.


**********************************
I wish everyone
a Merry Christmas and a Happy new year.
**********************************

gautam kewaliya said...

मैं भी, श्री प्रकाश गोविन्द जी की बात से पूरा इत्तेफ़ाक रखता हूँ और सिने-पहेली से अपनी भागीदारी समाप्त करने की घोषणा करता हूँ. निस्संदेह, सिने-पहेली-५० से पहले तक का सफ़र, एक यादगार रहेगा. बहुत कुछ नया जानने-सीखने को मिला.
सिने-पहेली-५० को ले कर मेरी ओर से की गयी हर टिप्पणी को मैं रद्द करता हूँ.
बकौल साहिर लुध्यानवी साहब-
'वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन,
उसे एक खूबसूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा!
चलो इक बार फिर से अजनबी बन जाएँ...
आप सभी स्नेहीजनों का साधुवाद,
शुभकामनाएं...
Hari Bol...

Unknown said...

किसी कारणवश मैं सिने पहेली ५० के उत्‍तर नहीं भेज पाया । लेकिन खुद के पास उपलब्‍ध अभिलेखों के आधार पर काफी गीतों को खोजा था । पहेली के प्रशन को लेकर मुझे भी एतराज था क्‍योंकि रोजाना इंटरनेट का प्रयोग करने वालों के लिए यह पहेली अधिकतक अंक हासिल करने का मौका थी । लेकिन पहेली को छोडकर जाने वालों को भी यह कहना चाहूंगा कि इतनी सी बात के लिए पहेली को छोडना भी ठीक नहीं है । मेरे विचार से पहेली के इस अंक को दुबारा करवा देना ही उचित विकल्‍प है ।

Pankaj Mukesh said...

Main jeevan das vyas ji ke poori tarah sahmat nahin hoon! CP-50 ko dubara karvane ke vikalp ke liye pahle se hi voting system ka vikalp rakh diya gaya hai to, is vishay ko dubara uthana sahi nahin hai. aap ka jo bhi vichar hai, vote se karein. Rahi Jeevan ji ki sabse achhi baat-लेकिन पहेली को छोडकर जाने वालों को भी यह कहना चाहूंगा कि इतनी सी बात के लिए पहेली को छोडना भी ठीक नहीं है ।" main unke is kathan se 100 % sahamat hoo. cine paheli ko beech raste par chhodna sahi nahin hai, is pratiyogita ka aayojan hum sabhi ke liye hi hota hai. Is tarah ke faisle se anya pratibhagiyon ke utsah ko kamzor kar sakta hai. Main apni vyaktigat anubhaw bata hoon. mere sath bhi bahut saari pareshaniyan aayi. ek samay aisa bhi aaya, jab mere father ke surgery honi thi main hospital mein rahta tha. phone through answer SMS kar diya karta tha. raste mein chalte samay sujoy ji se prashna poochhata tha aur jo bhi answer dimag mein aata SMS kar deta tha. ant mein PH.D. ke final mode par samay ka abhaaw ke kaaran, segment 3 and 4 se door hona pada. magar jaise hi paristhiti samany huwa wapas aa gaya. agar aap logon ko koi jyada vyaktigat pareshani hai to 1-2 episode ko miss karke wapas aa jaiye. magar is tarah se bye-bye kahna, mujhe achha nahin laga. aap log to is pratiyogita ke choti ke pratidwandi hain, aap logon ke bina maza kirkira ho jayega!!!!
MAIN SHAILEDRA JI KA LIKHA MUKESH JI KE GAYE GANE SE AAPLOGON SE AGRAH KARTA HOON KI- AA AB LAUT CHALEIN, NAIN BICHHAYE, BAHEIB PASARE, TUJHKO PUKAARE CINE PAHELI TERA!!!!!
AABHAAR-



Mahendra said...

श्री गौतम केवलिया जी और श्री प्रकाश गोविन्‍द जी से गुजारिश कि वे पहेली से पुन जुड जाएं । चूंकि श्री गौतम केवलियाजी हमारे बीकानेर जिले से पहले प्रतियोगी हैं और उन्‍हीं के माध्‍यम से मुझे इस पहेली के बारे में जानकारी प्राप्‍त हुई और मैंने इसमें भाग लिया । इसलिए जब तक गौतम जी केवलिया, जोकि इस प्रतियोगिाता में शीर्ष के खिलाडी है और इस पहेली के साथ भावनात्‍मक रूप से भी जुडे हुए है, वापस इस प्रतियोगिता से नहीं जुड जाते उनके सम्‍मान में मैं भी तब तक इस प्रतियोगिता में हिस्‍सा नहीं लूंगा । अल्‍पविराम

प्रकाश गोविंद said...

मैं आप की भावनाओं का सम्मान करता हूँ।
पहेलियों में भाग लेना मेरा शौक और जूनून रहा है .
मैंने अब तक बहुत मन से इस पहेली में भाग लिया अपना श्रम और समय दोनों लगाये।
परन्तु जहाँ प्रतियोगी का सम्मान नहीं वहां मुझे भाग लेने में कोई रूचि नहीं है .
मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है ,
मैं अपना निर्णय ले चुका हूँ।
आप अपना निर्णय ले सकते हैं, विनती है कि कृपया मुझे वापस न बुलाएं।
आप सभी का शुभाकांक्षी

वीरेन्द्र कुमार , भोपाल said...

मैंने सारे कमेंट्स पढ़े और नहीं समझ पाया कि आप लोग चाहते क्या हैं? माना कि गलती हुई है पर आप लोग सुझाव तो दीजिये।आप ही लोग कहते हैं कि पहेली कोनिरस्त कर दिया जाए और फिर आप ही कहते हैं कि निरस्त न किया जाए। सुजोय जी तो माफी मांग चुके हैं। उनका कोइ व्यक्तिगत फायदा तो है नहीं। हम सबके मनोरंजन और जानकारी के लिए वो मेहनत करते हैं। और हम लोग भी मेहनत करते हैं उत्तरों के लिए। कमियां निकालना सरल है पर उपाय बताना कठिन।
पहेली से हटने के बजाय क्यों नहीं आप लोग इसका हल निकालिए। माफी चाहूँगा कि आप लोगों से छोटा और अल्पज्ञानी होने के बावजूद यह सब लिखने की ध्रिष्ठता क्र रहा हूँ। पर मुझे जो सही लगा लिख दिया। नमस्कार

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ