मंगलवार, 10 अप्रैल 2012

१० अप्रेल- आज का गाना


गाना: जाग दिल-ए-दीवाना रुत जागी वस्ल-ए-यार की


चित्रपट:ऊंचे लोग
संगीतकार:चित्रगुप्त
गीतकार:मजरूह सुलतान पुरी
स्वर: रफी





(जाग दिल-ए-दीवाना रुत जागी वस्ल-ए-यार की
बसी हुई ज़ुल्फ़ में आयी है सबा प्यार की ) - २
जाग दिल-ए-दीवाना

(दो दिल के कुछ लेके पयाम आयी है
चाहत के कुछ लेके सलाम आयी है ) - २
दर पे तेरे सुबह खड़ी हुई है दीदार की
जाग दिल-ए-दीवाना

(एक परी कुछ शाद सी नाशाद सी
बैठी हुई शबनम में तेरी याद की ) - २
भीग रही होगी कहीं कली सी गुलज़ार की
जाग दिल-ए-दीवाना रुत जागी वस्ल-ए-यार की
बसी हुई ज़ुल्फ में आयी है सबा प्यार की
जाग दिल-ए-दीवाना




2 टिप्‍पणियां:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

चित्रगुप्त के संगीत से सजा बहुत मधुर गीत है.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

लेकिन अभी इस गीत को नहीं सुन पा रहा..

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ