Tuesday, November 20, 2012

बोलती कहानियाँ - कश्मकश - रश्मि रविजा

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में प्राख्यात साहित्यकार विष्णु बैरागी की कहानी ""यह उजास चाहिए मुझे" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं लोकप्रिय लेखिका रश्मि रविजा की कहानी "कश्मकश", अर्चना चावजी की आवाज़ में।

कहानी "कश्मकश" का टेक्स्ट "मन का पाखी" पर उपलब्ध है। कहानी का कुल प्रसारण समय 14 मिनट 58 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

 यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

“"मंजिल मिले ना मिले , ये ग़म नहीं मंजिल की जुस्तजू में, मेरा कारवां तो है।”
रश्मि रविजा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"सारी मुसीबत इनकी निरीहता को लेकर ही है। क्यूँ नहीं ये लोग भी उपेक्षा भरा व्यवहार अपनाते? क्यूँ इनकी निगाहें इतनी सहानुभूति भरी हैं?"  (रश्मि रविजा की "कश्मकश" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
 
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
VBR MP3

 #39rd Story, Kashmakash: Rashmi Ravija/Hindi Audio Book/2012/39. Voice: Archana Chaoji

4 comments:

Madan Mohan Saxena said...

पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

Smart Indian said...

इस उत्कृष्ट कृति के लिए रश्मि जी और अर्चना जी दोनों को बधाई!

Archana Chaoji said...

आभार आपका...

k krastogi said...

Sunder hai aap dono ko mera bhut but pyaar

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ