Skip to main content

आकाशवाणी के राष्ट्रीय प्रसारण में प्लेबैक इंडिया की चर्चा

दोस्तों, नमस्कार अभी हाल ही में अकस्मिक रूप से मेरी मुलाकात आकाशवाणी के राष्ट्रीय प्रसारण सेवा में Assistant Director (Prog), श्री वी के सामब्याल से हुई. मैंने बातों ही बातों में उनसे अपने ऑनलाइन रेडियो प्लेबैक इंडिया का भी जिक्र कर दिया. मेरा उद्देश्य मात्र इतना ही था कि रेडियो के इतने बड़े पद पर कार्यरत  सामब्याल जी हमारे प्रयासों को देखें और अपने विचार देकर हमारा मागदर्शन करें. पर दोस्तों उस वक्त मेरे आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा जब अगले दिन ही उन्होंने मुझे फोन कर स्टूडियो आमंत्रित किया और एक साक्षात्कार का निमंत्रण दे डाला. बहरहाल लगभग दो हफ्ते पहले ये साक्षात्कार रिकॉर्ड हुआ, उद्घोषिका तानिया घोष से हुई मेरी ये बातचीत कल शाम ऑल इंडिया रेडियो के राष्ट्रीय प्रसारण सेवा से ७.४५ मिनट पर "मुलाकात" नाम के एक कार्यक्रम के माध्यम से प्रसारित हुआ. मेरे कुछ मित्रों ने इसे सुना और बधाईयां भेजी, कुछ तकनिकी कारणों से नहीं सुन पाए, जिनमें से मैं खुद और मेरा परिवार भी शामिल है. पर मैं फिर एक बार सामब्याल जी का धन्येवाद कहूँगा कि उन्होंने मुझे इस कार्यक्रम की रिकॉर्डिंग भेजी, जिसे मैं आप सब के साथ शेयर कर रहा हूँ. सामब्याल जी से एक संक्षित मुलाक़ात के बाद ये जान पाया हूँ, कि कला और संगीत का सम्मान करने वाले और कम चर्चित प्रतिभाओं का मान करने वाले शीर्ष अधिकारी आज भी हमारे सिस्टम में मौजूद हैं. एक बार फिर उनका तहे दिल से आभार.

आप इस साक्षात्कार नीचे दिए गए किसी भी प्लयेर से सुन सकते हैं, इसमें आपके इस प्रिय जाल स्थल रेडियो प्लेबैक के उदेश्यों, लक्ष्यों और भविष्य की योजनाओं की चर्चा हुई है, सुनकर बताएं कैसा रही ये वार्ता  

Comments

Smart Indian said…
बहुत बढिया खबर. मज़ा आ गया!
Pankaj Mukesh said…
Tonns of congrates and lots of thanx for sharing of such a nice interview!!!all the best to RADIO PLAYBACK INDIA!!!

Popular posts from this blog

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया

राग कलिंगड़ा : SWARGOSHTHI – 439 : RAG KALINGADA

स्वरगोष्ठी – 439 में आज भैरव थाट के राग – 5 : राग कलिंगड़ा कौशिकी चक्रवर्ती से राग कलिंगड़ा में एक दादरा और लता मंगेशकर से फिल्मी गीत सुनिए लता मंगेशकर विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती “रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “भैरव थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट-व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट, रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्र