Skip to main content

मेरी आवाज ही पहचान है : पंचम दा पर विशेष, (दूसरा भाग)


सत्तर के दशक के बारे में कहते हैं, लोग चार लोगों के दीवाने थे : सुनील गावस्कर,अमिताभ बच्चन, किशोर कुमार और आर डी बर्मन | गावस्कर का खेल के मैदान में जाना, अमिताभ का परदे पर आना और किशोर कुमार का गाना सबके लिए उतना ही मायने रखता था जितना आर डी का संगीत | भारत में लोग संगीत के साथ जीते हैं,आखिरी दम तक संगीत किसी न किसी तरह से हमसे जुड़ा होता है और इस लिहाज से आर डी बर्मन ने हमारे जीवन को कभी न कभी, किसी न किसी तरह छुआ जरुर है | यह अपने आप में आर डी के संगीत की सादगी और श्रेष्ठता दोनों का परिचायक है |
किशोर, आर डी और अमिताभ ने क्या खूब रंग जमाया था फ़िल्म "सत्ते पे सत्ता" के सदाबहार गाने में, सुनिए और याद कीजिये -


उनके गाने अब तक कितनी बार रिमिक्स,'इंस्पिरेशन' आदि आदि के नाम पर बने हैं, इसके आंकड़े भी मिलना मुश्किल है |आख़िर उनका संगीत पुराना होकर भी उतना ही नया कैसे लगता है, इस बात पर भी गौर करना जरुरी है |आर डी ने कभी भी प्रयोग करने में हिचकिचाहट नहीं दिखाई |वह हमेशा नौजवानों को दिमाग में रख कर धुनें तैयार करते थे, और एक एक धुन पर काफ़ी कड़ी मेहनत करते थे| जब भी उचित लगा, उन्होंने शास्त्रीय संगीत के साथ पाश्चात्य संगीत को मिश्रित करने में संकोच नहीं किया | मसलन,'कतरा कतरा मिलती है' में ट्विन ट्रैक, 'चुरा लिया है तुमने' में ग्लास की आवाज (जिसका जिक्र पहले भी कर चुका हूँ ), किताब के गाने 'मास्टर जी की चिठ्ठी' में स्कूल की बेंच को ला कर उसको वाद्य यंत्र के रूप में इस्तेमाल करना, बांस की सीटी में गुब्बारा बाँध कर उसकी आवाज (अब्दुल्ला ), खूशबू के गाने 'ओ मांझी रे' में बोतलों में पानी भरकर उनकी आवाज, जैसे अद्भुत और सफल प्रयोग पंचम के संगीत को नई ऊंचाई देते थे |आर डी ने भारतीय संगीत में इलेक्ट्रानिक उपकरणों का इस्तेमाल बहुत अच्छी तरह से किया | धुन तैयार करते समय हमेशा पंचम के दिमाग में हीरो की शक्ल होती थी, कलाकारों पर उनकी धुनें इतनी फिट कैसे बैठती थीं इसका शायद यह भी कारण था | कभी कभी कार में ही धुनें तैयार कर लेते, और अगर किसी धुन के बारे में विशेष रूप से उत्साहित होते,तो खुशी से चीख पड़ते| इस से जाहिर होता है कि इन जादुई धुनों के पीछे कड़ी मेहनत और श्रेष्ठ रचनात्मकता का कितना बड़ा हाथ था |
आगे बढ़ने से पहले, बचपन की मस्ती में शरारत के रंग भरता फ़िल्म "किताब" का ये नटखट सा गीत सुनते चलें-



पंचम दा के गानों में संगीत के साथ साथ एक और खास बात थी, वह थी गीत के बोलों में छुपे भावों को सफलता से प्रकट करना | किसी भी संगीतकार के लिए यह एक चुनौती होती है कि वह कहानी और गीतकार दोनों के भाव सुनने वाले के जेहन में उत्पन्न कर दे | अगर आप पंचम दा के गानों को महसूस कर पाते हैं, तो स्वयं अंदाजा लगा सकते हैं कि वे कितने सफल थे | पंचम ने कई गीतकारों के साथ काम किया लेकिन गुलज़ार, गुलशन आदि से काफ़ी करीब थे | गुलजार चुटकी लेते हुए कहते हैं : "मेरे गीतों से उसे काफ़ी परेशानी हुआ करती थी,एक तो बेचारे कि हिन्दी कमजोर थी,और ऊपर से मेरी पोएट्री | जब मैंने उसे 'मेरा कुछ सामान' गाना लिखकर दिया तो उसने कागज़ फेंक दिया, और कहा 'अगले दिन आप मुझे टाईम्स ऑफ़ इंडिया का मुखपृष्ठ देकर कहोगे कि इसपर धुन बनाओ'!"
पर जब वो गीत बना तो क्या बना ये तो सभी जानते हैं, इस गीत के लिए आशा और गुलज़ार दोनों को राष्ट्रीय सम्मान मिला, पर हक़दार तो पंचम दा भी थे, नही मानते तो गीत सुनिए, मान जायेंगें -


पंचम बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे | उन्होंने एकाध बार ऐक्टिंग में भी हाथ आजमाए | महमूद की फ़िल्म "भूत बंगला" में उन्होंने पहली बार अदाकारी की और बाद में फ़िल्म "प्यार का मौसम" में पोपट लाल के चरित्र में भी सबको लुभाया | कई गानों में उन्होंने ख़ुद माउथ ओरगन बजाया,और एकाध बार लक्ष्मीकांत प्यारेलाल (याद कीजिये दोस्ती के गीत) और कल्यानजी -आनंदजी के लिए भी बजाया | और गायक के रूप में तो हम उनको उतना ही प्यार करते हैं जितना कि संगीतकार के रूप में |फ़िल्म शोले का गीत 'महबूबा महबूबा' हो या फ़िर 'पिया तू अब तो आजा';पंचम दा के सारे गाये गीत अनूठे हैं |मजरूह सुलतानपुरी के अनुसार "आर डी बर्मन एक युग था, अपने आप में एक स्कूल था,जो उसने ख़ुद शुरू किया,और उसने इसे जिस स्तर पर रखा, वह स्तर अपने साथ ही लेकर गया, और वह स्तर मेरे ख्याल में दुबारा आना आसान नहीं है" |
पंचम की आवाज़ में सुनिए और डूब जाईये -"धन्नो की आँखों में..."-

पंचम पर और बातें, अगली बार....

प्रस्तुति - अलोक शंकर


Comments

सचमुच पंचम दा की आवाज़ ही उनकी पहचान है , अच्छी प्रस्तुति .../

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया