Skip to main content

नये खिलाड़ियों के लिए भी मौका है महाविजेता बनने का सिने पहेली में...


(3 नवम्बर, 2012)
सिने-पहेली # 44


'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, आज सबसे पहले इस अंक में हम दो नये खिलाड़ियों का स्वागत करना चाहेंगे। पिछले सप्ताह इस प्रतियोगिता में जुड़े हैं बीकानेर के गणेश एस. पालीवाल और इस सप्ताह हमारे साथ जुड़े हैं जयपुर के पुनीत झा। वाकई आश्चर्य की बात है कि 'सिने पहेली' के लगभग 50% प्रतियोगी राजस्थान के रहने वाले हैं। बीकानेर, जयपुर, कोटा और चित्तौड़गढ़ को मिलाकर कुल 8 प्रतियोगी रंगीले राजस्थान से ताल्लुख रखते हैं। आप सब भी अपने मित्रों को इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए कह कर अपने राज्य के प्रतियोगियों की संख्या को बढ़ा सकते हैं। क्या पता हम प्रतियोगिता के अंत में सर्वाधिक प्रतियोगी वाले राज्य के नाम भी कोई इनाम घोषित कर दें!!!

ख़ैर, आइए आगे बढ़ते हैं हमारे नये खिलाड़ियों के आह्वान के साथ...

नये प्रतियोगियों का आह्वान


नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। अगले सप्ताह से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के कलीग, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बतायें और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम। अब महाविजेता कैसे बना जाये, आइए इस बारे में आपको बतायें।

कैसे बना जाए 'सिने पहेली महाविजेता?


1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स।

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा। 

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। चौथे सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...



4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।

और अब आज की पहेली....

आज की पहेली : तोल मोल के बोल

आज हम आप से पूछ रहे हैं पाँच सवाल, हर सवाल के 2 अंक। सुलझाइये और पाइए 10 अंक।

सवाल # 1


इनमें से किस अभिनेता ने एक ही शीर्षक के दो फ़िल्मों में अभिनय किया है?

1. धर्मेद्र
2. सनी देओल
3. बॉबी देओल
4. अभय देओल

सवाल # 2


इनमें से किस गायिका ने लता मंगेशकर और शब्बीर कुमार के गाये एक गीत की शुरुआती पंक्ति गाई हैं?

1. अनुराधा पौडवाल
2. अनुपमा देशपाण्डे
3. देवकी पण्डित
4. इला अरुण

सवाल # 3


नीचे दिये गये फ़िल्मी दृश्य को देख कर बताइए कि ये तीन अभिनेता कौन-कौन हैं? तीनों नाम सही बताने पर ही अंक दिये जायेंगे।



सवाल # 4


लता मंगेशकर और अलिशा चिनॉय - दो बिल्कुल ही अलग जौनर की गायिकाएँ। इनमें कोई भी समानता खोज पाना नामुमकिन सा लगता है। फिर भी दिमाग़ पे ज़ोर लगाइए और बताइए कि किस गीत के ज़रिये इन दो गायिकाओं को आपस में मिलाया जा सकता है?

सवाल # 5


पाँच शब्दों में (न इससे कम न इससे ज़्यादा) बताइये कि ॠतिक रोशन - अमीशा पटेल और जीतेन्द्र - तनुजा की जोड़ियों को कैसे आपस में मिलाया जा सकता है?

जवाब भेजने का तरीका


उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब न कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 44" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान अवश्य लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 8 नवंबर शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।

पिछली पहेली के सही जवाब


1. फ़िल्म - सवाल
2. फ़िल्म - धर्मपुत्र, गीत - मैं जब भी अकेली होती हूँ
3. फ़िल्म - परम्परा, गीत - तू सावन मैं प्यास पिया
4. गीत - सर से सरके सर की चुनरिया
5. फ़िल्म - जानम समझा करो

पिछली पहेली के परिणाम


'सिने पहेली - 43' के परिणाम इस प्रकार हैं...

1. पुनीत झा, जयपुर --- 10 अंक

2. महेश बसंतनी, पिट्सबर्ग --- 10 अंक

3. गौतम केवलिया, बीकानेर --- 10 अंक

4. प्रकाश गोविन्द, लखनऊ --- 10 अंक

5. पंकज मुकेश, बेंगलुरु --- 10 अंक

6. क्षिति तिवारी, जबलपुर --- 10 अंक

7. चन्द्रकान्त दीक्षित, लखनऊ --- 10 अंक

8. जीवन दास व्यास, बीकानेर --- 10 अंक

9. विजय कुमार व्यास, बीकानेर --- 10 अंक

10. महेन्द्र कुमार रंगा, बीकानेर --- 10 अंक

11. तरुशिखा सुरजन, उत्तराखण्ड --- 6 अंक

12. इंदु पुरी गोस्वामी, चित्तौड़गढ़ --- 4 अंक


पाँचवें सेगमेण्ट का सम्मिलित स्कोरकार्ड यह रहा...



'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, और अनुमति दीजिए अपने इस ई-दोस्त सुजॉय चटर्जी को, नमस्कार!

Comments

Vijay Vyas said…
'सिने पहेली - 43' के परिणाम में 9 प्रतियोंगियों के 10-10 अंक है जबकि पाँचवें सेगमेण्ट के सम्मिलित स्कोरकार्ड में सिने पहेली - 43 की पंक्ति में 10 प्रतियोंगियों के 10-10 अंक है। प्रतीत होता है कि कोइ भूल हुई है।
आभार ।
Unknown said…
maine 3 prashnon ke sahi jwab diye the.2,4,aur 5wa prashn...........fir mere nmbr kyon kaate ji???
Unknown said…
o my GOD! YE TO SHRI KA BLOG BNATE BNATE MAINE YAHAAN JWAB DE DIYA.SORRYYYYY ab kya krun??? aisiich hun main to gdbd kr deti hun. main chittodgadh se aap ki -indu puri :P teen prashnon ke uttr sahi diye the .wapas check kriye........meri answer-sheet :P
Sujoy Chatterjee said…
Vijay ji,

galati se mahendra ranga ji ko 9 marks diye hain, unhe 10 mile hain. sammilit score card mein wo sahi hai.
Sujoy Chatterjee said…
Indu ji, aapne Q1 ke jawaab mein Dharamputra likha tha, jabki sahi jawaab hai 'Sawaal'. isliye number kaate hain.
Pankaj Mukesh said…
meri aaj bhi shikaayat wahi rahegi, jo dadamuni waale episod ka CP#41 ke question 10 ka pic mujhe kabhi dikha nahi thik se aaplogon ne upload nahin kiya tha, jiski maine jaankaari bhi yahin likhi magar sujoy ji ne jawaab nahin diya. iska maine screenshot bhi unhein bheja phir bhi mujhe iska commomn question bana kar no. nahin diya gaya!! ismein meri koi galati nahin thi. jab candidate ko question nahin mila to wo jawaab kaise de??? ye aur baat hai ki baaki logon ko jo doosre rajya/desh mein baithe hain unhein kaise dikha. magar sujoy ji ka muhe contact na karne se mera naam scorcard mein naam top scorer mein nahin aa raha. Agar last tak competetion bahut kareeb huwa to mera 1 marks bahut matter karega. tab mujhe wo 1 marks chahiye nahin to mere sath bahut nainsaafi hogi!!!filhaal abhi tak mujhe koi jyada shikwa sujoy ji se nahin hai. magar last CP#49, tak ladai agar katedaar huwa ho main high court (Krishnamohan ji)/supreme court (Sajeev Saarthi)tak jaunga, jis apeal ko civil court (Sujoy ji) ne khariz kar di!!! (toda funny ho gaya sorry)
mera faisla aap sabhi kariya!!!!
Pankaj Mukesh said…
Ab sujoy ji yahan reply dene lage hain to ek baar main fir se wahi poorani comments ko copy paste kar raha hoon, ummed hai ab mera faisla ho jayega!!!!
Vijay Vyas ने कहा…

आभार स्मार्ट इंडियन जी।
मुझे भी बहुत मजा आया पहेलियां हल करने में।
अक्तूबर 14, 2012
Pankaj Mukesh ने कहा…

hard luck for kshiti Tiwaari!!!so sad very close fighter!!!!
pic no. 10 in CP-41 is blank or micro sized!!!!
अक्तूबर 17, 2012
Sajeev said…
well jahan tak main samjhta hoon sujoy jaisi nishpaksh aur imaandaari se is paheli ko manage kar rahe hain, uska koi saani nahin hai...koi bhi umpire se aap 100 pratishat sahi nirnay kii ummeed nahi kar sakte, kuch manavi galtiyan sambhav hai. kripaya unhen part of the game maan kar chalen. baaki sujoy se anurodh karunga ki wo ek baar avashy comments ko dekha karen taaki pratibhagiyon kii shikayaton par gaur kar saken....
Pankaj Mukesh said…
Dhanyawaad Sajeev Ji!!
Main Sujoy ji ki nirnayak pratibha se bhalibhanti parichit hoon aur umeed bhi hai mere sath koi anyay nahin hoga, jaisa aaj tak hota aaya hai. Is tarah ke door gaami khel mein kuchh trutiyan sambhaw hai. Unki beemari ke karan wo mujhe jawaab bhi nahin de paye is baat se main 1 saptah baad awagat ho paya, jis wajah se maine koi mudda nahin uthaya. magar jab dekha ki ab Sujoy ji ek ecchey nirnayak jan banti jawab dene lage to punah is baat ko dohra diya taki agar jab wo mujhe shudhi swaroop ank den bhi to kisi any pratiyogi ko isase pareshani na ho..main radioplaybackindia ka bahut poorana pathak/shrota hoon, mujhe aajtak kabhi koi pareshaani nahin hui aur na hoge jaisa mera anubhaw raha hai is blog se. Bus ek kadi pratiyogita mein 1 marks to kya 0.5 marks ke bahut maayne hote hain, jaise last segment mein hum logon ne dekha.
Kshama chahunga agar mere is tippadi se kisi ko kisi tarah ka ghaat laga ho. magar main samajhata hoon ki agar sabhi pratiyogi lo seedhey yaha tippadi karen to shayad paardarshita kaayam ho jayegi, jaisa pichhale mahine Cine paheli ki paardashita par prashn utha tha..

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया