रविवार, 20 फ़रवरी 2011

सुर संगम में आज - बीन का लहरा और इस वाध्य से जुडी कुछ बातें

सुर संगम - 08

पुंगी या बीन के चाहे कितने भी अलग अलग नाम क्यों न हो, इस साज़ का जो गठन है, वह लगभग एक जैसा ही है। इसकी लम्बाई करीब एक से दो फ़ूट की होती है। पारम्परिक तौर पर पुंगी एक सूखी लौकी से बनाया जाता है, जिसका इस्तमाल एयर रिज़र्वर के लिए किया जाता है। इसके साथ बांस के पाइप्स लगाये जाते हैं जिन्हें जिवाला कहा जाता है।


सुप्रभात! 'सुर संगम' की आठवीं कड़ी में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। दोस्तों, पिछले सात अंकों में आप ने इस स्तंभ में या तो शास्त्रीय गायकों के गायन सुनें या फिर भारतीय शास्त्रीय यंत्रों का वादन, जैसे कि सितार, शहनाई, सरोद, और विचित्र वीणा। आज भी हम एक वादन ही सुनने जा रहे हैं, लेकिन यह कोई शास्त्रीय साज़ नहीं है, बल्कि इसे हम लोक साज़ कह सकते हैं, क्योंकि इसका प्रयोग लोक संगीत मे होता है, या कोई समुदाय विशेष इसका प्रयोग अपनी जीविका उपार्जन के लिए करता है। आज हम बात कर रहे हैं बीन की। जी हाँ, वही बीन, जिसे हम अक्सर सपेरों और सांपों से जोड़ते हैं। बीन पूरे भारतवर्ष में अलग अलग इलाकों में अलग अलग नामों से जाना जाता है। उत्तर और पूर्व भारत में इसे पुंगी, तुम्बी, नागासर, और सपेरा बांसुरी के नामों से पुकारा जाता है, तो दक्षिण में नागस्वरम, महुदी, पुंगी और पमबत्ती कुज़ल नाम प्रचलित है। पुंगी या बीन को सपेरे की पत्नी का दर्जा दिया जाता है और इस साज़ का विकास शुरु शुरु में लोक संगीत के लिए किया गया था।

पुंगी या बीन के चाहे कितने भी अलग अलग नाम क्यों न हो, इस साज़ का जो गठन है, वह लगभग एक जैसा ही है। इसकी लम्बाई करीब एक से दो फ़ूट की होती है। पारम्परिक तौर पर पुंगी एक सूखी लौकी से बनाया जाता है, जिसका इस्तेमाल एयर रिज़र्वर के लिए किया जाता है। इसके साथ बांस के पाइप्स लगाये जाते हैं जिन्हें जिवाला कहा जाता है। इनमें से एक पाइप मेलडी के लिए और दूसरा ड्रोन ईफ़ेक्ट के लिए है। सब से उपर एक ट्युब डाला जाता है लौकी के अंदर, जो एक बांसुरी की तरह है जिसमें सपेरा फूंक मारता है बजाने के लिए। लौकी के अंदर हवा भरता है और नीचे के हिस्से में लगे दो पाइपों से बाहर निकल जाता है। इन दोनों पाइपों में एक 'बीटिंग रीड' होता है जो ध्वनि उत्पन्न करता है। और जैसा कि बताया, एक पर मेलडी बजती है और दूसरे से ड्रोन ईफ़ेक्ट आता है। आधुनिक संस्करण में बांस के दो पाइपों के अलावा एक लम्बे मेटलिक ट्युब का इस्तमाल होता है। यह ड्रोन का भी काम करता है। पुंगी या बीन बजते वक़्त कोई पौज़ मुमकिन नहीं है। इसलिए इसे बजाने का जो सब से प्रचलित तरीका है, वह है गोलाकार तरीके से सांस लेने का, जिसे हम अंग्रेज़ी में 'सर्कुलर ब्रीदिंग' कहते हैं।

पुंगी या बीन साज़ का इस्तेमाल करने वालों में कालबेलिया सम्प्रदाय एक मुख्य नाम है। कालबेलिया जाति एक बंजारा जाति है जो प्राचीन काल से ही एक जगह से दूसरे जगह पर निरंतर घूमती रहती है। जीविका उपार्जन के लिए ये लोग सांपों को पकड़ते हैं और उनके ज़हर का व्यापार करते हैं। और शायद इसी वजह से इनका जो लोक नृत्य है और जो पोशाक है, उनमें भी सर्पों की विशेषताएँ देखी जा सकती हैं। कालबेलिया जाति को सपेरा, जोगिरा, और जोगी भी कहते हैं और इनका धर्म हिंदु है। इनके पूर्वज कांलिपार हैं, जो गुरु गोरखनाथ के १२-वें उत्तराधिकारी थे। कालबेलिया सब से ज़्यादा राजस्थान के पाली, अजमेर, चित्तौड़गढ़ और उदयपुर ज़िलों में पाये जाते हैं। कालबेलिया नृत्य इनकी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण अंग है, जिसमें पुरुष संगीत का पक्ष संभालते हैं। और इस पक्ष को संभालने के लिए जिन साज़ों का वे सहारा लेते हैं, उनमें शामिल हैं पुंगी, डफ़ली, बीन, खंजरी, मोरचंग, खुरालिओ और ढोलक, जिनसे नर्तकियों के लिए रीदम उत्पन्न की जाती है। जैसे जैसे नृत्य आगे बढ़ता है, रिदम और तेज़ होती जाती है। इन नर्तकियों का शरीर इतना लचीला होता है कि देख कर ऐसा लगता है जैसे रबर के बनें हैं। जिस तरह से बीन बजाकर सांपों को आकर्षित और वश में किया जाता है, कालबेलिया की नर्तकियाँ भी उसी अंदाज़ में बीन और ढोलक के इर्द गिर्द लहरा कर नृत्य प्रस्तुत करती हैं। तो आइए किसी संगीत समारोह से प्राप्त एक विडिओ देखें और सुनें जिसमें वादक बीन बजा रहे हैं और साथ में ढोलक है संगत के रूप में।

बीन की धुन


बीन का इस्तमाल बहुत से हिंदी फ़िल्मी गीतों में होता आया है। और जब भी कभी सांप के विषय पर फ़िल्म बनी तो बीन के पीसेस बहुतायत में शामिल हुए। कभी हारमोनियम और क्लेविओलिन से बीन की ध्वनि उत्पन्न की गई, कभी कोई और सीन्थेसाइज़र से। क्योंकि मूल बीन बहुत ज़्यादा सुरीला या कर्णप्रिय नहीं होता है, इसलिए किसी और साज़ के इस्तमाल से बीन का ईफ़ेक्ट लाया गया है ज़्यादातर गीतों में। आइए फ़िल्म 'नगीना' का शीर्षक गीत सुनते हैं लता मंगेशकर की आवाज़ में; आनंद बक्शी के बोल और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल का संगीत। गीत की शुरुआत में एक लम्बा पीस है बीन का, और यह पीस बहुत ज़्यादा लोकप्रिय हुई थी और आज भी अगर किसी संदर्भ में बीन के धुन की ज़रूरत पड़ती है, तो इसी पीस का सहारा लिया जाता है।

मैं तेरी दुश्मन, दुश्मन तू मेरा (नगीना)


सुर-संगम में आज बस इतना ही, अगले हफ़्ते फिर कुछ और लेकर हम हाज़िर होंगे, अनुमति दीजिये, नमस्कार!

प्रस्तुति-सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

कोई टिप्पणी नहीं:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ