Skip to main content

आजा री आ, निंदिया तू आ......कहाँ सुनने को मिल सकती है ऐसी मीठी लोरी आज के दौर में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 541/2010/241

मस्कार! दोस्तों, 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की इस नई सप्ताह में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। इन दिनों 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में जारी है लघु शृंखला 'हिंदी सिनेमा के लौह स्तंभ'। इसके पहले और दूसरे खण्डों में आपने क्रम से वी. शांताराम और महबूब ख़ान के फ़िल्मी सफ़र की कहानी जानी और साथ ही इनके पाँच पाँच फ़िल्मों के गानें सुनें। आज से हम शुरु कर रहे हैं इस शृंखला का तीसरा खण्ड, और इस खण्ड के लिए हमने चुना है एक और महान फ़िल्मकार को, जिन्हें हम बिमल रॊय के नाम से जानते हैं। बिमल रॊय हिंदी सिनेमा के बेहतरीन निर्देशकों में से एक हैं जिनकी फ़िल्में कालजयी बन गईं हैं। उनकी सामाजिक और सार्थक फ़िल्मों, जैसे कि 'दो बिघा ज़मीन, परिणीता', 'बिराज बहू', 'मधुमती', 'सुजाता' और 'बंदिनी' ने उन्हें शीर्ष फ़िल्मकारों में दर्ज कर लिया। आइए बिमल दा क्ली कहानी शुरु करें शुरु से। बिमल रॊय का जन्म १२ जुलाई १९०९ के दिन ढाका के एक बंगाली परिवार में हुआ था। उस समय ढाका ब्रिटिश भारत का हिस्सा हुआ करता था, और जो अब बांगलादेश की राजधानी है। भारत की आज़ादी और देश विभाजन के बाद यह हिस्सा पाक़िस्तान में चली गई थी, और तभी बिमल दा का परिवार भारत स्थानांतरित हो गया। दरसल हुआ युं था कि बिमल दा एक ज़मीनदार घराने के पुत्र थे। उनके पिता की मृत्यु के बाद ज़मीनदारी की देख रेख कर रहे एस्टेट मैनेजर ने बिमल दा के परिवार का सर्वस्व बेदखल कर लिया। अपना सर्वस्य हार कर बिमल दा अपनी विधवा माँ और छोटे छोटे भाइयों के साथ कलकता आ गए। और यहाँ आकर उन्होंने काम पाने की तलाश शुरु कर दी। ऐसे में न्यु थिएटर्स के प्रमथेश बरुआ ने बिमल दा को एक पब्लिसिटि फ़ोटोग्राफ़र की हैसीयत से काम पर रख लिया। लेकिन जल्द ही बिमल रॊय को नितिन बोस के ऐसिस्टैण्ट कैमरामैन बना दिया गया। उनकी रचनात्मक्ता, और छाया व रोशनी के तालमेल को समझने की उनकी क्षमता से हर कोई प्रभावित हुए बिना नहीं रह पाया, और जल्द ही उनका नाम हो गया। उनकी इस रचनात्मक्ता की मिसालें हैं ३० के दशक की 'मुक्ति' और 'देवदास' जैसी फ़िल्में। बहुत कम लोगों को यह मालूम है कि बिमल रॊय ने ब्रिटिश सरकार के लिए दो बेहतरीन वृत्तचित्र (डॊकुमेण्टरी) बनाये थे - 'रेडियो गर्ल' (१९२९) और 'बेंगॊल फ़ैमीन' (१९४३), लेकिन दुर्भाग्यवश इन दोनों फ़िल्मों के चिन्ह आज कहीं नहीं मिलते। उनकी १९५६ में बनाई हुई वृत्तचित्र 'गौतम - दि बुद्ध' को बहुत तारीफ़ें मिली थीं कान फ़िल्म फ़ेस्टिवल में।

दोस्तों, बिमल दा के शुरुआती दिनों का हाल आज हमने प्रस्तुत किया। आगे की कहानी कल फिर आगे बढ़ाएँगे, अब वक़्त हो चला है आज के गीत के बारे में आपको बताने का। सुनवा रहे हैं फ़िल्म 'दो बिघा ज़मीन' से लता मंगेशकर की आवाज़ में एक मीठी सी, प्यारी सी लोरी, "आजा री आ, निंदिया तू आ"। सलिल चौधरी का सुमधुर संगीत और शैलेन्द्र के बोल। वैसे तो कोई भी यही अपेक्षा रखेगा कि बिमल दा पर केन्द्रित इस शृंखला में 'दो बिघा ज़मीन' के "धरती कहे पुकार के" या फिर "हरियाला सावन ढोल बजाता आया" गीत ही शामिल हों, लेकिन क्या करें, ये दोनों ही गीत हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर बजा चुके हैं। और इस फ़िल्म के किसी गीत को सुनवाये बग़ैर भी नहीं रह सकते। 'दो बिघा ज़मीन' १९५३ की फ़िल्म थी, और उससे दो साल पहले फ़िल्म 'अल्बेला' में ही सी. रामच्न्द्र ने एक बेहद लोकप्रिय लोरी बनाई थी "धीरे से आजा री अखियन में"। इस लोरी की अपार शोहरत के बाद किसी और लोरी का इससे भी ज़्यादा मशहूर हो पाना आसान काम नहीं था। फिर भी शैलेन्द्र और सलिल दा ने पूरी मेहनत और लगन से इस लोरी की रचना की। भले ही यह लोरी बहुत ज़्यादा नहीं सुनी गई, और 'अलबेला' की लोरी की तरह मक़बूल भी नहीं हुई, लेकिन गुणवत्ता में किसी तरह की कोई ख़ामी नज़र नहीं आती। शैलेन्द्र ने भी कितने ख़ूबसूरत शब्दों से इस लोरी को सजाया है। गीत सुनने से पहले लीजिए इस लोरी के बोलों पर एक नज़र दौड़ा लीजिए...

आ जा री आ, निंदिया तू आ,
झिलमिल सितारों से उतर आँखों में आ, सपने सजा।

सयी कली, सोया चमन, पीपल तले सोयी हवा,
सब रंगा इक रंग में, तूने ने ये क्या जादू किया, आ जा।

संसार की रानी है तू, राजा है मेरा लादला,
दुनिया है मेरी गोद में, सोया हुआ सपना मेरा, आ जा।



क्या आप जानते हैं...
कि ख़्वाजा अहमद अब्बास ने बिमल रॊय के लिए कैसे उद्गार व्यक्त किए थे, ये रहे - "Bimal Roy was Bengal’s gift to Bombay. His first film, Udayer Pathey (Hamrahi) had already established him in this region as a filmmaker of rare perfection. But the film which left a permanent impact on the Indian cinema was his Do Bigha Zamin. That was not merely an outstanding Indian film but received International recognition."

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०२ /शृंखला ०५
गीत की एक झलक सुनिए-


अतिरिक्त सूत्र - बिमल रॉय की एक और नायाब फिल्म.

सवाल १ - गीतकार बताएं - २ अंक
सवाल २ - आवाज़ पहचानें - १ अंक
सवाल ३ - फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
इस बार शरद जी निकले हैं कमर कस कर....इंदु जी अगर गीत सुनने में अब भी कोई समस्या आये तो बात कीजियेगा http://get.adobe.com/flashplayer/ ये लिंक खोलियेगा....

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

मैं जानती हूँ मेरा उत्तर गलत है पर....ये वो ही बात हुई कि 'हेलो' ही किया तो क्या हम मिले तो थे.
हा हा हा
सजीव! मुझे गाना सुनने मे अब कोई परेशानी नही हो रही.'वो' अपीएर हो गया. समझ गए न 'क्या'? प्लेयर.
जब सही शब्द दिमाग मे नही आता तो सामने वाले पर धकेल देती हूँ.
क्या करूं? ऐसिच हूँ मैं तो.सच्ची.
ShyamKant said…
1- Bharat Vyas
AVADH said…
बहुत दिन बाद इंदु बहिन ने बाज़ी मारी.
भाई श्यामकान्त जी और रोमेंद्र जी को भी बधाई.
अवध लाल
do dinon ke liye Indore 'Lata Mangeshkar Alankkaran samaroh ke antargat Sugam sangeet pratiyogita ke Nirnayak hetu gaya tha. Music Directore RAVI & Anuradha Poudwal ko sammaan diya gaya. fir kota aayaa to dekha Computer ji ne hadtaal kar di. abhi bhi do char din gayab rahna padegaa. Cyber cafe se hi mail kar raha hoon.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया