Thursday, November 22, 2012

स्मृतियों के झरोखे से : अमित तिवारी की देखी पहली फिल्म 'बालिका वधु'


मैंने देखी पहली फ़िल्म : अमित तिवारी


भारतीय सिनेमा के शताब्दी वर्ष में ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ द्वारा आयोजित विशेष अनुष्ठान में प्रत्येक गुरुवार को हम आपके लिए सिनेमा के इतिहास पर विविध सामग्री प्रस्तुत कर रहे हैं। माह के दूसरे और चौथे गुरुवार को आपके संस्मरणों पर आधारित ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ स्तम्भ का प्रकाशन करते हैं। आज माह का चौथा गुरुवार है, इसलिए आज बारी है आपकी देखी पहली फिल्म के रोचक संस्मरण की। आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं, एक गैर-प्रतियोगी संस्मरण। आज का यह संस्मरण प्रस्तुत कर रहे हैं, रेडियो प्लेबैक इण्डिया के संचालक-मण्डल के सदस्य अमित तिवारी। 


सचमुच बहुत अच्छा लगता है, 'बालिका वधू' का गीत ‘बड़े अच्छे लगते हैं...’


मुझसे जब पुछा गया कि मेरी देखी पहली फिल्म कौन सी है तो मुझे दिमाग पर ज्यादा जोर डालने की जरूरत नहीं पड़ी। मेरी याद में जो मेरी देखी पहली फिल्म है , वो थी शशि कपूर, प्राण और सुलक्षणा पण्डित के अभिनय से सजी 1978 में प्रदर्शित हुई फिल्म 'फाँसी'। उस समय मैं करीब पाँच साल का था। मुझे इस फिल्म का केवल एक दृश्य याद है, जिसमे ट्रेन धड़धड़ाती दौड़ी जा रही है। परदे पर ट्रेन तिरछी दिखाई जाती है और डाकू उसमे चढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। शायद डाकुओं के जीवन पर आधारित फिल्म थी जिसमें मार-पीट, ढिशुम-ढिशुम की भरमार थी।

बस इस फिल्म का यही एक दृश्य याद है। बाकी कहानी क्या थी, पता नहीं। करीब बीस वर्षों के बाद इस फिल्म को दूरदर्शन पर देखने का मौका मिला, पर आज भी मानस -पटल पर यही एक दृश्य अंकित है और बाकी कहानी भूल चूका हूँ। अब चूँकि आज इसके बारे में लिख रहा हूँ तो कोशिश करूँगा कि इसे दुबारा देख सकूँ। बचपन में फ़िल्में देखना एक सपना हुआ करता था। फ़िल्में देखना अच्छा नहीं माना जाता था और मैं भी और बच्चों की तरह सोचा करता था कि जब बड़ा हो जाऊँगा तो रोजाना ढेर सारी फिल्में देखा करूँगा। और हाँ, मेरी वह सोच सच साबित भी हुई। वैसे भी मैं एक छोटे से कस्बे का रहने वाला था, जहाँ सिनेमा हॉल नहीं था। जब कभी हम ननिहाल छुट्टियों में जाते थे तो सिनेमा हॉल के दर्शन हो जाया करते थे। टेलीविजन भी उस समय शुरु नहीं हुआ था।

1983 में दो और फिल्मे देखने का मौका मिला, और वो थीं- अमोल पालेकर और टीना मुनीम अभिनीत 'बातों बातों में' और अभिताभ के अभिनय से सजी 'अन्धा क़ानून'। नियमित रूप से फिल्मे देखने का मौका मिला 1985 में, जब दूरदर्शन पर रविवार की शाम फिल्म 'बालिका वधू' देखी। एक बेहतरीन फिल्म थी, जिसे अब तक 3-4 बार मैं देख चुका हूँ। तब से अब तक तो अनगिनत फिल्मे देख चुका हूँ, लेकिन मेरी पहली फिल्म तो 'फाँसी' ही रहेगी।

अमित जी को फाँसी फिल्म का कोई भी गाना याद नहीं रहा परन्तु हम आपके साथ अमित जी को भी फिल्म 'फाँसी' का एक लोकप्रिय गीत सुनवाते हैं। इसके साथ ही अमित जी का एक और प्रिय गीत, जो फिल्म 'बालिका बधू' से है, उसे भी हम प्रस्तुत कर रहे हैं।

फिल्म फाँसी : ‘जब आती होगी याद मेरी...’ : मोहम्मद रफी और सुलक्षणा पण्डित


फिल्म बालिका बधू : ‘बड़े अच्छे लगते हैं...’ : अमित कुमार



आपको अमित जी की देखी पहली फिल्म का संस्मरण कैसा लगा? हमें अवश्य लिखिएगा। आप अपनी प्रतिक्रिया radioplaybackindia@live.com पर भेज सकते हैं। रेडियो प्लेबैक इण्डिया के सभी पाठकों-श्रोताओं को हम यह शुभ समाचार देना चाहते हैं कि 1 दिसम्बर को रेडियो प्लेबैक इण्डिया का स्थापना दिवस है। आपके सुझावों के अनुसार दिसम्बर से हम ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ स्तम्भ के स्वरूप में परिवर्तन कर रहे है। दिसम्बर से प्रत्येक दूसरे और चौथे गुरुवार को हम ‘मन्थन’ शीर्षक से एक नया स्तम्भ आरम्भ करेंगे। ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ स्तम्भ को हम आज के इस अंक से विराम दे रहे हैं। अगले गुरुवार को हम ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ प्रतियोगिता का परिणाम घोषित करेंगे। ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ प्रतियोगिता के विजेताओं का नाम जानने के लिए अगले गुरुवार को इस मंच पर आप सादर आमंत्रित हैं।

प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र

No comments:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ