Skip to main content

कभी आपने सुना है फ़िल्म 'संगम' के इस कमचर्चित गीत को?


एक गीत सौ कहानियाँ - 28
 

आई लव यू...



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार! दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कप्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारी ज़िन्दगियों से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह साप्ताहिक स्तंभ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 28-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'संगम' के एक कमचर्चित गीत के बारे में ... 

 'संगम', 1964 की राज कपूर की महत्वाकांक्षी फ़िल्म। बेहद कामयाब। यह राज कपूर की पहली रंगीन फ़िल्म भी थी। फ़िल्म की कामयाबी में इसके गीत-संगीत का महत्वपूर्ण योगदान था। फ़िल्म के सात गीत थे - "बोल राधा बोल संगम होगा कि नहीं", "ओ महबूबा, तेरे दिल के पास", "दोस्त दोस्त न रहा", "हर दिल जो प्यार करेगा", "ओ मेरे सनम", "मैं का करूँ राम मुझे बुढ्ढा मिल गया", "यह मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर" - एक से बढ़ कर एक, सुपर-डुपर हिट, यह बताना मुश्किल कि कौन सा गीत किससे उपर है लोकप्रियता में। लेकिन बहुत कम लोगों को यह पता है कि इन सात गीतों के अलावा भी एक और गीत इस फ़िल्म में मौजूद है, जिसे पार्श्व-संगीत के रूप में फ़िल्म में प्रयोग किया गया है। विविअन लोबो की आवाज़ में यह गीत है "आइ लव यू"। यह गीत 'संगम' के मूल 'Long Play' और '78 RPM' पर उपलब्ध है। यह गीत अपने आप में अनूठा है, कारण, इस गीत का स्वरूप किसी आम हिन्दी फ़िल्मी गीत जैसा नहीं है; बल्कि एक ही बात और एक ही पंक्ति को कई विदेशी भाषाओं में दोहराया गया है। ऐसी कौन सी सिचुएशन थी 'संगम' में कि राज कपूर को इस तरह के एक गीत की ज़रूरत महसूस हुई? दरसल 'संगम' में एक सिचुएशन था कि जब राज कपूर और वैजयन्तीमाला अपने हनीमून के लिए यूरोप के टूर पर जाते हैं, वहाँ अलग अलग देशों की सैर कर रहे होते हैं, और क्योंकि यह हनीमून ट्रिप है, तो प्यार तो है ही। तो यूरोप में फ़िल्माये जाने वाले इन दृश्यों के लिए एक पार्श्व-संगीत की आवश्यकता थी।

पर राज कपूर हमेशा एक क़दम आगे रहते थे। उन्होंने यह सोचा कि पार्श्व-संगीत के स्थान पर क्यों न एक पार्श्व-गीत रखा जाये, जो बिल्कुल इस सिचुएशन को मैच करता हो! उन्होंने अपने दिल की यह बात शंकर- जयकिशन को बतायी। साथ ही कुछ सुझाव भी रख दिये। राज कपूर नहीं चाहते थे कि यह किसी आम गीत के स्वरूप में बने और न ही इसके गायक कलाकार लता, मुकेश या रफ़ी हों। शंकर और जयकिशन सोच में पड़ गये कि क्या किया जाये! उन दिनों जयकिशन चर्चगेट स्टेशन के पास गेलॉर्ड होटल के बोम्बिलि रेस्तोराँ में रोज़ाना शाम को जाया करते थे। उनकी मित्र-मंडली वहाँ जमा होती और चाय-कॉफ़ी की टेबल पर गीत-संगीत की चर्चा भी होती। शम्मी कपूर उनमें से एक होते थे। उसी रेस्तोराँ में जो गायक-वृन्द ग्राहकों के मनोरंजन के लिए गाया करते थे, उनमें गोवा के कुछ गायक भी थे। उन्हीं में से एक थे विविअन लोबो। ऐसे ही किसी एक दिन जब जयकिशन 'संगम' के इस गीत के बारे में सोच रहे थे, विविअन लोबो वहाँ कोई गीत सुना रहे थे। जयकिशन को एक दम से ख़याल आया कि क्यों न लोबो से इस पार्श्व गीत को गवाया जाये! लोबो की आवाज़ में एक विदेशी रंग था, जो इस गीत के लिए बिल्कुल सटीक था। बस फिर क्या था, विविअन लोबो की आवाज़ इस गीत के लिए चुन ली गई। विविअन लोबो की आवाज़ में यह एकमात्र हिन्दी फ़िल्मी गीत है। इसके बाद उनकी आवाज़ किसी भी फ़िल्मी गीत में सुनाई नहीं दी। पर कहा जाता है कि उन्होंने कोंकणी गायिका लोरना के साथ कुछ कोंकणी गीत रेकॉर्ड किये हैं।

अब अगला सवाल यह था कि गीत के बोल क्या होंगे! पार्श्व में बजने वाले 3 मिनट के सीक्वेन्स के लिए एक ऐसे गीत की आवश्यकता थी जिसमें कम से कम बोल हों पर संदेश ऐसा हो कि जो सिचुएशन को न्याय दिला सके। तब राज कपूर ने यह सुझाव दिया कि हनीमून के दृश्य के लिए सबसे सटीक और सबसे छोटा मुखड़ा है "आइ लव यू"। तो क्यों न अलग अलग यूरोपियन भाषाओं में इसी पंक्ति का दोहराव करके 3 मिनट के इस दृश्य को पूरा कर दिया जाये! सभी को यह सुझाव ठीक लगा, और पूरी टीम जुट गई "आइ लव यू" के विभिन्न भाषाओं के संस्करण ढूंढने में। अंग्रेज़ी के अलावा जर्मन ("ich liebe dich"), फ़्रेन्च ("j’ vous t’aime") और रूसी ("ya lyublyu vas"/ "Я люблю вас") भाषाओं का प्रयोग इस गीत में हुआ है, और साथ ही "इश्क़ है इश्क़" को भी शामिल किया गया है। इस तरह से गीत का मुखड़ा कुछ इस तरह का बना:

वैयनतीमाला के साथ राज कपूर और शंकर जयकिशन
ich liebe dich, 
I love you.
j’ vous t’aime,
I love you.
ya lyublyu vas (Я люблю вас),
I love you.
ishq hai ishq,
I love you.

यह मुखड़ा बनने के बाद इसका एक अन्तरा भी बना। 

come shake my hand
and love each other
let’s bring happiness
in this world together
this is the only truth
remember my brother
this is the only truth
remember my brother

गीत के संगीतकार के रूप में शंकर जयकिशन का नाम दिया गया है। संगीत संयोजन को सुन कर इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह शंकर जयकिशन का ही कम्पोज़िशन है। पर इसके गीतकार के लिए किसे क्रेडिट मिलना चाहिये? शैलेन्द्र? हसरत? राज कपूर? शंकर-जयकिशन? या फिर विविअन लोबो? जी हाँ, कुछ लोगों का कहना है कि इस गीत को दरसल विविअन लोबो ने ही लिखा था, पर इसका कोई प्रमाण उपलब्ध नहीं है। और ना ही विविअन लोबो के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध है। कुछ लोगों का कहना है कि शंकर जयकिशन के ऑरकेस्ट्रा में वायलिन और बास प्लेअर के लिए एक नाम V.V.N. Lobo का आता रहा है, शायद ये वही हो! यह अफ़सोस की ही बात है कि विविअन लोबो 'संगम' जैसी सफल और यादगार फ़िल्म के संगीत से जुड़े होने के बावजूद गुमनामी के अन्धेरे में ही रह गये। आज अगर वो जीवित हैं, तो कहाँ रहते होंगे? शायद गोवा में? या फिर क्या पता मुंबई में ही। अपने इस एक गीत से यह गायक ख़ुद गुमनामी में रह कर पूरी दुनिया को प्यार करना सिखा गया।

'संगम' के अन्य लोकप्रिय गीतों की तरह यह गीत लोकप्रिय तो नहीं हुआ, क्योंकि रेडियो पर इसे बजता हुआ कभी सुनाई नहीं दिया। पर राज कपूर सालों बाद भी इस गीत के असर से बाहर नहीं निकल सके। इस गीत के बनने के ठीक 20 साल बाद, जब उन्होंने फ़िल्म 'राम तेरी गंगा मैली' की योजना बनाई, तो उन्होंने इस फ़िल्म के संगीतकार रवीन्द्र जैन को कुछ-कुछ ऐसी ही धुन पर एक गीत कम्पोज़ करने का अनुरोध किया। उनके इस अनुरोध को सर-माथे रख रवीन्द्र जैन बना लाये "सुन साहिबा सुन, प्यार की धुन"। इन दोनों गीतों को ध्यान से सुनने पर दोनों की धुनों में समानता साफ़ सुनाई पड़ती है। बस इतनी सी है फ़िल्म 'संगम' के इस अनूठे अनसुने गीत की दास्तान!

फिल्म संगम : 'आई लव यू...' : विवियन लोवो : संगीत - शंकर जयकिशन 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

Comments

pks said…
Bahut achchhi jaankari...Shukriya

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया