शुक्रवार, 10 जनवरी 2014

साल की शुरुआत दो बेहद सुरीले प्रेम गीतों से

ताज़ा सुर ताल - 2014 - 01 

दोस्तों, हमने सोचा कि इस बार हम ताज़ा सुर ताल का कलेवर थोडा सा बदल दें. बजाय पूरी एल्बम की चर्चा करने के अब से हम हर सप्ताह दो चुनिंदा गीतों का जिक्र करेंगें, तो चलिए साल की शुरुआत करें कुछ मीठा सुनकर. अब आप ही कहें कि क्या प्रेम से मधुर कुछ है इस दुनिया में ? दोस्तों वर्ष २०१३ के सबसे सफल गायक साबित हुए अरिजीत सिंह, और आशिकी २ में तो उन्होंने प्रेम गीतों को एक अलग ही मुकाम तक पहुँचाया, सच कहें तो मोहित चौहान के बाद अरिजीत पहले ऐसे गायक हैं जिनमें एक लंबी पारी खेलने की कुव्वत नज़र आती है. कभी जो बादल बरसे मैं देखूँ तुझे ऑंखें भर के , तू लगे मुझे पहले बारिश की दुआ ... पैशन से भरे इस गीत में एक अजब सा नशा है. तुराज़ के शब्दों को शरीब तोशी ने बहुत ही प्यार से संवारा है. और अरिजित के तो कहना ही क्या, तो लीजिए सुनिए फिल्म जैकपोट  का ये गीत. 


अब इससे इत्तेफाक ही कहगें कि आज के हमारे दूसरे ताज़ा गीत में भी बारिश की झमाझम है,  बल्कि यहाँ तो गीत का नाम भी 'बारिश' ही है. आशिकी २ के निर्माताओं की ही ताज़ा पेशकश है फिल्म यारियाँ . यहाँ भी वर्ष २०१३ के सबसे सफल गीत तुम ही हो  के संगीतकार मिथुन ही हैं संचालक जो इस तरह के पैशनेट रोमांटिक गीतों के गुरु माने जाते हैं. गायक मोहम्मद इरफ़ान अली ने इस पूरे दिलोजान से निभाया है. बेहद कम समय में मोहम्मद इरफ़ान ने अपनी एक खास पहचान बना ली है. रहमान की खोज माने जाने वाले इरफ़ान ने फिर मोहब्बत  और बहने दे  जैसे हिते गीतों का प्लेबैक कर चुके हैं, और बारिश  गीत से इरफ़ान ने श्रोताओं को साल २०१४ की पहली संगीतमयी बारिश दे दी है. उन्हें बधाई देते हुए आईये सुनें इस गीत को यहाँ.
   

कोई टिप्पणी नहीं:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ