सोमवार, 5 सितंबर 2011

पी के घर आज प्यारी दुल्हन....एक विदाई गीत शमशाद के स्वरों में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 738/2011/178



पार्श्वगायिका शमशाद बेगम पर केन्द्रित 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की लघु शृंखला 'बूझ मेरा क्या नाव रे' की सातवीं कड़ी में आप सब का स्वागत है। नय्यर साहब के दो गीत सुनने के बाद आज एक बार फिर बारी नौशाद साहब की। १९५७ में नौशाद साहब की एक बेहद महत्वपूर्ण फ़िल्म रही 'मदर इण्डिया'। इस फ़िल्म में शमशाद बेगम के गाये दो एकल गीतों नें फ़िल्म के अन्य गीतों के साथ साथ ख़ूब धूम मचाई। इनमें से एक तो है मशहूर होली गीत "होली आयी रे कन्हाई रंग छलके सुना दे ज़रा बांसुरी", जिसे हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में पिछले साल सुनवाया था, और इस साल भी होली के अवसर पर शकील बदायूनी के बेटे जावेद बदायूनी से की गई बातचीत पर केन्द्रित 'शनिवार विशेष' में सुनवाया था। शमशाद जी का गाया 'मदर इण्डिया' का दूसरा गीत था विदाई गीत "पी के घर आज प्यारी दुल्हनिया चली, रोये माता पिता उनकी दुनिया चली"। बड़ा ही दिल को छू लेने वाला विदाई गीत है यह। शमशाद बेगम के गाये मस्ती भरे गीतों को हमने ज़्यादा सुना है। लेकिन कुछ गीत उनके ऐसे भी हैं जो सीरियस क़िस्म के हैं। १९४८ में नौशाद साहब नें शमशाद बेगम से गवाया था "धरती को आकाश पुकारे"। और इसके १० साल बाद नौशाद साहब नें ही उनसे 'मदर इण्डिया' में "पी के घर" गवाया। दृश्य में राज कुमार और नरगिस का विवाह होता है, और उसके बाद विदाई होती है और पाश्व में शमशाद बेगम और सखियों की आवाज़ें गूंज उठती है। दीपचंदी ताल पर आधारित यह गीत शमशाद बेगम के करीयर का एक उल्लेखनीय गीत है। दीपचंदी ताल पर बहुत से गीत बने हैं, जिनमें राग पहाड़ी का मुख्य रूप से प्रयोग किया जाता है।



आज जब नरगिस और शमशाद बेगम का एक साथ ज़िक्र चल पड़ा है, तो क्यों न आज इस अभिनेत्री-गायिका जोड़ी के बारे में थोड़ी चर्चा की जाये! महबूब ख़ान नें जब अपनी फ़िल्म 'तक़दीर' प्लैन की तो वो एक नए चेहरे की तलाश कर रहे थे। और १४ साल की नरगिस को मोतीलाल के ऑपोज़िट चुन लिया। और उनकी पार्श्वगायन के लिए चुना गया शमशाद बेगम को। फ़िल्म के सभी गीत कामयाब रहे और शमशाद जी बन गईं नरगिस जी की आवाज़। 'तक़दीर' की सफलता के बाद शमशाद-नरगिस जोड़ी वापस आईं दो साल बाद, यानी १९४५ में महबूब साहब की ही फ़िल्म 'हुमायूं' में। इस फ़िल्म में शमशाद जी से गीत गवाये गये लेकिन ग्रामोफ़ोन रेकॉर्ड पर राजकुमारी की आवाज़ थी। इस फ़िल्म का "नैना भर आये नीर" गीत को बहुत सफलता मिली थी। १९४७ में नरगिस अभिनीत फ़िल्म 'मेहंदी' में शमशाद जी नें गाया "ओ दूर जाने वाले आती है याद आजा"। १९४८ में नरगिस-शमशाद की जोड़ी नें दो सुपरहिट फ़िल्मों में काम किया - 'आग' और 'मेला'। 'आग' फ़िल्म का "काहे कोयल शोर मचाये" आप इसी शृंखला में सुन चुके हैं। 'नरगिस आर्ट कन्सर्ण' की फ़िल्म 'अंजुमन' में भी शमशाद जी से गीत गवाये गये। इस फ़िल्म के सात शमशाद नंबर्स में पाँच एकल थे और दो युगल। १९४९ की फ़िल्म 'अंदाज़' में लता जी नें नरगिस का प्लेबैक किया, जब कि शमशाद जी की आवाज़ ली गई कुक्कू के लिए। यह वह समय था जब लता मंगेशकर पहली पहली बार के लिए उस समय की प्रचलित गायिकाओं के सामने कड़ी चुनौती रख दी। १९५० में 'बाबुल' फ़िल्म में एक बार फिर शमशाद जी की आवाज़ सजी नरहिस के होठों पर, हालांकि फ़िल्म के सभी शमशाद नंबर्स गीत नरगिस पर नहीं फ़िल्माये गये थे। इस फ़िल्म में शमशाद जी मुख्य गायिका थीं और लता जी दूसरी गायिका। लेकिन बहुत जल्द ही लता जी मुख्य गायिका के रूप में स्थापित हो गईं। फ़ीमेल डुएट्स में पहले पहले शमशाद बेगम नायिका की आवाज़ बनतीं और लता जी नायिका की सहेली या बहन की; पर ५० के दशक में लता जी बन गईं नायिका की आवाज़ और शमशाद जी की आवाज़ पर "दूसरी लड़की" नें होंठ हिलाये। आइए अब सुना जाये आज का गीत फ़िल्म 'मदर इण्डिया' से। शक़ील साहब के बोल और नौशाद साहब का संगीत।







और अब एक विशेष सूचना:

२८ सितंबर स्वरसाम्राज्ञी लता मंगेशकर का जनमदिवस है। पिछले दो सालों की तरह इस साल भी हम उन पर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक शृंखला समर्पित करने जा रहे हैं। और इस बार हमने सोचा है कि इसमें हम आप ही की पसंद का कोई लता नंबर प्ले करेंगे। तो फिर देर किस बात की, जल्द से जल्द अपना फ़ेवरीट लता नंबर और लता जी के लिए उदगार और शुभकामनाएँ हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेजिये। प्रथम १० ईमेल भेजने वालों की फ़रमाइश उस शृंखला में पूरी की जाएगी।



पहेली में अमित जी के आलावा कोई उत्साह के साथ रूचि नहीं ले रहा. हमें लगता है कि आने वाले गीत का अंदाजा लगाने के बजाय अब से हम प्रस्तुत गीत पर चर्चा करें...आपका क्या विचार है



खोज व आलेख- सुजॉय चट्टर्जी






इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

2 टिप्‍पणियां:

अमित तिवारी ने कहा…

सुजॉय जी / सजीव जी मेरे विचार से तो पहेली जारी रहनी चाहिए.क्षिती जी ने भी उत्तर दिया देरी से सही पर दिया तो. बाकी लोगों का पता नहीं कि वो उत्साहित नही है या फिर समय का अभाव.

बहरहाल आख़िरी निर्णय आप लोगों का है.

indu puri ने कहा…

पहेली पूछना बंद मत करो सुजॉय-सजीव जी !
इस साल मेरे दिल ने बहुत झटके दिए वरना आप लोगो के बिना मैं रह सकती थी क्या?
तीन महीने मे दो बार एन्जियोप्लाती करवानी पड़ी उस दौरान जो दर्द ,तकलीफ मैंने सही........क्या लिखूं? जिस व्यक्ति को जीवन भर ये नही मालूम सिर दर्द कैसे होता है या बुखार किसे कहते हैं.जो बिना बोले बिना ठहाके लगाए एक घंटा क्या दस मिनट नही रह पाती थी....उसके लिए यह सब बहुत ही हाताश निराश कर देने वाली स्थिति थी.मैं हंसना,बोलना सब भूल गई थी बाबु! बड़ी मुश्किल से खुद ने खुद को इस हालात से उबारा.मैं आप लोगों से बहुत प्यार करती हूँ बाबु! किसी स्वार्थ या अपेक्षाओं से जुडे हुए नही हैं हम..... एक निःस्वार्थ खूबसूरत रिश्ता है हम सब के बीच. शब्दों से परे.ईश्वर से प्रेम का आधार भी भय या हमारी अधूरी इच्छाओं की पूर्ती की चाह रहती है न ? यहाँ तो वो भाव भी नही है.
इसलिए ये न सोचिये कि हमारी रूचि इस ब्लॉग या कार्यक्रम मे नही रही...........
जारी रखो.आप लोगो की मेहनत,समर्पण और जूनून के आगे मैं नतमस्तक हूँ.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ