Skip to main content

तुझे प्यार करते हैं करते रहेंगें.... जब प्यार में कसमें वादों का दौर चला

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 556/2010/256

रोमांटिक फ़िल्मी गीतों में जितना ज़्यादा प्रयोग "दिल" शब्द का होता आया है, शायद ही किसी और शब्द का हुआ होगा! और क्यों ना हो, प्यार का आख़िर दिल से ही तो नाता है। हमारे फ़िल्मी गीतकारों को जब भी इस तरह के हल्के फुल्के प्यार भरे युगल गीत लिखने के मौके मिले हैं, तो उन्होनें "दिल", "धड़कन", "दीवाना" जैसे शब्दों को जीने मरने के क़सम-ए-वादों के साथ मिला कर इसी तरह के गानें तैयार करते आए हैं। आज हमने जो गीत चुना है, वह भी कुछ इसी अंदाज़ का है। गीत है तो बहुत ही सीधा और हल्का फुल्का, लेकिन बड़ा ही सुरीला और प्यारा। हसरत जयपुरी साहब रोमांटिक गीतों के जादूगर माने जाते रहे हैं, जिनकी कलम से न जाने कितने कितने हिट युगल गीत निकले हैं, जिन्हे ज़्यादातर लता-रफ़ी ने गाए हैं। लेकिन आज हम उनका लिखा हुआ जो गीत आप तक पहुँचा रहे हैं उसे रफ़ी साहब ने लता जी के साथ नहीं, बल्कि सुमन कल्याणपुर के साथ मिलकर गाया है फ़िल्म 'अप्रैल फ़ूल' के लिए। शंकर जयकिशन के संगीत निर्देशन में यह गीत है "तुझे प्यार करते हैं करते हैं करते रहेंगे, के दिल बनके दिल में धड़कते रहेंगे"। 'अप्रैल फ़ूल' १९६४ की फ़िल्म थी जिसके मुख्य कलाकार थे बिस्वजीत और सायरा बानो। सुबोध मुखर्जी निर्मित व निर्देशित इस फ़िल्म का शीर्षक गीत आज भी बेहद लोकप्रिय है जिसे हम हर साल पहली अप्रैल के दिन याद करते हैं।

जैसा कि अभी हमने आपको बताया कि 'अप्रैल फ़ूल' १९६४ की फ़िल्म थी। और यही वो समय था जब लता जी और रफ़ी साहब ने रायल्टी के विवाद की वजह से एक दूसरे के साथ गीत गाना बंद कर दिया था। १९६३ से लेकर अगले तीन-चार सालों तक इन दोनों ने साथ में कोई भी युगल गीत नहीं गाया, और १९६७ में सचिन देव बर्मन के मध्यस्थता के बाद 'ज्वेल थीफ़' में "दिल पुकारे आ रे आ रे आ रे" गा कर इस झगड़े को ख़त्म किया। हमने इस बात का ज़िक्र यहाँ पर इसलिए किया क्योंकि बात रफ़ी साहब और सुमन कल्याणपुर के गाने की चल रही है। जी हाँ, लता जी के रफ़ी साहब के साथ ना गाने की वजह से फ़िल्म निर्माता और संगीतकार सुमन जी की आवाज़ की ओर आकृष्ट हुए क्योंकि एक सुमन जी ही थीं जिनकी आवाज़ लता जी से बहुत मिलती जुलती थी। ज़रा ग़ौर कीजिए दोस्तों कि संगीतकारों ने लता जी के बदले आशा जी को लेना गवारा नहीं किया, बल्कि सुमन जी की आवाज़ ली। इसी से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि लता जी जैसी आवाज़ की क्या डिमाण्ड रही होगी उस ज़माने में। ख़ैर, इस विवाद की वजह से अगर किसी को फ़ायदा हुआ तो वो थीं सुमन जी। इन तीन सालों में सुमन जी को रफ़ी साहब के साथ कई कई हिट गीत गाने के सुयोग मिले और आज का प्रस्तुत गीत भी उन्ही में से एक है। कुछ मशहूर रफ़ी - सुमन डुएट्स की याद दिलाएँ आपको जो इन तीन सालों के भीतर बनीं थीं?

दिल एक मंदिर (१९६३) - "दिल एक मंदिर है"
जहाँ-आरा (१९६४) - "बाद मुद्दत के ये घड़ी आई"
कैसे कहूँ (१९६४) - "मनमोहन मन में हो तुम्ही"
जी चाहता है (१९६४) - "ऐ जाने तमन्ना ऐ जाने बहारा"
बेटी-बेटे (१९६४) - "अगर तेरा जल्वा नुमाई ना होती, ख़ुदा की क़सम ये ख़ुदाई ना होती"
राजकुमार (१९६४) - "तुमने पुकारा और हम चले आए"
सांझ और सवेरा (१९६४) - "अजहूँ ना आए साजना सावन बीता जाए"
शगुन (१९६४) - "पर्बतों के पेड़ों पे शाम का बसेरा है"
आधी रात के बाद (१९६५) - "बहुत हसीं हैं तुम्हारी आँखें"
मोहब्बत इसको कहते हैं (१९६५) - "ठहरिए होश में आ लूँ तो चले जाइएगा"
भीगी रात (१९६५) - "ऐसे तो ना देखो के बहक जाएँ"
जब जब फूल खिले (१९६५) - "ना ना करते प्यार तुम्ही से कर बैठे"
दिल ने फिर याद किया (१९६६) - "दिल ने फिर याद किया बर्फ़ सी लहराई है"
सूरज (१९६६) - "इतना है तुमसे प्यार मुझे मेरे राज़दार"
साज़ और आवाज़ (१९६६) - "किसने मुझे पुकारा, किसने मुझे सदा दी"
ममता (१९६६) - "रहें ना रहें हम महका करेंगे"
ग़ज़ल (१९६६) - "मुझे ये फूल ना दे तुझे दिलबरी की क़सम"
छोटी सी मुलाक़ात (१९६७) - "तुझे देखा, तुझे चाहा, तुझे पूजा मैंने"
चांद और सूरज (१९६५) - "तुम्हे दिल से चाहा तुम्हे दिल दिया है"
फ़र्ज़ (१९६७) - "तुमसे ओ हसीना कभी मोहब्बत ना मैंने करनी थी"
पाल्की (१९६७) - "दिल-ए-बेताब को सीने से लगाना होगा"
ब्रह्मचारी (१९६८) - "आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे हर ज़बान पर"

तो दोस्तों, देखा आपने कि कैसे कैसे हिट गीत इन तीन चार सालों में सुमन जी को रफ़ी साहब के साथ गाने को मिले थे। वैसे इनके अलावा भी, इन चंद सालों के बाहर भी इन दोनों ने और भी बहुत से हिट युगल गीत गाए, लेकिन जो कामयाबी उन्हे इन गीतों में मिली, वह शायद इससे पहले या इसके बाद नहीं मिली होगी। ख़ैर, आइए अब सुना जाए आज का गीत फ़िल्म 'अप्रैल फ़ूल' से।



क्या आप जानते हैं...
कि सुमन कल्याणपुर ने सन् १९५४ में संगीतकार मोहम्मद शफ़ी के निर्देशन में फ़िल्म 'मंगू' में पहली बार गीत गाया था और उस गीत के बोल थे "कोई पुकारे धीरे से तुझे"।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 7/शृंखला 06
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - किसी अन्य सूत्र की दरकार नहीं.

सवाल १ - किस मशहूर शायर की है मूल रचना - २ अंक
सवाल २ - किस गीतकार ने इस ग़ज़ल को आगे बढ़ाया है फिल्म के लिए - १ अंक
सवाल ३ - संगीतकार बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
गलत जवाब है श्याम कान्त जी.....आपने २ अंक गँवा दिए....इंदु जी और रोमेंद्र जी एक एक अंक जरूर कमाए

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

मजरूह सुल्तानपुरी
तुम्हे भूल जाऊं ये मुमकिन नही है
कहीं भी रहूँ मेरा दिल तो वहीं है
घटे चाँद लेकिन कोई गम न होगा तेरा प्यार दिल से कभी कम ना होगा.....' क्या खूब लिखा है लिखने वाले कि हर प्यार करने वाले के दिल बात कह जाता है ये गीत.मुझे बहुत पसंद.
हो भी क्यों ना
ऐसिच हूँ मैं भी -प्यार जीवन है मेरा और मेरा भगवान भी
हा हा हा
भई हम तो पहले प्रश्न का उत्तर दे रहे है - ये गज़ल मूल रूप से शायर 'मीर' साहब की है.आपको दो प्रश्नों को एक करके पूछना था.तीसरा प्रश्न कोई और दे देते.
पहला उत्तर का जवाब कोई और भी आ कर दे सकते हैं.क्योंकि ये गलत हो सकता है.गुरूजी! दोनों सही हुए तो??????? नम्बर 'शून्य' हो जायेगा? ये भी कोई बात हुई.
Music Director : laxmikant Pyarelal
(Tukka)

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया