Wednesday, February 4, 2009

सुनिए मन्ना डे की आवाज़ में मधुशाला के गीत

पिछले दिनों हमने आवाज़ पर मन्ना डे का जिक्र किया था,हमारे कुछ श्रोताओं ने फरमाईश की,कि हम उन्हें मन्ना डे की आवाज़ में प्रस्तुत हरिवंश राय बच्चन रचित मधुशाला की रिकॉर्डिंग सुनवाएं. ये भी एक संयोग ही है कि अभी कुछ दिन पहले ही बच्चन जी पुण्यतिथि पर हमने उनकी एक कविता "क्या भूलों क्या याद करूँ ..." का स्वरबद्ध रूप भी सुनवाया था. तो आज आनंद लीजिये मन्ना डे की गहरी डूबती आवाज़ में मधुशाला के रंगों का.



प्रस्तुति सहयोग - विश्व दीपक "तन्हा"



4 comments:

neelam said...

kuch cheej kabhi nahi badalti ,
aisi hi hai kuch madhushaala .

vismrit smrityoun me le jaati hai madhushaala .

dhanyvaad ,deepak ji aur aawaj team ko ise sunvaane ke liye

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही मधुर ओर सुंदर.
धन्यवाद

अवनीश एस तिवारी said...

इस संगीत एल्बम में बच्चनजी के आवाज़ में एक रुबाई भी होगी |
यह मेरे पास थी अब नही है | इसका सभी को सुनकर लाभ लेना चाहिए |
तन्हा को इसे बांटने के लिए धन्यवाद |

अवनीश

शोभा said...

मन्ना डे जी की आवाज़ में मधुशाला सुनकर आनन्द आगया। हिन्द-युग्म को इतनी सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई।

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ