शनिवार, 27 जुलाई 2013

सिने पहेली – 74- सवाल हमारे जवाब आपके!

सिने पहेली – 74


सवाल हमारे जवाब आपके!
  
सिने पहेली के 73 वें अंक में लगता है सवाल नम्बर 5 ने काफी लोगों को दुविधा में डाला और आवाज़ पहचानने के सवाल को तर्क संगत नहीं ठहराया. 

दोस्तों आप सबसे केवल एक बात कहना चाहता हूँ कि अगर पहेली प्रतियोगी की सुविधा अनुसार बनाई जाए तो फिर कैसी पहेली? 

ये तो कुछ उस तरह हो जाएगा कि स्कूल के विद्यार्थी कहें कि सवाल हमारी जानकारी के ही हिसाब से बनाये जाएँ. 

कृपया ध्यान दें कि सवाल हम लोग भी अपने आस पास से ही लेते हैं और सबको एक सप्ताह का समय दिया जाता है कि वो इन्टरनेट और बाकी श्रोतों से जवाब ढूंढें. 

अब पिछली पहेली को ही देख लीजिये प्रकाश गोविन्द जी और क्षिति तिवारी जी ने आवाज़ को पहचान लिया. 
फिर भी आप सबकी बातों को ध्यान में रखकर आप लोगों को कुछ हिंट देने की जरूर कोशिश करेंगे.

इस बार कोइ भी पूर्ण अंक प्राप्त नहीं कर पाया. प्रकाश जी जल्दीबाजी में गाने का नाम बतलाना ही भूल गए. बाकी सवाल नम्बर 2 के बाकी उत्तर उन्होंने सही दिए.

आज की पहेली के पाँच सवाल नीचे हैं , ध्यान से उत्तर दीजिये और पूरे अंक प्राप्त करने का मौका मत छोड़िये.

आज की पहेली के लिए आप सबको शुभकामनाएँ.

इस अंक से प्रतियोगिता में जुड़ने वाले नये खिलाड़ियों का स्वागत करते हुए हम उन्हें यह भी बताना चाहेंगे कि अभी भी कुछ देर नहीं हुई है। आज से इस प्रतियोगिता में जुड़ कर भी आप महाविजेता बन सकते हैं। यही इस प्रतियोगिता की विशेषता है। इस प्रतियोगिता के नियमों का उल्लेख नीचे किया गया है, ध्यान दीजियेगा। 

तो  आइए, आरम्भ करते हैं, आज की पहेली का सिलसिला।


आज की पहेली

सवाल-1: गाना कौन सा? (4 अंक)


इस धुन को सुन कर बतलाइये कि यह किस गाने की धुन है (2 अंक). साथ ही आपको बतलाना है गीतकार का (1 अंक) और निर्देशक का नाम (1 अंक).


 

सवाल-2: पहचानिए तो सही (4 अंक)


नीचे दिए गए कलाकारों को तो आप आसानी से पहचान गए होंगे. सवाल बहुत सरल है. आपको बतलाना है की यह दृश्य किस फिल्म का है (2 अंक) और इसके निर्देशक का नाम (2 अंक)



सवाल-3: बूझो तो जाने (5 अंक)


हम आपको सुनवा रहे हैं एक गाने की सिर्फ एक लाइन. आपको गाने को पहचानना है (1 अंक), गायिका की आवाज पहचाननी है (2 अंक), गीतकार का नाम (1 अंक) और साथ ही इस गाने में अभिनय करने वाली अभिनेत्री को (1 अंक) बताना है.



 

सवाल - 4: मैं कौन हूँ (4 अंक)


मैं एस. डी. बर्मन का पहला संगीत गुरु था.
मैं जन्मान्ध नहीं था फिर भी मेरी अपंगता मेरी राह में आड़े नहीं आयी. मैंने कई हिट गाने गाये , संगीत दिया और 25 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय करा.
मेरी विरासत को मेरे ही परिवार के एक अन्य सदस्य ने जारी रखा और हिन्दी संगीत में बहुत बड़ा योगदान दिया और अपना नाम कमाया. उस सदस्य के अनुसार मैं ही उनका प्रथम संगीत गुरु था. 

1. मेरा पूरा नाम बतलाइए (2 अंक) 
2. बतौर अभिनेता मेरी पहली फिल्म का नाम (1 अंक)
3. मैं ऊपर अपने किस पारिवारिक सदस्य के बारे में बात कर रहा हूँ. उनका असली नाम. (1 अंक) 

 

सवाल - 5: गोल्डन वॉयस (2 अंक)


इस आवाज़ को सुनकर आपको बतलाना है कि ये आवाज़ किसकी है. इस सवाल के पूरे 2 अंक हैं.

हिन्ट: ये अपने दौर के एक मशहूर खलनायक रह चुके हैं.



जवाब भेजने का तरीका


उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 74" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 1 अगस्त, शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।


पिछली पहेली का हल
 
प्रश्न 1: आगरे से घागरो मंगा दे रसिया, रविन्द्र जैन , अशोक रॉय
प्रश्न 2: महाभारत , बाबू भाई मिस्त्री
प्रश्न 3: कुछ और जमाना कहता है, गायिका :मीना कपूर , फिल्म का नाम : छोटी छोटी बातें
प्रश्न 4:हरीन्द्रनाथ चट्टोपाध्याय, अशोक कुमार (रेल गाड़ी), फिल्म साहिब बीबी और गुलाम, निर्माता: गुरुदत्त, निर्देशक : अबरार अल्वी
प्रश्न 5: प्रदीप कुमार

पिछली पहेली के विजेता

सिने पहेली – 73 के विजेताओं के नाम और उनके प्राप्तांक निम्नवत हैं।


1- प्रकाश गोविन्द, लखनऊ – 18 अंक 

2- पंकज मुकेश, बैंगलुरु – 17 अंक

3- 
क्षिती तिवारी – 13 अंक

4- चन्द्रकान्त दीक्षित, लखनऊ  – 13 अंक

5- विजय कुमार व्यास, बीकानेर– 13 अंक

6 - इन्दू  पुरी - 10 अंक 


आठवें  सेगमेण्ट का  स्कोरकार्ड


नये प्रतियोगियों का आह्वान

नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। अगले सप्ताह से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के साथी, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बताएँ और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम।


कैसे बना जाए ‘सिने पहेली महाविजेता'

1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स।

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा।

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। सातवें सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...

4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम।


'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी cine.paheli@yahoo.com पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, आज के लिए मुझे अनुमति दीजिए, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी, नमस्कार।
  


प्रस्तुति : अमित तिवारी 


17 टिप्‍पणियां:

इन्दु पुरी ने कहा…

ufffffffff pahla prashn kitna katheen hai! jra saral kro ise...........jyada se jyda log jud paayen isse. plz plz plzzzzz

प्रकाश गोविंद ने कहा…

लाखों गानों में से किसी गाने की सिर्फ दस-ग्यारह सेकण्ड की धुन सुनकर गाना पहचानना बहुत टेढ़ी खीर है …
ये भी नहीं पता कि कितने साल पुराना गाना है … ये भी नहीं मालुम कि धुन गाने के शुरुआत की है या बीच की या अंत की ? न संगीतकार का अता पता न गीतकार का …. न गायक न गायिका … उफ़

हाय अल्लाह …. क्या करूँ :-)

Mr.M.Daruwala ने कहा…

These people actually do not know how to frame questions and conduct a proper quiz.

@Indu madam ,Just to make it difficult they can do anything.
wait and see in next quiz they will give only 2-3 seconds clip and ask you to find out!or a picture of an artist you never heard about.
they want people to lose interest and run away.

hats off to all these 4-5 participants those are still in the race spending their precious time [months]for this type of quiz.[for just 5thousand prize money]

I challenge mr amit tiwari ,he can not answer half of his own questions if one ask after 6 months to him.

चन्द्रकांत दीक्षित ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
चन्द्रकांत दीक्षित ने कहा…

श्री M.Daruwala जी को मैं स्पष्ट करना चाहूँगा कि इस पहेली में मेरे भाग लेने का कारण पांच हजार रूपये का पुरस्कार कतई नहीं है| मैं इसमें इसलिए भाग लेता हूँ कि इससे मुझे ख़ुशी मिलती है|
साथ ही मैं प्रकाश गोविन्द जी की बात से सहमत हूँ, छोटी सी धुन सुनकर गाना पहचानना तभी संभव है जब गाना बहुत बार सुना हुआ हो|
ऐसे सवालों का यदि एक भी सही उत्तर प्राप्त न हो तो आयोजकों को इनके रखने पर पुनर्विचार करना चाहिए|
वैसे मुझे अगर आधे सवाल का उत्तर भी पता होगा तो मैं तो भाग लूँगा (& of course not for 5000/- Rs. Mr. Daruwala ji)| अगर जवाब ढूढने में मेहनत लगती है तो सवाल बनाने में भी लगती है|

प्रकाश गोविंद ने कहा…

दारूवाला जी आपकी बातों से सहमत जरुर हूँ लेकिन कहना चाहूँगा कि शायद ही कोई प्रतियोगी 'प्राईज मनी' के लिए यहाँ आता है ! मैं पिछले सात वर्षों से तमाम जगहों पर क्विज में हिस्सा लेता रहा हूँ …. वहाँ तो सिर्फ एक ही ईनाम मिलता है - "बधाई" !

मैंने तो न जाने कितनी ऐसी पहेलियों में भी हिस्सा लिया जहाँ अकेला मैं ही प्रतियोगी था :-)
जबकि मेहनत हर पहेली में ही करनी पड़ती है !
दरअसल ये एक शौक है … एक जूनून है … इसे समझना आसान नहीं जब तक आप स्वयं 'इन्वाल्व' न हों !

यहाँ समस्या आयोजक और प्रतियोगियों की आपसी चुनौती की है ! आयोजक चाहते हैं कि जवाब तक कोई पहुँच न पाए … और प्रतियोगी हर हालत में जवाब तक पहुंचना चाहता है ! लेकिन इस द्वन्द के चक्कर में जो पहेली के शौक़ीन हैं वो सब घनचक्कर बने हुए हैं :-)

मैं अत्यंत विनम्रता से कहना चाहूँगा कि आयोजक कठिन पहेली पूछें … जरूर पूछें लेकिन उस पहेली का कोई आधार तो हो ! मैं तो कहता हूँ कि आयोजक की बात दरकिनार … अगर किसी एक तीन-चार सौ गानों को गाने वाले गायक से भी उसके ही गाने की कोई दस सेकेण्ड की धुन सुनाऊं तो वो भी अपना गाया गाना नहीं पहचान सकता ! ऐसा मैं बेशुमार बार टीवी प्रोग्राम्स में देख भी चुका हूँ जब गायक लोग अपने गाने को धुन से नहीं पहचान पाए !
कृपया कोई भी पहेली बिना क्ल्यू के न दी जाए !

सादर !

Amit ने कहा…

आप सबको केवल एक ही बात कहना चाहता हूँ कि पहेली में सुनवाई गयी धुनें केवल उन ही गानों की होती हैं जो भुत लोकप्रिय हुए हैं और इन्टरनेट पर आसानी से ढूंढें जा सकते हैं. यहाँ हम किसी के ज्ञान को बिलकुल भी नहीं परखना चाहते हैं बल्कि चाहते हैं कि सभी लोगों को इसमें मज़ा आये. जब सवाल बिलकुल सरल होते हैं तब तो कोई कुछ नही कहता. उदाहरण के लिए जब हमने विदेशी फिल्मों पर बनी हिन्दी फिल्मों के बारे में पूछा था तब लगभग सभी ने कुछ ही घंटों में सारे सही उत्तर दे दिए थे.

दारूवाला जी हमने कभी भी सर्वग्य होने का दावा नहीं किया. न ही हम कहते हैं कि हम परफेक्ट हैं. अगर आपके पास पहेली को और बेहतर ढंग से आयोजित करने के सुझाव हैं तो कृपया हमें बताइए हम जरूर उन पर अमल करेंगे. ये सभी लोग पिछले कई सालों से पहले आवाज़ और अब रेडिओ प्ले बैक इण्डिया के द्वारा जुड़े हुए हैं और मैं ये बात तो बिलकुल भी मानने को तैयार नही हूँ कि 5000 रुपयों के लिए ये सब भाग ले रहे हैं.

Sajeev ने कहा…

दारूवाला साहब, आपके लिए कुछ पंक्तियाँ पेश है -
वस्ल का सुकूँ क्या है,
हिज्र का जुनूं क्या है,
हुस्न का फुसूं क्या है.
इश्क के दरूं क्या है,
तुम मरीज़-ए-दानाई,
मस्लहत के शैदाई,
शौक की जुबाँ क्या है...तुम न जान पाओगे...

और अमित जी, भाई साहब दो चार हिंट तो बनते हैं....यहाँ प्रकाश जी जैसे एन्स्य्क्लोपीडीया हैं तो हमारी इंदु जैसी सीधी सरल प्रतिभागी भी हैं जिन्हें आपके सवालों का इन्तेज़ार रहता है :)

प्रकाश गोविंद ने कहा…

आदरणीय संजीव सारथी जी …
आपने तो बेहतरीन पंक्तियाँ लिख दीं … वाह वाह वाह … बहुत उम्दा !!

और हाँ
सिफारिश करने के लिए शुक्रिया
अमित जी और सुजाय जी से कहिये कि
दो-चार हिंट नहीं बस 1/2 (आधा) हिंट ही पर्याप्त होगा

इसी बात पर अब तो पहले सवाल के गाने का कोई संकेत दिया जाए :-)

सादर

Amit ने कहा…

प्रकाश जी, इस समय हिंट देना उचित नहीं जान पड़ता है, विशेषकर जबकि हमारे कुछ प्रतियोगी सही जवाब जान चुके हैं. मेरे अनुसार उनके साथ ये अन्याय होगा. हाँ अगले अंक से जरूर कुछ हिंट देंगे.

प्रकाश गोविंद ने कहा…

जी हाँ अमित जी बिलकुल …. मैं आपसे सहमत हूँ
अगर किसी प्रतियोगी का सही जवाब आ चुका है तो
अब हिंट देना न्यायसंगत बात नहीं होगी !
-
-
कोई बात नहीं
इस बार मेरा डब्बा गोल सही
बड़ी-बड़ी पहेलियों में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं :-)

सादर

अनमोल चौहान ने कहा…

दोस्तों मैं इस साईट का रेगुलर पाठक हूँ. पिछले कुछ दिनों से चल रही बयान बाजी से ताज्जुब होता है. आप इतने टाइम से पहेली में भाग ले रहे हैं और सवाल कठिन लगे तो रोने लगे? मैंने आज तक भाग नही लिया पर इस बार आप सबको जवाब देने के लिए मैंने अपने उत्तर भेज दिए हैं. अमित तिवारी आप बताना कि मैं सभी उत्तर सही दे सका या नहीं?
मैं उत्तर देकर केवल ये साबित करना चाहता हूँ कि अगर सवाल कठिन हैं तो कृपया रोइए मत.
मुझे नहीं लगता कि पहेली बनाना इतना आसान काम है. और आयोजक आपसे कुछ मांग तो नहीं रहे?

एम. दारूवाला आपने आज तक तो एक भी जवाब नही दिया और ब्लेम करने लगे. आलोचना करनी ही है तो स्वस्थ ढंग से करिए.

प्रकाश गोविंद ने कहा…

मिस्टर अनमोल चौहान
आप हैं कौन ????
आसमान से टपके या जमीन से निकले ?
ज्यादा लल्लूपने की बात न करिए
हम लोग यहाँ एक साल से मगजमारी कर रहे हैं … जूझ रहे हैं
आप कहाँ थे तब ?
औकात थी तो पहेली में शामिल होते
लफ्फाजी करने में कौन सा टैक्स लगता है ?

हम लोगों ने तो एक साल तक सैकड़ों सवालों के जवाब दिए
मैं आपको खुली चुनौती देता हूँ … ओपन चैलेन्ज
मैं आपसे दस सवाल पूछूंगा आप सिर्फ सात के जवाब दे दो
मैं आपको दस हजार रुपये देता हूँ
कमा लीजिये एक दिन में दस हजार !

आशा है आप मेरी खुली चुनौती स्वीकार करेंगे
लेकिन आपको असली प्रोफाईल के साथ सामने आना होगा

चुनौती स्वीकार हो तो यहीं स्वीकार करिए

Vijay Vyas ने कहा…

इस बार गृह जिले से बाहर होने के कारण जवाब के लिये आज का दिन ही मिला है। हालांकि पहेली का परिणाम एवं प्रश्‍न मैंनें देख लिये थे परन्‍तु सुविधा नहीं होने के कारण खोज नहीं कर पाया, फिर भी आज अन्तिम दिन को जितने भी उत्‍तर मिलेगें, जवाब प्रेषित करूंगा। चलिये, यह भी अच्‍छा हुआ कि निरन्‍तरता का क्रम नहीं टूटेगा। अनमोलजी, आप नियमित पाठक हैं इसलिए मैं आपको पहेली में नियमित भाग लेने का आग्रह करता हूँ । इससे पहेली और इसके प्रतिभागियों के द्वंद्ध का रोमांच और अधिक मजेदार हो जाऐगा।

Mr.M.Daruwala ने कहा…

Anmol ji aap jaise regular aate ho bina jawab diye jaate,
main bhi aisa hi ek banda hun,aata hun padhta hun,dekhta hun,chala jata hun.
aap ne isee baar kyun jawab diya ?ise bujhna mushkil nahin hai.[?]

Rahi bat ki ayojakon ko kya chaheeye?
Ayojakon ko pratibhaagi chaheeye.
agar pratibhaagi na hon to khel kaun khelega?

Ayojakon ko un sabhi prtibhagiyon ka ehsaan manna chaheeye jitne bhi log khel ko zinda rhe hue hain.

agar prtibhagiyon ki baat nahin sunenge to bhavihsy mei khud bolte raheeye koi sunne wala na hoga.
sab ko maluum hai ki site par traffic badhane ke liye bhi quiz aur contest rakhe jaate hain.

paheli kathin ya asaan ki baat nahin hai ,baat swaal puchne ke tareeke ka hai.

aap 8-10 sec ki music ya dialogue ya interview ki clip de kar sawal bina sanket puchhenge to yeh tareeka galat hi hoga.

Lagta hai aap inke apne 'ceated pratibhagi' hain jo sare jawab bina clue jaan gaye hain.
Ayojakon ka banaya khel ke bhitar ka naya khel to nahin ?

चन्द्रकांत दीक्षित ने कहा…

प्रकाश सर,आपकी चुनौती पढ़कर सच में मजा आ गया|

Pankaj Mukesh ने कहा…

Ye sab kya ho raha hai??
Itna bada dwand yudh jaisa mahaul kyon baya jaa raha hai??
Sidhi see baat hai, agar comment karna hai to pahle maidaan mein utarein, rahi baat aayojakon ki to mere khayaal se ab wo log hint dene ka zaroor khayaal rakhenge, kyonki paheli mein har tarah ke log hissa le rahe hain, aur amooman logon ke performance paheli dar-paheli vary karta hai-jaise mere hi marks dekh lein-episod 71 mein 10 out of 10, aur 72 mein just 5. iska kaaran pratibhagi ki lagan aur sawal ki jatilta sab pe nirbhar karta hai...
Khair kal tak pata lag jayega ki KUN KAUN KITNEY PAANI MEIN SABKI HOGI PAHCHAAN YAHAN!!!
tab tak TUMHAARI BHI JAI-JAI, HAMARI BHI JAI-JAI, NA TUM HAARE NA HUM HAARE.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ