Skip to main content

सिने पहेली - 65 - हिन्दी चलचित्र -प्रेरणा विदेशी



सिने-पहेली - 65 में आज


'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं का सिने पहेली के 65 वें अंक में     स्वागत है. साथियों लगता है कि पिछली बार की पहेली कुछ कठिन हो गयी थी और तय समयावधि में कोई भी खिलाड़ी पाँचों उत्तर नहीं दे पाया. फिर भी आप सबको धन्यवाद कि कठिनाई के बावजूद अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ी.

पहेली के उत्तर और परिणाम नीचे दिए गए हैं और आज शुरू करते हैं एक और नयी ताज़ा पहेली. इस बार उम्मीद है कि यह आप लोगों को पूर्ण अंक अर्जित करने का मौका देगी.

सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं.

आज से इस प्रतियोगिता में जुड़ने वाले नये खिलाड़ियों का स्वागत करते हुए हम उन्हें यह भी बताना चाहेंगे कि अभी भी कुछ देर नहीं हुई है, आज से इस प्रतियोगिता में जुड़ कर भी आप महाविजेता बन सकते हैं, यही इस प्रतियोगिता की ख़ासियत है। इस प्रतियोगिता के नियमों का नीचे किया गया है, ध्यान दीजियेगा।


आज की पहेली:हिन्दी चलचित्र -प्रेरणा विदेशी

दोस्तों,यूं तो हिन्दी फिल्म उद्योग अपने आप में परिपूर्ण है फिर भी आरोप लगाये जाते  हैं कि  कुछ फिल्मों की कहानी किसी विदेशी फिल्म से चुराई गयी है. कुछ समय पहले हिट हुई फिल्म 'बर्फी' को भी कुछ इसी  तरह की आलोचना झेलनी पड़ी थी जहाँ फिल्म के कई दृश्यों को कुछ विदेशी फिल्मों से हू-ब-हू उठाया गया बतलाया गया था.

खैर क्या फर्क पड़ता है अगर फिल्म की कहानी अच्छी हो और दर्शकों को उससे मनोरंजन मिले. हम इस बहस में न पड़कर पहेली की ओर ध्यान केन्द्रित करते हैं.

आज की पहेली भी इसी प्रेरणा पर आधारित है. नीचे पाँच विदेशी फिल्मों के पोस्टर दिए गए हैं और आपको इन विदेशी फिल्मों से प्रेरित हिन्दी फिल्म  और विदेशी फिल्म दोनों का नाम बतलाना है.

हर सवाल के लिए दो अंक हैं यानि की हिन्दी नाम का 1 अंक और नीचे दिखाई गयी तस्वीर की फिल्म के नाम का 1 अंक. कुल मिलाकर  सिने पहेली का 65 वां अंक पूरे 10 अंको का है.


प्रश्न संख्या 1.
 
 प्रश्न संख्या 2.


 प्रश्न संख्या 3.

 प्रश्न संख्या 4.

 प्रश्न संख्या 5.

 


पिछली पहेली का हल

1-
गाना: बसंत है आया रंगीला (फिल्म : स्त्री)
संगीतकार: सी. रामचंद्र

2 –
गाना: कभी नेकी भी उसकी जी में ( फिल्म: गाज़ी सलाहुद्दीन)
संगीतकार: खेमचन्द प्रकाश

3 –
गाना: माने ना माने ना  हाय बलम परदेशिया (फिल्म: जागीर)
संगीतकार:मदन मोहन

4 –
गाना: ज़िन्दगी आज मेरे नाम से शरमाती है  (फिल्म: सन ऑफ़ इंडिया)
संगीतकार:नौशाद

5 –
गाना: हिया जरत रहत दिन रैन हो रामा जरत रहत दिन रैन  (फिल्म: गोदान)
संगीतकार:रवि शंकर

पिछली पहेली के विजेता

सिने पहेली - 64 के के विजेताओं के नाम और उनके प्राप्तांकों पर। सबसे ज्यादा अंक मिले हैं प्रकाश गोविन्द जी  को. प्रकाश जी बहुत बहुत बधाई.

1- प्रकाश गोविन्द, लखनऊ - 12 अंक 
2- क्षिति तिवारी, जबलपुर - 9 अंक
3- विजय कुमार व्यास, बीकानेर - 7 अंक
4. चंद्रकान्त दीक्षित, लखनऊ - 6 अंक  

 इस सेगमेण्ट का अब तक का सम्मिलित स्कोरकार्ड 




नये प्रतियोगियों का आह्वान

नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। अगले सप्ताह से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के साथी, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बताएँ और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम।

कैसे बना जाए 'सिने पहेली महाविजेता?

1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स।

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा।

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। छठे सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...



4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम।

जवाब भेजने का तरीका

उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 65" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 30 मई शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।

'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी cine.paheli@yahoo.com पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, आज के लिए मुझे अनुमति दीजिए, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी, नमस्कार।


Comments

Vijay Vyas said…
चित्र पर क्लिक करके भी आप सीधे सिने पहेली के ताज़ा सवाल तक पहुँच सकते हैं । चित्र पर पिछली पहेली अर्थात सिने पहेली 64 का लिंक है, कृपया सही कर लेवें, ताकि सिने पहेली 65 सामने आ सके। आभार ।
Amit said…
विजय जी गलती बताने के लिए शुक्रिया. लिंक ठीक कर दीगयी है

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया