Skip to main content

लक्ष्य छोटे हों या बड़े, पूरे होने चाहिए- शैलेश भारतवासी

डैलास, अमेरिका के एफ॰एम॰ रेडियो चैनल 'रेडियो सलाम नमस्ते' को दिये गये अपने साक्षात्कार में हिन्द-युग्म के संस्थापक-नियंत्रक शैलेश भारतवासी ने कहा कि किसी व्यक्ति या संस्था की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि वह चाहे छोटे लक्ष्य बनायें या बड़े लक्ष्य बनाये, उसे पूरा करे। शैलेश रेडियो सलाम नमस्ते के हिन्दी कविता को समर्पित साप्ताहिक कार्यक्रम 'कवितांजलि' के २१ दिसम्बर के कार्यक्रम में टेलीफोनिक इंटरव्यू दे रहे थे। हमें वह रिकॉर्डिंग प्राप्त हो गई है। आप भी सुनें, शैलेश की बातें और उसके बाद रेडियो सलाम नमस्ते के श्रोताओं की बातें।




आदित्य प्रकाश
यह कार्यक्रम डैलास, अमेरिका में ही वैज्ञानिक के पद पर कार्यरत हिन्दी सेवी आदित्य प्रकाश सिंह द्वारा प्रस्तुत किया जाता है। आदित्य प्रकाश की आवाज़ सुनकर हर एक हिन्दी प्रेमी को हिन्दी के लिए कुछ कर गुजरने की ऊर्जा मिलती है। आदित्य प्रकाश सिंह अपने खर्चे से दुनिया भर के हिन्दी कर्मियों को अपने कवितांजलि कार्यक्रम से जोड़ते हैं। यहाँ तक कि स्टूडियो तक आने-जाने का खर्च भी ये ही उठाते हैं। मूल रूप से भारत में बिहार के रहनेवाले आदित्य प्रकाश कविताओं के शौक़ीन तो हैं ही, खुद एक कवि भी हैं। कभी इनके बारे में हम आवाज़ पर विस्तार से बातें करेंगे।

Comments

अच्छा लगा । शुभकामनायें।
बहुत बढ़िया लगा पूरा कार्यक्रम ...बधाई शैलेश ....
Pankaj Bhagat said…
लक्ष्य छोटे हो या बड़े पूरे होने चाहिए ,
क्या खूब कहा ,मज़ा आ गया !
बहुत शुभकामनाएं !
शैलेश भाई.. कार्यक्रम सुनकर अच्छा लगा कि अमरीका के लोग भी हिन्दयुग्म के कार्यों की सराहना कर रहे हैं...
जिन्होंने फोन किया था कार्यक्रम के दौरान क्या ये वही रचना जी हैं जो यूनिकवि बनी हैं?
शैलेश जी का यह इंटरव्यू मैंने लाइव सुना था. दोबारा सुनकर भी अच्छा लगा. हिंद-युग्म दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करे - इसी शुभकामना के साथ ~ अनुराग.
rachana said…
शैलेश जी आप बहुत अच्छा बोलते हैं हमने आप को रेडियो पर सुना तो बहुत अच्छा लगा था .
आप आगे बढ़ते रहें हम सभी आपके साथ है
तपन जी मै वही हूँ .बड़े हिंद युग्म मंच की एक छोटी कवियत्री .
सादर
रचना
kamal k singh,md said…
Shailesh jee,
podcast par meri abhibyakti aur geet'bideshiya ke baat' prasarit karane ke liye aapko dhanyabad dena chahunga. Main Hindyugm pratidin padhata hoon.Aapka karya bahut sarahanye hai.Main New York men ek Paediatrician hoon. swantah sukhay Hindi aur Bhojpuri dono men kavitayen likhata aur padhata hoon.Hind yugm se mera parichaya Aditya Prakash jee ne karaya. Hind yugm mere jaise pravasee Hindi premiyon ke liye ek bahut hee labhdayak aur manoranjak srot hai.
Hamaree hardik shubh kamanaye.
Kamal Kishore Singh, MD
manu said…
शैलेश जी से दास्ताने युग्म सुन कर बड़ा अच्छा लगा...
रचना जी , आपके ही अंदाज़ में आपकी आवाज को दस में से दस ..सौ में से सौ ...
हजार में से हजार नंबर दिए .....
और आदित्य जी मुझे लगता है के आपकी ज्यादा जरूरत भारत में है.....केवल कुछ इतराए हुए उद्घोषकों के कारण यहाँ के रेडियो से बहुत पहले नाता छोड़ चुका हूँ ...वरना कभी विविध भारती और विज्ञापन प्रसारण सेवा का फरमाइशी श्रोता हुआ करता था....आज आपके अंदाज़ ने रात दस बजे आने वाले "छाया गीत" की याद ताजा कर दी .............
यहाँ तो लोगों में रेडियो पर बोलने की कोमन सेंस तक नहीं ख़तम हो रही है....मैंने अपना ब्लॉग ही इसी भडास के साथ शुरू किया था....कभी समय हो तो सबसे पहली पोस्ट देखियेगा
www.manu-uvaach.blogspot.com
हिन्द-युग्म का प्रोत्साहन करने के लिए आप सभी का धन्यवाद।
Pratap said…
I met Mr Aditya Prakash ji , I was so imoressed with his knowldge of Indian culture sanskaars and Indian food values .he gave lecture in our Shri Ram Mandir . which was well appreciated by our devoties .
Manish Sinha said…
Mr. Aditya Prakash- a name which symbolize its value, The sun which has all its beam coming to us and giving us energy, the same with Mr. Aditya Prakash, a mentor and a promoter for new talents and also a guardian angel as I felt this personally.It was Mr. Aditya who recognized my talent and given me chance and motivated me during his show and also in the personal life.It is just because of him I'm doing my own show "Josh" on every Sunday 7-9 p.m. (6:30 pm. to 8:30 p.m. BY IST)on Radio Salaam Namaste ?(WWW.RSN1049.COM) .My show is successful today because of his motivation. I never mentioned this thing to him but its my personal advice for all who are in contact with Mr. Aditya always connected to him and you will find a way for sure as he is a never give up spirit, and that's what all we need to become successful in the life.Once again from the core of my heart , I will not say but I will say defenitely God will give him whatever he wants in his life.
शैलेश जी, 'रेडियो सलाम नमस्ते' को दिए आपके साक्षात्कार को सुना, अच्छा लगा हिंदी के विकाश के प्रति आपकी प्रतिवद्धता जान कर, ईश्वर आपको अपेक्षित सफलता प्रदान करे | साथ ही आदित्य प्रकाश जी के पुरे कार्यक्रम को host करने का अंदाज भी काफी बेहतर और प्रसंसनीय था |

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया