Skip to main content

ये मेरा दिल यार का दीवाना...जबरदस्त ऒरकेस्ट्रेशन का उत्कृष्ट नमूना है ये गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 428/2010/128

'दिल लूटने वाले जादूगर' - कल्याणजी-आनंदजी के धुनों से सजी इस लघु शृंखला में आज हम और थोड़ा सा आगे बढ़ते हुए पहुँच जाते हैं सन‍ १९७८ में। ७० के दशक के मध्य भाग से हिंदी फ़िल्मों का स्वरूप बदलने लगा था। नर्मोनाज़ुक प्रेम कहानियो से हट कर, ऐंग्री यंग मैन की इमेज हमारे नायकों को दिया जाने लगा। इससे ना केवल कहानियों से मासूमीयत ग़ायब होने लगी, बल्कि इसका प्रभाव फ़िल्म के गीतों पर भी पड़ा। क्योंकि गानें फ़िल्म के किरदार और सिचुयशन को केन्द्र में रखते हुए ही बनाए जाते हैं, ऐसे में गीतकारों और संगीतकारों को भी उसी सांचे में अपने आप को ढालना पड़ा। जो नहीं ढल सके, वो पीछे रह गए। कल्याणजी-आनंदजी एक ऐसे संगीतकार थे जिन्होने हर बदलते दौर को स्वीकारा और उसी के हिसाब से सगीत तैयार किया। और यही वजह है कि १९५८ में उनके गानें जितने लोकप्रिय हुआ करते थे, ८० के दशक में भी लोगों ने उनके गीतों को वैसे ही हाथों हाथ ग्रहण किया। हाँ, तो हम ज़िक्र कर रहे थे १९७८ के साल की। इस साल अमिताभ बच्चन की मशहूर फ़िल्म आई थी 'डॊन', जिसमें इस जोड़ी का संगीत था। सुपर स्टार नम्बर-१ पर पहुँचे अमिताभ बच्चन अभिनीत कई फ़िल्मों में संगीत देकर कल्याणजी-आनंदजी अपनी व्यावसायिक हैसीयत को आगे बढ़ाते रहे। बिग बी के साथ इस जोड़ी की कुछ माह्त्वपूर्ण फ़िल्मों के नाम गिनाएँ आपको? 'ज़ंजीर', 'डॊन', 'मुक़द्दर का सिकंदर', 'गंगा की सौगंध', 'ख़ून पसीना', 'लावारिस', आदि। वापस आते हैं 'डॊन' पर। किरदार और कहानी के हिसाब से इस फ़िल्म के गानें बनें और ख़ूब हिट भी हुए। अनजान के लिखे और किशोर दा के गाए "ख‍इ के पान बनारसवाला", "अरे दीवानों मुझे पहचानो", और "ई है बम्बई नगरीय तू देख बबुआ" जैसे गीतों ने तहलका मचा दिया चारों तरफ़। लता-किशोर का डुएट "जिसका मुझे था इंतेज़ार" भी काफ़ी सुना गया। लेकिन एक और गीत जिसका एक ख़ास और अलग ही मुक़ाम है, वह है आशा भोसले का गाया और हेलेन पर फ़िल्माया हुआ "ये मेरा दिल यार का दीवाना"। यह एक कल्ट सॊंग् है जिसकी चमक कुछ इस तरह की है कि आज ३० साल बाद भी वैसी की वैसी बरकरार है। ज़बरदस्त ऒरकेस्ट्रेशन से सजी यह गीत उस समय का सब से ज़्यादा पाश्चात्य रंग वाला गीत था। कल्याणजी-आनंदजी ने जिस तरह का संयोजन इस गाने में किया है कि इस गीत को बजाए बग़ैर आगे बढ़ने को दिल नहीं चाहता। आज की कड़ी में इसी गीत की धूम!

आशा भोसले और कल्याणजी-आनंदजी के शुरु शुरु में बहुत कम ही गानें आए। जैसा कि पंकज राग अपनी किताब 'धुनों की यात्रा' में (पृष्ठ संख्या ५५७) में लिखते हैं कि आशा के तो कल्याणजी-आनंदजी के साथ सातवें और आठवें दशक के म्ध्य तक कम ही उल्लेखनीय गीत हैं। आशा भोसले आश्चर्यजनक रूप से कल्यानजी-आनंदजी खेमे से गायब सी रही हैं। यदि लता नहीं उपलब्ध हुईं तो इन्होनें सुमन कल्याणपुर, गीता दत्त या फिर नई गायिकाओं जैसे कमल बारोट, उषा तिमोथी, हेमलता, कृष्णा कल्ले को मौका दिया, पर आशा को सातवें दशक के मध्य तक तो बिलकुल नहीं। इस तथ्य की ओर अधिक ध्यान नहीं दिया गया है, हालाँकि कारण सम्भवत: किसी निर्माता द्वारा आरम्भ में ही दोनों के बीच न चाहते हुए एक ग़लतफ़हमी ही रही। पर उसके बाद 'दिल ने पुकारा' (१९६७) के "किस ज़ालिम हो क़ातिल" से आशा भी शामिल हो गईं कल्याणजी-आनंदजी कैम्प में। ख़ैर, हम बात रहे थे "ये मेरा दिल यार का दीवाना की"। इस गीत की खासियत मुझे यही लगती है कि इसका जो ऒरकेस्ट्रेशन हुआ है, इसके जो म्युज़िक पीसेस हैं, वो बहुत ज़्यादा प्रोमिनेण्ट हैं। इतने प्रोमिनेण्ट कि अगर इन्हे गीत से अलग कर दिया जाए तो गीत की आत्मा ही चली जाएगी। अक्सर इस गीत को गुनगुनाते हुए इन पीसेस को भी साथ में गुनगुनाना पड़ता है। इस गीत के इंटरल्युड में से एक पीस को एक नामी टीवी चैनल ने अपने किसी कार्यक्रम के शीर्षक संगीत में इस्तेमाल किया है। तो दोस्तों, इस ज़बरदस्त नग़में को सुनिए और सलाम कीजिए आशा जी की गायकी और कल्याणजी-आनंदजी भाई की वक़्त के साथ साथ अपने आप को ढालने की प्रतिभा को!



क्या आप जानते हैं...
कि लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल करीब ९ सालों तक कल्याणजी-आनंदजी के सहायक रहे।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. कल्याणजी आनंदजी ने इस राग पर कई सारे कामियाब गीत बनाये, "छोड दे सारी दुनिया" भी इसी राग पर है जिस पर कल का ये गीत होगा, राग बताएं -३ अंक.
२. मुकेश और लता के गाये इस युगल गीत को किसने लिखा है - २ अंक.
३. ये इस फिल्म का शीर्षक गीत है, किन पर फिल्माया गया है ये गीत - २ अंक.
४. फिल्म का नाम बताएं - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
एक बार फिर अब शरद जी आगे हो गए हैं, पर अवध जी अभी भी मौका है आपके पास, कल का गीत हमारे महिला श्रोताओं के लिए खास रहा, इसे पसंद करने के लिए धन्येवाद

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

आज ३ अंको वाला प्रश्न दूसरों के लिए छोड़ दे रहा हूँ क्योंकि यह बहुत आसान है । दूसरे प्रश्न का जवाब : आनन्द बख्शी होना चाहिए
AVADH said…
राग के बारे में मेरा जैसा कानसेन क्या कहेगा.
अलबत्ता कलाकारों के नाम का अंदाज़ा लगाने की कोशिश ज़रूर करूँगा - जीतेंद्र व शर्मीला
अवध लाल

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया