Skip to main content

यूहीं तुम मुझसे बात करती हो...इतने जीवंत और मधुर युगल गीत कहाँ बनते हैं रोज रोज

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 426/2010/126

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक नई सप्ताह के साथ हम हाज़िर हैं। इन दिनों हम आप तक पहुँचा रहे हैं सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी कल्याणजी-आनंदजी के स्वरबद्ध गीतों से सजी लघु शृंखला 'दिल लूटने वाले जादूगर'। इस शृंखला के पहले हिस्से में पिछले हफ़्ते आपने पाँच गीत सुनें, और आज से अगले पाँच दिनों में आप सुनेंगे पाँच और गीत। तो साहब हम आ पहुँचे थे ७० के दशक में, और जैसा कि हमने आपको बताया था कि ७० का दशक कल्याणजी-आनंदजी, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और आर.डी. बर्मन का दशक था। यह कहा जाता है कि इन तीनों ने रिकार्डिंग् स्टुडियो पर जोड़-तोड़ से ऐडवांस बुकिंग्' करनी शुरु कर दी थी कि और किसी संगीतकार को अपने गीतों की रिकार्डिंग् के लिए स्टुडियो ही नहीं मिल पाता था। 'आराधना' की सफलता के बाद यह ज़माना राजेश खन्ना और किशोर कुमार के सुपर स्टारडम का भी था। कल्याणजी-आनंदजी भी इस लहर में बहे और सन् १९७० में राजेश खन्ना के दो सुपर हिट फ़िल्मों में मुख्यत: किशोर कुमार को ही लिया। ये दो फ़िल्में थीं 'सफ़र' और 'सच्चा झूठा'। 'सफ़र' में "ज़िंदगी का सफ़र", "जीवन से भरी तेरी आँखें", तथा 'सच्चा झूठा' में "दिल को देखो चेहरा ना देखो", "मेरी प्यारी बहनिया बनेगी दुल्हनिया" और "कहदो कहदो तुम जो कहदो" (लता के साथ)जैसे गानें किशोर दा ने ही गाए थे। लेकिन रफ़ी साहब ने 'सच्चा झूठा' में लता जी के साथ मिलकर एक युगल गीत गाया था जिसे लोगों ने ख़ूब ख़ूब पसंद किया, और इसी गीत को आज हम लेकर आए हैं आपको सुनवाने के लिए। "युंही तुम मुझसे बात करती हो या कोई प्यार का इरादा है, अदाएँ दिल की जानता ही नहीं मेरा हमदम भी कितना सादा है"। राजेश खन्ना और मुमताज़ पर फ़िल्माए लता-रफ़ी डुएट्स में जिन दो गीतों की याद हमें सब से पहले आती है, उनमें से एक है लक्ष्मी-प्यारे के संगीत में 'दो रास्ते' का गीत "दिल ने दिल को पुकारा मुलाक़ात हो गई" और दूसरा गीत है आज का यह प्रस्तुत गीत।

सन् १९९७ में कल्याणजी भाई विविध भारती के स्टुडियो में तशरीफ़ लाए थे और गणेश शर्मा को एक इंटरवियू दिया था। चलिए आज उसी का एक अंश यहाँ पर पेश किए देते हैं। गणेश शर्मा कल्याणजी भाई से पूछते हैं कि कल्याणजी भाई, आपको बहुत बड़े बड़े अवार्ड, पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है, जिसमें राष्ट्रपति पुरस्कार, पद्मश्री। कोई ऐसा यादगार लम्हा किसी अवार्ड फ़ंकशन का, अवार्ड लेते हुए, आप श्रोताओं को बताना चहेंगे?

कल्याणजी: कोई भी अवार्ड मिलता है ख़ुशी तो मिलती है, उसमें कोई सवाल नहीं उठता है, लेकिन मुझे लगता है कि जनता का जो अवार्ड है, वह सब से बड़ा है क्योंकि जब भी हम काम करते हैं, उनकी क्या ख़ुशी हुई है, उनकी क्या क्लैपिंग् हुई है, लेकिन जब भी कोई अवार्ड लिया तो ज़िम्मेदारी बढ़ जाती है हमारी कि हम चाहते हैं कि जितने प्यार से लोगों ने यह अवार्ड दिया है, तो हम इस संगीत के ज़रिये क्या समाज की सेवा कर सकते हैं, क्या देश की सेवा कर सकते हैं, क्या हमारे आने वाले भाइयों के लिए कर सकते हैं, ये हमेशा हमेशा मन में रहता है। फिर अगर आप मज़ाक की बात करें तो फ़िल्मफ़ेयर अवार्ड, बहुत बड़ा अवार्ड है, और हमें यह 'कोरा काग़ज़' के लिए मिला। बहुत लेट मिला था, २५ साल, २७ साल इंडस्ट्री में रहने के बाद। वहाँ पूछा गया कि यह अवार्ड मिलने से आप को क्या महसूस हो रहा है? मैंने कहा कि बहुत ख़ुशी हो रही है, क्यों नहीं ख़ुशी होगी, बड़ी उमर में लड़का हुआ है!

और आइए अब सुनते हैं राजेश खन्ना और मुमताज़ पर फ़िल्माया गया लता-रफ़ी की युगल आवाज़ों में आनंद बक्शी साहब की रचना फ़िल्म 'सच्चा झूठा' से।



क्या आप जानते हैं...
कि फ़िल्मों से हट कर कल्याणजी व्यक्तिगत जीवन में आचार्य रजनीश (ओशो) के भक्त थे।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. इस फिल्म के एक अन्य गीत में उषा खन्ना ने किशोर दा की आवाज़ से आवाज़ मिलायी थी, फिल्म का नाम बताएं -२ अंक.
२. गीत के एक अंतरे में रामायण के एक अंश का जिक्र है, गीत के बोल बताएं - २ अंक.
३. गीतकार बताएं - ३ अंक.
४. लता ने किस अभिनेत्री के लिए पार्श्व गायन किया है इस गीत में - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
अवध जी पहले जरूर आये, पर ३ अंकों का सवाल अपने गुरु के लिए छोड़ गए, वी डी ने भी हाथ आजमाया और २ अंक से खाता खोल ही दिया, इंदु जी जल्दी आईये, आपकी अनुपस्तिथि में मैदान जरा खाली दिख रहा है

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

(३) गीतकार हैं : अनजान
बस दो तीन दिन का काम और है .
मैं जानती हूँ आप भी ये नही चाहेंगे कि अधिकारी ये कहें कि इंदु पुरी ऩे काम ढंग से नही किया.
मैं अपनी ओर से हर चीज,हर काम में अपना हंड्रेड परसेंट देती हूँ.
अपनी आत्म संतुष्टि के लिए.
बाकी तो ठीक है, सरकारी काम समझ कर पाप ही काट दो तो आज तक किसी ऩे उनका क्या बिगड़ लिया जो अब तक मुफ्त की 'पे' उठा रहे हैं.
पर आपका ये दोस्त ऐसा नही है. यूँ बेहद काम चोर हूँ मैं.करती ही नही.
पर काम मिला तो जी जान झोंक देती हूँ.
यूँ ही प्यार नही करते लोग मुझे यहाँ भी.मेरा डिपार्टमेंट भी और स्टाफ भी.
सच्ची ऐसीच हूँ मैं .
आप लोगों को बहुत 'मिस' कर रही हूँ.
पर पूरी-२ रात काम कर रही हूँ जाग-२ कर.
प्यार
इंदु
जनक ने कैसे त्याग दिया है अपनी ही जानकी को
बेटी भटके राहों मेंमाता डूबी आहों में
तरसे तेरे दरस को नयन
ओ बाबुल प्यारे ........
मूड फ्रेश करने आ ही गई मैं .
तो.....नालायकी कर ही जाऊँ.
किशोर साब के साथ उषा जी ने गुनगुनाया था'पल भर के लिए कोई हमें प्यार कर ले झूठा ही सही ' गीत में
हा हा हा
दिखा दी अपनी वाली मैंने तो.
क्या करूँ ऐसीच हूँ मैं.
AVADH said…
बाकी तो सब इंदु बहिन बता ही चुकी हैं.
गुरु की बात काटने के लिए माफ़ी चाहता हूँ पर शायद गीतकार थे इन्दीवर.
अवध लाल

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व