Thursday, March 20, 2014

वफ़ा और ज़फा की शर्तों के बीच कैद एक नगमा


खरा सोना गीत - है इसी में प्यारा की आबरू 
प्रस्तोता - दीप्ति सक्सेना 
स्क्रिप्ट - सुजॉय चट्टर्जी
प्रस्तुति - संज्ञा टंडन 



No comments:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ