गुरुवार, 11 अगस्त 2016

"पन्द्रह अगस्त की पुण्य तिथि फिर धूम-धाम से आई..." विवादास्पद बोल की वजह से किशोर कुमार का गाया यह गीत कभी जारी नहीं हो सका



कहकशाँ - 16
किशोर कुमार का गाया  दुर्लभ देशभक्ति गीत   
"पन्द्रह अगस्त की पुण्य तिथि फिर धूम-धाम से आई..."



’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा सलाम! दोस्तों, शेर-ओ-शायरी, नज़्मों, नगमों, ग़ज़लों, क़व्वालियों की रवायत सदियों की है। हर दौर में शायरों ने, गुलुकारों ने, क़व्वालों ने इस अदबी रवायत को बरकरार रखने की पूरी कोशिशें की हैं। और यही वजह है कि आज हमारे पास एक बेश-कीमती ख़ज़ाना है इन सुरीले फ़नकारों के फ़न का। यह वह कहकशाँ है जिसके सितारों की चमक कभी फ़ीकी नहीं पड़ती और ता-उम्र इनकी रोशनी इस दुनिया के लोगों के दिल-ओ-दिमाग़ को सुकून पहुँचाती चली आ रही है। पर वक्त की रफ़्तार के साथ बहुत से ऐसे नगीने मिट्टी-तले दब जाते हैं। बेशक़ उनका हक़ बनता है कि हम उन्हें जानें, पहचानें और हमारा भी हक़ बनता है कि हम उन नगीनों से नावाकिफ़ नहीं रहें। बस इसी फ़ायदे के लिए इस ख़ज़ाने में से हम चुन कर लाएँगे आपके लिए कुछ कीमती नगीने हर हफ़्ते और बताएँगे कुछ दिलचस्प बातें इन फ़नकारों के बारे में। तो पेश-ए-ख़िदमत है नगमों, नज़्मों, ग़ज़लों और क़व्वालियों की एक अदबी महफ़िल, कहकशाँ। आज पेश है गायक किशोर कुमार का गाया एक देशभक्ति गीत जो स्वाधीनता दिवस के मौक़े के लिए बनाया गया था पर कभी जारी न हो सका। 


म तौर पर किशोर कुमार का नाम फ़िल्मों और फ़िल्मी गीतों के साथ ही जोड़ा जाता है, और क्यों ना हो, उनके गाए लगभग 99% हिन्दी गीत फ़िल्मों से ही तो हैं। इस वजह से बाक़ी का जो एक प्रतिशत बच गया, इसमें उनके ग़ैर फ़िल्मी गीत आते हैं जो अपने आप में दुर्लभ और अनूठे हैं। इनमें से कुछ के बारे में बताता हूँ। सम्भवत: उनका गाया पहला हिन्दी ग़ैर फ़िल्मी गीत 1946 में रेकॉर्ड हुआ था। एक नहीं बल्कि दो गीत - पहला "भूलने वाले..." और दूसरा "जिस दिल ने मोहब्बत की..."। एक भजन "हरि नाम का प्याला..." भी एक अद्‍भुत रचना है। प्राइवेट ऐल्बम ’सपनों की मंज़िल’ में दो गीत किशोर दा के थे - "ले चल मुझे..." और "एक लड़की है अजनबी..."। मदन मोहन के संगीत में एक ग़ैर फ़िल्मी गीत "आज मुझे जल जाने दो..." हाल ही में ’तेरे बग़ैर’ ऐल्बम में रिलीज़ किया गया था। "हरि नाम का प्याला..." को छोड़ कर बाक़ी सभी गीत लगभग रोमान्टिक जौनर के ही थे। पर आज हम आपको किशोर दा का गाया जो गीत सुनवाने के लिए लाये हैं, वह एक देशभक्ति गीत रचना है। 15 अगस्त नज़दीक है, और इस गीत में भी 15 अगस्त का ज़िक्र है, इस वजह से आज के इस महफ़िल में इस गीत से बेहतर शायद कोई और गीत नहीं। संगीतकार बाल सिंह द्वारा स्वरबद्ध और किशोर कुमार व आर. पी. शर्मा द्वारा गाया गया यह गीत है "पन्द्रह अगस्त की पुण्य तिथि..."। गीतकार हैं केशव त्रिवेदी। इस गीत के दो भाग हैं। 78 RPM के रेकॉर्ड के दूसरी तरफ़ इस गीत का दूसरा हिस्सा है। रेकॉर्ड संख्या है GE 8194। आर. पी. शर्मा की बात करें तो उन्होंने 1947 में ’नमक’ और ’रेणुका’, 1948 में ’लखपति’ और ’रामबाण’, तथा 1952 में ’शिवशक्ति’ में गीत गाया था। बाल सिंह और केशव त्रिवेदी का नाम फ़िल्म-संगीत में कभी सुनाई नहीं दिया। हाँ, केवल ’केशव’ के नाम से एक गीतकार ज़रूर हुए हैं जिन्होंने 1954 की फ़िल्म ’परिचय’ और 1960 की फ़िल्म ’माया मछिन्द्र’ में गीत लिखे थे।


इससे पहले कि आप इस गीत के दोनों हिस्सों को बारी-बारी से सुनें, आइए इस गीत से संबंधित थोड़ी जानकारी आपको देते हैं। यह गीत 1950 में रचा गया था, सम्भवत: स्वाधीनता दिवस के अवसर पर इसे जारी होना था। पर गीत के साथ एक हादसा हो गया जिस वजह से इस गीत को कभी मुक्ति नहीं मिली। एक गड़बड़ हो गई। गीत में "पुण्य तिथि" शब्द की वजह से सब गड़बड़ हो गया। "पुण्यतिथि" से गीतकार का अर्थ था पुण्य तिथि, यानी कि पवित्र दिन, अर्थात् पन्द्रह अगस्त का पवित्र दिन। लेकिन "पुण्यतिथि" को सेन्सर बोर्ड ने दोहरे अर्थ वाला शब्द करार देते हुए इस गीत पर पाबन्दी लगा दी क्योंकि इससे विवाद खड़ा हो सकता है। पुण्यतिथि को आम तौर पर मृत्यु तिथि के रूप में ही समझा जाता है। तो "पन्द्रह अगस्त की पुण्यतिथि" जुमला काफ़ी वितर्कित हो सकता है। इसलिए इस गीत को मान्यता नहीं मिली और रेकॉर्ड हो चुका यह गीत बन्द बक्से में चला गया। यह वाक़ई अफ़सोस की बात है कि बस एक शब्द की वजह से इतना सुन्दर देशभक्ति गीत दब कर रह गया। लीजिए आप ख़ुद ही इसके बोलों को पढ़ कर तय करें...


पन्द्रह अगस्त की पुण्य तिथि फिर धूम धाम से आई,
भारत के कोने कोने में खुशियाली है छायी।

सन सैन्ताल्लीस में भारत को अंग्रेज़ों ने जोड़ दिया
गोली बरसा के हार गए सब ??? से मुंह मोड़ लिया
बापू की अटल अहिंसा ने अपनी रंगत दिखलाई
फिर धूम धाम से आई...

उस दिन सारे देश की शोभा अपने ढंग की न्यारी थी
महलों से लेकर कुटियों तक दीपों की उजियारी थी
मन्दिर मस्जिद गुरुद्वारों ने फिर दीपावलि मनाई
फिर धूम धाम से आई...

नेताजी ने जिसके ख़ातिर था अपना क़दम बढ़ाया
ला क़िले पर वही तिरंगा क़ौमी झंडा लहराया
इसी तिरंगे झंडे ने भारत की शान बढ़ाई
फिर धूम धाम से आई...

तारों के दीप जला कर के ना सती प्रथा भी झूम रही
भारत माता अपने लालों के मुखड़ों को चूम रही
देश प्रेम की मधुर रागिनी देवलोक में छायी
फिर धूम धाम से आई...

PART-1



PART-2






’कहकशाँ’ की आज की यह पेशकश आपको कैसी लगी, ज़रूर बताइएगा नीचे ’टिप्पणी’ पे जाकर। या आप हमें ई-मेल के ज़रिए भी अपनी राय बता सकते हैं। हमारा ई-मेल पता है soojoi_india@yahoo.co.in. 'कहकशाँ’ के लिए अगर आप कोई लेख लिखना चाहते हैं, तो इसी ई-मेल पते पर हम से सम्पर्क करें। आज बस इतना ही, अगले जुमे-रात को फिर हमारी और आपकी मुलाक़ात होगी इस कहकशाँ में, तब तक के लिए ख़ुदा-हाफ़िज़!


खोज, आलेख, प्रस्तुति: सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र 

कोई टिप्पणी नहीं:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ