शनिवार, 11 जून 2016

’बेबी डॉल’ की गायिका कनिका कपूर के संघर्ष की मार्मिक दास्तान


तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी - 13
 
कनिका कपूर 



’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, किसी ने सच ही कहा है कि यह ज़िन्दगी एक पहेली है जिसे समझ पाना नामुमकिन है। कब किसकी ज़िन्दगी में क्या घट जाए कोई नहीं कह सकता। लेकिन कभी-कभी कुछ लोगों के जीवन में ऐसी दुर्घटना घट जाती है या कोई ऐसी विपदा आन पड़ती है कि एक पल के लिए ऐसा लगता है कि जैसे सब कुछ ख़त्म हो गया। पर निरन्तर चलते रहना ही जीवन-धर्म का निचोड़ है। और जिसने इस बात को समझ लिया, उसी ने ज़िन्दगी का सही अर्थ समझा, और उसी के लिए ज़िन्दगी ख़ुद कहती है कि 'तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी'। इसी शीर्षक के अन्तर्गत इस नई श्रृंखला में हम ज़िक्र करेंगे उन फ़नकारों का जिन्होंने ज़िन्दगी के क्रूर प्रहारों को झेलते हुए जीवन में सफलता प्राप्त किये हैं, और हर किसी के लिए मिसाल बन गए हैं। आज का यह अंक केन्द्रित है इस ज़माने की जानी-मानी गायिका कनिका कपूर पर।


"बेबी डॉल मैं सोने दी" गाने वाली गायिका कनिका कपूर की रातों रात कामयाबी को देख कर आप यह ना समझ बैठें कि उन्हें इस मुक़ाम तक पहुँचने के लिए किसी भी तरह का संघर्ष नहीं करना पड़ा। आज कनिका कपूर की कहानी ख़ुद उन्हीं की ज़ुबानी।

"मेरा जन्म लखनऊ के एक खाते-पीते अच्छे खत्री परिवार में हुआ। छह साल की उम्र से शास्त्रीय संगीत सीखती हुई बड़ी हुई हूँ। 11 साल की उम्र में मैं आकाशवाणी पर शुद्ध शास्त्रीय संगीत गाया करती थी। 12 साल की उम्र में मैं भजन-सम्राट अनूप जलोटा जी के साथ शोज़ करने लगी। वो मेरे पिता के दोस्त हैं और मेरे लिए पिता समान हैं। लखनऊ के हमारे घर के गराज को मैंने अपने स्टुडिओ में तब्दिल कर दिया था जहाँ मैं गाती और रेकॉर्ड करती थी। 17 साल की उम्र में मैं मुंबई गई संगीतकार ललित सेन के साथ एक ऐल्बम करने और अपने आप को एक गायिका के रूप में स्थापित करने। मैंने संगीत में स्नातकोत्तर (Masters) किया है, जिस वजह से मैं शास्त्रीय संगीत सिखा-पढ़ा सकती हूँ। शादी करने का कोई विचार उस समय मेरे मन में नहीं था। पर मुझे राज नाम के एक पंजाबी युवक से प्यार हो गया और हमने शादी कर ली। मेरी माँ उस शादी से ख़ुश थी सिर्फ़ इसलिए नहीं कि राज पढ़ा-लिखा और अमीर परिवार से था, बल्कि इसलिए भी कि मेरा अब मुंबई फ़िल्म जगत से नाता टूट जाएगा। इस तरह से मैं एक गृहणी बन गई, राज से शादी कर लंदन जा कर बस गई। मात्र 18 साल की उम्र में मैं पापड-अचार डालने वाली बहू बन गई, फिर एक एक कर तीन बच्चों की माँ भी बनी। संगीत जैसे कहीं पीछे छूट गया। पर मैं अपने परिवार और घर-संसार को लेकर बहुत ख़ुश थी। राज ने मुझे दुनिया भर की सैर कराई।

पर होनी को कुछ और ही मंज़ूर था। राज मुझे धोखा देने लगा। एक अन्य शादीशुदा लड़की से उसका संबंध हुआ। हम दोनों में मनमुटाव और झगड़े शुरू हो गए। मुझे मेरा घर संसार उजड़ता हुआ साफ़ दिखाई दे रहा था। हमारी शादी की दसवीं सालगिरह पर मैंने उससे एक उपहार माँगा। मैंने कहा कि मुझे कोई ज़ेवर-गहने नहीं चाहिए, मुझे अपनी आवाज़ में एक ऐल्बम रेकॉर्ड करवाना है, यह मेरा एक सपना है। वो मान गया और हमने एक प्रोड्युसर की तलाश करनी शुरू कर दी। हमारी मुलाक़ात हुई बलजीत सिंह पदम उर्फ़ Dr. Zeus से जो 5000 पाउण्ड प्रति गीत के दर से आठ गीतों का ऐल्बम बनाने के लिए मान गया। राज ने उसे पैसा दे दिया और मैं बिर्मिंघम में हफ़्ते में एक दिन गाना रेकॉर्ड करने के उद्येश्य से जाने लगी। एक साल बीत गया पर अब तक कोई भी गाना वो लोग नहीं बना सके। इधर मेरा वैवाहिक जीवन बद से बदतर होता चला गया। दो तीन महीने मैं स्टुडिओ भी नहीं गई। फिर एक दिन मेरे एक दोस्त ने मेरा परिचय "जुगनी" नामक गीत से करवाया जो पाक़िस्तानी गायक आरिफ़ लोहर का गाया हुआ गाना था। हमने Dr. Zeus के ज़रिए इस गीत का एक सस्ता रीमिक्स बना कर इन्टरनेट पर फ़्री डाउनलोड के लिए डाल दिया। यह जनवरी 2012 की बात थी। विडिओ बेहद सफल रहा और इसे तीस लाख हिट्स मिले। जुलाई 2012 को मैं और राज अलग हो गए, और अक्टुबर में मुझे ’ब्रिटिश एशिअन अवार्ड’ मिला "जुगनी" के लिए। 

जैसे ही Dr. Zeus को पता चला कि मेरा पति अब मेरे साथ नहीं है, उसने हमारे पूरे 40,000 पाउण्ड (जो हमने उसे दिए थे ऐल्बम बनाने के लिए) खा गया और दोष डाल दिया अपने मैनेजर विवेक नायर पर कि वो पैसे लेकर भाग गया है। ऐल्बम का सपना सपना ही बन कर रह गया। इधर समाज में लोग मेरे बारे में गंदी-गंदी बातें करने लगे। मैं अपनी नज़रों में ही जैसे गिर चुकी थी और आत्महत्या का ख़याल आने लगा था। आस पड़ोस से लोगों ने मेरे बारे में अफ़वाहें उड़ानी शुरू कर दी कि मैंने अपने पति को छोड़ कर किसी और के साथ संबंध बना लिया, मैं वेश्या बन गई हूँ, वगेरह वगेरह। ये सब झूठ था। लोगों ने मेरे साथ बात करना बन्द कर दिया और मुझे सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ा। इन सब हालातों ने मुझे आज एक मज़बूती प्रदान की है, इसमें कोई शक़ नहीं। ये सब कुछ होने के बाद 2013 के शुरु में मुझे मनमीत (मीत ब्रदर्स अनजान), जो मेरा राखी भाई है और जिसे मैं लखनऊ के छुटपन से जानती हूँ, का फ़ोन आया कि एकता कपूर ने मेरी आवाज़ "जुगनी" में सुनी है, उन्हें पसन्द आया है, और वो मुझे "बेबी डॉल" के एक ट्रायल के लिए मिलना चाहती हैं। और फ़ाइनली इस "बेबी डॉल" को गाकर मुझे मिला फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड। वही औरतें जो मुझे कॉल-गर्ल बुलाती थी पीछे से, अब मेरे साथ सेल्फ़ी खींचवा कर फ़ेसबूक में पोस्ट करती हैं। अब मैं ख़ुश हूँ, मेरी माँ मेरे साथ अब लंदन में रहती हैं, और हम दोनों मिल कर मेरे तीन बच्चों की परवरिश कर रहे हैं।" 


आपको हमारी यह प्रस्तुति कैसी लगी, हमे अवश्य लिखिए। हमारा यह स्तम्भ प्रत्येक माह के दूसरे शनिवार को प्रकाशित होता है। यदि आपके पास भी इस प्रकार की किसी घटना की जानकारी हो तो हमें पर अपने पूरे परिचय के साथ cine.paheli@yahoo.com मेल कर दें। हम उसे आपके नाम के साथ प्रकाशित करने का प्रयास करेंगे। आप अपने सुझाव भी ऊपर दिये गए ई-मेल पर भेज सकते हैं। आज बस इतना ही। अगले शनिवार को फिर आपसे भेंट होगी। तब तक के लिए नमस्कार। 

खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी  



कोई टिप्पणी नहीं:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ