Skip to main content

‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : SWARGOSHTHI – 182 : THUMARI JHINJHOTI


स्वरगोष्ठी – 182 में आज

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी - 1 : ठुमरी झिंझोटी


जब सहगल ने उस्ताद अब्दुल करीम खाँ की गायी ठुमरी को अपना स्वर दिया 




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ हो रही श्रृंखला का शीर्षक है- ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’। दरअसल यह श्रृंखला लगभग दो वर्ष पूर्व ‘स्वरगोष्ठी’ में प्रकाशित / प्रसारित की गई थी। हमारे पाठकों / श्रोताओं को यह श्रृंखला सम्भवतः कुछ अधिक रुचिकर प्रतीत हुई थी। अनेक संगीत-प्रेमियों ने इसके पुनर्प्रसारण का आग्रह भी किया था। सभी सम्मानित पाठकों / श्रोताओं के अनुरोध का सम्मान करते हुए और पूर्वप्रकाशित श्रृंखला में थोड़ा परिमार्जन करते हुए हम इसे पुनः प्रस्तुत कर रहे हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के कुछ स्तम्भ केवल श्रव्य माध्यम से प्रस्तुत किये जाते हैं तो कुछ स्तम्भ आलेख, चित्र और गीत-संगीत श्रव्य माध्यम के मिले-जुले रूप में प्रस्तुत होते हैं। आपका प्रिय स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ इस दूसरे माध्यम से प्रस्तुत होता आया है। इस अंक से हम एक नया प्रयोग कर रहे हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के परम्परागत रूप के साथ-साथ पूरे आलेख और गीत-संगीत को हम सुप्रसिद्ध उद्घोषिका और ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की प्रमुख सहयोगी संज्ञा टण्डन की आवाज़ में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमारे इस प्रयोग पर आप अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिएगा।




भी संगीत-प्रेमी श्रोताओं का आज से शुरू हो रही हमारी नई लघु श्रृंखला 'फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ में कृष्णमोहन मिश्र और संज्ञा टण्डन की ओर से हार्दिक स्वागत है। आपको शीर्षक से ही यह अनुमान हो गया होगा कि इस श्रृंखला का विषय फिल्मों में शामिल की गई उपशास्त्रीय गायन शैली ठुमरी है। सवाक फिल्मों के प्रारम्भिक दौर से फ़िल्मी गीतों के रूप में तत्कालीन प्रचलित पारसी रंगमंच के संगीत और पारम्परिक ठुमरियों के सरलीकृत रूप का प्रयोग आरम्भ हो गया था। विशेष रूप से फिल्मों के गायक-सितारे कुन्दनलाल सहगल ने अपने कई गीतों को ठुमरी अंग में गाकर फिल्मों में ठुमरी शैली की आवश्यकता की पूर्ति की थी। चौथे दशक के मध्य से लेकर आठवें दशक के अन्त तक की फिल्मों में सैकड़ों ठुमरियों का प्रयोग हुआ है। इनमे से अधिकतर ठुमरियाँ ऐसी हैं जो फ़िल्मी गीत के रूप में लिखी गईं और संगीतकार ने गीत को ठुमरी अंग में संगीतबद्ध किया। कुछ फिल्मों में संगीतकारों ने परम्परागत ठुमरियों का भी प्रयोग किया है। इस श्रृंखला में हम आपसे ऐसी ही कुछ चर्चित-अचर्चित फ़िल्मी ठुमरियों पर बात करेंगे।

आज के ठुमरी गीत पर चर्चा से पहले भारतीय संगीत की रस, रंग और भाव से परिपूर्ण ठुमरी शैली पर चर्चा आवश्यक है। ठुमरी उपशास्त्रीय संगीत की एक लोकप्रिय गायन शैली है। यद्यपि इस शैली के गीत रागबद्ध होते हैं, किन्तु ध्रुवपद और खयाल की तरह राग के कड़े प्रतिबन्ध नहीं रहते। रचना के शब्दों के अनुकूल रस और भाव की अभिव्यक्ति के लिए कभी-कभी गायक राग के निर्धारित स्वरों के साथ अन्य स्वरों का प्रयोग करने के लिए स्वतंत्र होते हैं। ऐसी ठुमरियों में जिस राग की प्रमुखता होती है, उसमें ‘मिश्र’ शब्द जोड़ दिया जाता है; जैसे 'मिश्र खमाज', 'मिश्र पहाडी', 'मिश्र काफी’ आदि। ठुमरियों में श्रृंगार और भक्ति रसों की प्रधानता होती है। कुछ ठुमरियों में इन दोनों रसों का अनूठा मेल भी मिलता है। ठीक उसी प्रकार जैसे सूफी गीतों और कबीर के निर्गुण पदों में उपरी आवरण तो श्रृंगार रस से प्रभावित रहता है, किन्तु आन्तरिक भाव आध्यात्म और भक्तिभाव की अनुभूति कराता है।

आइए, अब आज के ठुमरी गीत पर थोड़ी चर्चा कर ली जाए। इस श्रृंखला की पहली फ़िल्मी ठुमरी के रूप में हमने 1936 की फिल्म ‘देवदास’ का चयन किया है। यह फिल्म सुप्रसिद्ध उपन्यासकार शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय के इसी शीर्षक के उपन्यास पर बनाई गई थी। शरत बावू का यह उपन्यास 1901 में लिखा गया और 1917 में पुस्तक रूप में प्रकाशित हुआ था। देवदास पर सबसे पहले 1928 में 'इस्टर्न फिल्म सिंडिकेट' ने मूक फिल्म बनाई थी, जिसमे देवदास की भूमिका नरेश चन्द्रा ने निभाई थी। सवाक फिल्मों के युग में देवदास उपन्यास पर अब तक सात फ़िल्में बन चुकी हैं। अकेले 'न्यू थिएटर्स' ने ही चार विभिन्न भाषाओं में इस फिल्म का निर्माण किया था। 1935 में पी.सी. बरुआ (प्रथमेश चन्द्र बरुआ) के निर्देशन में देवदास का निर्माण बांग्ला भाषा में हुआ था। 1936 में श्री बरुआ के निर्देशन में ही हिन्दी में और 1937 में असमी भाषा में यह फिल्म बनी थी। 1936 में ही 'न्यू थिएटर्स' के बैनर से पी.वी. राव के निर्देशन में इस फिल्म के तमिल संस्करण का निर्माण भी किया गया था, किन्तु दक्षिण भारत में यह फिल्म बुरी तरह असफल रही। 1953 में तमिल और तेलुगु में ‘देवदास’ के निर्माण का पुनः प्रयास हुआ और इस बार दक्षिण भारत में यह द्विभाषी प्रयोग सफल रहा। 1955 में एक बार फिर विमल राय के निर्देशन में देवदास का निर्माण हुआ, जिसमें दिलीप कुमार देवदास की भूमिका में थे। इसके बाद 2002 में शाहरुख़ खाँ अभिनीत फिल्म देवदास का निर्माण हुआ था।

आज हम आपके लिए फिल्म देवदास के जिस गीत को लेकर उपस्थित हुए हैं वह 1936 में हिन्दी भाषा में निर्मित फिल्म देवदास का है। फिल्म के निर्देशक पी.सी. बरुआ थे और देवदास की भूमिका में कुन्दनलाल सहगल, पारो की भूमिका में जमुना बरुआ और चन्द्रमुखी की भूमिका में राजकुमारी ने अभिनय किया था। फिल्म के संगीतकार तिमिर वरन (भट्टाचार्य) थे। तिमिर वरन उस्ताद अलाउद्दीन खाँ के शिष्य और संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वानों के कुल से थे। साहित्य और संगीत में कुशल तिमिर वरन को 'न्यू थियेटर्स' में प्रवेश करने पर पहली फिल्म देवदास का संगीत निर्देशन सौंपा गया। यद्यपि चौथे दशक का फिल्म संगीत प्रारम्भिक प्रयोगशील रूप में था किन्तु इस फिल्म के गीत आज आठ दशक के बाद भी श्रोताओं को मुग्ध कर देते हैं। फिल्म में ठुमरी शैली के दो गीत विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। ठुमरी शैली पर आधारित पहला गीत है- ‘बालम आय बसो मोरे मन में...’। प्राकृतिक परिवेश में प्रणय निवेदन के प्रसंग में फिल्माया गया यह गीत राग काफी के स्वरों में है। दूसरी ठुमरी है- ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ जो वास्तव में राग झिंझोटी की एक परम्परागत ठुमरी है जिसका स्थायी और एक अन्तरा सहगल साहब ने अत्यन्त संवेदनशीलता के साथ गाया है।



राग - झिंझोटी : फिल्म - देवदास 1936 : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : कुन्दनलाल सहगल : संगीत – तिमिर वरन






राग झिंझोटी की यह विशेषता होती है कि यह श्रृंगार रस प्रधान, चंचल प्रवृत्ति का होते हुए भी अद्भुत रस, भ्रम, बेचैनी और आश्चर्य भाव की अभिव्यक्ति में पूर्ण सक्षम होता है। राग झिंझोटी की यह ठुमरी 1925 -26 में महाराज कोल्हापुर के राजगायक उस्ताद अब्दुल करीम खाँ के स्वरों में अत्यन्त लोकप्रिय थी। खाँ साहब किराना घराने के विलक्षण गायक थे। उन्हें उत्तर और दक्षिण भारतीय संगीत के बीच सेतु के रूप में जाना जाता था। दक्षिण भारत के कर्नाटक संगीत के कई रागों को उन्होने उत्तर भारतीय संगीत में प्रचलित किया था। फिल्म ‘देवदास’ के लिए इस गीत की रिकार्डिंग के बाद सहगल साहब की आवाज़ में इस ठुमरी को खाँ साहब ने सुना और सहगल साहब की गायन शैली की खूब तारीफ़ करते हुए उन्हें बधाई का एक सन्देश भी भेजा था। सहगल साहब ने परदे पर शराब के नशे में धुत देवदास की भूमिका में इस ठुमरी का स्थायी और एक अन्तरा गाया था। गायन के दौरान ठुमरी में किसी ताल वाद्य की संगति नहीं की गई है। पार्श्व संगीत के लिए केवल वायलिन और सरोद की संगति है। के.एल. सहगल की आवाज़ में राग झिंझोटी की इस फिल्मी ठुमरी के बाद हम इसी ठुमरी का पारम्परिक रूप उस्ताद अब्दुल करीम खाँ के स्वरों में प्रस्तुत कर रहे हैं।



राग - झिंझोटी : पारम्परिक ठुमरी : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : उस्ताद अब्दुल करीम खाँ






'स्वरगोष्ठी' की इस श्रृंखला में अब हम आपको आज के इस आलेख और गीतों का समन्वित रूप श्रव्य माध्यम से प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसे 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' परिवार की सक्रिय सदस्य संज्ञा टण्डन ने अपनी आवाज़ से सजाया है। आप इस प्रस्तुति का आनन्द लीजिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।



ठुमरी राग झिंझोटी : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी : वाचक स्वर – संज्ञा टण्डन







आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 182वें अंक की पहेली में आज हम आपको कण्ठ संगीत की एक पुरानी रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 190वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।




1 – कण्ठ संगीत की इस रचना का अंश सुन कर बताइए कि यह किस राग में निबद्ध है?

2 – इस संगीत रचना में किस ताल का प्रयोग हुआ है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 184वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली और श्रृंखला के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 180वीं कड़ी की पहेली में हमने आपको उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ द्वारा शहनाई पर प्रस्तुत बनारसी कजरी का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- (क) वाद्य शहनाई और (ख) कजरी धुन तथा पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल दादरा और कहरवा। इस अंक के दोनों प्रश्नों के सही उत्तर पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, जबलपुर से क्षिति तिवारी, चण्डीगढ़ के हरकीरत सिंह, और हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी ने दिया है। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।

180वीं कड़ी की पहेली के उत्तरों के साथ ही इस वर्ष की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) भी पूर्ण हुई। इस श्रृंखला में निम्नलिखित प्रतिभागियों ने प्राप्तांकों के आधार पर प्रथम तीन स्थान प्राप्त किया है। सभी विजेताओं को 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' की ओर से हार्दिक बधाई।

1- सुश्री विजया राजकोटिया, पेंसिलवानिया, अमेरिका - 20 अंक - प्रथम 
2- सुश्री क्षिति तिवारी, जबलपुर - 20 अंक -प्रथम 
3- सुश्री डी. हरिणा माधवी, हैदराबाद - 18 अंक - द्वितीय 
4- श्री हरकीरत सिंह, चण्डीगढ़ - 12 अंक - तृतीय


अपनी बात


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के इस अंक से हमने एक नया प्रयोग किया है। ‘स्वरगोष्ठी’ के परम्परागत आलेख, चित्र और गीत-संगीत के आडियो रूप के साथ-साथ सम्पूर्ण आलेख, गीतों के साथ श्रव्य माध्यम से भी प्रस्तुत कर रहे हैं। आपको हमारा यह प्रयोग कैसा लगा? हमें अवश्य लिखिएगा। आगामी अंक में हम एक और परम्परागत ठुमरी और उसके फिल्मी रूप पर चर्चा करेंगे। आप भी अपनी पसन्द के विषय और गीत-संगीत की फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हमारी अगली श्रृंखलाओं के लिए आप किसी नए विषय का सुझाव भी दे सकते हैं। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर सभी संगीतानुरागियों की हम प्रतीक्षा करेंगे।


वाचक स्वर : संज्ञा टण्डन   
आलेख व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र   

Comments

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया