सोमवार, 4 नवंबर 2013

जुदा हो गयी सदा के लिए "लंबी जुदाई" देकर गायिका रेशमा

गायिका रेशमा को श्रद्धांजली





"जो फूल यहाँ पर खिल न सके, वो फूल वहाँ खिल जायेंगे, हम इस दुनिया में मिल न सके तो उस दुनिया में मिल जायेंगे" - दोस्तों, कल सुबह जैसे ही गायिका रेशमा के निधन की ख़बर रेडियो पर सुनी तो उनके गाये इस गीत की पंक्ति जैसे कानों में बजने लगी। कहते हैं कि आवाज़ें सरहदों से आज़ाद हुआ करती हैं, रेशमा की आवाज़ भी एक ऐसी आवाज़ रही जिसने कभी भी सरहदों को नहीं माना। चाहे वो कहीं भी रहीं, उनकी आवाज़ ने दुनिया भर की फ़िज़ाओं में ख़ुशबू बिखेरी। उनकी आवाज़ मिट्टी की आवाज़ थी, जिसमें से मिट्टी की भीनी-भीनी सौंधी ख़ुशबू उड़ा करती। 

रेशमा का जन्म यहीं भारत में, राजस्थान में हुआ था और उनका बचपन भी राजस्थान में ही बीता। राजस्थान, जिसकी सीमा पाक़िस्तान के सरहद के बहुत करीब है; आज़ादी के बाद देश के बटवारे के बाद रेशमा सरहद के उस पार चली गईं। रेशमा का ताल्लुख़ बंजारा समुदाय से था जो कभी एक जगह नहीं ठहरता। बंजारे यायावर की तरह भटकते रहते हैं, कभी घर नहीं बनाते, और हर बार नई मंज़िल की तलाश में निकल पड़ते हैं। रेशमा को गायिकी की प्रतिभा अपने समुदाय से विरासत में मिली और वो सुफ़ियाना शैली में गाने लगीं। बचपन से ही रेशमा की आवाज़ में वह कशिश थी कि जब वो कोई आध्यात्मिल या रूहानी रचना गातीं तो लोगों के दिलों में ख़लिश सी पैदा कर देतीं। वो जब भी रूहानी अशार गातीं, वो उसमें डूब सी जातीं और उनकी यह तन्मयता और लगन उनकी आवाज़ में साफ़ छलक आता। रेशमा पढ़ना-लिखना नहीं जानती थीं, लेकिन संगीत की रियाज़ से जो कुछ सीखा है वो पढ़े लिखे लोग भी नहीं सीख पाये।

किसी गुमनान जंगली फूल की तरह महकती रही हैं रेशमा की आवाज़ और एक बार सेहवान में हज़रत कलंदरलाल शाह्बाज़ की दरगाह पर उनकी आवाज़ सुन अक्र जमा हो गए थे लोग। आपको बता दें कि सेहवान पाक़िस्तान का एक छोटा सा शहर है और हज़रत कलंदरलाल शाहबाज़ की दरगाह पर उस दिन शामिल थे पाक़िस्तान रेडियो के एक अधिकारी जिन्होंने रेशमा की आवाज़ सुनी और युं प्रभावित हुए कि रेडियो तक उन्होंने रेशमा की आवाज़ को पहुँचा ही दिया। और इस तरह से बंजारों के समुदाय से निकल कर उनकी आवाज़ रेडियो की तरंगों पर सवार होकर पूरी दुनिया में फैल गई, और लोग उन्हें जानने लगे। "दमादम मस्त कलंदर, अली दा पहला नंबर", "ओ रब्बा दिल आये मुश्किल के", "कौन रूठे यार मनाये", "रब्बा हुण की करिये", "ना दिल देंदी बेदर्दी नु" जैसे गीत बेहद मक़बूल हुए।

80 के दशक में संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने फ़िल्म 'हीरो' में रेशमा से गवाया "लम्बी जुदाई"। यह ग़मज़दा नग़मा जब रिलीज़ हुआ था तो लोगों ने इसे फ़ौरन हाथों-हाथ लिया। इस फ़िल्म के अन्य कई गीत सुपरहिट हुए, पर इस गीत में जो बात है, वह बात किसी अन्य गीत में नहीं। आज इस गीत के बने हुए 30 साल बीत चुके हैं, पर आज भी, जितनी बार भी हम इस गीत को सुनते हैं, कलेजा जैसे चीर कर रख देती है रेशमा की आवाज़। जुदाई के भाव पर बनने वाले तमाम फ़िल्मी गीतों में यह गीत एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस गीत में जुदाई के दर्द को रेशमा ने जिस तरह से उभारा है, उसे शायद फ़िल्म जगत की नामचीन गायिकायें न उभार सके। यह गीत जैसे ही मक़बूल हुआ, सारी दुनिया भर से उन्हें कॉनसर्ट्स के लिए बुलाया गया, और वो और भी मशहूर हो गईं।


गीतकार और शायर कैफ़ी आज़मी ने एक बार विविध भारती के किसी कार्यक्रम में रेशमा का ज़िक्र करते हुए कहा था - "अचानक एक दिन रेशमा की आवाज़ का झरना हिन्दुस्तान में इस तरह गिरने लगा कि हर म्युज़िक डिरेक्टर और हर नग़मानिगार के दिल में यह ख़्वाहिश जाग उठी कि काश कभी हमारे किसी गीत को यह आवाज़ मिल जाये! वक़्त गुज़रता रहा और भारत का हर सुरा और बेसुरा आदमी रेशमा के गाने गाता रहा। आते आते वह मुबारक़ दिन आ गया जब रेशमा भारत की महमान हुईं। कई म्युज़िक डिरेक्टर और फ़िल्मसाज़ उनके पास यही दरख़्वास्त लेकर पहुँचे कि आप हमारी फ़िल्म के कुछ गाने अपनी आवाज़ में रेकॉर्ड करवा दें। कानूनी मुश्किलों पर काबू पाने के बाद रेशमा ने कुछ गाने गाये भी। उनकी आवाज़ की एक ख़ुसूसियत यह है कि आप आँख बन्द करके सुने तो महसूस होगा कि आप किसी सेहरा में खड़े हैं और दूर से कोई ख़ानाबदोश जादूगरनी आप पर जादू कर रही है। लेकिन इसके लिए यह ज़रूरी है कि गाने के बोल और धुन, दोनों ऐसे हों कि जिन पर रेशमा की आवाज़ पूरी तरह गूंजने और तैरने लगे। म्युज़िक डिरेक्टर लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के डिरेक्शन में रेशमा ने यहाँ एक गाना रेकॉर्ड करवाया, जिसे सुन कर आपको रेशमा का वह मशहूर नग़मा ज़रूर याद आ जायेगा "हायो रब्बा नैयो लगदा दिल मेरा"। यह गाना है "लम्बी जुदाई"।"

करीब दो दशक बाद, साल 2006 में रेशमा भारत आयीं थीं और संगीतकार रूप कुमार राठौड़ के निर्देशन में फ़िल्म 'वह तेरा नाम था' के लिए एक गीत भी रेकॉर्ड करवाया था। गीत के बोल थे "अश्कां दी गली विच मुकाम दे गया"। इस तरह से हिन्दी फ़िल्मों के लिए रेशमा ने केवल दो ही गाये - "लम्बी जुदाई" और "अश्कां दी गली"। पर रेशमा जानी जाती हैं उनकी गाई लोक गीतों के लिए। आज वो भले इस फ़ानी दुनिया से बहुत दूर चली गईं हों, पर उनकी मिट्टी की ख़ुशबू लिए आवाज़ हमेशा इस मिट्टी को सुवासित करती रहेगी। गायिका रेशमा को 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के समूचे परिवार की तरफ़ से भावभीनी श्रद्धांजली, ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति दें!





संदर्भ: रेशमा पर केन्द्रित 'आज के फ़नकार' कार्यक्रम (विविध भारती)

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी

2 टिप्‍पणियां:

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

मेरी और से भी हार्दिक श्रद्धांजलि...

Pankaj Mukesh ने कहा…

REST IN PEACE !!!!!
Dhanyawaad, sujoy ji!!!!

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ