Saturday, October 26, 2013

मन्ना दा को समर्पित है आज की 'सिने पहेली'...

सिने पहेली – 85

  


"होगा मसीहा सामने तेरे, फिर भी न तू बच पायेगा, तेरा अपना ख़ून ही आख़िर तुझको आग लगायेगा, आसमान में उड़ने वाले मिट्टी में मिल जायेंगे....", कल टेलीविज़न पर मन्ना दा के अन्तिम सफ़र को देखते समय उन्ही के गाये फ़िल्म 'उपकार' के इस गीत के इन बोलों में इस नश्वर संसार के कटु सत्य को एक बार फिर से महसूस कर जैसे मन काँप सा उठा। मन्ना दा चले गये.... हमेशा के लिए.... बहुत बहुत दूर। और हमसे कह गये "जीवन कहीं भी ठहरता नहीं है, आँधी से तूफ़ाँ से डरता नहीं है, तू न चलेगा तो चल देंगी राहें, मइल को तरसेंगी तेरी निगाहें, तुझको चलना होगा, तुझको चलना होगा..."। मन्ना दा भी निरन्तर अपने जीवन पथ पर चलते रहे, बिना रुके, और करते रहे साधना, सुरों की। 

संगीत की वादियों में गूंजती अनगिनत आवाज़ों में इस सुर-साधक की आवाज़ सबसे अलग है। इनके स्वर कभी नभ से विराटता रचते हैं, और कभी सागर की गहराई का अहसास कराते हैं। वो चाहे रुमानीयत हो, वीर रस के ओजपूर्ण गीत हो, हास्य की गुदगुदाहट हो, या फिर अपने आराध्य को अर्पित भक्ति की स्वरांजलि, इस साधक का स्वर एक ऐसा अलौकिक संसार रचते हैं जहाँ केवल आनन्द ही आनन्द है। पिछले कई दशकों से पार्श्व गायन की दुनिया के गंधर्व मन्ना डे के गाये गीत हवाओं पर सवार होकर नदी, पहाड़, समुन्दर लांघ कर हमारे दिल में उतरते रहे हैं। पार्श्व गायन के इस वरिष्ठ कलाकार की साधना उसी समर्पण से, उसी लगन से, उनके अन्तिम समय तक जारी रहा। 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' की तरफ़ से इस महान सुर-गंधर्व को सहस्र नमन और भावभीनी श्रद्धांजलि।

आज मन्ना दा का शरीर भले पंच-तत्वों में विलीन हो गया है, पर एक कलाकार कभी इस संसार से दूर नहीं होते। उनकी कला उन्हें कर देती है अमर। मन्ना दा के गाये असंख्य गीत युगों युगों तक दुनिया की फ़िज़ाओं में गूंजते रहेंगे। उनकी शास्त्रीय संगीत आधारित रचनायें नई पीढ़ियों को सिखाते रहेंगे संगीत साधना की बारीकियाँ, उनके दार्शनिक गीत पढ़ाते रहेंगे जीवन पथ पर निरन्तर बढ़ते रहने का पाठ। आज की यह 'सिने पहेली' समर्पित है मन्ना दा की पुण्य स्मृति को।




आज की पहेली : ज़िन्दगी कैसी है पहेली हाय....

प्रश्न-1: नीचे दिये दो तस्वीरों में एक तो मन्ना दा हैं, बाक़ी दो कौन कौन हैं? (1.5x2=3)




प्रश्न-2: नीचे दिये हुए तस्वीरों में मन्ना दा के गाये फ़िल्मी गीतों के दृश्य हैं। क्या आप इन गीतों को पहचान सकते हैं? (7x1=7)









उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 85" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 31 अक्टुबर शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।





पिछली पहेली का हल

1. खाद्य पदार्थ- समोसा, गीत- जब तक रहेगा समोसे में आलू, फ़िल्मी कलाकार- अक्षय कुमार

2. खाद्य पदार्थ- बटाटा बडा, गीत- बटाटा वडा...बटाटा वडा...दिल नहीं देना था, देना पडा, फ़िल्मी कलाकार- अनिल कपूर

3. खाद्य पदार्थ- दाल रोटी, गीत- दाल रोटी खाओ, प्रभु के गुण गाओ, फ़िल्मी कलाकार- सायरा बानो

4. खाद्य पदार्थ- बैंगन का भर्ता, गीत- आलू की भाजी..बैंगन का भर्ता, बोलो जी बोलो क्‍या खाओगे, फ़िल्मी कलाकार- राखी

5. खाद्य पदार्थ- हलवा, गीत- आ गया आ गया..हलवा वाला आ गया, फ़िल्मी कलाकार- मिथुन चक्रवर्ती

6. खाद्य पदार्थ- सोन पापडी, गीत- सोन पापडी... मेरी सोन पापडी, फ़िल्मी कलाकार- रवीना टण्‍डन

7. खाद्य पदार्थ- रसगुल्‍ला, गीत- एक रसगुल्‍ला कहीं फट गया रे....फट के जलेबी से लिपट गया रे, फ़िल्मी कलाकार- गोविन्‍दा

8. खाद्य पदार्थ- मोतीचूर लड्डू, गीत- सुन राजा शादी लड्डू मोतीचूर का, फ़िल्मी कलाकार- अरूणा ईरानी

9. खाद्य पदार्थ- आईस क्रीम, गीत- चोकलेट..लाईमज्‍यूस..आईसक्रीम..टॉफियॉं, फ़िल्मी कलाकार- माधुरी दीक्षित

10. खाद्य पदार्थ- पान, गीत- खाईके पान बनारस वाला, फ़िल्मी कलाकार- अमिताभ बच्‍चन



पिछली पहेली के विजेता

'सिने पहेली - 84' में इस बार कुल 4 प्रतियोगियों ने हिस्सा लिया, और सबसे पहले 100% सही जवाब भेज कर 'सरताज प्रतियोगी' बने हैं बीकानेर के श्री विजय कुमार व्यास। बहुत बहुत बधाई विजय जी, आपको।

हमारे नियमित प्रतियोगी चन्द्रकान्त दीक्षित जी ने अपने जवाब के साथ-साथ हमें यह भी बताया कि आजकल वो स्वीडेन गये हुए हैं दो सप्ताहों के लिए, और इन्होंने किसी तरह समय निकाल कर 'सिने पहेली' के जवाब भेजे। लेकिन उससे भी बड़ी बात दीक्षित जी ने बताया कि पहेली के जवाब ईमेल में टाइप करते हुए उन्हें लगा कि जैसे वो भारत में अपने घर में बैठे हैं। दीक्षित जी, वाक़ई आपके इस बात ने हमें छू लिया, और हमें बहुत ख़ुशी भी हुई यह जानकर कि 'सिने पहेली' ने आपको विदेश में होने के बावजूद देश में और अपने घर में होने का हसास कराया। यह भी हमारे लिए किसी उपलब्धि से कम नहीं है।

और अब इस सेगमेण्ट के सम्मिलित स्कोर-कार्ड पर एक नज़र...



कौन बनेगा 'सिने पहेली' महाविजेता?


1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स। 

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जोड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेता के रूप में चुन लिया जाएगा। 

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। आठवें सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा-



4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।

तो आज बस इतना ही, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी 'सिने पहेली' में। लेकिन 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के अन्य स्तंभ आपके लिए पेश होते रहेंगे हर रोज़। तो बने रहिये हमारे साथ और सुलझाते रहिये अपनी ज़िंदगी की पहेलियों के साथ-साथ 'सिने पहेली' भी, अनुमति चाहूँगा, नमस्कार!

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी

6 comments:

Anupama Tripathi said...

सार्थक पोस्ट .....श्रद्धांजलि मन्ना दा को ....!!

प्रकाश गोविंद said...

मन्ना दा जैसे अप्रतिम सुर साधक
कभी भी संगीत प्रेमियों के दिलों से दूर नहीं होंगे
-
मन्ना दा को विनम्र श्रद्धांजलि
-
-
आग्रह है कि मन्ना दा पर
एक विशेष पोस्ट प्रस्तुत की जाए !

Smart Indian said...

मन्ना डे को विनम्र श्रद्धांजलि!

Pankajmukesh said...

Badi hi tez samay ki ye dhara, tujhko chalna hoga!!!!

Vijay Vyas said...

मन्‍ना डे साहब को शत शत नमन।
पहेली के एडमिन से आग्रह है कि मुख्‍य पृष्‍ठ पर ऊपर हैडिंग में जहॉं लिखा है कि 'चित्र पर क्लिक करके भी आप सीधे सिने पहेली के ताज़ा सवाल तक पहुँच सकते हैं', पर क्लिक करने से पहेली संख्‍या 83 खुलती है। पहेली 84 एवं इसके बाद वर्तमान पहेली 85 के लिए शायद आप बदलाव करना भूल गए हैं। कृपया सुधार के लिए निवेदन है।
आभार ।

इन्दु पुरी said...

bahut busy rhi. jwab n de ski pr hr post ko pdhti hun. ab to jwab dee ka din gujar gaya hai. manna da ko bheemsen joshi aur ameen sayani ji ke sath dekhkr mn khush hua. diye gye chitr unke best songs me se hai aur sb ke sb mujhe psnd hain e mere pyare vatan.... aur teri gliyon me hm aaye.......
deepawali ki dheron shubhkamnaye aap sbhi ko.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ