Skip to main content

आपकी फ़रमाइश पर आज की 'सिने पहेली' में एक वर्ग-पहेली...

सिने पहेली – 83

  
'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों व श्रोताओं को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार! 'सिने पहेली' की एक और कड़ी के साथ मैं हाज़िर हूँ। आज से नवरात्री का त्योहार शुरू हो रहा है, इस शुभ अवसर पर 'रेडियो प्लेबैक इण्डीया' की तरफ़ से हम आप सभी को शुभकामनायें देते हैं। आप अपने परिवार जनों के साथ इस त्योहार को हँसी-ख़ुशी मनायें ऐसी हम आशा करते हैं।


दोस्तों, इस सेगमेण्ट की पहली कड़ी में पूछे गये गूगली में प्रतियोगियों की भागीदारी कम ही रही थी, पर पिछली कड़ी में आपकी भागीदारी में सुधार हुआ, और यही नहीं जितने भी खिलाड़ियों ने भाग लिया, सभी ने 100% सही जवाब भेजे। बहुत बढ़िया! इसी तरह के टक्कर की हम आगे भी उम्मीद रखते हैं, तभी तो 'सिने पहेली' बनेगा और भी दिलचस्प, और भी रोमांचक। सभी प्रतियोगियों का एक बार फिर से स्वागत करते हुए शुरू करते हैं आज की 'सिने पहेली'।



आज की पहेली : BOLLYWOOD CROSSWORD


हमारे पास समय-समय पर वर्ग पहेली की फ़रमाइशें आती रही हैं। क्योंकि इन्हें तैयार करने में काफ़ी समय लगता है, इसलिए हम बहुतायत में तो वर्ग पहेली नहीं पूछ सकते, पर कभी-कभार ऐसा ज़रूर कर सकते हैं। आज बहुत दिनों बाद हम लेकर आये हैं एक वर्ग पहेली। लेकिन इस बार हिंदी में नहीं, बल्कि अंग्रेज़ी में। जी हाँ, आज की वर्ग पहेली में आपको 20 हिंदी फ़िल्मों के नाम बताने हैं जिनके शीर्षक अंग्रेज़ी के शब्द हैं, और आपको पहेली के वर्गों में अंग्रेज़ी के ही अक्षर भरने हैं। तो यह रहा आज का crossword और सूत्र:





बाँये से दाँये

1.  __________ से स्टार तो बना जा सकता है, पर साधना का कोई ___________ नहीं है।
2. ऐसा हम अचानक कोई ग़लती करने पर कहते हैं।
3. इस फ़िल्म में सोनू निगम और अलिशा चिनॉय का गाया एक युगल गीत है।
4. इस शीर्षक से ज़हीदा और शिल्पा शेट्टी, दोनों का वास्ता है।
5. इस शीर्षक का अगर हिंदी अनुवाद करें तो इस हिंदी शीर्षक से सैफ़ अली ख़ान की एक फ़िल्म बनी थी।
6. दरवाज़ा खोलते ही कोई महमान दिखे तो क्या कहते हैं आप?
7. दो अक्षर वाली फ़िल्म के नाम के लिए और क्या सूत्र दें!
8. साल 2013 में तीन शब्दों वाली एक फ़िल्म आई है। पहले शब्द का अंग्रेज़ी अनुवाद करने पर यह शीर्षक बनता है।
9. साल 2011 की चार शब्दों वाले फ़िल्म-शीर्षक का अंतिम शब्द।
10. साल 2010 की इस फ़िल्म में अभिनेता ने फ़िल्म में एक अंग्रेज़ी गीत गाया था।

ऊपर से नीचे

1. एक लोकप्रिय टीवी शो से प्रेरित थी यह फ़िल्म।
11. करीब-करीब 10 साल लगाकर यह फ़िल्म साल 2000 में प्रदर्शित हुई; फ़िल्म का एक गीत राहुल देव बर्मन का कम्पोज़ किया हुआ था, बाक़ी गीत रचे अनु मलिक ने।
12. साल 1967 की यह फ़िल्म थी। दक्षिण की एक गायिका की आवाज़ थी इसके गीतों में।
13. साल 1995 की इस बहुचर्चित फ़िल्म में नायक का नाम शेखर और नायिका का नाम शैला बानो था। कुछ अंदाज़ा लगा?
14. यह एक 'under water action thriller' फ़िल्म थी।
15. साल 2005 की एक विवादास्पद फ़िल्म थी, फ़िल्म के नायक को असली ज़िंदगी (real life) में जेल जाना पड़ा था।
16. "मैंने यह कब सोचा था..."
17. इस साइन बोर्ड का उल्लंघन न करें! जुर्माना हो सकता है।
18. यह तो लेना ही पड़ता है।
19. आफ़ताब शिवदासानी और सेलिना जेटली अभिनीत फ़िल्म।


उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 83" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 10 अक्टुबर शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।




पिछली पहेली का हल

A-  "भाई बत्तूर भाई बत्तूर अब जायेंगे कितनी दूर  
नाजुक नाजुक मेरी जवानी चलने से मजबूर" 

B-  फ़िल्म पड़ोसन (1968) 

C-  फ़िल्म - गुमनाम (1965) 

D-  फ़िल्म - जादूगर (1989) 

E- "जादूगर तेरे नैना दिल जाएगा बच के कहाँ  
रुक जाऊं झुक जाऊं तेरा मुखड़ा मैं देखूं जहाँ" 
फ़िल्म मन मंदिर (1971)


पिछली पहेली के विजेता

इस बार सबसे पहले सही जवाब भेज कर 'सरताज प्रतियोगी' बने हैं मुंबई के श्री शिशिर कृष्ण शर्मा। बहुत बहुत बधाई शिशिर जी। वैसे तो आप 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' से जुड़े हुए ही हैं, पर 'सिने पहेली' में पहली बार भाग लेकर इसमें चार चाँद लगा दिये हैं। आगे भी इस प्रतियोगिता में भाग लेते रहिएगा। इस सेगमेण्ट का अब तक का सम्मिलित स्कोरकार्ड इस प्रकार रहा...



कौन बनेगा 'सिने पहेली' महाविजेता?


1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स। 

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जोड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेता के रूप में चुन लिया जाएगा। 

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। आठवें सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा-



4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।

तो आज बस इतना ही, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी 'सिने पहेली' में। लेकिन 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के अन्य स्तंभ आपके लिए पेश होते रहेंगे हर रोज़। तो बने रहिये हमारे साथ और सुलझाते रहिये अपनी ज़िंदगी की पहेलियों के साथ-साथ 'सिने पहेली' भी, अनुमति चाहूँगा, नमस्कार!

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी

Comments

आज तो वर्ग पहेली देख कर दिल बहुत खुश हो गया !
बचपन से ही वर्ग पहेली के प्रति एक अलग ही आकर्षण रहा है
इसलिए सचमुच देखते ही आनंद आ गया
-
-
ये बात एकदम सही है कि वर्ग पहेली को बनाने में भी बहुत मेहनत लगती है !
जबकि ये तो एकदम नए अंदाज में ही वर्ग पहेली बनायीं गयी है तो जाहिर है पहेली बनाने वाले को भी बहुत माथापच्ची करनी पड़ी होगी !

सर जी
बहुत आभार / धन्यवाद
Vijay Vyas said…
वक्‍त लगेगा, पर मजेदार पहेली है।
कुछ हिन्‍ट वाकई सोचनीय/मनोरंजक है।
आभार ।

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक