Skip to main content

जारी है 'सिने पहेली' का जंग, आप अब भी बन सकते हैं इसके जंगबाज़...



12 जनवरी, 2013
सिने-पहेली - 54  में आज 

पहचानिये 16 गीतों में छुपे गीत को

'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी पाठकों और श्रोताओं को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, पिछले दिनों 'सिने पहेली' के एक प्रतियोगी ने मुझसे कहा कि 'सिने पहेली' के सवालों से उन्हें तनाव महसूस होता है और सारे काम-काज छोड़ कर वो सप्ताह भर इसके जवाब तलाशते रहते हैं। 'सिने पहेली' की तरफ़ से मैं आपको और अन्य सभी प्रतियोगियों से यह कहना चाहता हूँ कि 'सिने पहेली' का उद्येश्य आपको तनाव में डालना कतई नहीं है, बल्कि इसमें भाग लेकर आप दूसरे तनावों से कुछ समय के लिए मुक्ति पा सकते हैं, ऐसा हमारा विचार है। हमने पहले भी कहा था, आज भी कहते हैं कि आप 'सिने पहली' के जवाब ढूंढने में ज़्यादा समय न गँवायें। इस खेल को खेल भावना से ही खेलें और ज़्यादा गंभीरता से न लें। 'सिने पहेली' की वजह से आपकी दिनचर्या में रूकावट उत्पन्न हो, यह उचित बात नहीं है। दिन में मनोरंजन के लिए आप जितना स्माय निकालते हैं, उतने समय में भी आप जितने सवालों के हल निकाल सकें, बस उतने के ही जवाब भेजें। चलिए अब पूछते हैं आपसे आज की पहेली...


आज की पहेली : सोलह का संगम


नीचे कुल 16 पंक्तियाँ दी गई हैं जो फ़िल्मी गीतों की पंक्तियाँ हैं। आपको पहली पंक्ति से कोई भी एक शब्द, दूसरी पंक्ति से कोई भी एक शब्द, तीसरी पंक्ति से कोई भी एक शब्द..... 16-वीं पंक्ति से कोई भी एक शब्द इस तरह से ढूंढने हैं कि इन सोलह शब्दों को उसी क्रम में सजाने पर लता मंगेशकर के गाये एक गीत का पूरा का पूरा मुखड़ा बन जाता है। दूसरे शब्दों में, इन सोलह पंक्तियों में से एक एक शब्द चुन कर सोलह शब्दों का एक मुखड़ा बनाना है जो कि लता जी का गाया हुआ एक गीत है। ये रही 16 गीतों की पंक्तियाँ...

1. तेरे नैना मेरे नैनों से मीठी-मीठी बातें करते हैं।

2. ओ मेरे दिल के चैन, चैन आये मेरे दिल को दुआ कीजिये।

3. प्यार के रंग से तू दिल को सजाये रखना।

4. रंग भरे बादल से, तेरे नैनों के काजल से, मैंने इस दिल पे लिख दिया तेरा नाम।

5. सपने सुहाने लड़कपन के, मेरे नैनों में डोले बहार बनके।

6. अब तेरे दिल में हम आ गये, तो? तेरे दिल में रहेंगे, तो?

7. बंसी की धुन सुन, आयी हूँ सजाने बलम तेरी गलियाँ 

8. फूलों के इस शहर में, ये दिल मचलने लगे, आये न कोई इधर, हम प्यार करने लगे।

9. क्या करते थे साजना तुम हमसे दूर रहके।

10. क्या ख़बर क्या पता क्या ख़ुशी है ग़म है क्या।

11. इस प्यार को मैं क्या नाम दूँ, बेचैन दिल को कैसे क़रार दूँ।

12. मेरे प्यार की उमर हो इतनी सनम, तेरे नाम से शुरू, तेरे नाम पे ख़तम।

13. ओ शमा मुझे फूंक दे, मैं न मैं रहूँ, तू न तू रहे, यही इश्क़ का है दस्तूर।

14. पानी पड़े तन पे तो शोला निकले, जाने कैसी अगन में बदन जले।

15. हमें और जीने की चाहत ना होती, अगर तुम न होते, अगर तुम न होते।

16. राधा कैसे न जले, आग तन मन में लगे।



पहेली को समझने में कोई परेशानी हो तो टिप्पणी में या ईमेल के द्वारा ज़रूर सूचित करें।



जवाब भेजने का तरीका

उपर पूछे गए सवालों के जवाब एक ही ई-मेल में टाइप करके cine.paheli@yahoo.com के पते पर भेजें। 'टिप्पणी' में जवाब कतई न लिखें, वो मान्य नहीं होंगे। ईमेल के सब्जेक्ट लाइन में "Cine Paheli # 54" अवश्य लिखें, और अंत में अपना नाम व स्थान लिखें। आपका ईमेल हमें बृहस्पतिवार 17 जनवरी शाम 5 बजे तक अवश्य मिल जाने चाहिए। इसके बाद प्राप्त होने वाली प्रविष्टियों को शामिल नहीं किया जाएगा।


पिछली पहेली का हल



1. आशा भोसले और राहुल देव बर्मन का गाया पहला युगल गीत है "मेरी जाँ मैंने कहा" (दि ट्रेन, 1970) और अंतिम युगल गीत है "आजा सुन ले सदा" (गुरुदेव, 1993)

2. लता मंगेशकर और आशा भोसले के गाये तथा पंचम के स्वरबद्ध 6 गीत:
"मितवा.........तेरे लिए जीना, तेरे लिए मरना" (फिल्‍म-शान, 1980); "सारे शहर में एक हसीं हैं, और वो मैं हूँ कोई और नहीं है" (फिल्‍म-अलीबाबा और 40 चोर, 1980); "मन मंदिर में प्रीत का डेरा, ना ही कोई दूजा" (फिल्‍म-संजोग,1972), "लौंगी मिर्ची मैं कोल्‍हापुर की" (फिल्‍म-अशांति, 1982); "मैं चली मैं चली, देखो प्‍यार की गली" (फिल्‍म-पडोसन, 1968); "पाके अकेली मोहे छेड रहा छलिया" (फिल्‍म-जेलयात्रा, 1981)

3. "कल तो सण्डे की छुट्टी है" (अगर तुम न होते)




पिछली पहेली का परिणाम


इस बार कुल 9 प्रतियोगियों ने 'सिने पहेली' में भाग लिया पर अफ़सोस कि किसी ने भी 100% सही जवाब नहीं भेज सके। हर किसी ने पहले सवाल के जवाब में आशा-पंचम का गाया अन्तिम युगल गीत 1983 की फ़िल्म 'महान' का "ये दिन तो आता है" बताया है, जबकि 1993 की फ़िल्म 'गुरुदेव' में भी इन दोनों ने एक युगल गीत गाया था "आज सुन ले सदा"। इस तरह से इस सप्ताह कोई भी सरताज प्रतियोगी नहीं बन पाये हैं। इस सप्ताह हमारे साथ एक नये प्रतियोगी जुड़े हैं, नोएडा के सौम्य प्रकाश परिदा। आपका बहुत बहुत स्वागत है 'सिने पहेली' परिवार में, और हम आशा करते हैं कि आप हमारे नियमित प्रतियोगी बन कर उभरेंगे। आइए अब नज़र डालते हैं इस सेगमेण्ट के अब तक के सम्मिलित स्कोरकार्ड पर।





नये प्रतियोगियों का आह्वान

नये प्रतियोगी, जो इस मज़ेदार खेल से जुड़ना चाहते हैं, उनके लिए हम यह बता दें कि अभी भी देर नहीं हुई है। इस प्रतियोगिता के नियम कुछ ऐसे हैं कि किसी भी समय जुड़ने वाले प्रतियोगी के लिए भी पूरा-पूरा मौका है महाविजेता बनने का। अगले सप्ताह से नया सेगमेण्ट शुरू हो रहा है, इसलिए नये खिलाड़ियों का आज हम एक बार फिर आह्वान करते हैं। अपने मित्रों, दफ़्तर के साथी, और रिश्तेदारों को 'सिने पहेली' के बारे में बताएँ और इसमें भाग लेने का परामर्श दें। नियमित रूप से इस प्रतियोगिता में भाग लेकर महाविजेता बनने पर आपके नाम हो सकता है 5000 रुपये का नगद इनाम।


कैसे बना जाए 'सिने पहेली महाविजेता?

1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स।

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जुड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेताओं के रूप में चुन लिया जाएगा।

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। पाँचवें सेगमेण्ट की समाप्ति तक 'महाविजेता स्कोरकार्ड' यह रहा...



4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।

'सिने पहेली' को और भी ज़्यादा मज़ेदार बनाने के लिए अगर आपके पास भी कोई सुझाव है तो 'सिने पहेली' के ईमेल आइडी पर अवश्य लिखें। आप सब भाग लेते रहिए, इस प्रतियोगिता का आनन्द लेते रहिए, क्योंकि महाविजेता बनने की लड़ाई अभी बहुत लम्बी है। आज के एपिसोड से जुड़ने वाले प्रतियोगियों के लिए भी 100% सम्भावना है महाविजेता बनने का। इसलिए मन लगाकर और नियमित रूप से (बिना किसी एपिसोड को मिस किए) सुलझाते रहिए हमारी सिने-पहेली, करते रहिए यह सिने मंथन, आज के लिए मुझे अनुमति दीजिए, अगले सप्ताह नए साल में फिर मुलाक़ात होगी, नमस्कार। 

Comments

Sajeev said…
एक सलमान खान भी थे खेल में, वो कहाँ है इन दिनों
Pankaj Mukesh said…
16 panktiyon ke itne bade prashan ka jawaab kewal itna hai ki wo lata ka gana hai. paryapt nahin. agar aaj ke date main kewal lata mangeshkar ko hta diya jaay to mere khayaal se kisi insan ko yaad aanewale ganon ki sankya adhi ho jati hai. kuchh aur hint hon chhiye. sawal ki uniquness ko maintain karne ke liye, warna ek saptah mein 2-4 song lata ke hi ban aayenge, aur confussions phir start ho jayega...
Pankaj Mukesh said…
kya ek letter ke shabdon ko consider kiya jayega ? jaise-1. se & hain,2. o, ke, ko, 3. ke, se, tu & ko etc!!!
kuchh year, music director etc hint sath mein jaroor hona chahiye!!!!
Sujoy Chatterjee said…
pankaj ji, yeh mushkil sawaal nahi hai. aap geet no.1 se shuru keejiye. first word hai "tere". ab "tere" ke baad geet no.2 ke pehle, doosare, teesre etc shabdon ko jod kar dekhiye kuch baat banti hai ya nahi. phir waapas geet-1 ke doosre shabd par aaiye jo hai "naina". ab "naina" ke saath fir se geet-2 ke shabdon ko jod kar dekhiye ki kis shabd ke saath koi baat ban rahi hai. aur haan, shabd to shabd hote hain, ek akshar ka shabd bhi ho sakta hai jaise "to", "se", "kee" aadi.
Sujoy Chatterjee said…
sajeev ji, jab se humne participant ke verification wala rawaiya apnaya tha, uske agle hi din se salman khan gayab ho gaye. mujhe bhi kuch samajh nahi aaya ki maajra kya hai!
Pankaj Mukesh said…
Thank you Sujoy ji!! for help, which i already tried and the only reliable but long method to solve this question. One more request, this time total marks of question, is nowhere mentioned. Please clarify the total marks for this episode as soon as possible!!!
regards,
Sujoy Chatterjee said…
total marks is 10. only 1 question. so participant will either get 10 or 0.
Sujoy Chatterjee said…
total marks is 10. only 1 question. so participant will either get 10 or 0.
Pankaj Mukesh said…
This comment has been removed by the author.
Pankaj Mukesh said…
ye gana sirf lata ka (solo) hai ya koi anya singer bhi hain?? only filmi song ki hi baat ho rahi hai na??? no album or non flimi songs!!!

16 shabdon ko milane se keval mukhada poora banta hai ya poora gana ???
samajh nahin aa raha kya hoga!!!
Vijay Vyas said…
सिने-पहेली - 53 के हल के सम्‍बन्‍ध में एक मेल भेजा गया है, जिस पर गौर फरमानें का आग्रह करता हूँ। पुराने प्रतियोगी कृपया वापस आ जाऐं, यह मेरी व्‍यक्तिगत हार्दिक तमन्‍ना हैं।
Pankaj Mukesh said…
Vijay kr. Vyas ji !!सिने-पहेली - 53 के हल के सम्‍बन्‍ध में मेल mein kya bheja gaya hai??? mujhe koi mail prapt nahin huwa???kahin koi answer mein shanshodhan to nahin huwa???
Vijay Vyas said…
पंकज जी, cine.paheli@yahoo.com के पते पर मैंनें एक मेल भेजा है जिसमें रेडियो प्‍लेबैक इण्डिया के सिने-पहेली संचालक सुजॉय जी से सिने-पहेली - 53 के हल के सम्‍बन्‍ध में 'आशा-पंचम के गाये अन्तिम युगल गीत से सम्‍बन्धित' प्रश्‍न के उत्‍तर के बारे में मैंनें एक तथ्‍यात्‍मक टिप्‍पणी भेजकर जानकारी चाही है। मैनें अपने उसी मेल पर गौर फरमाने का पुन: आग्रह संचालकों से किया है। आभार ।
Pankaj Mukesh said…
aap yaha tippadi par bhi us mail ko post kar sakte they, agar wo sabhi sambandhit logon ke liye upyuqt tha to.
aabhaar

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया