Skip to main content

सुर संगम में आज - भैरवी ठुमरी - उस्ताद विलायत ख़ान (सितार) और उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान (शहनाई)

सुर संगम - 02

उन दोनों में जो आपसी सम्मान और प्यार था, वो उनकी प्रस्तुतिओं में साफ़ महसूस की जा सकती थी। जब भी ये दोनों साथ में कॊन्सर्ट्स करते थे तो शो हाउसफ़ुल हुआ करता था, और जब दोनों साथ में रेकॊर्डिंग् करते थे तो उनके रेकॊर्ड्स भी हज़ारों, लाखों की तादाद में बिकते और आज भी बिकते हैं।

सुप्रभात! रविवार की इस ठिठुरती सुबह में शास्त्रीय संगीत के इस स्तंभ 'सुर संगम' के साथ मैं, सुजॊय हाज़िर हूँ। पिछले सप्ताह से इस साप्ताहिक स्तंभ की शुरुआत हुई थी और हमने सुनी थी उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब की गाई राग गुणकली। आज बारी एक जुगलबंदी की, और जिन दो कलाकारों की यह जुगलबंदी है, वे दोनों ही अपनी अपनी विधाओं में, अपने अपने साज़ों में बहुत ऊँचा मुकाम बनाया है, महारथ हासिल है। इनमें से एक हैं सुविख्यात सितार वादक उस्ताद विलायत ख़ान और दूसरे हैं शहनाई सम्राट उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान। सन् १९६७ में इन दोनों के जुगलबंदी की एक रेकॊर्ड जारी हुई थी 'Duets From India' के शीर्षक से। हमने जुगलबंदी तो कहा, लेकिन तकनीकी दृष्टि से इसे जुगलबंदी नहीं कहेंगे, बल्कि यह एक भैरवी आधारित ठुमरी है। इस रेकॊर्ड में एक जुगलबंदी भी है इन दोनों की जो राग गुजरी तोड़ी पर आधारित है। और एक चैती धुन भी बजाया था इन दोनों से इसमें। तो आज हम इनमें से भैरवी ठुमरी सुनेंगे सितार और शहनाई पर इन दो महान कलकारों का बजाया हुआ।


जहाँ तक जुगलबंदी का सवाल है, उस्ताद विलायत ख़ान ने इस ओर बहुत ज़्यादा कार्य नहीं किया, लेकिन १९५० के दशक में उन्होंने सरोद सम्राट उस्ताद अली अक़बर ख़ान साहब के साथ कई यादगार कॊन्सर्ट्स किये हैं, जिनके वो कायल भी थे। ६० के दशक में विलायत साहब के दो एल.पी रेकॊर्ड्स जारी हुए उन्हीं के भाई उस्ताद इमरात ख़ान के साथ, सुरबहार पर। इस एल.पी रेकॊर्ड की सफलता के बाद इस सितार - सुरबहार डुएट को कई कॊन्सर्ट्स में शामिल किये गये। ८० के दशक के शुरुआती सालों से उस्ताद विलायत ख़ान सुर-बहार पर अपने पुत्र शुजात ख़ान के साथ बजाना शुरु किया। लेकिन अगर सब से ज़्यादा सफल जोड़ी की बात करें, तो वह जोड़ी उनकी बनी थी शहनाई सम्राट उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान के साथ। उन दोनों में जो आपसी सम्मान और प्यार था, वो उनकी प्रस्तुतिओं में साफ़ महसूस की जा सकती थी। जब भी ये दोनों साथ में कॊन्सर्ट्स करते थे तो शो हाउसफ़ुल हुआ करता था, और जब दोनों साथ में रेकॊर्डिंग् करते थे तो उनके रेकॊर्ड्स भी हज़ारों, लाखों की तादाद में बिकते और आज भी बिकते हैं।

दोस्तों, आइए आज उस्ताद विलायत ख़ाँ साहब के जीवन पर थोड़ा प्रकाश डाला जाये। उनका जन्म बंगाल के मीमेनसिंह के गौरीपुर में २८ अगस्त १९२८ को हुआ था जो अब बंगलादेश में है। उनका पहला ७८-आर.पी.एम डिस्क तब जारी हुआ था जब उनकी आयु केवल ८ वर्ष की थी।, और उसके बाद ७५ वर्ष की आयु तक साल २००४ तक वो कॊन्सर्ट्स देते रहे। विलायत साहब के पिता ईनायत ख़ाँ थे जो ख़ुद एक सितार उस्ताद थे। उनके पूर्वज मुग़ल राजाओं के सभाओं में संगीत प्रस्तुत किया करते थे। उनके पिता सुरबहार (बेस सितार) के जाने माने कलाकार थे और उनके दादा इमदाद ख़ान भी। विलायत साहब को शिक्षा पारिवारिक तरीकों से ही मिली, जिसे इमदादख़ानी घराना या ईटावा घराना कहते हैं। ईटावा आग्रा के पास एक गाँव है जहाँ इमदाद ख़ाँ रहते थे। जब विलायत ख़ाँ केवल ९ वर्ष के थे, तभी उनके पिता ईनायत साहब का इंतकाल हो गया। इसलिए उन्हें संगीत की शिक्षा उनके चाचा वाहिद ख़ाँ से मिली जो ख़ुद एक जानेमाने सितार और सुरबहार वादक थे। इनके अलावा अपने नाना बंदे हसन ख़ान (जो एक गायक थे) और माँ बशीराम बेगम से भी उन्हें संगीत मिला। विलायत ख़ाँ के चाचा ज़िंदे हसन उनकी रियाज़ पर नज़र रखा करते थे। बालावस्था में विलायत एक गायक बनना चाहते थे, लेकिन उनकी माँ को, जो ख़ुद एक गायक परिवार से ताल्लुख़ रखती थीं, यह लगा कि विलायत को अपने पिता के परिवार के सितार परम्परा को ही आगे बढ़ाना चाहिए। इस तरह से विलायत बन गये उस्ताद विलायत हुसैन ख़ान, दुनिया का एक नामचीन सितार वादक।

उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान साहब की भी क्या तारीफ़ करें। वो किसी तारीफ़ के मोहताज नहीं। तारीफ़ तो उस उपरवाले की जिन्होंने ऐसे ऐसे रत्न इस धरती पर पैदा किये। इस रत्न के बारे में हम आगे चलकर इस स्तंभ में चर्चा करेंगे। फ़िल्हाल प्रस्तुत है इन दो उस्तादों द्वारा सितार और शहनाई पर बजाया हुआ भैरवी ठुमरी।

भैरवी ठुमरी - उस्ताद विलायत ख़ाँ (सितार) व उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ाँ (शहनाई)


भैरवी ठुमरी पर आधारित फ़िल्मी गीतों की बात करें तो जिस गीत की याद सब से पहले आती है, वह है के. एल. सहगल और कानन देवी का गाया फ़िल्म 'स्ट्रीट सिंगर' का गीत "बाबुल मोरा नैहर छूटो ही जाये"। इस गीत को हमने 'ओल्ड इज़ गोल्ड ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने' में भी शामिल किया था कुछ हफ़्ते पहले। लेकिन यह उन गीतों में से है जिन्हें बार बार सुनने पर भी दिल नहीं भरता। इसलिए आइए आज फिर एक बार इस गीत का आनंद लेते हैं।

गीत - बाबुल मोरा नैहर छूटो ही जाये (स्ट्रीट सिंगर)


तो ये था इस सप्ताह का 'सुर संगम'। अगले हफ़्ते फिर किसी शास्त्रीय महारथी के साथ हम हाज़िर होंगे। तब तक के लिए इजाज़त दीजिए, नमस्कार!

आप बताएं
क्या इन दोनों कलाकारों की जुगलबंदी वाली कोई और एल्बम आपको याद आ रही है ?

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Comments

AVADH said…
वाह उस्ताद वाह. क्या बात है. इन दो संगीत महारथियों की जुगलबंदी जैसे सोने पे सुहागा.
आनंद ही आनंद.
अनमोल प्रस्तुति... बधाई स्वीकारें।

अपने बिहार के "उस्ताद बिस्मिल्लाह खान" साहब के बारे में विस्तार से जानने की इच्छा बलवती हो रही है.. इसलिए आग्रह करूँगा कि जल्द हीं आप इन पर आलेख लिख डालिए। अग्रिम धन्यवाद! :)

-विश्व दीपक

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया