Skip to main content

'सिने पहेली' में आज फ़िल्मी सितारों का महाकुंभ

सिने पहेली –93 & 94

फ़िल्मी पहेलियों को सुलझाने में दिलचस्पी रखते वाले तमाम साथियों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार और बहुत बहुत स्वागत 'सिने पहेली' में। दोस्तों, जिस तरह से पिछली बार हमने दो कड़ियों को एक साथ मिलाकर 'सिने पहेली' के 92 और  93 वे  अंक प्रस्तुत किए थे, उसी प्रकार आज भी हम 'सिने पहेली' - 93  और 94 पेश कर रहे हैं। कारण? जी मामला कुछ ऐसा है कि अगले शनिवार 'सिने पहेली' का प्रसारण संभव नहीं हो सकेगा। इसलिए आज हम 10 के बजाय 20 अंकों के सवाल इकट्ठा पूछ लेंगे और आपको इस बार एक के बजाय दो सप्ताह का समय भी दिया जा रहा है अपने जवाब भेजने का। तो चलिए शुरू करते हैं आज की 'सिने पहेली'।






आज की पहेली : गीत एक सितारे अनेक



नीचे पाँच चित्र दिये गये हैं। हर चित्र में पाँच फ़िल्मी सितारे मौजूद हैं। आपको इन सितारों को ध्यान में रखते हुए हर चित्र के लिए एक फ़िल्मी गीत सुझाना है और साथ में तर्क भी देना है कि किस तरह से इन पाँच सितारों को आपने एक गीत में बाँधा है। यानी पाँच सवालों के लिये आपको पाँच गीत सुझाने हैं तर्क के साथ। हर सही जवाब के लिए आपको मिलेंगे 4 अंक। यानी 4x5=20।

तो ये रहे वो पाँच चित्र।

1


2.

3.

4.

5.


अपने जवाब आप हमें cine.paheli@yahoo.com पर 2 जनवरी शाम 5 बजे तक ज़रूर भेज दीजिये।


पिछली पहेली का हल


कम्बिनेशन 1. कार्टून 1 अर्थात हैलो का सम्‍बन्‍ध अभिनेता सलमान खान से जुडा हैं क्‍योंकि फिल्‍म 'हैलो ब्रदर' सलमान खान अभिनीत फिल्‍म हैं एवं इसके अतिरिक्‍त एक अन्‍य फिल्‍म 'हैलो' में भी सलमान खान की विशेष उपस्थिति {special appearance} है

कम्बिनेशन 2. कार्टून 2 अर्थात बॉक्‍सर का सम्‍बन्‍ध अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती से जुडा हैं क्‍योंकि 'बॉक्‍सर' मिथुन चक्रवर्ती अभिनीत फिल्‍म हैं

कम्बिनेशन 3. कार्टून 3 अर्थात हथकडी का सम्‍बन्‍ध अभिनेता गोविन्‍दा से जुडा हैं क्‍योंकि 'हथकडी' गोविन्‍दा अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 4. कार्टून 4 अर्थात गायक/रॉकस्‍टार का सम्‍बन्‍ध अभिनेता रणबीर कपूर से जुडा हैं क्‍योंकि 'रॉक स्‍टार' रणबीर कपूर अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं और उसमें वे एक रॉकस्‍टार गायक हैं

कम्बिनेशन 5. कार्टून 5 अर्थात लुटेरे का सम्‍बन्‍ध अभिनेता सन्‍नी देओल से जुडा हैं क्‍योंकि 'लुटेरे' सन्‍नी देओल अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 6. कार्टून 6 अर्थात ट्रेन का सम्‍बन्‍ध अभिनेता इमरान हाशमी से जुडा हैं क्‍योंकि 'द ट्रेन' इमरान हाशमी अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 7. कार्टून 7 अर्थात पतंगों (काईट्स) का सम्‍बन्‍ध अभिनेता ऋतिक रोशन से जुडा हैं क्‍योंकि 'काईट्स' ऋतिक रोशन अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 8. कार्टून 8 अर्थात भिन्‍न-भिन्‍न शराब/पेय पदार्थ यानि कॉकटेल का सम्‍बन्‍ध अभिनेता सैफ़ अली ख़ान से जुडा हैं क्‍योंकि 'कॉकटेल' सैफ़ अली ख़ान अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 9. कार्टून 9 अर्थात जोकर का सम्‍बन्‍ध अभिनेता अक्षय कुमार से जुडा हैं क्‍योंकि 'जोकर' अक्षय कुमार अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं

कम्बिनेशन 10. कार्टून 10 अर्थात दनदनाता गोल का सम्‍बन्‍ध अभिनेता जॉन अब्राहम से जुडा हैं क्‍योंकि 'दन दनादन गोल' जॉन अब्राहम अभिनीत फिल्‍म का नाम हैं



पिछली पहेली के विजेता


'सिने पहेली' प्रतियोगिता के इस नये सेगमेण्ट में दुर्भाग्यवश किसी भी नये खिलाड़ी का आगमन नहीं हुआ, और उन्ही चार खिलाड़ियों ने ही भाग लिया जो पिछले सेगमेण्ट में नियमित रूप से भाग ले रहे थे। अर्थात्‍ प्रकाश गोविन्द, विजय कुमार व्यास, पंकज मुकेश और चन्द्रकान्त दीक्षित। इस बार सबसे पहले सभी प्रश्नों के सही जवाब देकर 'सरताज प्रतियोगी' बने हैं बीकानेर के श्री विजय कुमार व्यास। बहुत बहुत बधाई विजय जी, आपको। अन्य तीन खिलाड़ियों ने भी शत प्रतिशत सही उतार भेजे हैं। इस तरह से इस नये सेगमेण्ट का स्कोर कार्ड कुछ इस तरह का बना...





नये पाठकों की जानकारी के लिए महाविजेता स्कोर-कार्ड पर भी एक नज़र डाल लेते हैं।






इस सेगमेण्ट की समाप्ति पर जिन पाँच प्रतियोगियों के 'महाविजेता स्कोर कार्ड' पर सबसे ज़्यादा अंक होंगे, वो ही पाँच खिलाड़ी केवल खेलेंगे 'सिने पहेली' का महामुकाबला और इसी महामुकाबले से निर्धारित होगा 'सिने पहेली महाविजेता'। 

और अब एक ज़रूरी सूचना:


'महाविजेता स्कोर कार्ड' में नाम दर्ज होने वाले खिलाड़ियों में से कौछ खिलाड़ी ऐसे हैं जो इस खेल को छोड़ चुके हैं, जैसे कि गौतम केवलिया, रीतेश खरे, सलमन ख़ान, और महेश बसन्तनी। आप चारों से निवेदन है (आपको हम ईमेल से भी सूचित कर रहे हैं) कि आप इस प्रतियोगिता में वापस आकर महाविजेता बनने की जंग में शामिल हो जायें। इस सेगमेण्ट के अन्तिम कड़ी तक अगर आप वापस प्रतियोगिता में शामिल नहीं हुए तो महाविजेता स्कोर कार्ड से आपके नाम और अर्जित अंख निरस्त कर दिये जायेंगे और अन्य प्रतियोगियों को मौका दे दिया जायेगा।


तो आज बस इतना ही, नये साल में फिर मुलाक़ात होगी 'सिने पहेली' में। लेकिन 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के अन्य स्तंभ आपके लिए पेश होते रहेंगे हर रोज़। तो बने रहिये हमारे साथ और सुलझाते रहिये अपनी ज़िंदगी की पहेलियों के साथ-साथ 'सिने पहेली' भी, अनुमति चाहूँगा, आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें, नमस्कार!

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी

Comments

सर जी
मुझे कार्टून नंबर पांच के जवाब से आपत्ति है
मेरे ख्याल से उसका जवाब "लुटेरे" नहीं होना चाहिए
"लुटेरे" बहुवचन शब्द है, और "लुटेरा" एकवचन
कार्टून में एक लुटेरा था न कि लुटेरे
इसलिए इसका सही जवाब डाकू, लुटेरा, डकैत, स्मगलर आदि ही हो सकता है !
जैसे
कार्टून नंबर सात में पतंगे दिखायी गयी थीं न की पतंग
इसलिए जवाब के रूप में 'काइट्स' ही सही माना जाएगा 'काईट' नहीं !
Sujoy Chatterjee said…
"tune daale mere dil pe Dere, o lootere o lootere o lootere". yahaan pe Juhi Chawla Sunny Deol ko Lootere keh rahi hai. ye bahuvachan hai ya ekvachan?
अब तो किसी हिंदी के विद्वान से संपर्क करना पड़ेगा :-) :-) :-)
Vijay Vyas said…
वाक्‍य की सार्थकता के अनुसार दोनों शब्‍द उपयोग किये जातें हैं। जैसे कि 'उस लुटेरे ने सारा माल लूट लिया'। दूसरी पंक्ति जैसे कि 'वह लुटेरा सारा माल लूटकर ले गया। दोनों में एकवचन है परन्‍तु प्रयोग दोनों शब्‍दों का हो गया। पहली पंक्ति में बहुवचन होता तो यह कहा जाता कि 'उन लुटेरों ने.....
हॉं, वाक्‍य के अतिरिक्‍त यदि केवल 'लुटेरा' लिखा है तो वह एकवचन माना जाता है और 'लुटेरे' बहुवचन।
आभार ।
विजय व्यास जी सहमत हूँ !
'लुटेरे' शब्द बहुवचन है लेकिन सम्बोधन मे एकवचन के रूप में भी प्रयुक्त हो सकता है !
संबोधन में इसका एकवचन और बहुवचन रूप एक सा रहेगा !
-
-
दरअसल हुआ ये कि पहेली में जब कार्टून को देखा था तो मैंने भी 'फ़िल्म - लुटेरे' का चयन किया था, फिर सोचने लगा कि कार्टून में तो 'एक लुटेरा' दिख रहा है, अगर मैं 'लुटेरे' लिख दूँ तो कहीं गलत न हो जाए :-)
Vijay Vyas said…
एक संदेह है कृपया जानकारी देवें।
प्रत्‍येक प्रश्‍न का जो उत्‍तर हैं, क्‍या वो एक 'निश्चित उत्‍तर' है यानि कि उसके अलावा दूसरा गीत नहीं हो सकता या फिर किसी भी तरह का तर्क देकर कोई गीत उत्‍तर के रूप में दिया जा सकता है। तात्‍पर्य यह है कि क्‍या किसी चित्र के लिए एक से अधिक गीत भी उत्‍तर हो सकतें हैं..? अलग अलग प्रतियोगी यदि अलग अलग तर्क से जोडकर अलग अलग उत्‍तर देतें हैं और वह तर्कसंगत है तो क्‍या उत्‍तर सही माना जाऐगा..?
आभार ।
Nayika ka 'o lutere' kahna uske prati samma prakat lrne ke liye kiya gya hai.sambodhnvaachk shbdo ka bahu vchn ke roop me prayog hindi bhasha me prayog aam taur pr kiya jata hai.kintu prashnottari ya contest me shbd ke anuroop chitrankn hona jyada behtar rhta hai. Aage jaisa bhi hmare sammaneey judge jo sahi smjhe......
PLAYBACK said…
Vijay ji,

ek se zyada uttar bhi ho sakta hai. lekin tark sahi hona chahiye.

Regards
Sujoy
Vijay Vyas said…
धन्‍यवाद सुजॉय जी।
कुछ चित्रों में दर्शाए गए कलाकारों के अनुसार एक से अधिक गीत भी बन रहे थे । कौनसा उत्‍तर सही या गलत होगा, इसी असमंजस के चलते पूछना पडा। वैसे अब अंतिम तिथि जा चुकी है और जो गीत अधिक ठीक या तर्कसंगत लगे, वे भेज दिये । आपका जवाब थोडा देरी से मिला।
आभार ।

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया