Skip to main content

'सिने पहेली' का अन्तिम सेगमेण्ट शुरू हो रहा है आज; सेगमेण्ट विनर बन कर कोई भी नया खिलाडी अब भी पहुँच सकता है महाविजेता बनने के महामुकाबले में...

सिने पहेली –91 & 92

'सिने पहेली' के सभी प्रतियोगियों औ़र पाठकों को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार। दोस्तों, हमें खेद है कि पिछले सप्ताह 'सिने पहेली' पोस्ट न हो सका। और हमें यह पता है कि आप सब बेसबरी से नवे सेगमेण्ट के विजेताओं के नाम जानने के लिए व्याकुल रहे होंगे। चलिए प्रतीक्षा की घड़ी समाप्त हुई और ये रहे सेगमेण्ट विजेताओं के नाम...


प्रथम स्थान: विजय कुमार व्यास (बीकानेर) - 100%

द्वितीय स्थान: प्रकाश गोविंद (लखनऊ) - 99%

तृतीय स्थान: पंकज मुकेश (बेंगलुरू) - 78%


आप तीनों को बहुत बहुत बधाई!!! साथ ही चन्द्रकान्त दीक्षित जी का भी बहुत बहुत धन्यवाद जिन्होने इस सेगमेण्ट के हर एपिसोड की पहेली में भाग लिया और अच्छा प्रदर्शन किया। यह रहा इस सेगमेण्ट का सम्मिलित स्कोर-कार्ड...





नौ सेगमेण्ट की समाप्ति पर महाविजेता स्कोर-कार्ड की स्थिति कुछ इस तरह की बनी है, आइए एक नज़र डाल लें...




अरे हाँ दोस्तों, मैं विजेताओं के नाम घोषित करने की ख़ुशी में मैं तो पिछली पहेली के सही जवाब बताना ही भूल बैठा। ये रहे पिछले सप्ताह के सवालों के जवाब...



पिछली पहेली का हल


1. "जय जय शिव शंकर" (आपकी कसम) गीत के अन्त में किशोर कुमार गाते हैं "बजाओ रे बजाओ इमानदारी से बजाओ, पचास हज़ार खर्चा कर दिये"। पूरा वाक्या बहुत जल्द 'एक गीत सौ कहानियाँ' में आप जान पायेंगे।

2. "इन्हीं लोगों ने ले ली ना दुपट्टा मेरा" की धुन से प्रेरित गीत है "तू है सनम मेरा प्यार ओए मेरा दिल तेरा आशिक़" (दिल तेरा आशिक़)।

3. "कभी अजनबी थे ज़मीं आसमाँ ये" (कभी अजनबी थे)



आज की पहेली : कार्टून क्वीज़


दोस्तों, आज से शुरू हो रहा है 'सिने पहेली' प्रतियोगिता का अन्तिम सेगमेण्ट। जी हाँ, हम अब इस लम्बे सफ़र के आख़िरी हिस्से में पहुँच चुके हैं। इन बचे हुए दस पहेलियों को जी भर कर जी लीजिये, क्या पता 'सिने पहेली' का यह सफ़र फिर कभी हो न हो! नये प्रतियोगियों के लिए अब भी महाविजेता बन पाना असंभव नहीं, क्योंकि अगर कोई नया खिलाड़ी इस सेगमेण्ट का विजेता बनता है और उसे 3 अंक मिलते हैं, तो हो सकता है कि वो महाविजेता बनने के महामुकाबले के लिए क्वालिफ़ाई कर ले। तो फिर देर किस बात की? जुट जाइये, जी तोड़ मेहनत कीजिये, और महाविजेता का ख़िताब अपने नाम कर लीजिये!

दोस्तों, क्योंकि पिछले सप्ताह 'सिने पहेली' पोस्ट नहीं हो पाया था, इसलिये आज की कड़ी में हम 10 के बजाय 20 अंकों के सवाल पूछ रहे हैं। अर्थात्‍, आज 'सिने पहेली' का 91 और 92 वाँ अंक एक साथ प्रस्तुत हो रहा है। ध्यान से खेलियेगा।

सवाल बड़ा आसान है। नीचे दिये हुए तस्वीर में 10 कार्टून दिखाये गये हैं और उसके ठीक नीचे 10 अभिनेताओं के चेहरे दिखाये गये हैं। आपको इन दस कार्टूनों को इन दस अभिनेताओं के साथ जोड़ना है। यानी कि कौन से कार्टून को किस अभिनेता के साथ जोड़ा जा सकता है और कैसे, यही है आज की पहेली। एक कार्टून के लिए एक अभिनेता, कोई दोहराव नहीं; यानी आपको 10 यूनिक कम्बिनेशन बनाने हैं।

हर सही जवाब के 2 अंक, यानी आज की पहेली के कुल अंक हैं 20.







अपने जवाब आप हमें cine.paheli@yahoo.com पर अगले पाँच दिनों के अन्दर (19 दिसंबर शाम 5 बजे तक) ज़रूर भेज दीजिये।


कौन बनेगा 'सिने पहेली' महाविजेता?


1. सिने पहेली प्रतियोगिता में होंगे कुल 100 एपिसोड्स। इन 100 एपिसोड्स को 10 सेगमेण्ट्स में बाँटा गया है। अर्थात्, हर सेगमेण्ट में होंगे 10 एपिसोड्स। 

2. प्रत्येक सेगमेण्ट में प्रत्येक खिलाड़ी के 10 एपिसोड्स के अंक जोड़े जायेंगे, और सर्वाधिक अंक पाने वाले तीन खिलाड़ियों को सेगमेण्ट विजेता के रूप में चुन लिया जाएगा। 

3. इन तीन विजेताओं के नाम दर्ज हो जायेंगे 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में। सेगमेण्ट में प्रथम स्थान पाने वाले को 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में 3 अंक, द्वितीय स्थान पाने वाले को 2 अंक, और तृतीय स्थान पाने वाले को 1 अंक दिया जायेगा। 

4. 10 सेगमेण्ट पूरे होने पर 'महाविजेता स्कोरकार्ड' में दर्ज खिलाड़ियों में सर्वोच्च पाँच खिलाड़ियों में होगा एक ही एपिसोड का एक महा-मुकाबला, यानी 'सिने पहेली' का फ़ाइनल मैच। इसमें पूछे जायेंगे कुछ बेहद मुश्किल सवाल, और इसी फ़ाइनल मैच के आधार पर घोषित होगा 'सिने पहेली महाविजेता' का नाम। महाविजेता को पुरस्कार स्वरूप नकद 5000 रुपये दिए जायेंगे, तथा द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वालों को दिए जायेंगे सांत्वना पुरस्कार।



तो आज बस इतना ही, अगले सप्ताह फिर मुलाक़ात होगी 'सिने पहेली' में। लेकिन 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के अन्य स्तंभ आपके लिए पेश होते रहेंगे हर रोज़। तो बने रहिये हमारे साथ और सुलझाते रहिये अपनी ज़िंदगी की पहेलियों के साथ-साथ 'सिने पहेली' भी, अनुमति चाहूँगा, नमस्कार!

प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी

Comments

Pankaj Mukesh said…
kartoonon ko aur ho sake to abhinetaon ko kramvash ankit karein 10 kartoon samajh nahin aa rate kabhi kull 9 lag rahe hai to kabhi 8.
aur haan!!! cinepanheli 90 ke prashna ke anusaar kaun se pratibhagi ke kitne ank arjit kiya ye to bataya hi nahi...aap ne poore segment ka byora diya hai. kya bas 3 logon ne hi matra bhag liya tha ?
Sujoy Chatterjee said…
Pankaj ji, yahi to paheli hai. cartoons ko numbering kar diya jaaye to bilkul aasaan ho jayega. dhyaan se dekhiye, 10 alag theme ke cartoon aapko nazar aa jayenge.

CP-90 ka sammilit score card diya gaya hai jisme saaf-saaf dikh raha hai ki 4 khiladiyon ne bhaag liya - Vijay ji, Prakash ji, aap aur Chandrakant ji.

Regards
Sujoy

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया