Skip to main content

थोडा रोमांस तो थोडा मसाला, भैया रे भैया रमैया वस्तावैया

ताज़ा  सुर ताल - रमैया वस्तावैया

प्रभु देवा के निर्देशन से सजी रमैया वस्तावैया  शीर्षक को सुनते ही श्री ४२०  के उस हिट गीत की याद बरबस ही आ जाती है जिसमें रफ़ी, लता और मुकेश के स्वरों शंकर जयकिशन की धुन का सहारा मिला था, और जिसे गीत को आज भी संगीत प्रेमी चाव से सुनते हैं. तेलुगु भाषा में इस शब्द युग्म का अर्थ होता है -रमैया, क्या तुम आओगे ? यानी किसी प्रेमी के वापस लौटने का इन्तेज़ार, शायद यहाँ भी कहानी में कोई ऐसा ही पेच हो, खैर हम बात करते हैं फिल्म के संगीत एल्बम की, संगीत है सचिन जिगर का जिनके हाल ही में प्रदर्शित गो गोवा गोन  के दो गीतों की खासी लोकप्रियता हासिल हुई है. साथ ही चर्चा करेंगें हम गायक आतिफ असलम के संगीत सफर और सचिन जिगर के नए अंदाज़ की भी. 

पाकिस्तानी फनकार आतिफ असलम एक गायक होने के साथ साथ अभिनेता भी हैं, और उनकी फ़िल्मी शुरुआत भी एक गायक अभिनेता के रूप में फिल्म बोल  से हुई (अगर आपने ये फिल्म नहीं देखी हो तो अवश्य देखिये), हालाँकि इससे पहले वो अपनी एल्बम जलपरी से मशहूर हो चुके थे. और उनकी दूसरी एल्बम दूरी  और भी हिट साबित हुई थी. पिछले साल तेरे नाल लव हो गया  में उनका गाया पिया ओ रे पिया  बेहद लोकप्रिय हुआ था और हमारी टॉप लिस्ट में शामिल भी हुआ था. बहरहाल रमैया वस्तावैया  में प्रमुख पुरुष आवाज़ आतिफ असलम की है. आतिफ और श्रेया के गाए तीन युगल गीत हैं एल्बम में.

आतिफ की आवाज़ में एक सुरीला सा जादू है जो रोमांटिक गीतों में खास तौर पर उभर कर आता है, श्रेया के साथ उनकी गायिकी और भी निखर कर आई है. जीने लगा हूँ  एल्बम का सबसे बढ़िया गीत बनकर उभरता है तो वहीँ रंग लाग्यो  का सूफी अंदाज़ भी बेहद नशीला है, बैरिया  में भी इन दो गायक कलाकारों की जुगलबंदी खूब जमती है. सचिन जिगर के रचे ये तीनों ही रोमांटिक गीत एल्बम की जान कहे जा सकते हैं. इसके आलावा एक और गीत है जो बहुत ही खूबसूरत बन पड़ा है, मोहित चौहान की आवाज़ में 'पीछा  छूटे' एक रेट्रो अंदाज़ का गीत है जो किशोर कुमार के रोमानी अंदाज़ की बरबस याद दिला देता है

गुजराती पार्श्व से आये सचिन  जिगर ने शुरुआत की टेलिविज़न से, फिर जुड़े संगीत संयोजन से. जिगर ने राजेश रोशन के सहायक के रूप में 'क्रिश' से शुरुआत की. बाद में इनसे अमित त्रिवेदी भी जुड़े, अमित और जिगर में खासी छनती थी, दरअसल अमित ने ही जिगर को सचिन से मिलवाया जिसके बाद ये जोड़ी हमेशा के लिए एक हो गयी. दरअसल इस जोड़ी को संगीत सहायक से संगीतकार बनाने में प्रीतम दा की प्रेरणा भी बहुत फायेदमंद रही. फालतू  की सफलता में उनके हिट गीत चार बज गए  का भी बड़ा योगदान था. शोर इन द सिटी  में भी सायेबो  की धुन बेहद मधुर थी. गो गोवा गोन  के दो गीत स्लोली स्लोली  और बाबा जी की बूटी  में उनका अंदाज़ सबसे निराला रहा. वास्तव में इन दो गीतों में उनकी प्रतिभा की ताजगी खुलकर सामने आई है. चलिए सचिन जिगर से तो आपका परिचय हो गया . अब वापस आते हैं रमैया......पर 

एल्बम  में रोमांटिक गीतों से इतर भी कुछ झूमते थिरकते गीतों का भी एक अलग ट्रेक है जिसे संभाला है ऊर्जा से भरे मिका सिंह ने. हिप होप पम्मी  एक जबरदस्त डांस नंबर है जो सुनते ही जुबाँ पे चढ जाता है. मोनाली ठाकुर की आवाज़ मिका के रुआब में कहीं दबी सी लगती है. लेकिन नेहा ठाकुर ने एक अन्य आइटम गीत जादू की झप्पी  में मिका को बराबर की टक्कर दी है. पर जादू की झप्पी गीत का शीर्षक जितना अच्छा है गीत उस कसौटी पर खरा नहीं उतरता. 

एल्बम के बहतरीन गीत -
जीने लगा हूँ, रंग लाग्यो, हिप होप पम्मी , पीछा  छूटे

हमारी रेटिंग - 2.7  

संगीत समीक्षा - सजीव सारथी

आवाज़ - अमित तिवारी

 

यदि आप इस समीक्षा को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
  

Comments

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया