Thursday, June 30, 2016

छल्ला कालियां मर्चां, छल्ला होया बैरी.. छल्ला से अपने दिल का दर्द बताती विरहणी को आवाज़ दी शौक़त अली ने



कहकशाँ - 13
छल्ला का एक रूप शौक़त अली की आवाज़ में  
"छल्ला कालियां मर्चां, छल्ला होया बैरी..."



’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा सलाम! दोस्तों, शेर-ओ-शायरी, नज़्मों, नगमों, ग़ज़लों, क़व्वालियों की रवायत सदियों की है। हर दौर में शायरों ने, गुलुकारों ने, क़व्वालों ने इस अदबी रवायत को बरकरार रखने की पूरी कोशिशें की हैं। और यही वजह है कि आज हमारे पास एक बेश-कीमती ख़ज़ाना है इन सुरीले फ़नकारों के फ़न का। यह वह कहकशाँ है जिसके सितारों की चमक कभी फ़ीकी नहीं पड़ती और ता-उम्र इनकी रोशनी इस दुनिया के लोगों के दिल-ओ-दिमाग़ को सुकून पहुँचाती चली आ रही है। पर वक्त की रफ़्तार के साथ बहुत से ऐसे नगीने मिट्टी-तले दब जाते हैं। बेशक़ उनका हक़ बनता है कि हम उन्हें जानें, पहचानें और हमारा भी हक़ बनता है कि हम उन नगीनों से नावाकिफ़ नहीं रहें। बस इसी फ़ायदे के लिए इस ख़ज़ाने में से हम चुन कर लाएँगे आपके लिए कुछ कीमती नगीने हर हफ़्ते और बताएँगे कुछ दिलचस्प बातें इन फ़नकारों के बारे में। तो पेश-ए-ख़िदमत है नगमों, नज़्मों, ग़ज़लों और क़व्वालियों की एक अदबी महफ़िल, कहकशाँ। आज पेश है पंजाबी लोक-संगीत ’छल्ला’ का एक रूप गायक शौक़त अली की आवाज़ में।



’कहकशाँ’ में आज एक पंजाबी नगमा, या यूँ कहिए पंजाबी लोकगीतों का एक ख़ास रूप, एक ख़ास जौनर जिसे "छल्ला" के नाम से जाना जाता है। इस "छल्ला" को कई गुलुकारों ने गाया है और अपने-अपने तरीके से गाया है। तरीकों के बदलाव में कई बार बोल भी बदले हैं, लेकिन इस "छल्ला" का असर नहीं बदला है। असर वही है, दर्द वही है, एक "विरहणी" के दिल की पीर, जो सुनने वालों के दिलों को चीर जाती है। आख़िर ये "छल्ला" होता क्या है, इसके बारे में "एक शाम मेरे नाम" के मनीष जी लिखते हैं (साभार):

"जैसा कि नाम से स्पष्ट है "छल्ला लोकगीत" के केंद्र में वो अंगूठी होती है, जो प्रेमिका को अपने प्रियतम से मिलती है। पर जब उसका प्रेमी दूर देश चला जाता है तो वो अपने दिल का हाल किसे बताए? और किस से? उसी छल्ले से जो उसके साजन की दी हुई एकमात्र निशानी है। यानि कि छल्ला लोकगीत छल्ले से कही जाने वाली एक विरहणी की आपबीती है। छल्ले को कई पंजाबी गायकों ने समय-समय पर पंजाबी फिल्मों और एलबमों में गाया है। इस तरह के जितने भी गीत हैं उनमें रेशमा, इनायत अली, गुरदास मान, रब्बी शेरगिल और शौकत अली के वर्ज़न काफी मशहूर हुए।"

तो आज हम अपनी इस महफ़िल को शौकत अली के गाए "छल्ला" से सराबोर करने वाले हैं। हम शौकत अली को सुनें, उससे पहले चलिए इनके बारे में कुछ जान लेते हैं। (सौजन्य: विकिपीडिया)

शौक़त अली ख़ान पाकिस्तान के एक जानेमाने लोकगायक हैं। इनका जन्म "मलकवल" के एक फ़नकारों के परिवार में हुआ था। शौक़त ने अपने बड़े भाई इनायत अली ख़ान की मदद से १९६० के दशक में ही अपने कॉलेज के दिनों में गाना शुरू कर दिया था। १९७० से ये ग़ज़ल और पंजाबी लोकगीत गाने लगे। १९८२ में जब नई दिल्ली में एशियन खेलों का आयोजन किया गया था, तो शौक़त अली ने वहाँ अपना लाईव परफ़ारमेंस दिया। इन्हें पाकिस्तान का सर्वोच्च सिविलियन प्रेसिडेंशियल अवार्ड भी प्राप्त है। अभी हाल ही में आए "लव आज कल" में इनके गाये "कदि ते हंस बोल वे" गाने (जो कि अब एक लोकगीत का रूप ले चुका है) की पहली दो पंक्तियाँ इस्तेमाल की गई थी। शौक़त अली साहब के कई गाने मक़बूल हुए हैं। उन गानों में "छल्ला" और "जागा" प्रमुख हैं। इनके सुपुत्र भी गाते हैं, जिनका नाम है "इमरान शौक़त"।

"छल्ला" गाना अभी हाल में ही इमरान हाशमी अभिनीत फिल्म "क्रूक" में शामिल किया गया था। वह छल्ला लोकगीत वाले सारे छ्ल्लों से काफ़ी अलग है। अगर कुछ समानता है तो बस यह है कि उसमें भी "एक दर्द" (आस्ट्रेलिया में रह रहे भारतीयों का दर्द) को प्रधानता दी गई है। उस गाने को बब्बु मान ने गाया है और संगीत दिया है प्रीतम ने। प्रीतम ने उस गाने के लिए "किसी लोक-धुन" को क्रेडिट दी है, लेकिन सच्चाई कुछ और है। कुछ समय पहले जब मैंने और सुजॉय जी ने "क्रूक" के गानों की समीक्षा की थी, तो उस पोस्ट की टिप्पणी में मैंने सच्चाई को उजागर करने के लिए यह लिखा था: वह गाना बब्बु मान ने नहीं बनाया था, बल्कि "बब्बल राय" ने बनाया था "आस्ट्रेलियन छल्ला" के नाम से... वो भी ऐं वैं हीं, अपने कमरे में बैठे हुए। और उस वीडियो को यू-ट्युब पर पोस्ट कर दिया। यू-ट्युब पर उस वीडियो को इतने हिट्स मिले कि बंदा फेमस हो गया। बाद में उसी बंदे ने यह गाना सही से रिलीज़ किया .. बस उससे यह गलती हो गई कि उसने रिलीज़ करने के लिए बब्बु मान के रिकार्ड कंपनी को चुना... और आगे क्या हुआ, यह हम सबके सामने है। कैसेट पर कहीं भी बब्बल राय का नाम नहीं है, जबकि गाना पूरा का पूरा उसी से उठाया हुआ है। यह पूरा का पूरा पैराग्राफ़ आज की महफ़िल के लिए भले ही गैर-मतलब हो, लेकिन इससे दो तथ्य तो सामने आते ही है: क) हिन्दी फिल्मों में पंजाबी संगीत और पंजाबी संगीत में छल्ला के महत्व को नकारा नहीं जा सकता। ख) हिन्दी फिल्म-संगीत में "कॉपी-पेस्ट" वाली गतिविधियाँ जल्द ख़त्म नहीं होने वाली और ना ही "चोरी-सीनाजोरी" भी थमने वाली है।

बातें बहुत हो गईं। चलिए तो अब ज़्यादा समय न गंवाते हुए, "छल्ला" की ओर अपनी महफ़िल का रूख कर देते हैं और सुनते हैं ये पंजाबी लोकगीत।  इस पंजाबी गीत का हिन्दी में अनुवाद करने का कार्य किया है श्री अश्विनी कुमार राय ने जिनका हम आभारी हैं :

जावो नी कोई मोड़ लियावो,
नि मेरे नाल गया जे लड़ के,
अल्लाह करे आ जावे जे सोणा ओए,
देवां जान कदमा विच धर के।

कोई जाये और मेरे प्रीतम को मना कर वापिस ले आये जो मेरे साथ लड़ कर चला गया है. अल्लाह करे कि जब वह लौट आये तो मैं अपनी जान उसके क़दमों में रख दूंगी. 

हो छल्ला बेरी बुवे, वतन माही दा दूरे,
जाना पहले पूरे, गल्ल सुन छल्लया
ओ छोरा, दिल नु लाया ई जोरा

दरवाजे के बाहर ही बेरी का पेड़ है और मेरे पति का देश बहुत दूर है. पहले मेरी बात सुनो, फिर वहाँ पर जाना. मैं तुम्हे क्या बताऊँ ये दिल कितना जोर दे रहा है.

हो छल्ला कालियां मर्चां, ओए मोरा पी के मरसां,
सिरे तेरे चडसां, ओ गल्ल सुन छल्लया,
ओ ढोला, ओए तैथों कादा ओला

छल्ला काली मिर्च है न ..मैं ज़हर पी कर तेरे सर होके मर जाऊंगी. अरे छल्ला सुनो...तुम से क्या पर्दा है मेरा! 

हो छल्ला नौ नौ देवे, पुत्तर मिठ्ठे मेवे,
अल्लाह सब नु देवे, छल्ला छी छी 
ओ पाया, ओए धीयाँ धन जे पराया

छल्ला ! बेटे, मीठे मेवे की तरह हैं ...अल्लाह करे सब को ये मिलें . बेटियाँ तो पराया धन ही होती हैं.

हो छल्ला पाया गहने, दुख ज़िंदडी ने सहने,
सदा मापे नहीं रहने, गल सुन सांवला ढोला,
ओए साड के कित्ता ई कोला

छल्ला गहनों में मिला है, दुःख तो इस ज़िंदगी ने ही उठाने हैं क्योंकि माँ-बाप तो सदा नहीं रहते. मेरे सांवले ढोला सुनो! तुम क्यों स्वयं को कोयले की तरह जला रहे हो! 

ओ छल्ला होया बैरी, सजन भज गए कचहरी,
रोवां शिखर दोपहरी, ओ गल सुन छलया
ओ पावे बुरा वेला ना आवे

छल्ला अब तो मेरे साजन वैरी हो कर कचहरी में चले गए हैं. मैं शिखर दोपहर में रो रही हूँ ...छल्ला तुम मेरी बात सुनो “बुरा वक्त किसी पर न आये”

हो छल्ला ज़ेरां ज़बरां, मौया मल्लियाँ कबरां 
जिंदे लेन्दे ना खबरां ओए गल सुन छलया 
वेहडे अल्लाह संग न उखेड़े,

छल्ला अब तो सब जोर ज़बरदस्ती है ...जो मर गए वो कब्र में दफन हैं और जो जीवित हैं वे कोई खबर नहीं लेते. ओ छल्ला मेरी बात सुनो इस आँगन में अल्लाह किसी का साथ न छुडाये. 

हो छल्ला हिको कमाई, ओए जिऊण बहना दे भाई ओए,
अल्लाह मुक्के जुदाई, परदेश दुहाई 
ओ गल्ल सुन छलया
ओ तारां वीरा नाल बहारां 

छल्ला अब तो एक ही कमाई है कि बहनों के भाई चिरायु हों. अल्लाह करे इस जुदाई का अंत हो मैं परदेस की दुहाई देती हूँ कि भाइयों के साथ ही अच्छा वक़्त (बहार) कटता है. 

हो छल्ला बेरी बुवे, वतन माही दा दूरे,
जाना पहले पूरे, गल्ल सुन छल्लया
ओ छोरा, दिल नु लाया ई जोरा

दरवाजे के बाहर ही बेरी का पेड़ है और मेरे पति का देश बहुत दूर है. पहले मेरी बात सुनो, फिर वहाँ पर जाना. मैं तुम्हे क्या बताऊँ ये दिल कितना जोर दे रहा है.





’कहकशाँ’ की आज की यह पेशकश आपको कैसी लगी, ज़रूर बताइएगा नीचे ’टिप्पणी’ पे जाकर। या आप हमें ई-मेल के ज़रिए भी अपनी राय बता सकते हैं। हमारा ई-मेल पता है soojoi_india@yahoo.co.in. 'कहकशाँ’ के लिए अगर आप कोई लेख लिखना चाहते हैं, तो इसी ई-मेल पते पर हम से सम्पर्क करें। आज बस इतना ही, अगले जुमे-रात को फिर हमारी और आपकी मुलाक़ात होगी इस कहकशाँ में, तब तक के लिए ख़ुदा-हाफ़िज़!


खोज और आलेख : विश्वदीपक ’तन्हा’
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र 
प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

No comments:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ