Saturday, July 4, 2015

"मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है" - क्यों दो बार रेकॉर्ड हुआ था यह गीत?


एक गीत सौ कहानियाँ - 62

 

मेरी आँखों से कोई नींद लिये  जाता है...’ 




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 62-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म ’पूजा के फूल’ के सदाबहार गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिये जाता है..." के बारे में जिसे लता मंगेशकर ने गाया था और राजेन्द्र कृष्ण ने लिखा था।

14 जुलाई 1975 को संगीतकार मदन मोहन इस दुनिया से चले गए थे। उनके गए 40 वर्ष बीत गए हैं, पर जब भी जुलाई का यह भीगा महीना आता है, तो उनकी यादें भी झम झम बरसने लगती हैं। मदन मोहन, लता मंगेशकर और सितार वादक उस्ताद रईस ख़ान की तिकड़ी के सुरीले संगम से बनी ग़ज़ल "रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएँ तो निभाएँ कैसे" की विस्तृत चर्चा हमने इसी स्तंभ में की है। आज इसी तिकड़ी का एक और अनमोल गीत का ज़िक्र कर रहे हैं। गीत का उल्लेख करने से पहले आपको याद दिलाना चाहूँगा कि "रस्म-ए-उल्फ़त..." के अंक में मदन मोहन और रईस ख़ान का ज़िक्र करते हुए हमने यह जानकारी दी थी कि दोनों के बीच में मनमुटाव हो जाने के बाद दोनों ने न केवल एक दूसरे के साथ काम करना बन्द कर दिया, बल्कि मदन मोहन ने फिर कभी अपने गीतों में सितार का प्रयोग ही नहीं किया। हाल ही में मदन मोहन की पुत्री संगीता जी ने मुझे बताया कि बाद में मदन मोहन जी ने उस्ताद शमीम अहमद से सितार सीखा और अपनी आख़िर की कुछ फ़िल्मों में अहमद साहब से बजाया। आज आपको बताएँगे कि ऐसा क्या हुआ था कि उस्ताद रईस ख़ान के साथ कि उनकी बरसों की जोड़ी, बरसों की दोस्ती टूट गई! 

हुआ यूं कि एक मोड़ पर मदन मोहन को यह लगने लगा कि उनकी महफ़िलों में रईस ख़ान का सिर्फ़ दोस्ती की ख़ातिर सितार बजाना ठीक नहीं है। रईस ख़ान को वो इस तरह बुला कर, सितार बजवा कर दोस्ती का ग़लत फ़ायदा उठा रहे हैं। इसलिए उन्होंने रईस ख़ान को उनका वाजिब मेहनताना देने की सोची। मगर परेशानी यह थी कि अपने दोस्त से पैसों की बात कैसे करे? सो उन्होंने 1973 की एक महफ़िल के बाद अपने मैनेजर से कहा कि वो ख़ान साहब से उनकी फ़ीस के बारे में पूछेंगे। मैनेजर ने रईस ख़ान से पूछा। रईस ख़ान ने उस वक़्त तो कुछ नहीं कहा, मगर उन्हें यह बात बहुत चुभ गई और उन्होंने इसे अपना अपमान मान लिया। अपने दोस्त मदन मोहन से वो इस तरह की उम्मीद नहीं कर रहे थे। रईस ख़ान जितने बेहतरीन कलाकार थे उतने ही तुनकमिज़ाज भी थे। वो चुपचाप बैठने वाले नहीं थे। बात चुभ गई थी। उन्होंने कुछ दिन बाद मदन मोहन को फ़ोन किया और कहा कि उनके एक दोस्त के घर में एक शादी है और शादी के जलसे में गाने के लिए आपको बुलाया है। "तो मदन भाई, आप कितने पैसे लेंगे?" अब चौंकने की बारी मदन मोहन की थी। बहुत अजीब लगा मदन मोहन को कि रईस ख़ान ने उन जैसे कलाकार को शादी में गाने के लिए कह कर उनकी तौहीन कर रहा है। यह तौहीन अब मदन मोहन बर्दाश्त नहीं कर सके। बस यहीं से दोनो के मन में ऐसी खटास पड़ी कि इन दोनों अज़ीम फ़नकारों का साथ सदा के लिए ख़त्म हो गया।

और अब आज के गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिये जाता है..." की कहानी। गाना रेकॉर्ड हो चुका था और मदन मोहन इस गाने से बहुत ख़ुश भी थे। फिर ऐसा क्या हुआ कि उन्होंने इस गाने को दोबारा रेकॉर्ड करने का फ़ैसला ले लिया? इस गीत में छोटे-छोटे इन्टरल्यूड्स रईस ख़ान ने बजाए। पर मुख्य रूप से पंडित शिव कुमार शर्मा के सन्तूर को बहुत प्रॉमिनेन्टली इस्तेमाल किया गया। रेकॉर्डिंग् हो गई, सबकुछ सही हो गया। अब हुआ यूं कि एक दिन मदन मोहन ने यह गाना रईस ख़ान को दोबारा सुनवाया। गाने का टेप बज रहा था, तभी रईस ख़ान ने अपना सितार उठाया, और गाने के साथ सितार छेड़ने लगे। इस बार नए नए इन्टरल्यूड्स बजने लगे। नई सुर, नई तरकीबें। रईस ख़ान के सितार से इस तरह के सुर सुन कर मदन मोहन का दिल हो गया बाग़-बाग़। उन्होंने फ़ौरन AVM Productions को फ़ोन लगाया और कहा कि वो इस गाने को दोबारा रेकॉर्ड करना चाहते हैं। मदन मोहन रईस ख़ान के बजाए सितार के पीसेस से इतना मुतासिर हो गए कि जिस गाने को रेकॉर्ड करके मुतमइन थे, उस गाने को एक बार फिर से रेकॉर्ड करने की ठान ली। लीजिए, अब आप वही गीत सुनिए।



फिल्म पूजा के फूल : 'मेरी आँखों से कोई नींद लिये जाता है...' : लता मंगेशकर : मदन मोहन : राजेन्द्र कृष्ण




आभार: सुहाना सफ़र विथ अन्नु कपूर

अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 





No comments:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ