Tuesday, May 6, 2008

हरिहर झा का काव्य-पाठ (Kavya-Paath of Harihar Jha)

होली के अवसर पर कैनबरा रेडियो (कैनबरा, ऑस्ट्रेलिया) पर हिन्द-युग्म के कवि हरिहर झा का काव्य-पाठ प्रसारित हुआ, जिसकी रिकॉर्डिंग हमें प्राप्त हो गई है। आप भी सुनें और बतायें कैसा लगा?

नीचे ले प्लेयर से सुनें.

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)



यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो यहाँ से डाऊनलोड कर लें

Kavya-path of Harihar Jha on Radio Canberra

5 comments:

Anonymous said...

टोटल चुतियापा है, और कुछ भी नहीं. समय खराब हुआ हमरा और इस रेडियो की साख गिरी हमारी नजर में.

-अविनाश दास रिपोर्टिंग-मोहल्ला से.

Harihar said...

और anonymous जी, इसके बाद भी आपने
टीप्पणी के लिये अलग से समय निकाला
इसके लिये धन्यवाद!

Harihar said...

Anonymous जी ! आप चाहें तो पहले दोनो
कवितायें ठीक से पढ़ लीजिये
मदिरा ढ़लने पर
http://www.hindinest.com/kavita/2005/101.htm

व्यंग्य कविता "अंधेरा"
http://hariharjhahindi.wordpress.com/2007/02/14/%e0%a4%85%e0%a4%82%e0%a4%a7%e0%a5%87%e0%a4%b0%e0%a4%be/


पर आपकी भाषा हमें कुछ और ही बता रही है।

अवनीश एस तिवारी said...

बहुत अच्छा हरिहर जी |

क्या होगा ? क्या होगा ?

बहुत अच्छा लगा |
Anonymous जी, कविता आदि आप के लिए नही है |

किसी दूसरे जगह जाए | भगवान् आपका भला करे |


अवनीश तिवारी

pooja said...

हरिहर जी ,
हमें तो बहुत भाया आपकी आवाज़ में आपकी कविताएँ सुनना , मदिरा ढलने पर वाली कविता विशेष रूप से अच्छी लगी , बधाई

^^पूजा अनिल

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ