Skip to main content

हिन्द-युग्म की आवाज़ें सुनना हुआ आसान

हिन्द-युग्म के पाठकों की यह शिकायत थी कि माईपॉडकास्ट डॉट कॉम का सरवर बहुत स्लो है, इसलिए सभी आसानी से नहीं सुन पाते हैं। कई श्रोताओं को वहाँ कमेंट करने में भी परेशानी आती थी। हिन्द-युग्म के पॉडकास्ट का ब्लॉग भी सभी एग्रीगेटर पर १२ घण्टे के पीछे के समय पर दिखता था, इसलिए भी नये पाठकों को परेशानी होती थी। इसलिए यह निर्णय लिया गया कि नया ब्लॉग बनाया जाय। हम आडियो को भलें ही कहीं और अपलोड करें लेकिन सुनने की सुविधा और सूचना अपने श्रोताओं को इसी मंच के ज़रिये दें तो बेहतर होगा।

इसलिए यह प्रयास किया जा रहा है। इसके नियंत्रण की जिम्मेदारी हमारे पुराने आवाज़ विकास कुमार, सजीव सारथी, श्रीकांत मिश्र 'कांत' और शोभा महेन्द्रू सम्हालेंगे।

इस ब्लॉग पर हिन्द-युग्म के कविताएँ, कहानियाँ, बाल रचनाएँ, संगीतबद्ध गीत आदि प्रसारित होंगे।

यदि आप भी इस प्रयास से जुड़ना चाहते हैं तो कृपया यहाँ देखें।

Comments

Hardik Badhai, Hindi Yugam Par Yeh Dek Mujeh Aacha Laga.
Dhanyavad
DrPCVerma said…
Hind-yugm ki awajen sun kar mujhe bahut hi achha laga Holi ke subh avsar par aap sabhi ko meri shubhkamnayen.
hindi yugam ekdam fit khas kar old is gold please some songs johrabaee ,malikhapukhraj,paharisanyal.k,c day exc.
SETU NGO said…
Hi Sajiv
heard you yesterday on FM . Heartiest Congratulations .
we are also trying to promote Hindi Computer Typing . Will like to know more about your work .
you are doing a great job , keep it up.

Poonam Tyagi
setu.ngo@gmail.com

www.setuindia.in
गुड्डोदादी said…
हिंदी युग्म की आवाजें सुनना हुआ आसान
आसान तो पहले भी था
अच्छा प्रयास है बधाई
दिन में कई बार पुराने गीतों को तलाश करती हूँ
धन्यवाद
गुड्डोदादी चिकागो अमेरिका

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया