Tuesday, December 18, 2018

ऑडियो: रंग (मनु बेतख़ल्लुस) - पूजा अनिल के स्वर में

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में वीरेंद्र भाटिया की लघुकथा "गाय" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है मनु बेतख़ल्लुस की लघुकथा रंग, जिसे स्वर दिया है पूजा अनिल ने।

प्रस्तुत लघुकथा "रंग" का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 16 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं आदि को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

है फ़साना-ऐ-उम्र ये, हम पर पीरी आई शबाब से पहले।
~ मनु बेतख़ल्लुस

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


"मनु यार, कम से कम हाथ तो धो ले!"
(मनु बेतख़ल्लुस की लघुकथा 'रंग' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
रंग MP3

#30th Story, Rang; Manu Betakhallus; Hindi Audio Book/2018/30. Voice: Pooja Anil

8 comments:

sangita said...

Awesome ,

Sunita said...

Beautiful story with beautiful voice pooja amazing.

Unknown said...

Beautiful superb such a lovely story ,how touchy, I really respect u, my self thinking how can some one do that,really appreciable and u deserving great award for this salute to

manu said...

शुक्रिया आप सभी का

Unknown said...

जबतक में समझता,रंग बिखर चुके थे।कैसे समेटू इन रंगों को,एक कैनवस में?कैसे

Riddhima said...

जबतक में समझता,रंग बिखर चुके थे।कैसे समेटू इन रंगों को,एक कैनवस में?कैसे

gunshekhar said...

Very nice voice as well as story.Congratulations!

Pooja Anil said...

Thank you so much everyone for appreciation.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ