Showing posts with label raja mehandi ali khan. Show all posts
Showing posts with label raja mehandi ali khan. Show all posts

Sunday, June 12, 2016

राग पीलू : SWARGOSHTHI – 274 : RAG PILU




स्वरगोष्ठी – 274 में आज

मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 7 : मदन मोहन और लता का सुरीला संगम

‘मैंने रंग ली आज चुनरिया, सजना तोरे रंग में...’




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हमारी श्रृंखला – ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ जारी है। श्रृंखला की सातवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र अपने साथी सुजॉय चटर्जी के साथ आप सभी संगीत-प्रेमियों का एक बार फिर हार्दिक स्वागत करता हूँ। यह श्रृंखला आप तक पहुँचाने के लिए हमने फिल्म संगीत के सुपरिचित इतिहासकार और ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के स्तम्भकार सुजॉय चटर्जी का सहयोग लिया है। हमारी यह श्रृंखला फिल्म जगत के चर्चित संगीतकार मदन मोहन के राग आधारित गीतों पर केन्द्रित है। श्रृंखला के प्रत्येक अंक में हम मदन मोहन के स्वरबद्ध किसी राग आधारित गीत की चर्चा और फिर उस राग की उदाहरण सहित जानकारी दे रहे हैं। श्रृंखला की सातवीं कड़ी में आज हम आपको राग पीलू के स्वरों में पिरोये गए 1966 में प्रदर्शित फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ से राग पीलू पर आधारित एक गीत का रसास्वादन कराएँगे। इस राग आधारित गीत को स्वर दिया है, मदन मोहन की मुहबोली बहन, सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका लता मंगेशकर ने। संगीतकार मदन मोहन द्वारा राग पीलू के स्वर में निबद्ध फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ के इस गीत के साथ ही राग का यथार्थ स्वरूप उपस्थित करने के लिए हम विश्वविख्यात सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खाँ का सरोद पर बजाया राग पीलू की एक रसपूर्ण रचना भी प्रस्तुत कर रहे हैं। 


दन मोहन द्वारा स्वरबद्ध राग आधारित फ़िल्मी गीतों की इस श्रृंखला की आज की कड़ी में फिर एक बार लता मंगेशकर और मदन मोहन का सुरीला संगम प्रस्तुत है। अपने मदन भ‍इया को याद करती हुईं लता जी कहती हैं - "ज़रा यह सुनिए कि उनको संगीत की कितनी बड़ी देन थी। आमद का यह हाल था कि बस हारमोनियम लेकर बैठते और धुन चुटकियों में बन जाती। कभी मोटर चलाते हुए, कभी लिफ़्ट पर उपर या नीचे आते हुए भी उनकी धुन तैयार हो जाती। मदन भ‍इया एक दो साल मिलिटरी में थे, और शायद इसी वजह से उनके बरताव में एक उपरी सख़्ती हुआ करती थी। कई बार बड़े रफ़ से लगते थे। बातें खरी खरी मुँह पर सुना देते थे। प्यार भी उनका यूँ होता था कि बस हाथ उठाया और धम से मार दिया। मगर यह सख़्ती सिर्फ़ उपर की थी, अन्दर से तो वे बड़े भावुक थे और बड़े नर्म थे। यह नरमी, यह भावुकता कभी कभी अपनी झलक दिखला जाती थी दिल को छू लेने वाली धुनों में ढल कर। बड़े खुद्दार थे मदन भ‍इया। अपने आदर्शों को वो न किसी के सामने झुकने देते थे, न दबने देते थे। ’वो कौन थी’ के गीतों की सफलता पर मुमकिन था कि उन्हें एक बहुत बड़ा अवार्ड मिले। कुछ लोग उनके पास आए और उस अवार्ड के लिए उनसे सौदा करना चाहा। मदन भ‍इया ने साफ़ इनकार कर दिया। वह अवार्ड मदन भ‍इया को नहीं मिला और ना मिलने पर जब मैंने अफ़सोस ज़ाहिर किया तो वो कहने लगे कि मेरे लिए क्या यह कम अवार्ड है कि तुम्हे अफ़सोस हुआ!" आज हम लता और मदन मोहन जोड़ी की जिस रचना को प्रस्तुत कर रहे हैं उसे हमने चुना है 1966 की फ़िल्म ’दुल्हन एक रात की’ से - "मैंने रंग ली आज चुनरिया सजना तोरे रंग में..." जिसे लिखा था राजा मेंहदी अली ख़ाँ ने और फ़िल्माया गया था अभिनेत्री नूतन पर। गीत आधारित है राग पीलू पर और ताल है कहरवा।

आप सभी ने यह महसूस किया होगा कि मदन मोहन की अधिकतर रचनाओं में सितार के बेहद सुरीले टुकड़े सुनाई देते हैं, गीत के शुरुआत में या अन्तराल संगीत के दौरान। आज के प्रस्तुत गीत में भी सितार कई जगहों पर सुनाई देता है। ये तमाम सितार के टुकड़े इतने सुरीले क्यों न हो जब इन्हें बजाने वाले हों उस्ताद रईस ख़ाँ जैसे सितार वादक। मदन जी के गीतों में ख़ाँ साहब का सितार पहली बार सुनाई दिया था 1964 की फ़िल्म 'पूजा के फूल' के गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है" में। ख़ाँ साहब उस्ताद विलायत ख़ाँ साहब के भतीजे थे। विलायत ख़ाँ साहब मदन जी के दोस्त हुआ करते थे। इस तरह से रईस ख़ाँ मदन मोहन के सम्पर्क में आये और मदन जी के गीतों को चार चाँद लगाया। "नैनों में बदरा छाए...", "रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएँ..." जैसे कई गीतों में सितार बेहद ख़ूबसूरत बन पड़ा है। मदन मोहन सितार से इस तरह जज़्बाती रूप से जुड़े थे और ख़ास तौर से रईस ख़ाँ के साथ उनकी ट्यूनिंग कुछ ऐसी जमी थी कि 1974 में जब किसी ग़लतफ़हमी की वजह से एक दूसरे से दोनो अलग हो गये तब मदन मोहन ने अपने गीतों में सितार का प्रयोग ही बन्द कर दिया। वो इतने ही हताश हुए थे। इस वजह से मदन मोहन के अन्तिम दो वर्षों, अर्थात 1974 और 1975 में 'मौसम', 'साहिब बहादुर' आदि फ़िल्मों के गीतों में हमें सितार सुनने को नहीं मिले। यह भी उल्लेखनीय तथ्य है कि हाल ही में मदन मोहन की पुत्री संगीता जी ने मुझे स्वयं बताया कि बाद में मदन मोहन जी ने उस्ताद शमीम अहमद से ख़ुद सितार सीखा और अपनी आख़िर की कुछ फ़िल्मों में शमीम अहमद साहब से बजवाया। अब कुछ बातें इस गीत के गीतकार राजा मेंहदी अली ख़ाँ साहब की। राजा साहब और मदन जी की जोड़ी के बारे में मदन जी के छोटे पुत्र समीर कोहली बताते हैं, "राजा साहब भी पिताजी के बहुत अच्छे दोस्त थे। ’आँखें’ (1950, ’अदा’ (1951) और ’मदहोश’ (1951) के बाद एक लम्बे अरसे के बाद दोनों साथ में ’अनपढ़’ (1962) में काम कर रहे थे। ’अनपढ़’ से पहले राजा साहब ज़्यादातर हास्य गीत लिखा करते थे, पर ’अनपढ़’ के गीतों के बाद वो गम्भीर शायरी की वजह से मशहूर हो गए। बहुत जल्दी उनका निधन हो गया ’जब याद किसी की आती है’ (1966) का शीर्षक गीत लिखने के बाद ही। मदन जी का राजा साहब के लिए दिल में क्या जगह थी इसका पता चलता है एक घटना से। पिताजी समय के बड़े पाबन्द हुआ करते थे, फिर भी एक बार एक पत्रकार-सम्मेलन (press conference) में वो देर से पहुँचे। इस बात पर एक पत्रकार ने उनसे इस देरी का कारण पूछा तो उनका जवाब था कि मैं घर से समय पर ही चला था। रास्ते में मुझे राजा साहब की कब्र दिख गई और मैं अपने आप को रोक नहीं सका। मैं वहाँ दो मिनट के लिए रुका, उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी। इस वजह से मुझे देर हो गई, इसके लिए आप सब मुझे क्षमा करें।" अब आप राजा मेंहदी अली खाँ का लिखा, मदन मोहन का संगीतबद्ध किया और लता मंगेशकर का गाया, फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ का वही गीत सुनिए।


राग पीलू : ‘मैंने रंग ली आज चुनरिया, सजना तेरे रंग में...’ : लता मंगेशकर : फिल्म – दुल्हन एक रात की


राग पीलू का सम्बन्ध काफी थाट से जोड़ा जाता है। आमतौर पर इस राग के आरोह में ऋषभ और धैवत स्वर वर्जित किया जाता है। अवरोह में सभी सात स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इसलिए राग की जाति औड़व-सम्पूर्ण होती है, अर्थात आरोह में पाँच और अवरोह में सात स्वर प्रयोग होते हैं। इस राग में ऋषभ, गान्धार, धैवत और निषाद स्वर के कोमल और शुद्ध, दोनों रूप का प्रयोग किया जाता है। राग का वादी स्वर गान्धार और संवादी स्वर निषाद होता है। इस राग के गायन-वादन का समय दिन का तीसरा प्रहर माना गया है। इस राग के प्रयोग करते समय प्रायः अन्य कई रागों की छाया दिखाई देती है, इसीलिए राग पीलू को संकीर्ण जाति का राग कहा जाता है। यह चंचल प्रकृति का और श्रृंगार रस की सृष्टि करने वाला राग है। इस राग में अधिकतर ठुमरी, दादरा, टप्पा, गीत, भजन आदि का गायन बेहद लोकप्रिय है। फिल्मी गीतों में भी इस राग का प्रयोग अधिक किया गया है। इस राग में ध्रुपद और विलम्बित खयाल का प्रचलन नहीं है। राग पीलू पूर्वांग प्रधान राग है। इसमे पूर्वांग के स्वर इतने प्रमुख रहते हैं कि प्रायः गायक या वादक मध्यम स्वर को अपना षडज मान कर गाते-बजाते हैं, जिससे मंद्र सप्तक के स्वरों में सरलता से विचरण किया जा सके। राग पीलू के गायन-वादन का समय यद्यपि दिन का तीसरा प्रहर निर्धारित किया गया है, किन्तु परम्परागत रूप से यह सार्वकालिक राग हो गया है। ठुमरी अंग का राग होने से किसी भी गायन-वादन की सभा के अन्त में पीलू की ठुमरी, दादरा या सुगम संगीत से कार्यक्रम के समापन की परम्परा बन गई है। अब आप विश्वविख्यात सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खाँ से सरोद पर राग पीलू की एक रसपूर्ण रचना सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति प्रदान कीजिए।


राग पीलू : सरोद पर दादरा ताल की रचना : उस्ताद अमजद अली खाँ




संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 274वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक बार पुनः संगीतकार मदन मोहन के संगीत से सजे एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 280वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत के इस अंश को सुन का आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक को पहचान सकते हैं? हमे गायक का नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 18 जून, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 276वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 272 की संगीत पहेली में हमने आपको मदन मोहन के संगीत निर्देशन में बनी और 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘आँखें’ से एक राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – पहाड़ी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है – ताल – कहरवा तथा तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायिका – मीना कपूर

इस बार की पहेली में चार प्रतिभागियों ने सही उत्तर देकर विजेता बनने का गौरव प्राप्त किया है। सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी हैं - चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी और पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया। इन सभी विजेताओं ने दो-दो अंक अर्जित किये है। सभी विजेता प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में जारी हमारी श्रृंखला ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ की आज की कड़ी में आपने राग पीलू का परिचय प्राप्त किया। इस श्रृंखला में हम फिल्म संगीतकार मदन मोहन के कुछ राग आधारित गीतों को चुन कर आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पाठक और श्रोता नियमित रूप से हमें पत्र लिखते है। हम उनके सुझाव के अनुसार ही आगामी विषय निर्धारित करते है। राग पीलू के बारे में कोटा, राजस्थान के तुलसी राम वर्मा ने हमसे अनुरोध किया था। आज के अंक में हमने श्री वर्मा के अनुरोध पर आपको राग पीलू की जानकारी दी। ‘स्वरगोष्ठी’ पर आप भी अपने सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते है। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 8 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


शोध व आलेख : सुजॉय चटर्जी 
 प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  



 

Sunday, May 15, 2016

राग दरबारी कान्हड़ा : SWARGOSHTHI – 270 : RAG DARABARI KANHDA



स्वरगोष्ठी – 270 में आज


मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 3 : रफी और मदन की खूबसूरत ग़ज़ल


‘मैं निगाहें तेरे चेहरे से हटाऊँ कैसे...’




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला – ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ की तीसरी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र अपने साथी सुजॉय चटर्जी के साथ आप सभी संगीत-प्रेमियों का हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। यह श्रृंखला आप तक पहुँचाने के लिए हमने फिल्म संगीत के सुपरिचित इतिहासकार और ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के स्तम्भकार सुजॉय चटर्जी का सहयोग लिया है। हमारी यह श्रृंखला फिल्म जगत के चर्चित संगीतकार मदन मोहन के राग आधारित गीतों पर केन्द्रित है। श्रृंखला के प्रत्येक अंक में हम मदन मोहन के स्वरबद्ध किसी राग आधारित गीत की चर्चा और फिर उस राग की उदाहरण सहित जानकारी दे रहे हैं। श्रृंखला की तीसरी कड़ी में आज हमने राग दरबारी कान्हड़ा के स्वरों पर आधारित मदन मोहन का स्वरबद्ध किया, फिल्म ‘आपकी परछाइयाँ’ का एक गीत चुना है। इस गीत को पार्श्वगायक मोहम्मद रफी ने स्वर दिया है। मदन मोहन के स्वरबद्ध अधिकतर ग़ज़लों को रफी साहब ने अपनी आकर्षक आवाज़ में ढाला है। राग दरबारी पर आधारित इस ग़ज़ल के साथ ही राग का स्वरूप उपस्थित करने के लिए हम सुप्रसिद्ध बाँसुरी वादक रोनू मजुमदार की बाँसुरी पर बजाया राग दरबारी कान्हड़ा की एक रचना भी प्रस्तुत कर रहे हैं।


संगीतकार मदन मोहन को फ़िल्म-संगीत जगत में ग़ज़लों को आम जनता में लोकप्रिय बनाने के लिए श्रेय दिया जाता है। ग़ज़लों को मूल ग़ज़ल गायकी के रूप में न प्रस्तुत कर, उनके फ़िल्मी संस्करण को वह इस तरह से बनाते थे कि हर आम और ख़ास, दोनों में लोकप्रिय हो जाए। पिछले दो अंकों में हमने दो गीत पेश किए। आज के अंक में एक राग आधारित ग़ज़ल पेश-ए-ख़िदमत है। रफ़ी साहब की आवाज़ में राग दरबारी कान्हड़ा पर आधारित, राजा मेहन्दी अली ख़ाँ की इस ग़ज़ल को हमने फ़िल्म ’आपकी परछाइयाँ’ से चुना है। ग़ज़ल के बोल हैं- "मैं निगाहें तेरे चेहरे से हटाऊँ कैसे, लुट गए होश तो फिर होश में आऊँ कैसे..."। ग़ज़लों की जब बात आती है तब रफ़ी साहब और मदन जी की जोड़ी का कोई सानी नहीं। "आपके पहलू में आकर रो दिये, दास्तान-ए-ग़म सुना कर रो दिये..." (मेरा साया) और "तुम्हारी ज़ुल्फ़ के साये में शाम कर लूँगा, सफ़र इस उम्र का पल में तमाम कर लूँगा..." (नौनिहाल) की तरह प्रस्तुत ग़ज़ल भी रफ़ी-मदन मोहन की एक लाजवाब कृति है। जब ग़ज़लों के राग आधारित होने की बात आती है तो अधिकतर ग़ज़लें भैरवी या पहाड़ी की छाया लिये होती हैं। राग दरबारी पर भी वैसे कई ग़ज़लें आधारित रही हैं, जैसे कि ग़ुलाम अली की मशहूर ग़ज़ल "हंगामा है क्यों बरपा थोड़ी सी जो पी ली है...", या फिर मेंहदी हसन की "कु ब कु फैल गई बात शनाशाई की...", और फिर जगजीत सिंह की तो कई ग़ज़लें हैं इस राग पर जैसे कि "देने वाले मुझे मौजों की रवानी दे दे" और "सुनते हैं कि मिल जाती है"। जगजीत सिंह की ही आवाज़ में एक भक्ति रचना "जय राधा माधव जय कुंजबिहारी..." भी दरबारी पर ही आधारित है। यह राग मदन मोहन का भी पसन्दीदा राग रहा है। इसी फ़िल्म ’आपकी परछाइयाँ’ का एक अन्य गीत "अगर मुझसे मोहब्बत है तो अपने सब ग़म मुझे दे दो..." भी इसी राग को आधार बना कर उन्होंने कम्पोज़ किया था। फ़िल्म ’अनपढ़’ के मशहूर सदाबहार गीत "आपकी नज़रों ने समझा प्यार के क़ाबिल मुझे..." में भी दरबारी कान्हड़ा की झलक मिलती है। अगर रफ़ी साहब के गाये मदन मोहन के नगमों की बात करें तो कम से कम दो और गीत ऐसे हैं जो इस राग पर आधारित हैं। ये हैं "बस्ती बस्ती पर्वत पर्वत गाता जाए बंजारा..." (रेल्वे प्लैटफ़ॉर्म) और "मैं तेरे दर पे आया हूँ, कुछ करके जाऊँगा..." (लैला मजनूँ)।

आज जब मदन मोहन के ग़ज़लों की बात चल ही पड़ी है तो क्यों न दो ऐसे ग़ज़ल गायकों के उद्‍गारों पर नज़र डाल ली जाए जो इन्होंने मदन मोहन की शान में कहे थे। ये दो ग़ज़ल के सुविख्यात कलाकार हैं, बेगम अख़्तर और जगजीत सिंह। बेगम अख़्तर, मदन जी को याद करती हुईं कहती हैं, "मदन मोहन जी को मैं उस वक़्त से जानती हूँ, जब कि ये लखनऊ रेडियो स्टेशन पर थे। उस ज़माने में मदन जी को मौसिक़ी से धुन की हद तक लगाव था। जब देखो हारमोनियम बजा रहे हैं, तानपुरा लिए बैठे हैं, या फिर गा रहे हैं। इसके बाद ये बम्बई आए और म्युज़िक डायरेक्टर बन गए। उनकी एक फ़िल्म ’भाई भाई’ रिलीज़ हुई थी। उन्हीं दिनों मैं दिल्ली आई हुई थी। मेरे साथ मुजद्दत नियाज़ी और एक आनन्द, बहुत बड़े फ़नकार, और बहुत से लोग जमा थे, और मैंने पहली बार उनकी फ़िल्म का यह गाना, "क़दर जाने ना" रेडियो पर सुना तो मत पूछिये कि क्या हालत हुई! मैंने उसी वक़्त मदन जी को बम्बई ट्रंक-कॉल किया और फ़ोन के उपर पूरे 18 मिनट, या शायद 22 मिनट तक यह गाना सुनती रही, हम सब सुनते रहे बारी बारी से उनकी ज़बान में।" जगजीत सिंह का मदन मोहन के बारे में कहना है, "मदन मोहन एक ऐसे कम्पोज़र हैं जिनकी कम्पोज़िशन इतने प्योर हैं, उनके गीत जितने दिल को छूते हैं, मेरे ख़याल से इण्डियन हिस्ट्री में इतनी दिल को छूने वाली कम्पोज़िशन किसी ने नहीं बनाई। मदन मोहन जी के बारे में अक्सर लोग इस तरह से कहते हैं कि मदन जी ग़ज़ल के किंग हैं, मगर मदन जी is a very modern composer और हर तरह के उन्होंने गाने बनाए हैं - modern और light romantic, और ग़ज़ल ऐसा है कि वो ग़ज़ल इतना दिल से बनाते थे कि अधिक से अधिक लोगों के दिलों को छू जाती थी, depth बहुत है उनकी ग़ज़लों में।" जहाँ तक गहराई की बात है लता जी ने भी एक साक्षात्कार में यह बताया था कि मदन जी गीतकार को गाना वापस लौटा देते थे अगर शब्दों में गहराई ना हो तो। आज की प्रस्तुत ग़ज़ल गहराई, मौसिक़ी और गायकी, तीनों के लिहाज़ से बेहतरीन है, आइए सुनते हैं, फिल्म ‘आपकी परछाइयाँ’ की यह ग़ज़ल।


राग दरबारी कान्हड़ा : ‘मैं निगाहें तेरे चेहरे से हटाऊँ कैसे...’ : मोहम्मद रफी : फिल्म - आपकी परछाइयाँ 




अभी आपने मदन मोहन का राग दरबारी कान्हड़ा को आधार बना कर ग़ज़ल के रूप में स्वरबद्ध किया यह गीत सुना। 'दरबारी कान्हड़ा' राग का यह नामकरण अकबर के काल से प्रचलित हुआ। मध्यकालीन ग्रन्थों में राग का नाम दरबारी कान्हड़ा नहीं मिलता। इसके स्थान पर कर्नाट या शुद्ध कर्नाट नाम से यह राग प्रचलित था। तानसेन दरबार में अकबर के सम्मुख राग कर्नाट गाते थे, जो बादशाह और अन्य गुणी संगीत-प्रेमियों को खूब पसन्द आता था। राज दरबार का पसंदीदा राग होने से धीरे-धीरे राग का नाम दरबारी कान्हड़ा हो गया। प्राचीन नाम ‘कर्नाट’ परिवर्तित होकर ‘कान्हड़ा’ प्रचलित हो गया। वर्तमान में राग दरबारी कान्हड़ा आसावरी थाट का राग माना जाता है। इस राग में गान्धार, धैवत और निषाद स्वर सदा कोमल प्रयोग किया जाता है। शेष स्वर शुद्ध लगते हैं। राग की जाति वक्र सम्पूर्ण होती है। अर्थात इस राग में सभी सात स्वर प्रयोग होते हैं। राग का वादी स्वर ऋषभ और संवादी स्वर पंचम होता है। मध्यरात्रि के समय यह राग अधिक प्रभावी लगता है। गान्धार स्वर आरोह और अवरोह दोनों में तथा धैवत स्वर केवल अवरोह में वक्र प्रयोग किया जाता है। कुछ विद्वान अवरोह में धैवत को वर्जित करते हैं। तब राग की जाति सम्पूर्ण-षाडव हो जाती है। राग दरबारी का कोमल गान्धार अन्य सभी रागों के कोमल गान्धार से भिन्न होता है। राग का कोमल गान्धार स्वर अति कोमल होता है और आन्दोलित भी होता है। इस राग का चलन अधिकतर मन्द्र और मध्य सप्तक में किया जाता है। यह आलाप प्रधान राग है। इसमें विलम्बित आलाप और विलम्बित खयाल अत्यन्त प्रभावी लगते हैं। राग के यथार्थ स्वरूप को समझने के लिए अब हम आपको इस राग का संक्षिप्त आलाप और मध्य लय की एक रचना बाँसुरी पर प्रस्तुत कर रहे हैं। वादक हैं, सुविख्यात बाँसुरी वादक पण्डित रोनू मजुमदार। मन्द्र सप्तक में स्वर का प्रयोग, विलम्बित लय की रचना, पखावज की संगति और स्वर का आन्दोलन इस प्रस्तुति की प्रमुख विशेषता है। आप राग दरबारी कान्हड़ा का रसास्वादन कीजिए और मुंझे आज के इस अंक को यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए।


राग दरबारी कान्हड़ा : आलाप और मध्य लय की रचना : पण्डित रोनू मजुमदार






संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 270वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक बार पुनः संगीतकार मदन मोहन के संगीत से सजे एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के इस अंक का परिणाम आने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की दूसरी श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत के इस अंश को सुन का आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक को पहचान सकते हैं? इस गायक का नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 21 मई, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 272वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 268 की संगीत पहेली में हमने आपको मदन मोहन के संगीत निर्देशन में बनी और 1966 में प्रदर्शित फिल्म ‘मेरा साया’ से एक राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – भीमपलासी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है – ताल – कहरवा तथा तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायिका – लता मंगेशकर

इस बार की पहेली में चार प्रतिभागियों ने सही उत्तर देकर विजेता बनने का गौरव प्राप्त किया है। चारो प्रतभागियों ने सभी तीन प्रश्न का सही-सही उत्तर दिया है। सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी हैं - पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, और चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, जिन्होने दो-दो अंक अर्जित किये है। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में जारी हमारी नई श्रृंखला ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ की आज की कड़ी में आपने राग दरबारी कान्हड़ा का परिचय प्राप्त किया। इस श्रृंखला में हम फिल्म संगीतकार मदन मोहन के कुछ राग आधारित गीतों को चुन कर आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। श्रृंखला के अगले अंक में हम संगीतकार मदन मोहन के एक अन्य राग आधारित गीत के साथ प्रस्तुत होंगे। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पाठक और श्रोता नियमित रूप से हमें पत्र लिखते है। हम उनके सुझाव के अनुसार ही आगामी विषय निर्धारित करते है। ‘स्वरगोष्ठी’ पर आप भी अपने सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते है। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


शोध व आलेख : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Sunday, February 28, 2016

राग नन्द : SWARGOSHTHI – 259 : RAG NAND


स्वरगोष्ठी – 259 में आज

दोनों मध्यम स्वर वाले राग – 7 : राग नन्द

कुमार गन्धर्व और मदन मोहन का राग नन्द





‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी श्रृंखला – ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ की सातवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-प्रेमियों का एक बार पुनः हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत के कुछ ऐसे रागों की चर्चा कर रहे हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाता है। संगीत के सात स्वरों में ‘मध्यम’ एक महत्त्वपूर्ण स्वर होता है। हमारे संगीत में मध्यम स्वर के दो रूप प्रयोग किये जाते हैं। स्वर का पहला रूप शुद्ध मध्यम कहलाता है। 22 श्रुतियों में दसवाँ श्रुति स्थान शुद्ध मध्यम का होता है। मध्यम का दूसरा रूप तीव्र या विकृत मध्यम कहलाता है, जिसका स्थान बारहवीं श्रुति पर होता है। शास्त्रकारों ने रागों के समय-निर्धारण के लिए कुछ सिद्धान्त निश्चित किये हैं। इन्हीं में से एक सिद्धान्त है, “अध्वदर्शक स्वर”। इस सिद्धान्त के अनुसार राग का मध्यम स्वर महत्त्वपूर्ण हो जाता है। अध्वदर्शक स्वर सिद्धान्त के अनुसार राग में यदि तीव्र मध्यम स्वर की उपस्थिति हो तो वह राग दिन और रात्रि के पूर्वार्द्ध में गाया-बजाया जाएगा। अर्थात, तीव्र मध्यम स्वर वाले राग 12 बजे दिन से रात्रि 12 बजे के बीच ही गाये-बजाए जा सकते हैं। इसी प्रकार राग में यदि शुद्ध मध्यम स्वर हो तो वह राग रात्रि 12 बजे से दिन के 12 बजे के बीच का अर्थात उत्तरार्द्ध का राग माना गया। कुछ राग ऐसे भी हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वर प्रयोग होते हैं। इस श्रृंखला में हम ऐसे ही रागों की चर्चा कर रहे हैं। श्रृंखला की छ्ठी कड़ी में आज हम राग नन्द के स्वरूप की चर्चा करेंगे। साथ ही सबसे पहले हम आपको अप्रतिम संगीतज्ञ पण्डित कुमार गन्धर्व के स्वरों में राग नन्द का एक खयाल सुनवाते हैं। इसके बाद इसी राग पर आधारित फिल्म ‘मेरा साया’ से मदनमोहन का संगीतबद्ध किया और लता मंगेशकर का गाया मधुर गीत भी प्रस्तुत करेंगे।


दो मध्यम अरु शुद्ध स्वर, आरोहण रे हानि,
स-प वादी-संवादी तें, नन्द राग पहचानि।

ज के अंक में हमने आपके लिए दोनों मध्यम स्वरों से युक्त, अत्यन्त मोहक राग ‘नन्द’ चुना है। इस राग को नन्द कल्याण, आनन्दी या आनन्दी कल्याण के नाम से भी पहचाना जाता है। यह कल्याण थाट का राग माना जाता है। यह षाडव-सम्पूर्ण जाति का राग है, जिसके आरोह में ऋषभ स्वर का प्रयोग नहीं होता। इसके आरोह में शुद्ध मध्यम का तथा अवरोह में दोनों मध्यम का प्रयोग किया जाता है। इसका वादी स्वर षडज और संवादी स्वर पंचम माना जाता है। यह राग कामोद, हमीर और केदार के निकट होता है अतः गायन-वादन के समय राग नन्द को इन रागों से बचाना चाहिए। राग नन्द से मिल कर राग नन्द भैरव, नन्द-भैरवी, नन्द-दुर्गा और नन्द-कौंस रागों का निर्माण होता है।

पण्डित कुमार गन्धर्व
राग नन्द की सार्थक अनुभूति कराने के लिए आज हम आपको पण्डित कुमार गन्धर्व के स्वर में एक बन्दिश सुनवाएँगे। पण्डित कुमार गन्धर्व का जन्म आठ अप्रैल, 1924 को बेलगाम, कर्नाटक के पास सुलेभवी नामक स्थान में एक संगीत-प्रेमी परिवार में हुआ था। माता-पिता का रखा नाम तो था शिवपुत्र सिद्धरामय्या कोमकलीमठ, किन्तु आगे चल कर संगीत-जगत ने उसे कुमार गन्धर्व के नाम से पहचाना। जिन दिनों कुमार गन्धर्व ने संगीत-जगत में पदार्पण किया, उन दिनों भारतीय संगीत दरबारी जड़ता से प्रभावित था। कुमार गन्धर्व, पूर्णनिष्ठा और स्वर-संवेदना से एकाकी ही संघर्षरत हुए। उन्होने अपनी एक निजी गायन-शैली विकसित की, जो हमें भक्ति-पदों के आत्म-विस्मरणकारी गायकी का स्मरण कराती थी। वे मात्र एक साधक ही नहीं अन्वेषक भी थे। उनकी अन्वेषण-प्रतिभा ही उन्हें भारतीय संगीत का कबीर बनाती है। उनका संगीत इसलिए भी रेखांकित किया जाएगा कि वह लोकोन्मुख रहा है। कुमार गन्धर्व ने अपने समय में गायकी की बँधी-बँधाई लीक से अलग हट कर अपनी एक भिन्न शैली का विकास किया। 1947 से 1952 के बीच वे फेफड़े के रोग से ग्रसित हो गए। चिकित्सकों ने घोषित कर दिया की स्वस्थ हो जाने पर भी वे गायन नहीं कर सकेंगे, किन्तु अपनी साधना और दृढ़ इच्छा-शक्ति के बल पर संगीत-जगत को चमत्कृत करते हुए संगीत-मंचों पर पुनर्प्रतिष्ठित हुए। अपनी अस्वस्थता के दौरान कुमार गन्धर्व, मालवा अंचल के ग्राम्य-गीतों का संकलन और प्राचीन भक्त-कवियों की विस्मृत हो रही रचनाओं को पुनर्जीवन देने में संलग्न रहे। आदिनाथ, सूर, मीरा, कबीर आदि कवियों की रचनाओं को उन्होने जन-जन का गीत बनाया। वे परम्परा और प्रयोग, दोनों के तनाव के बीच अपने संगीत का सृजन करते रहे। कुमार गन्धर्व की सांगीतिक प्रतिभा की अनुभूति कराने के लिए अब हम आपको उनके प्रिय राग नन्द के स्वरों में एक बन्दिश सुनवाते हैं। तीनताल में निबद्ध इस खयाल के बोल हैं- “राजन अब तो आजा रे...”


राग नन्द : ‘राजन अब तो आजा रे...’ : पण्डित कुमार गन्धर्व 




राग नन्द में तीव्र मध्यम स्वर का अल्प प्रयोग अवरोह में पंचम स्वर के साथ किया जाता है, जैसा कि कल्याण थाट के अन्य रागों में किया जाता है। राग नन्द में राग बिहाग, कामोद, हमीर और गौड़ सारंग का सुन्दर समन्वय होता है। यह अर्द्ध चंचल प्रकृति का राग होता है। अतः इसमें विलम्बित आलाप नहीं किया जाता। साथ ही इस राग का गायन मन्द्र सप्तक में नहीं होता। इस राग का हर आलाप अधिकतर मुक्त मध्यम से समाप्त होता है। आरोह में ही मध्यम स्वर पर रुकते हैं, किन्तु अवरोह में ऐसा नहीं करते। राग नन्द में पंचम और ऋषभ स्वर की संगति बार-बार की जाती है। आरोह में धैवत और निषाद स्वर अल्प प्रयोग किया जाता है, इसलिए उत्तरांग में पंचम से सीधे तार सप्तक के षडज पर पहुँचते है।

लता मंगेशकर और मदन मोहन
भारतीय संगीत के इस बेहद मनमोहक राग नन्द के सौन्दर्य का आभास कराने के लिए अब हम आपको इस राग पर आधारित एक फिल्मी गीत सुनवाएँगे। लता मंगेशकर के सुरों और मदनमोहन के संगीत से सजे अनेक गीत कर्णप्रियता और लोकप्रियता की सूची में आज भी शीर्षस्थ हैं। इस सूची में 1966 में प्रदर्शित फिल्म ‘मेरा साया’ का एक गीत है- ‘तू जहाँ जहाँ चलेगा मेरा साया साथ होगा...’। राजा मेंहदी अली खाँ की गीत-रचना को मदनमोहन ने राग नन्द के आकर्षक स्वरों पर आधारित कर लोचदार कहरवा ताल में ढाला है। मदनमोहन से इस गीत को राग नन्द में निबद्ध किये जाने का आग्रह स्वयं लता मंगेशकर जी ने किया था। न जाने क्यों, हमारे फिल्म-संगीतकारों ने इस मनमोहक राग का प्रयोग लगभग नहीं के बराबर किया। आप यह गीत सुनिए और राग नन्द के सौन्दर्य में खो जाइए। आप यह गीत सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए। और हाँ, इस अंक की संगीत पहेली को हल करने का प्रयास करना न भूलिएगा।


राग नन्द : ‘तू जहाँ जहाँ चलेगा...’ : लता मंगेशकर : फिल्म – मेरा साया 





संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 259वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको राग आधारित फिल्मी गीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 260वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पहली श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत का यह अंश सुन कर बताइए कि यह किस राग पर आधारित गीत है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक और गायिका की आवाज़ को पहचान रहे हैं? हमें उनका नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 5 मार्च, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 261वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 257 की संगीत पहेली में हमने आपको 1953 में प्रदर्शित फिल्म ‘हमदर्द’ के एक रागमाला गीत का एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – गौड़ सारंग, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल – तीनताल और तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायक-गायिका – मन्ना डे और लता मंगेशकर

इस बार की संगीत पहेली में पाँच प्रतिभागी सही उत्तर देकर विजेता बने हैं। ये विजेता हैं - जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया और चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल। सभी पाँच प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में आप हमारी श्रृंखला ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ का रसास्वादन कर रहे हैं। श्रृंखला के सातवें अंक में हमने आपसे राग नन्द पर चर्चा की। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पास हर सप्ताह आपकी फरमाइशे आती हैं। हमारे कई पाठकों ने ‘स्वरगोष्ठी’ में दी जाने वाली रागों के विवरण के प्रामाणिकता की जानकारी माँगी है। उन सभी पाठकों की जानकारी के लिए बताना चाहूँगा कि रागों का जो परिचय इस स्तम्भ में दिया जाता है, वह प्रामाणिक पुस्तकों से पुष्टि करने का बाद ही लिखा जाता है। यह पुस्तकें है; संगीत कार्यालय, हाथरस द्वारा प्रकाशित और श्री वसन्त द्वारा संकलित और श्री लक्ष्मीनारायण गर्ग द्वारा सम्पादित ‘राग-कोष’, संगीत सदन, इलाहाबाद द्वारा प्रकाशित और श्री हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव द्वारा लिखित पुस्तक ‘राग परिचय’ तथा आवश्यकता पड़ने पर पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे के ग्रन्थ ‘क्रमिक पुस्तक मालिका’। हम इन ग्रन्थों से साभार पुष्टि करके ही आप तक रागों का परिचय पहुँचाते हैं। आप भी अपने विचार, सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करते हैं। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  





Saturday, September 19, 2015

"झुमका गिरा रे बरेली के बज़ार में..." - बड़ी रोचक है इस गीत के बनने की कहानी


एक गीत सौ कहानियाँ - 66

 

'झुमका गिरा रे बरेली के बज़ार में...' 




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 66-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म ’मेरा साया’ के सुपरहिट गीत "झुमका गिरा रे बरेली के बज़ार में..." के बारे में जिसे आशा भोसले ने गाया था।


फ़िल्मी गीतों में शहरों के नाम की परम्परा पुरानी है। हर दशक में बहुत से फ़िल्मी गीत ऐसे बने जिनमें शहरों के नामों का उल्लेख हुआ है। जहाँ तक भारतीय शहरों के नामों का सवाल है, तो शायद सबसे ज़्यादा बम्बई या मुंबई नगरी का ज़िक्र फ़िल्मी गीतों में हुआ है। बम्बई या मूम्बई पर बनने वाले अनगिनत गीतों में कुछ उल्लेखनीय गीत हैं "ये है बम्बई नगरिया तू देख बबुया" (डॉन), "ये है बॉम्बे मेरी जान"(सी.आइ.डी), "ये बम्बई शहर हादसों का शहर है"(हादसा), "बम्बई से आया मेरा दोस्त"(आपकी ख़ातिर), "बम्बई से आया बाबू चिनन्ना" (बम्बई का बाबू), "बम्बई शहर की चल तुझको सैर करा दूँ"(पिया का घर), "बम्बई शाम के बाद हसीं कुछ और ही हो जाती है"(सरकारी मेहमान) आदि। इसी तरह से दिल्ली पर भी कई गीत बन चुके हैं। उत्तर प्रदेश के शहरों में फ़िल्म 'चौदहवीं का चाँद’ में "यह लखनऊ की सरज़मीं" गीत ख़ासा उल्लेखनीय है; बनारस पर सर्वाधिक लोकप्रिय गीत रहा "ओ खईके पान बनारस वाला"(डॉन)। ताज महल की ख़ातिर आगरा शहर भी कई बार गीतों में जगह पाया है। यू.पी का एक और शहर जिसे कई गीतों में सुना गया, वह है बरेली। बरेली का ज़िक्र पहली बार शायद 1942 की फ़िल्म ’दि रिटर्ण ऑफ़ तूफ़ान मेल’ के एक गीत में हुआ था जिसके बोल थे "मेरा बालम गया है बरेली रे..." जिसे गाया बृजमाला ने, लिखा इन्द्र चन्द्र ने और स्वरबद्ध किया ज्ञान दत्त ने। बरेली वाले कुछ और गीत हैं "वो तो बांस बरेली से आया, सावन में ब्याहन आया"(दहेज), "सुरमा बरेली का, काजल है देहली का" (जलवा), "मेरी दुल्हन बरेली से आई रे" (मेहन्दी), "झुमका बरेली वाला कानो में ऐसा डाला, झुमके ने ले ली मेरी जान" (किस्मत), "आगरे से आई हो या आई बरेली से, पूछ लेंगे जाके हम आपकी सहेली से" (दिल की बाज़ी), "न्यू डेल्ही में बरेली जैसा स‍इयाँ" (U Me Aur Hum), और बरेली के ज़िक्र वाला जो सबसे ज़्यादा मशहूर गीत रहा वह है फ़िल्म ’मेरा साया’ का "झुमका गिरा रे बरेली के बाज़ार में"। बरेली के बाज़ार से मतलब है वहाँ के बड़ा बाज़ार इलाके का जो मुग़ल काल से बहुत मशहूर रहा है। इसी गीत से प्रेरित हाल की फ़िल्म ’आजा नचले’ के शीर्षक गीत के शुरुआती पंक्ति में कहा गया है कि "मेरा झुमका उठा के लाया रे यार वे, जो गिरा था बरेली के बाज़ार में"। बरेली के बाज़ार में झुमका गिरने का अर्थ बरेली वासी कुछ यूं बताया करते हैं कि वहाँ की गलियाँ इतनी तंग हैं कि आते जाते लोगों में कभी कभार धक्का लग जाने की वजह से कभी कभी कान के झुमके गिर जाते हैं। पर ’मेरा साया’ के गीत में झुमका गिरने की कहानी कुछ और ही थी।

Harivanshrai & Teji Bachchan
अब सवाल यह है कि "झुमका गिरा रे" गीत में बरेली के बाज़ार का ज़िक्र क्यों आया जबकि फ़िल्म की कहानी या पार्श्व में दूर दूर तक बरेली का ज़िक्र नहीं, ताल्लुख नहीं? बड़ी दिलचस्प है इसके पीछे की कहानी। दरसल बात उन दिनों की है जब दादा बच्चन, यानी कि मशहूर साहित्यकार हरिवंशराय बच्चन, और तेजी जी एक दूसरे के नज़दीक आ रहे थे। दोनों के बेच प्रेम का बंधन बंध रहा था। तो ऐसे में इन दोनो की मुलाक़ात होती थी मशहूर साहित्यकार निरंकार देव जी के घर पर और निरंकार देव जी रहते थे बरेली में। जब एक दिन दोनों से यह पूछा गया कि भाई बात क्या है, इतने दिन हो गए, अब यह स्वीकार क्यों नहीं कर लेते कि तुम दोनों एक दूसरे से प्यार करते हो, एक दूसरे के लिए जो प्रेम है उसका निवेदन क्यों नहीं कर देते, तब एक दिन जब तेजी जी और हरिवंश जी ने एक दूसरे से प्रेम की बात को कुबूल किया तो एकाएक तेजी के मुख से निकल गया "मेरा झुमका खो गया रे बरेली के बाज़ार में"। उन्होंने यूं ही कह दिया होगा कि बरेली में आकर वो हरिवंशराय जी से मिल कर अपना सुध बुध खो बैठीं हैं, यानी कि झुमका गिर गया हो और उन्हें ख़बर तक नहीं हुई। और यही बात उन दिनों हिन्दी साहित्य जगत में ख़ूब चर्चा में आ गई। अब इत्तेफ़ाक़ देखिये इस क़िस्से से राज मेहन्दी अली ख़ाँ साहब भी अच्छे तरह से वाक़िफ़ थे। तो जब ’मेरा साया’ के गीत लिखने की बारी आई तो उन्हें अचानक यह क़िस्सा याद आ गया और उन्होंने गीत में हीरोइन के झुमके को बरेली में ही गिरा दिया। है ना बड़ा ही अनोखा और रोचक क़िस्सा। 

Shamshad Begum
इस गीत से जुड़ा एक और दिलचस्प बात यह है कि यूं तो इस गीत की रचना राजा मेहन्दी अली ख़ाँ और मदन मोहन ने साल 1966 में की थी, पर यह उनकी मौलिक रचना नहीं है। इस गीत के बनने से क़रीब 20 साल पहले 1947 में एक फ़िल्म बनी थी ’देखो जी’ के नाम से, जिसमें वली साहब ने बिल्कुल ऐसा ही एक गीत लिखा था जिसके बोल थे "झुमका गिरा रे बरेली के बाज़ार में, होय झुमका गिरा रे, मोरा झुमका गिरा रे"। तूफ़ैल फ़ारूख़ी द्वारा स्वरबद्ध इस गीत को गाया था शमशाद बेगम ने। यह बात और है कि ना तो यह फ़िल्म चली थी और ना ही यह गीत। फ़िल्म के ना चलने से इस गीत की तरफ़ किसी का नज़र नहीं गया, जबकि 20 साल बाद एक नए पैकेज में पिरोया हुआ गीत चल पड़ा और आज भी उतना ही लोकप्रिय है। शमशाद बेगम के साथ ऐसा एकाधिक बार हुआ है कि उनका गाया मूल गीत ज़्यादा लोकप्रिय नहीं हुआ जबकि बाद में उन गीतों को आधार बना कर बनने वाला नया गीत ख़ूब कामयाब हो गया। ’देखो जी’ के इस गीत के अलावा एक और गीत था "इन्ही लोगों ने ले ली ना दुपट्टा मेरा" जिसे उन्होंने 1941 की फ़िल्म ’हिम्मत’ में गाया था, जिसका लता मंगेशकर का गाया फ़िल्म ’पाक़ीज़ा’ का संस्करण ज़्यादा लोकप्रिय हुआ। इसी तरह से हाल में बनी 2011 की फ़िल्म ’Rockstar' का गीत "कतेया करूँ" भी शमशाद बेगम ने 1963 की पंजाबी फ़िल्म ’पिण्ड दी कुड़ी’ में गाया था जिसके संगीतकार थे हंसराज बहल। आशा भोसले का गाया "झुमका गिरा रे..." आपने हज़ारों बार सुना होगा, पर आज इस गीत से जुड़ी तमाम बातों को जानने के बाद इस गीत को सुनने का मज़ा दोगुना हो जाएगा यकीनन! आइए सुनते हैं फ़िल्म ’मेरा साया’ से "झुमका गिरा रे..."। 


फिल्म मेरा साया : "झुमका गिरा रे बरेली के बाज़ार में..." : आशा भोसले : मदनमोहन : राजा मेंहदी अली खाँ 



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




Monday, January 24, 2011

नैना बरसे रिमझिम रिमझिम.....मदन मोहन साहब का रूहानी संगीत और लता की दिव्य आवाज़ ...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 577/2010/277

हालाँकि हमने या आपने कभी भूत नहीं देखा है न महसूस किया है, लेकिन आये दिन अख़बारों में या किसी और सूत्र से सुनाई दे जाती है लोगों के भूत देखने की कहानियाँ। भूत-प्रेत की कहानियाँ सैंकड़ों सालों से चली आ रही है, लेकिन विज्ञान अभी तक इसके अस्तित्व की व्याख्या नहीं कर सका है। कई लोग अपने कैमरों में कुछ ऐसी तस्वीरें क़ैद कर ले आते हैं जिनमें कुछ अजीब बात होती है। वो लाख कोशिश करे उन तस्वीरों को भूत-प्रेत के साथ जोडने की, लेकिन हर बार यह साबित हुआ है कि उन तस्वीरों के साथ छेड़-छाड़ हुई है। अभिषेक अगरवाल एक ऐसे शोधकर्ता हैं जिन्होंने भूत-प्रेत के अस्तित्व संबंधी विषयों पर ना केवल शोध किया है, बल्कि एक पुस्तक भी प्रकाशित की है 'Astral Projection Underground' के शीर्षक से। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार, और स्वागत है आप सभी का इस अजीब-ओ-ग़रीब लघु शृंखला में जिसका नाम है 'मानो या ना मानो'। आज के अंक में हम अभिषेक अगरवाल के उसी शोध में से छाँट कर कुछ बातें आपके सम्मुख रखना चाहते हैं। अभिषेक के अनुसार अगर हम 'Law of Thermodynamics' को एक अन्य नज़रिये से देखें, तो शायद कुछ हद तक इस निश्कर्ष तक पहूँच सकें कि आत्मा का अस्तित्व संभव है। अगर पूरी तरह से निश्कर्ष ना भी निकाल सके, लेकिन कुछ नये प्रश्न ज़रूर सामने आ सकते हैं। और इन प्रश्नों के जवाबों को ढ़ूंढते हुए शायद हम यह साबित कर सकें कि आत्मा का अस्तित्व असंभव नहीं। अब पहला सवाल तो यही है कि आख़िर यह 'Law of Thermodynamics' है क्या चीज़? मध्याकर्षण के नियमों में यह सब से महत्वपूर्ण नियम है, और इस नियम को ध्यानपूर्वक अध्ययन किया जाये तो यह साबित हो जाता है कि आदमी के मरने के बाद उसकी आत्मा नहीं मरती। यह नियम कहती है कि ऊर्जा को ना तो पैदा की जा सकती है, और ना ही नष्ट किया जा सकता है, उसे बस एक स्थिति से दूसरी स्थिति में परिवर्तित किया जा सकता है (Energy can neither be created nor destroyed; it can only change form.) तो हमारी जो सांसें चलती हैं, हमारी जो आत्मा है, वह भी तो एक तरह का ऊर्जा ही है; तो फिर वो कैसे नष्ट हो सकती है! जीव-विज्ञान कहती है कि मृत्यु के बाद जीव देह सड़ जाती है क्योंकि अलग अलग तरह के जीवाणु उस देह को अपना भोजन बनाते है। और इस तरह से जीव-ऊर्जा एक स्थिति से दूसरी स्थिति में आ पहुँचता है। लेकिन उस मस्तिष्क की बुद्धि का क्या जो हमें हमारा परिचय देती है? क्या हर जीव के अंदर शारीरिक शक्ति के अलावा भी एक और शक्ति नहीं है? हमारी बुद्धि, हमारी आत्मा? क्या ये भी जीवाणुओं के पेट में चली जाती है या इनका कुछ और हश्र होता है? इस पैरनॊर्मल जगत को हम तभी गले लगा सकते हैं जब हम खुले दिमाग और मन से इस बारे में सोच विचार और मंथन करेंगे। दोस्तों, अभिषेक पिछले १५ सालों से पैरनॊर्मल गतिविधियों पर शोध कर रहे हैं। कुछ अन्य शोधकर्ताओं का यह कहना है कि वो लोग जो भूत देखने का दावा करते हैं, वो दरअसल मानसिक रूप से कमज़ोर होते हैं। वो बहुत ज़्यादा उस बारे में सोचते हैं जिसकी वजह से उन्हें कई बार भ्रम हो जाता है और उन्हें उनकी सोच हक़ीक़त में दिखाई देने लगती है। यानी कि भूत दिखाई देना एक तरह की मानसिक विकृति है। एक और दृष्टिकोण के अनुसार इस बिमारी को 'Sleep Paralysis' कहते हैं जिसमें आदमी नींद से जग तो जाता है लेकिन हिल नहीं सकता। तब उन्हें ऐसा लगता है कि उन्हें कोई ज़ोर से पकड़े हुए है या नीचे की तरफ़ खींच रहे हैं। और अगले दिन यह अफ़वाह उड़ाते हैं कि उसके घर में भूत है। ऐसे में हम इसी निश्कर्ष पर पहुँचते हैं कि अगर भूत-प्रेत संबंधी कहानियों का वैज्ञानिक वर्णन कोई दे सकता है, तो वह है चिकित्सा विज्ञान।

और दोस्तों, आज की ससपेन्स फ़िल्म जिसका सस्पेन्स भरा गीत हम सुनने जा रहे हैं, वह है मशहूर फ़िल्म 'वो कौन थी'। १९६४ में प्रदर्शित इस फ़िल्म ने काफ़ी लोकप्रियता हासिल की थी। इस फ़िल्म में लता जी ने वह हौन्टिंग नंबर गाया था "नैना बरसे रिमझिम रिमझिम, पिया तोरे आवन की आस"। मदन मोहन का संगीत और राजा मेहंदी अली ख़ान के बोल। लता जी के सुपरहिट हौंटिंग्मेलोडीज़ में इस गीत का शुमार होता है। दिलचस्प बात यह है कि लता जी इस गाने की रेकॊर्डिंग पर पहुँच नहीं पायी थीं और यह गाना अगले ही दिन फ़िल्माया जाना था। ऐसे में मदन मोहन ने ख़ुद इस गीत को अपनी आवाज़ में रेकॊर्ड करवाया और उसी पर साधना ने अपने होंठ हिलाकर फ़िल्मांकन पूरा किया। बाद में लता ने गीत को रेकॊर्ड किया। मदन मोहन का गाया वर्ज़न एच. एम. वी की सी.डी 'Legends' में शामिल किया गया है। और अब आपको बतायी जाये 'वो कौन थी' की रहस्यमय कहानी। एक तूफ़ानी रात में डॊ. आनंद (मनोज कुमार) घर लौट रहे होते हैं जब उन्हें सड़क पर सफ़ेद साड़ी पहने एक लड़की (साधना) दिखायी देता है, जो बहुत परेशानी में लग रही है। आनंद उसे अपनी गाड़ी में लिफ़्ट देने का न्योता देता है और वो गाड़ी में बैठ जाती है और अपना नाम संध्या बताती है। जैसे ही वो गाड़ी में बैठती है, सामने शीशे के वाइपर्स चलने बंद हो जाते हैं, और आनंद को आगे रास्ता दिखाई नहीं देता। आनंद कुछ डर सा जाता है यह देख कर कि संध्या उसे रास्ता बता रही है उस अंधेरे में भी। वो उसे एक कब्रिस्तान की तरफ़ ले जाती है। आनंद देखता है कि संध्या की एक हाथ से ख़ून बह रहा है। पूछने पर संध्या मुस्कुराती है और कहती है कि उसे ख़ून अच्छा लगता है। जल्द ही संध्या गायब हो जाती है। कुछ ही समय बाद एक परेशान पिता आनंद की गाड़ी को रोकता है और उसकी बेटी की ज़िंदगी को बचा लेने की प्रार्थना करता है। आनंद उस आदमी के पीछे जाता है और एक पुराने घर में प्रवेश करता है, लेकिन बदक़िस्मती से जिस लड़की को बचाने की बात हो रही थी, वह मर चुकी होती है। आनंद चौंक उठता है यह देख कर कि जिस लड़की का शव वहाँ पड़ा हुआ है, वह वही लड़की संध्या है जिसे उसने अभी थोड़ी देर पहले लिफ़्ट दी थी। वापस लौटते वक्त आनंद को कुछ पुलिसमेन मिलते हैं जो उन्हें बताते हैं कि उस जगह पर बहुत दिनों से कोई नहीं रहता। आनंद डर तो जाता है लेकिन इस रहस्य की तह तक जाने का साहस भी जुटा ही लेता है। जैसे जैसे वो रहस्य के करीब पहूँचने लगता है, उसे पता चलता है कि वो झूठ और फ़रेब के जालों में उलझता चला जा रहा है। हालात ऐसी हो जाती है कि आनंद की माँ उसकी शादी जिस लड़की से तय करती है, वह और कोई नहीं संध्या है। क्या है संध्या की सच्चाई? क्या है इस कहानी का अंजाम? यह तो आप ख़ुद ही कभी मौका मिले तो देख लीजिएगा अगर आपने यह फ़िल्म अभी तक नहीं देखी है तो! इस फ़िल्म का हर गीत सुपरडुपर हिट हुआ था। तो चलिए सुनते हैं लता जी की आवाज़ में यह हौंटिंग्नंबर, जिसमें रहस्य के साथ साथ जुदाई का दर्द भी समाया हुआ है।



क्या आप जानते हैं...
'वो कौन थी' फ़िल्म का १९६६ में तमिल में रेमेक हुआ था 'यार नी' शीर्षक से जिसका निर्माण किया था सत्यम ने। जयशंकर और जयललिता (जो बाद में तमिल नाडु की मुख्यमंत्री बनीं) ने इसमें मुख्य भूमिकाएँ निभाईं। तेलुगु फ़िल्म 'आमे एवरु' भी 'वो कौन थी' का ही रीमेक था।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 08/शृंखला 08
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - बेहद आसान है.

सवाल १ - गीतकार बताएं - 2 अंक
सवाल २ - फिल्म का नाम बताएं - 1 अंक
सवाल ३ - संगीतकार बताएं - 1 अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
अमित जी की बढ़त जारी है, शरद जी आपको बहुत हम मिस करेंगें पर आपकी यात्रा सफल हो, यही कामना रहेगी...अंजना जी कब तक अनजान रहेंगें....वैसे अमित जी इस गीत से जुडी एक और खास बात आप यहाँ पढ़ा सकते है http://podcast.hindyugm.com/2008/07/blog-post_14.html

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Wednesday, October 27, 2010

मैं प्यार का राही हूँ...मुसाफिर रफ़ी साहब ने हसीना आशा के कहा कुछ- सुना कुछ

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 514/2010/214

'गीत गड़बड़ी वाले' शृंखला की आज है चौथी कड़ी। पिछले तीन कड़ियों में आपने सुने गायकों द्वारा की हुईं गड़बड़ियाँ। आज हम बात करते हैं एक ऐसी गड़बड़ी की जो किस तरह से हुई यह बता पाना बहुत मुश्किल है। यह गड़बड़ी है किसी युगल गीत में गायक और गायिका के दो अंतरों की लाइनों का आपस में बदल जाना। यानी कि गायक ने कुछ गाया, जिसका गायिका को जवाब देना है। और अगर यह जवाब गायिका दूसरे अंतरें में दे और दूसरे अंतरे में गायक के सवाल का जवाब वो पहले अंतरे में दे, इसको तो हम गड़बड़ई ही कहेंगे ना! ऐसी ही एक गड़बड़ी हुई थी फ़िल्म 'एक मुसाफ़िर एक हसीना' के एक गीत में। यह फ़िल्मालय की फ़िल्म थी जिसका निर्माण शशधर मुखर्जी ने किया था, राज खोसला इसके निर्देशक थे। ओ. पी. नय्यर द्वारा स्वरबद्ध यह एक आशा-रफ़ी डुएट था "मैं प्यार का राही हूँ"। गीतकार थे राजा मेहन्दी अली ख़ान। अब इस गीत में क्या गड़बड़ी हुई है, यह समझने के लिए गीत के पूरे बोल यहाँ पर लिखना ज़रूरी है। तो पहले इस गीत के बोलों को पढिए, फिर हम बात को आगे बढ़ाते हैं।

मैं प्यार का राही हूँ,
तेरी ज़ुल्फ़ के साये में,
कुछ देर ठहर जाऊँ।

तुम एक मुसाफ़िर हो,
कब छोड़ के चल दोगे,
यह सोच के घबराऊँ।

तेरे बिन जी ना लगे अकेले,
हो सके तो मुझे साथ ले ले,
नाज़नीं तू नहीं जा सकेगी,
छोड़ कर ज़िंदगी के झमेले,
जब छाये घटा याद करना ज़रा,
सात रंगों की उम्र कहानी।

प्यार की बिजलियाँ मुस्कुरायें,
देखिए आप पर गिर ना जाये,
दिल कहे देखता ही रहूँ मैं,
सामने बैठकर ये अदायें,
ना मैं हूँ नाज़नीं ना मैं हूँ महजबीं,
आप ही की नज़र की दीवानी।

इस गीत के पहले अन्तरे में रफी की पंक्तियाँ हैं, "तेरे बिन जी लगे ना अकेले... नाज़नीं तू नहीं जा सकेगी छोड़कर ज़िन्दगी के झमेले", जिसके जवाब में आशा गाती हैं, "जब भी छाए घटा याद करना ज़रा सात रंगों की हूँ मैं कहानी"; और फिर दूसरे अन्तरे में रफी गाते हैं, "प्यार की बिजलियाँ मुस्कुराएँ ... दिल कहे देखता ही रहूँ मैं सामने बैठकर ये अदाएँ", जिसके जवाब में आशा की पंक्तियाँ हैं, "ना मैं हूँ नाज़नीं ना मैं हूँ महजबीं"। अगर गीत के भाव, अर्थ और भाव की दृष्टि से देखें तो प्रतीत होता है कि इन दो अंतरों में आशा भोसले की पंकियाँ आपस में बदल गईं हैं। अब गीत लिखते वक़्त राजा मेहन्दी अली ख़ान से ऐसी भूल तो यकीनन असम्भव है, तो फिर ऐसी गड़बड़ी हो कैसे गई। हाँ, यह हो सकता है कि उन दिनों ज़ेरॊक्स की सुविधा या कम्प्युटर प्रिण्ट तो होते नहीं थे, गायकों को अपने गानें ख़ुद ही गीतकार से लेकर लिख लेने पड़ते थे। तो हो सकता है कि किसी ने लिखते वक़्त यह गड़बड़ी कर दी होगी। क्या असल में यह एक गड़बड़ी थी या फिर राजा साहब ने ऐसा ही लिखा था, यह अब हम कभी नहीं जान पाएँगे क्योंकि राजा साहब तो अब हमारे बीच रहे नहीं। शायद यह राज़ एक राज़ बन कर ही रह जाएगी। तो आइए इस गड़बड़ी का किसी को भी दोष दिए बग़ैर इस सुंदर युगल गीत का आनंद उठाएँ।



क्या आप जानते हैं...
कि गीतकार राजा मेहन्दी अली ख़ान फ़िल्मी गीतकार बनने से पहले आकाशवाणी में काम करते थे, जहाँ पर उनके साथियों में से एक थे जाने माने साहित्यिक उपेन्द्रनाथ अश्क़।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०५ /शृंखला ०२
ये धुन है गीत के प्रील्यूड की है-


अतिरिक्त सूत्र - लता की आवाज़ में आपने ये शुरूआती बोल सुने गीत के

सवाल १ - गीतकार बताएं - २ अंक
सवाल २ - संगीतकार कौन थे इस लो बजट फिल्म के - १ अंक
सवाल ३ - फिल्म में थी रेहाना सुल्तान, निर्देशक बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
अमित जी २ अंक कमा लिए आपने. श्याम कान्त जी दरअसल आपके अमित जी के और बिट्टू जी के जवाब देने का अंदाज़ एक जैसा है इस करण हो सकता है सुजॉय जी ने कुछ शंका व्यक्त की हो, बहरहाल आप जारी रहे, शरद जी सही जवाब १ अंक आपके, और अवध जी एक जवाब रह गया था कम से कम वही दे देते :)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Thursday, October 14, 2010

गोरे गोरे चाँद से मुख पर काली काली ऑंखें हैं ....कवितामय शब्द और सुंदर संगीत संयोजन का उत्कृष्ट मेल

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 505/2010/205

'एक प्यार का नग़मा है', दोस्तों, सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के स्वरबद्ध गीतों से सजी यह लघु शृंखला इन दिनों आप सुन और पढ़ रहे हैं 'आवाज़' के सांध्य-स्तंभ 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में। एल.पी एक ऐसे संगीतकार जोड़ी हुए जिन्होंने इतने ज़्यादा फ़िल्मों में संगीत दिया है कि शायद ही कोई ऐसा समकालीन गायक होगा या होंगी जिन्होंने एल.पी के लिए गीत ना गाये होंगे। लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी, मन्ना डे और आशा भोसले को सुनने के बाद आज बारी है गायक मुकेश की। उधर गीतकारों की बात करें तो आनंद बक्शी साहब ने लक्ष्मी-प्यारे के लिए सब से ज़्यादा गीत लिखे हैं, इसलिए ज़ाहिर है कि इस शृंखला में बक्शी साहब के लिखे कई गीत शामिल होंगे, लेकिन हमने इस बात को भी ध्यान रखा है कि कुछ दूसरे गीतकारों को भी शामिल करें जिन्होंने कम ही सही लेकिन बहुत उम्दा काम किया है एल.पी के साथ। हमनें दो ऐसे गीतकारों की रचनाएँ आपको सुनवाई हैं - राजेन्द्र कृष्ण और भरत व्यास। आज हम लेकर आये हैं राजा मेहन्दी अली ख़ान का लिखा एक गीत फ़िल्म 'अनीता' से। आपको याद होगा कि इस फ़िल्म का एक गीत हम पहले ही इस स्तंभ में सुनवा चुके हैं "तुम बिन जीवन कैसे बीता पूछो मेरे दिल से"। आज प्रस्तुत है मुकेश की ही आवाज़ में इस फ़िल्म का एक और ख़ूबसूरत गीत "गोरे गोरे चाँद से मुख पर काली काली आँखें हैं, देख के जिनको नींद उड़ जाये वो मतवाली आँखें हैं"। जितने सुंदर बोल, उतना ही मीठा कम्पोज़िशन। दोस्तों, कुछ गानें ऐसे होते हैं जो अपने फ़िल्मांकन की वजह से भी याद रह जाते हैं। अब इस गीत को ही लीजिए, यह ना केवल फ़िल्म का पहला गीत है, बल्कि फ़िल्म का पहला सीन भी है। इसी गीत से फ़िल्म शुरु होती है। साधना अपने कमरे में बैठी होती हैं सज सँवरकर, और बाहर से कोई यह गीत गा उठता है। लेकिन उसे कोई नज़र नहीं आता। फिर धीरे धीरे मनोज कुमार को बगीचे में पेड़ के पीछे से दिखता है कैमरा। इस तरह से गीत के ख़त्म होते होते नायिका का पिता घर से बाहर निकल जाता है तो मनोज कुमार साधना के कमरे में दाख़िल हो जाते हैं।

राज खोसला की इस फ़िल्म की कहानी सस्पेन्स से भरी है जिसमें नायिका अनीता के कई चरित्र नज़र आते रहते हैं और पूरी फ़िल्म एक राज़ बना रहता है आख़िर तक। अब जब राज़ की बात छेड़ ही दी है तो चलिए जिन लोगों ने यह फ़िल्म नहीं देखी है, उनके लिए फ़िल्म की थोड़ी सी भूमिका हम दे दें। अमीर बाप की बेटी अनीता (साधना) और ग़रीब नीरज (मनोज कुमार) एक दूसरे से प्यार करते हैं। जब अनीता अपने पिता से नीरज को मिलवाती है तो उसके पिता नीरज को क़बूल नहीं करते, और अनीता को सख़्त निर्देश देते हैं कि वो अनिल शर्मा नामक एक धनवान युवक से शादी कर ले। उसके बाद जब नीरज ने अनीता से सम्पर्क करने की कोशिश की, अनीता ने ही मना कर दिया और आख़िरकार अनिल से शादी कर ली। टूटा हुआ दिल लेकर नीरज वह शहर ही छोड़ देता है, लेकिन फिर भी वो उसे भुला नहीं पाता और दिल के किसी कोने में अपने प्यार की लौ को जलाये रखता है। एक दिन एक सड़क दुर्घटना में अनीता की मौत हो जाती है। जब नीरज को इस बात का पता चलता है तो उसे ज़रबरदस्त धक्का पहुँचता है। फिर एक दिन उसे पता चलता है कि एक औरत जिसकी शक्ल हू-ब-हू अनीता जैसी है एक बड़े होटल में डान्सर है। जब नीरज उसे ढूंढ़ते हुए होटल में जाता है तो अनीता उसे पहचानने से इन्कार कर देती है। (इसी सिचुएशन पर वह गाना है "क़रीब आ कि नज़र फिर मिले मिले ना मिले")। उधर नीरज एक गेरुआ वस्त्र में लिपटी औरत से भी मिलता है जिसकी शक्ल भी हू-ब-हू अनीता से मिलता है। यह औरत किसी आश्रम में सन्यासिन है और वो भी नीरज को पहचानने से इन्कार कर देती है। नीरज को कुछ समझ नहीं आता कि आख़िर माजरा क्या है! नीरज इस रहस्य के तह तक जाने की कोशिश करता है और इसी कोशिश के दौरन उसे पता चलता है कि उसके साथ धोखा हुआ है, प्यार में धोखा, जो उसे मौत की तरफ़ लिए जा रहा है। फ़िल्म के क्लाइमैक्स में क्या होता है, यह तो आप ख़ुद ही देखिएगा कभी, यह फ़िल्म अक्सर 'सब टीवी' पर आती रहती है। फिलहाल आपको सुनवा रहे हैं राजा मेहन्दी अली ख़ान और एल.पी का अन-युज़ुअल कम्बिनेशन का यह गीत फ़िल्म 'अनीता' से, सुनिए।



क्या आप जानते हैं...
कि १९६७ ही वह पहला साल था कि जब लक्ष्मी-प्यारे ने लोकप्रिय गीतों की दौड़ में शंकर जयकिशन को पीछे छोड़ दिया था। एस.जे के 'दीवाना', 'छोटी सी मुलाक़ात', 'गुनाहों का देवता', 'अराउण्ड दि वर्ल्ड', 'हरे कांच की चूड़ियाँ' और 'रात और दिन' जैसी फ़िल्मों के मुक़ाबले एल.पी के 'अनीता', 'फ़र्ज़', 'मिलन', 'शागिर्द', 'नाइट इन लंदन', 'पत्थर के सनम' और 'तक़दीर' के गानें सर चढ़ कर बोले।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०४ /शृंखला ०१
ये धुन उस गीत के प्रिल्यूड की है, सुनिए -


अतिरिक्त सूत्र - हिंदुस्तान की सबसे मशहूर पौराणिक गाथा का सुन्दर चित्रण है गीत में

सवाल १ - गीतकार बताएं - १ अंक
सवाल २ - इस फ़िल्म का एक लता-रफ़ी डुएट उस साल बिनाका गीतमाला का चोटी का गीत बना था। फिल्म का नाम बताएं - १ अंक
सवाल ३ - इसी फ़िल्म के संगीत के लिए एल.पी को उस साल का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी मिला था। फिल्म की प्रमुख अभिनेत्री का नाम बताएं - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह श्याम कान्त जी लगता है इस पहली शृंखला में आप शरद जी को अच्छी टक्कर देने वाले हैं, ४ अंक हुए आपके, प्रतिभा जी बहुत दिनों बाद लौटी हैं सही जवाब के साथ, स्वागत. अमित जी के भी १ अंक से खाता खुला है, बिट्टू जी चूक गए. सुकांत आपकी भावनाओं की हम कद्र करते हैं, धन्येवाद जो आपने इतना मान दिया, मगर अगर आप सारे सवालों के जवाब दे देंगें तो बाकी श्रोता फिर कुछ कह नहीं पायेंगें...बस यही दिक्कत है :)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Wednesday, October 13, 2010

खत लिख दे संवरिया के नाम बाबू....आशा की मासूम गुहार एल पी के सुरों में ढलकर जैसे और भी मधुर हो गयी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 504/2010/204

क्ष्मीकांत प्यारेलाल के संगीतबद्ध गीतों की शृंखला 'एक प्यार का नग़मा है' की चौथी कड़ी में आज आवाज़ आशा भोसले की। युं तो लक्ष्मी-प्यारे के ज़्यादातर गानें लता जी ने गाए हैं, आशा जी के इनके लिए गीत थोड़े कम हैं। लेकिन जितने भी गानें हैं, उनमें आज जो गीत हम आपको सुनवाने के लिए लाए हैं, वह एक ख़ास मुकाम रखता है। यह है फ़िल्म 'आये दिन बहार के' का गीत "ख़त लिख दे सांवरिया के नाम बाबू, वो जान जाएँगे, पहचान जाएँगे"। दोस्तों, एक ज़माना ऐसा था कि जब फ़िल्मों में चिट्ठी और ख़त पर गानें बना करते हैं। बहुत से गानें हैं इस श्रेणी के। यहाँ तक कि ९० के दशक में भी ख़त लिखने पर कई गीत बनें हैं, मसलन, फ़िल्म 'खेल' का गीत "ख़त लिखना है पर सोचती हूँ", फ़िल्म 'दुलारा' में "ख़त लिखना बाबा ख़त लिखना", फ़िल्म 'बेख़ुदी' में "ख़त मैंने तेरे नाम लिखा, हाल-ए-दिल तमाम लिखा", फ़िल्म 'जीना तेरी गली में' का "जाते हो परदेस पिया, जाते ही ख़त लिखना" आदि। लेकिन २००० के दशक के आते ही ईमेल क्रांति इस समाज पर ऐसे हावी हो गई कि लोग जैसे काग़ज़ पर ख़त लिखना ही भूल बैठे। ज़रा पीछे मुड़कर देखिए और याद कीजिए कि कब आपने काग़ज़ पर अंतिम बार किसी को पत्र लिखा था। मुझे याद है साल २००३ के बाद ना मैंने अपने किसी मित्र को पत्र लिखा और ना ही किसी रेडियो स्टेशन को, जो मैं बचपन से करता आया हूँ। और दोस्तों, क्योंकि हमारी फ़िल्में हमारे समाज का ही आइना होती हैं, इसलिए ख़तों का ज़िक्र फ़िल्मी गीतों से भी लुप्त हो गया। आज किसी फ़िल्म में ख़त लिखने की बात नहीं होती। दूसरे और पहलुओं की तरह यह कोमल और मासूम सा पहलु भी फ़िल्मी गीतों से ग़ायब हो गया। हमें यक़ीन है कि आज के इस गीत को सुनते हुए आपको वह ख़त लिखने का ज़माना ज़रूर याद आ जाएगा। इस गीत का शुरुआती शेर भी बड़ा ख़ूबसूरत है जिसमें गीतकार आनंद बक्शी साहब कहते हैं कि "अब के बरस भी बीत ना जाए ये सावन की रातें, देख ले मेरी ये बेचैनी और लिख दे दो बातें"।

आशा भोसले ने यह गीत पर्दे पर फ़िल्म की नायिका आशा पारेख के लिए गाया था। आशा जी की आवाज़ की जो ख़ास बातें हैं, जो लचक है, जो शोख़ी है, वो इस गीत में साफ़ साफ़ सुनाई देती है। गीत को सुनते हुए जैसे सचमुच ऐसा लगता है कि कोई गाँव की लड़की ही गीत को गा रही है। शायद उनकी इसी खासियत के लिए एल.पी ने यह गीत लता जी के बजाए आशा जी से गवाना बेहतर समझा। वैसे एल.पी आशा जी से थोड़े दूर दूर ही रहे हैं। लीजिए यही बात प्यारेलाल जी के शब्दों में ही जान लीजिए जो वो बता रहे हैं विविध भारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में।

कमल शर्मा: प्यारे जी, लता जी की बहन आशा जी, वो भी बहुत वर्सेटाइल, और उन्होंने भी बहुत योगदान दिया है फ़िल्म संगीत को। और उन्होंने भी गानें आपके संगीत निर्देशन में गाए हैं। आशा जी का कैसे मूल्यांकन करते हैं, कैसे उनकी प्रतिभा का?

प्यारेलाल: क्या बात है, दरअसल क्या है, देखिए, ये दो दो अक्षर जो हैं, ये बहुत कम होते हैं, ये लता जी जो हैं, ऐसे ही मैं आशा जी के लिए बात कर रहा हूँ, वैसे ही रफ़ी साहब। लता, दो अक्षर, आशा, दो अक्षर, रफ़ी, दो अक्षर, ऐसे नहीं, और भी हैं, लेकिन आशा जी की क्या बात है! वैसे हमें कम मौका मिला उनके साथ गाना करने का, और उनके गानें हम जो सुनते हैं, हमारे भी सुनते हैं और भी जो उन्होंने गाये हैं, वो भी सुनते हैं, तो उनमें कितनी ख़ूबियाँ हैं, सब गानें अच्छे, बहुत अच्छे गाये हैं। क्या है ना, हम लोग भी थोड़े से वो हैं, कि जो अच्छे गानें हैं लता जी को दे देते हैं, और जो ऐसे गानें हैं, वो हमारी ग़लती है, लेकिन हमारे लिए जैसे लता जी, वैसे आशा जी। आशा जी को मैं उतनी इज़्ज़त देता हूँ जितनी लता जी को देता हूँ, फ़रक इतना है कि हमने उनके साथ काम कम किया है, लेकिन अगर आप दोनों को तोलें तो दोनों १००% गोल्ड हैं। लता जी अगर लता जी हैं तो आशा जी आशा जी हैं। इतना है कि हम आशा जी से थोड़ा डरते हैं, बहुत ग़ुस्सेवाली हैं वो।

कमल शर्मा: प्यारे जी, कोई गाना जो उन्होंने आपके लिए गाया और आपको बहुत पसंद है?

प्यारेलाल: "ख़त लिख दे"

तो लीजिए दोस्तों, प्यारेलाल जी का फ़ेवरीट आशा नंबर हम सब मिलकर सुनते हैं। फ़िल्म 'आये दिन बहार के' के तमाम डिटेल्स हम पहले ही आपको उस दिन दे चुके हैं जिस दिन इस फ़िल्म का शीर्षक गीत आपको सुनवाया था कड़ी क्रमांक ३७० में। बस इतना बताते चलें कि यह गीत खमाज पर आधारित है।



क्या आप जानते हैं...
कि 'आये दिन बहार के' (१९६६) लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत सफ़र की बड़े सितारों वाली पहली महत्वपूर्ण फ़िल्म थी।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०३ /शृंखला ०१
ये धुन उस गीत के पहले इंटरल्यूड की है, सुनिए -


अतिरिक्त सूत्र -१९६७ की फिल्म है ये, और गीत है मुकेश की आवाज़ में, और भी कुछ सूत्र हैं जो नीचे के प्रश्नों में छुपे हैं, ढूंढ निकालिए

सवाल १ - गीतकार वो हैं जिन्होंने मदन मोहन साहब के साथ बहुत अधिक काम किया है, नाम बताएं- १ अंक
सवाल २ - फिल्म का शीर्षक नायिका के नाम पर ही है, नाम बताएं - १ अंक
सवाल ३ - नायक, नायिका के चाँद से चेहरे की तारीफ़ कर रहा है गीत में, किस अभिनेता पर फिल्माया गया है ये गीत - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
सुकान्त जी आपका महफ़िल में आना बेहद सुखद लगा, आपने पहेली से पहले कुछ जानकारियाँ भी बांटी, जिसकी हमें हर श्रोता से उम्मीद रहती है, बस जरा नियमों को पढ़ने में चूक कर गए. इस बार तो आपको अंक नहीं दे पायेंगें पर उम्मीद करेंगें कि आप आगे भी सही जवाब देकर हम सब का दिल जीत लेंगें, और शरद जी जो अब ६ अंकों पर हैं उन्हें टक्कर दे पायेंगें बिलकुल वैसे ही जैसे इस वक्त श्याम कान्त (२) जी व अन्य प्रतिभागी दे रहे हैं, बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ