मंगलवार, 19 मार्च 2019

ऑडियो: देवी नागरानी की कथा अतीत

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल की आवाज़ में मनीषा कुलश्रेष्ठ की कथा 'प्रश्न का पेड़' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं देवी नागरानी की कथा 'अतीत', अनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "अतीत" का कुल प्रसारण समय 11 मिनट 28 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


कहानी लिखने के लिये किसी भी बड़े काण्ड या वारदात का होना ज़रूरी नहीं।
- देवी नागरानी

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

बस एक बार फिर उस शोर में वह एकल भीड़ का हिस्सा बनकर रह गयी।
(देवी नागरानी की कहानी "अतीत" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अतीत MP3

#Ninth Story, Ateet: Devi Nangrani /Hindi Audio Book /2019/9. Voice: Anurag Sharma

6 टिप्‍पणियां:

अनाम ने कहा…

My partner and I stumbled over here coming from a different website and thought I might check things
out. I like what I see so i am just following you.
Look forward to checking out your web page for a second
time.

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत सुंदर....आप को होली की शुभकामनाएं...

अनाम ने कहा…

I do trust all the concepts you've offered to your post.
They are really convincing and will definitely work. Still,
the posts are very quick for novices. May just you please extend them a little from
next time? Thank you for the post.

अनाम ने कहा…

Wow, this piece of writing is nice, my sister is analyzing such things, therefore I am going
to convey her.

Anita ने कहा…

वक्त रहते शैली को समझ में आ गया पर कई बार इतनी देर हो जाती है कि व्यक्ति चला जाता है और उसके अपने बाद में उसकी आवश्यकता को समझ पाते हैं

Anu Shukla ने कहा…

बेहतरीन
बहुत खूब!

HindiPanda

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ