Skip to main content

तितली परी (Titali Pari)

आज से हिन्द-युग्म अपने आवाज़-मंच पर एक नई शुरूआत कर रहा है। अभी तक हम कहानियों का पॉडकास्ट, कविताओं का पॉडकास्ट, संगीतबद्ध गीतों का पॉडकास्ट प्रकाशित करता रहा था। लेकिन इस बार हम बाल साहित्य का पॉडकास्ट आरम्भ कर रहे हैं। बाल-उद्यान पर प्रकाशित बाल-रचनाओं (कविता, कहानी, ज्ञानवर्धक लेख आदि) को एक-एक करके नियमित रूप से मीनाक्षी 'मीनू' अपनी आवाज़ देंगी।

आज हम बच्चों के लिए पहले पॉडकास्ट के रूप में कवि कुलवंत सिंह की कविता 'तितली परी' का पॉडकास्ट लेकर आये हैं। मीनाक्षी 'मीनू' और हिन्द-युग्म का यह प्रयास आपको कितना पसंद आया, यह तो आपकी प्रतिक्रियाओं से पता चलेगा।

नीचे ले प्लेयर से सुनें.

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)



यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3
64Kbps MP3
Ogg Vorbis

Comments

seema sachdeva said…
titali pari kavita padhane me jitani achchi lagi utani hi sunane me bhi , vaise isme geyata ka gun bhi hai agar ise lay se gaaya jaata to aur achcha lagata .fir bhi yah paratham pryaas bahut achcha laga.badhaai.....seema sachdev
पसंद आया!!
मीनाक्षी जी, ये काम बहुत अच्छा हो गया है। कईं बच्चे जो छोटे हैं इसलिये पढ़ नहीं पाते, उनके लिये इस तरह से आवाज़ के माध्यम से कविता का पाठ निश्चित ही उन्हें उत्साहित करेगा। और ये प्रयोग उनमें सुनने के प्रति ध्यान केंद्रित करना भी सिखायेगा। विद्यालयों में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है। हो सकता है कि युग्म के माध्यम से ही तरह तरह की कवितायें स्कूलों तक पहुँच जायें या फिर आकाशवाणी पर बच्चों के कार्यक्रमों में। सुनीता जी, आप इस विषय में अपने विचार दें।
Divya Prakash said…
बहुत अच्छा मीनाक्षीजी , जिस लहजे मैं आपने कविता सुनाई उससे ऐसा लगा की फ़िर से बच्चे हो जाएं | बहुत ही सराहनीय प्रयास है और "तपन जी " ने सही कहा इस तरह के प्रयोग आज की शिक्षा मैं बहुत जरुरी हो गए हैं | उम्मीद करता हूँ आगे भी आपकी आवाज़ यूं ही नई कवितायेँ कहती रहेगी | वैसे भी बच्चो के साहित्य के नाम पर अभी भी हमें पंचतंत्र और कुछ पुरानी कहानिया ही यद् आती है ,इस तरह हम नए साहित्य को नई दिशा देने की तरफ़ कदम बढ़ा रहे हैं ....कुलवंत जी को भी बहुत बहुत साधुवाद
दिव्य प्रकाश
आपकी आवाज़ बहुत अच्छी है मीनाक्षी जी, बच्चों को बहुत भाएगी, कुलवंत जी की रचना भी मधुर है, एक अच्छी शुरुवात, बहुत बहुत शुभकामनाएं
यह तो बहुत ही सुंदर कोशिश है ..बच्चे इस माध्यम से जल्दी किसी भी चीज को सीख जाते हैं ..बहुत ही सुंदर और काबिले तारीफ प्रयास है यह ...कुलवंत जी की कविता और मीनाक्षी जी की आवाज़ दोनों ही बहुत पसन्द आए ..आगे के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं और बधाई !!

रंजू
इस शानदार प्रस्तुति के लिए कवि कुलवंत, मीनू जी और हिंद युग्म के समेकित प्रयास को सदर नमन ! शब्दों की समीक्षा तो पहले ही हो चुकी है, यहाँ सर्वाधिक प्रशंश्नीय है, कविता की प्रकृति के अनुरूप मीनू जी की बाल सुलभ आवाज़. छंद में कहीं कहीं खिचाव और कहीं संकुचन है किंतु कलकंठी स्वरदात्री ने अपने सुमधुर स्वर से इस कमी का सम्यक निर्वाह करते हुए इस प्रस्तुति को सहज ही मनोरम बना दिया है ! हिंद युग्म का यह प्रयास वस्तुतः सराहनीय है क्योंकि बच्चों के लिए यह बहुत जरूरी था ! सधन्यवाद !
अच्छा प्रयास ..........
achchha prayaas.
badhayee.
sorry for writing in english--

Meenu ji ,sorry to criticise few points--
-please correct pronounciation of urdu word-gham --which u say 'gam''in recited poem.

and in the end you were sounding like trying to finish poem fast.

sach kahun it was sounding just like a --teacher reading a poem in a class.
--childrens poems recitation need to be more interactive and friendly----very sorry to comment but these are my views.
Meenakshi said…
हिन्द-युग्म में पहले प्रयास को सराहने के लिए आप सबका धन्यवाद. मैने उसी अन्दाज़ में ही बोलना चाहा जिस अन्दाज़ में बच्चों को हिन्दी कविता की प्रतियोगिता के लिए सहायता चाहिए होती है
13 साल के अध्यापन का अनुभव बच्चों के पास क्लास रूम में पहुँचा ही देता है.
जहाँ तक उच्चारण की बात है..ग़म , क़रार जैसे शब्द न बोल पाने के कारण अपनी फारसी उस्ताद से भी डाँट खाती हूँ. हाँ जलील भाई को ज़लील कभी नहीं पुकारा. :)
anju said…
बहुत ही अच्छा प्रयास
मधुर आवाज़
बच्चे उत्साहित होंगे
बहुत बहुत बधाई
Meenakshi ji bahut achcha laga ki aapne meri tippani ko sakaratmak liya.
dhnywaad.
बहुत ही सुंदर !
मीनाक्षी जी,

सर्वप्रथम आपका हिन्द-युग्म परिवार में स्वागत। हम बच्चे आपकी आवाज़ पाकर बहुत खुश हैं। और आगे भी आपकी आवाज़ में कविताएँ, कहानियाँ, रोचक-प्रसंग सुनना चाहेंगे।

अल्पना जी कि यह बात ठीक है कि मीनू जी 'सडेन डेथ' जैसा अंत कर दिया है।
sahil said…
सुंदर
आलोक सिंह "साहील"

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया