Showing posts with label rahuldev barman. Show all posts
Showing posts with label rahuldev barman. Show all posts

Sunday, September 16, 2018

राग भैरवी : SWARGOSHTHI – 385 : RAG BHAIRAVI






स्वरगोष्ठी – 385 में आज

राग से रोगोपचार – 14 : सदा-सुहागिन राग भैरवी

अस्वाभाविक शारीरिक और मानसिक समस्याओं से मुक्ति दिलाता है यह राग





विदुषी परवीन सुल्ताना
पण्डित भीमसेन जोशी
‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “राग से रोगोपचार” की चौदहवीं और समापन कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, इस श्रृंखला के लेखक, संगीतज्ञ और इसराज तथा मयूरवीणा के सुविख्यात वादक पण्डित श्रीकुमार मिश्र के साथ आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। मानव का शरीर प्रकृति की अनुपम देन है। बाहरी वातावरण के प्रतिकूल प्रभाव से मानव के तन और मन में प्रायः कुछ विकृतियाँ उत्पन्न हो जाती हैं। इन विकृतियों को दूर करने के लिए हम विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों की शरण में जाते हैं। पूरे विश्व में रोगोपचार की अनेक पद्धतियाँ प्रचलित है। भारत में हजारों वर्षों से योग से रोगोपचार की परम्परा जारी है। प्राणायाम का तो पूरा आधार ही श्वसन क्रिया पर केन्द्रित होता है। संगीत में स्वरोच्चार भी श्वसन क्रिया पर केन्द्रित होते हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। इन्हीं स्वरों के संयोजन से राग की उत्पत्ति होती है। स्वर-योग या श्रव्य माध्यम से गायन या वादन के सुरीले, भावप्रधान और प्रभावकारी नाद अर्थात संगीत हमारे मस्तिष्क के संवेदनशील भागों में प्रवेश करता है। मस्तिष्क में नाद के प्रभाव का विश्लेषण होता है। ग्राह्य और उपयोगी नाद को मस्तिष्क सुरक्षित कर लेता है जहाँ नाद की परमाणु ऊर्जा के प्रभाव से सशक्त और उत्तम कोटि के हारमोन्स का सृजन होता है। यह हारमोन्स शरीर की समस्त कोशिकाओं में व्याप्त हो जाता है। इसकी ऊर्जा से अनेक मानसिक और मनोदैहिक समस्याओं का उपचार सम्भव हो सकता है। इसके साथ ही चिकित्सक के सुझावानुसार औषधियों का सेवन भी आवश्यक हो सकता है। मन की शान्ति, सकारात्मक तथा मृदु संवेदना और भक्ति में एकाग्रता के लिए राग भैरवी के कोमल स्वर प्रभावकारी सिद्ध होते हैं। इसी प्रकार विविध रागों के गायन-वादन के माध्यम से प्रातःकाल से रात्रिकालीन परिवेश में प्रभावकारी होता है। अलग-अलग स्वर-भावों और गीत के साहित्य के रसों के अनुसार उत्पन्न सशक्त भाव-प्रवाह के द्वारा डिप्रेशन, तनाव, चिन्ताविकृति आदि मानसिक समस्याओं का उपचार सम्भव है। इस श्रृंखला में हम विभिन्न रागो के स्वरो से उत्पन्न प्रभावों का क्रमशः विवेचन कर रहे हैं। श्रृंखला की इस समापन कड़ी में आज हम राग भैरवी के स्वरों से विभिन्न रोगों के उपचार पर चर्चा करेंगे और आपको पण्डित भीमसेन जोशी के स्वरों में राग भैरवी में निबद्ध दो खयाल रचना प्रस्तुत करेंगे। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार 1981 में प्रदर्शित फिल्म “कुदरत” से इसी राग में पिरोया एक मधुर गीत विदुषी परवीन सुल्ताना के स्वर में प्रस्तुत करेंगे।



जाने-माने मयूर वीणा और इसराज वादक पण्डित श्रीकुमार मिश्र के अनुसार भारतीय रागदारी संगीत से राग भैरवी को अलग करने की कल्पना ही नहीं की जा सकती। यदि ऐसा किया गया तो मानव जाति प्रातःकालीन ऊर्जा की प्राप्ति से वंचित हो जाएगा। राग भैरवी मानसिक शान्ति प्रदान करता है। इसकी अनुपस्थिति से मनुष्य डिप्रेशन, उलझन, तनाव जैसी असामान्य मनःस्थितियों का शिकार हो सकता है। प्रातःकाल सूर्योदय का परिवेश परमशान्ति का सूचक होता है। ऐसी स्थिति में भैरवी के कोमल स्वर- ऋषभ, गान्धार, धैवत और निषाद, मस्तिष्क की संवेदना तंत्र को सहज ढंग से ग्राह्य होते है। कोमल स्वर मस्तिष्क में सकारात्मक हारमोन रसों का स्राव करते हैं। इससे मानव मानसिक और शारीरिक विसंगतियों से मुक्त रहता है। भैरवी के विभिन्न स्वरों के प्रभाव के विषय में श्री मिश्र ने बताया कि कोमल ऋषभ स्वर करुणा, दया और संवेदनशीलता का भाव सृजित करने में समर्थ है। कोमल गान्धार स्वर आशा का भाव, कोमल धैवत जागृति भाव और कोमल निषाद स्फूर्ति का सृजन करने में सक्षम होता है। भैरवी का शुद्ध मध्यम इन सभी भावों को गाम्भीर्य प्रदान करता है। धैवत की जागृति को पंचम स्वर सबल बनाता है। इस राग के प्रभाव से उत्पन्न हारमोन्स रस की ऊर्जा से उदर विकार, वायु विकार, हृदय रोग, स्नायु सम्बन्धी अस्वाभाविकता, ज्वर, डिप्रेशन, फोबिया, तनाव, अनिद्रा आदि की समस्याओं से मुक्ति प्राप्त हो सकती है। इस राग के गायन-वादन का सर्वाधिक उपयुक्त समय प्रातःकाल होता है। भैरवी के स्वरों की सार्थक अनुभूति कराने के लिए अब हमने राग भैरवी में निबद्ध दो खयाल का चुनाव किया है। इन खयाल में स्वर पण्डित भीमसेन जोशी के हैं।

राग भैरवी : विलम्बित ‘फुलवन गेंद से...’ और द्रुत खयाल- ‘हमसे पिया...’ : पं. भीमसेन जोशी


सम्पूर्ण जाति का राग भैरवी, भैरवी थाट का ही आश्रय राग माना जाता है। राग भैरवी में ऋषभ, गान्धार, धैवत और निषाद सभी कोमल स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर मध्यम और संवादी स्वर षडज होता है। राग भैरवी के आरोह स्वर हैं, सा, रे॒ (कोमल), ग॒ (कोमल), म, प, ध॒ (कोमल), नि॒ (कोमल), सां तथा अवरोह के स्वर, सां, नि॒ (कोमल), ध॒ (कोमल), प, म ग (कोमल), रे॒ (कोमल), सा होते हैं। यूँ तो इस राग के गायन-वादन का समय प्रातःकाल, सन्धिप्रकाश बेला में है, किन्तु आम तौर पर इसका गायन-वादन किसी संगीत-सभा अथवा समारोह के अन्त में किये जाने की परम्परा बन गई है।

नौवें दशक के आरम्भिक वर्ष अर्थात वर्ष 1981 में फिल्म ‘कुदरत’ प्रदर्शित हुई थी। इसके संगीतकार राहुलदेव बर्मन थे। उन्होने फिल्म के एक प्रसंग के लिए राग भैरवी के स्वरों में एक गीत की धुन बनाई। फिल्म में यह गीत दो भिन्न प्रसंगों में और दो भिन्न आवाज़ों में शामिल किया गया है। गीत का एक संस्करण पार्श्वगायक किशोर कुमार की आवाज़ में है तो दूसरा संस्करण विदुषी परवीन सुल्ताना की आवाज़ में है। आज हम आपको परवीन जी की आवाज़ में राग भैरवी के स्वरों में पिरोया वही गीत सुनवाते हैं। बेगम परवीन सुल्ताना का नाम देश की शीर्षस्थ गायिकाओं में शामिल है। उनका जन्म नौगाँव, असम में 10 जुलाई 1950 को एक संगीतप्रेमी परिवार में हुआ था। बचपन में ही उन्हें संगीत की शिक्षा अपने दादा मोहम्मद नजीब खाँ से मिली। बाद में बंगाल के जाने-माने संगीतज्ञ पण्डित चिन्मय लाहिड़ी से विधिवत प्रशिक्षण प्राप्त किया। पटियाला घराने की परम्परागत गायकी का मार्गदर्शन उन्हें उस्ताद दिलशाद खाँ ने प्रदान किया। बाद में उस्ताद दिलशाद खाँ से ही उनका विवाह हुआ। दोनों का पहला सार्वजनिक जुगलबन्दी गायन का प्रदर्शन अफगानिस्तान के जाशीन समारोह में हुआ था। परवीन जी का पहला एकल गायन का प्रदर्शन 1962 में मात्र 12 वर्ष की आयु में हुआ था और 1965 से ही उनके संगीत की रिकार्डिंग होने लगी थी। भारत सरकार ने उन्हें 1976 में ‘पद्मश्री’ सम्मान और इसी वर्ष यानी 2014 में ‘पद्मभूषण’ सम्मान प्रदान किया है। इसके अलावा 1986 में देश के प्रतिष्ठित ‘तानसेन पुरस्कार’ और 1999 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार’ से भी अलंकृत किया जा चुका है। परवीन सुल्ताना जी ने खयाल, ठुमरी, भजन के साथ ही कुछ फिल्मों में भी गीत गाये हैं। फिल्म ‘कुदरत’ के अलावा ‘दो बूँद पानी’, ‘पाकीजा’ और ‘गदर’ जैसी फिल्मों के गीत गाये हैं। आज की ‘स्वरगोष्ठी’ में फिल्म कुदरत का जो गीत हम प्रस्तुत कर रहे हैं, उसके बोल हैं- ‘हमें तुमसे प्यार कितना ये हम नहीं जानते...’। जैसा कि हमने पूर्व में उल्लेख किया है, इस गीत का एक और संस्करण पार्श्वगायक किशोर कुमार की आवाज में है। उस वर्ष के फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए गीत के दोनों संस्करण नामित हुए थे, किन्तु पुरस्कार मिला, महिला वर्ग में परवीन जी के गाये इसी गीत को। इसके अलावा फिल्म के लेखक और निर्देशक सुप्रसिद्ध फ़िल्मकार चेतन आनन्द को सर्वश्रेष्ठ लेखन का फिल्मफेयर पुरस्कार भी प्राप्त हुआ था। इस गीत के संगीतकार राहुलदेव बर्मन और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी हैं। परदे पर यह गीत सुप्रसिद्ध अभिनेत्री अरुणा ईरानी पर फिल्माया गया है। लीजिए, आप यह गीत सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।

राग भैरवी : ‘हमें तुमसे प्यार कितना...’ : फिल्म – कुदरत : विदुषी परवीन सुल्ताना



संगीत पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ के 385वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको वर्ष 1955 में प्रदर्शित एक फिल्म से रागबद्ध गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के उत्तर देने आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। 390वें अंक की ‘स्वरगोष्ठी’ तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें वर्ष 2018 के चौथे सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा।




1 – इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का स्पर्श है?

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए।

3 – इस गीत में मुख्य स्वर किस उस्ताद गायक के हैं?

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार, 22 सितम्बर, 2018 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। “फेसबुक” पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेता का नाम हम उनके शहर, प्रदेश और देश के नाम के साथ ‘स्वरगोष्ठी’ के 387वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ की 383वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको वर्ष 1959 में प्रदर्शित फिल्म “चाचा ज़िंदाबाद” के एक रागबद्ध गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से किसी दो प्रश्न के उत्तर पूछा था। पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग – ललित, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल – तीनताल और तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – लता मंगेशकर और मन्ना डे

“स्वरगोष्ठी” की इस पहेली प्रतियोगिता में तीनों अथवा तीन में से दो प्रश्नो के सही उत्तर देकर विजेता बने हैं; वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, कल्याण, महाराष्ट्र से शुभा खाण्डेकर, चेरीहिल न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, मैरिलैण्ड, अमेरिका से विजया राजकोटिया, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, फिनिक्स, अमेरिका से मुकेश लाडीया और हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ई-मेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नये प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक भी उत्तर ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं।


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी महत्त्वाकांक्षी श्रृंखला “राग से रोगोपचार” की चौदहवीं और समापन कड़ी में आपने कुछ शारीरिक और मनोशारीरिक रोगों के उपचार में सहयोगी राग भैरवी का परिचय प्राप्त किया। आपने पण्डित भीमसेन जोशी द्वारा प्रस्तुत राग भैरवी के दो खयाल रचनाओं का रसास्वादन किया। साथ ही आपने विदुषी परवीन सुल्ताना के स्वर में इस राग पर केन्द्रित एक फिल्मी गीत फिल्म “कुदरत” से सुना। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेगे। आज के अंक और श्रृंखला के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। हमारी वर्तमान अथवा अगली श्रृंखला के लिए यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः 7 बजे हम ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर एक बार फिर सभी संगीत-प्रेमियों का स्वागत करेंगे।


शोध व आलेख : पं. श्रीकुमार मिश्र   
सम्पादन व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र   

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 
राग भैरवी : SWARGOSHTHI – 385 : RAG BHAIRAVI : 16 सितम्बर, 2018

Sunday, August 5, 2018

राग मालगुंजी : SWARGOSHTHI – 379 : RAG MALGUNJI






स्वरगोष्ठी – 379 में आज

राग से रोगोपचार – 8 : रात्रि के दूसरे प्रहर का राग मालगुंजी

वैचारिक अन्तर्द्वन्द्व और उलझन की स्थिति में उपयोगी हो सकता है यह राग




उस्ताद अलाउद्दीन  खाँ 
लता मंगेशकर
‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “राग से रोगोपचार” की आठवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, इस श्रृंखला के लेखक, संगीतज्ञ और इसराज तथा मयूरवीणा के सुविख्यात वादक पण्डित श्रीकुमार मिश्र के साथ आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। मानव का शरीर प्रकृति की अनुपम देन है। बाहरी वातावरण के प्रतिकूल प्रभाव से मानव के तन और मन में प्रायः कुछ विकृतियाँ उत्पन्न हो जाती हैं। इन विकृतियों को दूर करने के लिए हम विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों की शरण में जाते हैं। पूरे विश्व में रोगोपचार की अनेक पद्धतियाँ प्रचलित है। भारत में हजारों वर्षों से योग से रोगोपचार की परम्परा जारी है। प्राणायाम का तो पूरा आधार ही श्वसन क्रिया पर केन्द्रित होता है। संगीत में स्वरोच्चार भी श्वसन क्रिया पर केन्द्रित होते हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। इन्हीं स्वरों के संयोजन से राग की उत्पत्ति होती है। स्वर-योग या श्रव्य माध्यम से गायन या वादन के सुरीले, भावप्रधान और प्रभावकारी नाद अर्थात संगीत हमारे मस्तिष्क के संवेदनशील भागों में प्रवेश करता है। मस्तिष्क में नाद के प्रभाव का विश्लेषण होता है। ग्राह्य और उपयोगी नाद को मस्तिष्क सुरक्षित कर लेता है जहाँ नाद की परमाणु ऊर्जा के प्रभाव से सशक्त और उत्तम कोटि के हारमोन्स का सृजन होता है। यह हारमोन्स शरीर की समस्त कोशिकाओं में व्याप्त हो जाता है। इसकी ऊर्जा से अनेक मानसिक और मनोदैहिक समस्याओं का उपचार सम्भव हो सकता है। इसके साथ ही चिकित्सक के सुझावानुसार औषधियों का सेवन भी आवश्यक हो सकता है। मन की शान्ति, सकारात्मक तथा मृदु संवेदना और भक्ति में एकाग्रता के लिए राग भैरवी के कोमल स्वर प्रभावकारी सिद्ध होते हैं। इसी प्रकार विविध रागों के गातन-वादन के माध्यम से प्रातःकाल से रात्रिकालीन परिवेश में प्रभावकारी होता है। अलग-अलग स्वर-भावों और गीत के साहित्य के रसों के अनुसार उत्पन्न सशक्त भाव-प्रवाह के द्वारा डिप्रेशन, तनाव, चिन्ताविकृति आदि मानसिक समस्याओं का उपचार सम्भव है। इस श्रृंखला में हम विभिन्न रागो के स्वरो से उत्पन्न प्रभावों का क्रमशः विवेचन कर रहे हैं। श्रृंखला की आठवीं कड़ी में आज हम राग मालगुंजी के स्वरो से विभिन्न रोगों के उपचार पर चर्चा करेंगे और आपको उस्ताद अलाउद्दीन खाँ का वायलिन पर बजाया राग मालगुंजी एक दुर्लभ गत सुनवाएँगे। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार 1961 में प्रदर्शित फिल्म “छोटे नवाब" से इसी राग में पिरोया एक मधुर गीत लता मंगेशकर के स्वर में प्रस्तुत करेंगे।



राग मालगुंजी के मुख्य स्वर हैं; रे, नि॒, सा, रे, ग, म। इनसे इस राग का प्रारम्भिक दर्शन हो जाता है। इस राग को राग रागेश्वरी और राग बागेश्री का मिश्रण माना जाता है। आरोह में कहीं-कहीं रागेश्वरी तो अवरोह में कहीं-कहीं बागेश्री का आभास होता है। संगीत मार्तण्ड पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर के मतानुसार इस राग की प्रकृति न गम्भीर है और न तरल है। वैचारिक अन्तर्द्वन्द्व, उलझन की स्थितियों में इस राग के स्वर संवेदनात्मक रूप में प्रेरणा तथा मनोबल को सुदृढ़ करने के साथ-साथ उन कष्टदायक स्थितियों का समाधान करने में सहयोगी सिद्ध हो सकते हैं। उलझनों तथा मानसिक अन्तर्द्वन्द्व की स्थितियों के साथ-साथ इनके प्रभावानुसार उत्पन्न मनोभौतिक समस्याओं; उच्चरक्तचाप का बढ़ना, भूंख न लगना, अनिद्रा आदि का उपचार इस राग से सम्भव हो सकता है। राग मालगुंजी के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए अब हम आपके लिए मैहर घराने के संस्थापक उस्ताद अलाउद्दीन खाँ का वायलिन वादन प्रस्तुत कर रहे हैं। यू-ट्यूब के सौजन्य से प्रस्तुत इस दुर्लभ वीडियो का अब आप रसास्वादन करें।

राग मालगुंजी : वायलिन वादन : उस्ताद अलाउद्दीन खाँ


राग मालगुंजी का सम्बन्ध काफी थाट से माना जाता है। इसमें दोनों गान्धार और दोनों निषाद प्रयोग किये जाते हैं। शुद्ध निषाद का प्रयोग अति अल्प किया जाता है। अन्य स्वर शुद्ध प्रयोग होते हैं। आरोह में पंचम स्वर वर्जित होता है और अवरोह में सातो स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इसलिए यह षाडव-सम्पूर्ण जाति का राग है। राग का वादी स्वर मध्यम और संवादी स्वर षडज होता है। इस राग के गायन-वादन का अनुकूल समय रात्रि का दूसरा प्रहर है। सामान्यतः आरोह में शुद्ध गान्धार और शुद्ध निषाद तथा अवरोह में कोमल गान्धार और कोमल निषाद का प्रयोग किया जाता है। शुद्ध निषाद का अति अल्प प्रयोग केवल तार सप्तक के साथ आरोह में किया जाता है। मन्द्र सप्तक के आरोहात्मक और अवरोहात्मक दोनों प्रकार के स्वरों में कोमल निषाद का प्रयोग किया जाता है। कुछ विद्वान केवल कोमल निषाद प्रयोग करते हैं, शुद्ध निषाद लगाते ही नहीं। पंचम स्वर आरोह में वर्जित है और अवरोह में अल्प है। धैवत से मध्यम को आते समय पंचम का कण लिया जाता है। शुद्ध निषाद का अल्पत्व, कोमल निषाद की अधिकता, मध्यम स्वर का बहुत्व और पंचम स्वर का अल्पत्व तथा लगभग राग बागेश्री के समान चलन होने के कारण इसे बागेश्री अंग का राग कहा जाता है। राग मालगुंजी का वादी-संवादी क्रमशः मध्यम और षडज होने के कारण इसे रात्रि 12 बजे के बाद गाना-बजाना चाहिए, किन्तु इसे रात्रि 12 बजे से पूर्व गाया-बजाया जाता है। अब हम प्रस्तुत कर रहे हैं; राग मालगुंजी पर आधारित एक फिल्मी गीत। इसे हमने वर्ष 1961 में प्रदर्शित फिल्म “छोटे नवाब” से लिया है। लता मंगेशकर के स्वर में प्रस्तुत उस गीत के संगीतकार राहुलदेव बर्मन हैं। आप यह गीत सुनिए और हमें आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।

राग मालगुंजी : “घर आ जा घिर आई बदरा...” : लता मंगेशकर : फिल्म – छोटे नवाब




संगीत पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ के 379वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको वर्ष 1971 में प्रदर्शित एक फिल्म से रागबद्ध गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के उत्तर देने आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। 380वें अंक की ‘स्वरगोष्ठी’ तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें वर्ष 2018 के तीसरे सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा।





1 – इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का आधार है?

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए।

3 – इस गीत में किस पार्श्वगायिका के स्वर है।?

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार, 11 अगस्त, 2018 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। “फेसबुक” पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेता का नाम हम उनके शहर, प्रदेश और देश के नाम के साथ ‘स्वरगोष्ठी’ के 381वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ की 377वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म “अनारकली” के एक रागबद्ध गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से किसी दो प्रश्न के उत्तर पूछा था। पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग – रागेश्वरी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल कहरवा और तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – लता मंगेशकर

“स्वरगोष्ठी” की इस पहेली प्रतियोगिता में तीनों अथवा तीन में से दो प्रश्नो के सही उत्तर देकर विजेता बने हैं; वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, नांदेड़ से भास्कर अमृतवार, चेरीहिल न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, कोटा, राजस्थान से तुलसीराम वर्मा, कल्याण, महाराष्ट्र से शुभा खाण्डेकर, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, मेरीलैण्ड, अमेरिका से विजया राजकोटिया और हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ई-मेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नये प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक उत्तर भी ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं।


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी महत्त्वाकांक्षी श्रृंखला “राग से रोगोपचार” की आठवीं कड़ी में आपने कुछ शारीरिक और मनोशारीरिक रोगों के उपचार में सहयोगी राग मालगुंजी का परिचय प्राप्त किया। आपने उस्ताद अलाउद्दीन खाँ द्वारा वायलिन पर प्रस्तुत राग मालगुंजी का रसास्वादन किया। साथ ही आपने लता मंगेशकर की आवाज़ में इस राग पर आधारित एक फिल्मी गीत फिल्म “छोटे नवाब” से सुना। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेगे। आज के अंक के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। हमारी वर्तमान अथवा अगली श्रृंखला के लिए यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः 7 बजे हम ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर एक बार फिर सभी संगीत-प्रेमियों का स्वागत करेंगे।


शोध व आलेख : पं. श्रीकुमार मिश्र   
सम्पादन व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र   

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 
राग मालगुंजी : SWARGOSHTHI – 379 : RAG MALGUNJI : 5 अगस्त, 2018

Sunday, February 7, 2016

राग श्यामकल्याण : SWARGOSHTHI – 256 : RAG SHYAM KALYAN




स्वरगोष्ठी – 256 में आज

दोनों मध्यम स्वर वाले राग – 4 : राग श्यामकल्याण

उस्ताद अमजद अली खाँ और किशोर कुमार से सुनिए श्यामकल्याण की प्रस्तुतियाँ



‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी श्रृंखला – ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ की चौथी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-रसिकों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत के कुछ ऐसे रागों की चर्चा कर रहे हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाता है। संगीत के सात स्वरों में ‘मध्यम’ एक महत्त्वपूर्ण स्वर होता है। हमारे संगीत में मध्यम स्वर के दो रूप प्रयोग किये जाते हैं। स्वर का पहला रूप शुद्ध मध्यम कहलाता है। 22 श्रुतियों में दसवाँ श्रुति स्थान शुद्ध मध्यम का होता है। मध्यम का दूसरा रूप तीव्र या विकृत मध्यम कहलाता है, जिसका स्थान बारहवीं श्रुति पर होता है। शास्त्रकारों ने रागों के समय-निर्धारण के लिए कुछ सिद्धान्त निश्चित किये हैं। इन्हीं में से एक सिद्धान्त है, “अध्वदर्शक स्वर”। इस सिद्धान्त के अनुसार राग का मध्यम स्वर महत्त्वपूर्ण हो जाता है। अध्वदर्शक स्वर सिद्धान्त के अनुसार राग में यदि तीव्र मध्यम स्वर की उपस्थिति हो तो वह राग दिन और रात्रि के पूर्वार्द्ध में गाया-बजाया जाएगा। अर्थात, तीव्र मध्यम स्वर वाले राग 12 बजे दिन से रात्रि 12 बजे के बीच ही गाये-बजाए जा सकते हैं। इसी प्रकार राग में यदि शुद्ध मध्यम स्वर हो तो वह राग रात्रि 12 बजे से दिन के 12 बजे के बीच का अर्थात उत्तरार्द्ध का राग माना गया। कुछ राग ऐसे भी हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वर प्रयोग होते हैं। इस श्रृंखला में हम ऐसे ही रागों की चर्चा करेंगे। श्रृंखला की चौथी कड़ी में आज हम राग श्यामकल्याण के स्वरूप की चर्चा करेंगे। साथ ही इस राग में पहले सरोद वाद्य पर उस्ताद अमजद अली खाँ की एक रचना प्रस्तुत करेंगे और इसी राग पर आधारित फिल्म ‘दर्द का रिश्ता’ का एक गीत गायक किशोर कुमार की आवाज़ में सुनवाएँगे।


चढ़ते धैवत त्याग कर, दोनों मध्यम मान,
स-म वादी-संवादी सों, क़हत श्यामकल्याण।

दोनों मध्यम स्वरों से युक्त राग श्यामकल्याण हमारी श्रृंखला, ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ की चौथी कड़ी का राग है। तीव्र मध्यम स्वर की उपस्थिति के कारण इस राग को कल्याण थाट के अन्तर्गत माना जाता है। आरोह में गान्धार और धैवत स्वर वर्जित होता है तथा अवरोह में सभी सातो स्वर प्रयोग किये जाते हैं। दोनों मध्यम के अलावा शेष सभी स्वर शुद्ध प्रयोग किये जाते हैं। आरोह में पाँच और अवरोह में सात स्वर प्रयोग किये जाने के कारण राग श्यामकल्याण की जाति औड़व-सम्पूर्ण होती है। राग के आरोह में तीव्र मध्यम और अवरोह में दोनों मध्यम स्वरो का प्रयोग किया जाता है। इसका वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर षडज होता है। श्रृंखला के पिछले रागों की तरह राग श्यामकल्याण का गायन-वादन भी पाँचवें प्रहर अर्थात रात्रि के प्रथम प्रहर में किया जाता है।

उस्ताद अमजद अली खाँ
अब हम आपको राग श्यामकल्याण का उदाहरण सुविख्यात संगीतज्ञ उस्ताद अमजद अली खाँ द्वारा सरोद पर बजाया यही राग सुनवाते हैं। विश्वविख्यात संगीतज्ञ और सरोद-वादक उस्ताद अमजद अली खाँ का जन्म 9 अक्टूबर, 1945 को ग्वालियर में संगीत के सेनिया बंगश घराने की छठी पीढ़ी में हुआ था। संगीत इन्हें विरासत में प्राप्त हुआ था। इनके पिता उस्ताद हाफ़िज़ अली खाँ ग्वालियर राज-दरबार में प्रतिष्ठित संगीतज्ञ थे। इस घराने के संगीतज्ञों ने ही ईरान के लोकवाद्य ‘रबाब’ को भारतीय संगीत के अनुकूल परिवर्द्धित कर ‘सरोद’ नामकरण किया था। अमजद अली अपने पिता हाफ़िज़ अली के सबसे छोटे पुत्र हैं। उस्ताद हाफ़िज़ अली खाँ ने परिवार के सबसे छोटे और सर्वप्रिय सन्तान को बहुत छोटी उम्र में ही संगीत-शिक्षा देना आरम्भ कर दिया था। मात्र बारह वर्ष की आयु में एकल सरोद-वादन का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन किया था। एक छोटे से बालक की सरोद पर अनूठी लयकारी और तंत्रकारी सुन कर दिग्गज संगीतज्ञ दंग रह गए। उस्ताद अमजद अली खाँ को बचपन में ही सरोद से ऐसा लगाव हुआ कि युवावस्था तक आते-आते एक श्रेष्ठ सरोद-वादक के रूप में पहचाने जाने लगे। उन्होने सरोद-वादन की शैली में विकास के लिए कई प्रयोग किये। उनका एक महत्त्वपूर्ण प्रयोग यह है कि सरोद के तारों को उँगलियों के सिरे से बजाने के स्थान पर नाखून से बजाना। सितार की भाँति सरोद में स्वरों के पर्दे नहीं होते, इसीलिए जब उँगलियों के सिरे के स्थान पर नाखूनों से इसे बजाया जाता है तब स्वरों की स्पष्टता और मधुरता बढ़ जाती है। अब आप सरोद पर बजाया राग श्यामकल्याण सुनिए। रचना के आरम्भ में आप राग का समृद्ध आलाप और फिर तीनताल में एक आकर्षक गत सुनेगे।


राग श्यामकल्याण : सरोद पर आलाप और तीनताल की गत : उस्ताद अमजद अली खाँ



राहुलदेव बर्मन और किशोर कुमार
राग श्यामकल्याण, राग कल्याण का ही एक प्रकार है, यह इसके नाम से ही स्पष्ट है। राग के नाम से ऐसा प्रतीत होता है, मानो यह दो रागों- श्याम और कल्याण के मेल से बना है। किन्तु ऐसा नहीं है। दरअसल इस राग में राग कामोद और कल्याण का सुन्दर मिश्रण होता है। राग के अवरोह में गान्धार का अल्प और वक्र प्रयोग किया जाता है। पूर्वांग में कामोद अंग कम करने के लिए गान्धार का अल्प प्रयोग किया जाता है। प्रत्येक आलाप के अन्त में ग म रे स्वरो का प्रयोग होता है। इस राग में निषाद स्वर का महत्त्वपूर्ण स्थान होता है। यद्यपि धैवत वर्जित माना जाता है, किन्तु निषाद पर धैवत का कण दिया जाता है। यह कण कल्याण रागांग का सूचक है। वादी स्वर पंचम होने से यह उत्तरांग प्रधान राग होना चाहिए, किन्तु वास्तव में यह पूर्वांग प्रधान होता है। इसीलिए कुछ विद्वान राग का वादी स्वर षडज और संवादी स्वर पंचम तथा कुछ विद्वान ऋषभ स्वर को वादी और पंचम को संवादी मानते हैं। राग को शुद्ध सारंग से बचाने के लिए अवरोह में गान्धार का प्रयोग तथा कामोद से बचाने के लिए निषाद स्वर को बढ़ाते है। आज हमने राग श्यामकल्याण पर आधारित फिल्मी गीत के रूप में 1983 में प्रदर्शित फिल्म ‘दर्द का रिश्ता’ से एक गीत का चुनाव किया है। इस गीत के संगीतकार राहुलदेव बर्मन हैं और इसे हरफनमौला पार्श्वगायक किशोर कुमार ने स्वर दिया है। दादरा ताल में निबद्ध इस गीत के बोल हैं- ‘यूँ नींद से वो जान-ए-चमन जाग उठी है...’। आप यह गीत सुनिए और हमें आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए। और हाँ, नीचे की पहेली को सुलझाना न भूलिएगा।


राग श्यामकल्याण : ‘यूँ नींद से वो जान-ए-चमन...’ : किशोर कुमार : फिल्म - दर्द का रिश्ता 




संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 256वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक राग पर आधारित फिल्मी गीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 260वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पहली श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत का यह अंश सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का आभास हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक का नाम हमे बता सकते हैं?

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 13 फरवरी, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 258वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 254 की संगीत पहेली में हमने आपको 1969 में प्रदर्शित फिल्म ‘तलाश’ से राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग छायानट, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल सितारखानी अथवा पंजाबी ठेका और तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायक – मन्ना डे

इस बार की पहेली में कुल चार प्रतिभागियों ने सही उत्तर दिया है। हमारे नियमित प्रतिभागी विजेता हैं- जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी और वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया। सभी चार प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई। इससे पूर्व पहेली क्रमांक 253 के विजेताओं की सूची में औरंगाबाद, महाराष्ट्र के नारायण सिंह हजारी के नाम की घोषणा पहेली की औपचारिकता पूर्ण न होने से हम नहीं कर सके थे। नारायण जी संगीत पहेली में पहली बार प्रतिभागी बने और विजयी हुए। हम उनका हार्दिक अभिनन्दन करते हैं और आशा करते हैं कि भविष्य में भी अपनी सहभागिता निभाएंगे।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में आप हमारी श्रृंखला ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ का रसास्वादन कर रहे हैं। श्रृंखला के चौथे अंक में हमने आपसे राग श्यामकल्याण पर चर्चा की। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पाठक और श्रोता नियमित रूप से हमें पत्र लिखते है। हम उनके सुझाव के अनुसार ही आगामी विषय निर्धारित करते है। इस बार हम अपने दो पाठको, जेसिका मेनेजेस और विश्वनाथ ओक ने हमें सन्देश भेजा है, जिसे हम आपके लिए प्रस्तुत कर रहे है।

JESSICA MENEZES - Thanks so much for your wonderful posts explaining about the various Ragas with beautiful examples. itni khoobsoorti se hamari jaankaari badhaane ke liye bahut bahut dhanywaad.

VISHWANATH OKE - Must apprteciate your dedication in regularly sharing these posts every Sunday. Very useful ones. Keep it up.

‘स्वरगोष्ठी’ पर आप भी अपने सुझाव और फरमाइश हमें शीघ्र भेज सकते है। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  



Saturday, January 2, 2016

"याद आ रही है, तेरी याद आ रही है..." - क्यों पंचम इस गीत के ख़िलाफ़ थे?


नववर्ष पर सभी पाठकों और श्रोताओं को हार्दिक शुभकामनाएँ  



एक गीत सौ कहानियाँ - 73
 
'याद आ रही है, तेरी याद आ रही है...' 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 73-वीं कड़ी में आज जानिए 1981 की फ़िल्म ’लव स्टोरी’ के मशहूर गीत "याद आ रही है, तेरी याद आ रही है..." के बारे में जिसे अमित कुमार और लता मंगेशकर ने गाया था। बोल आनन्द बक्शी के और संगीत राहुल देव बर्मन का।


गायक अमित कुमार ने लता मंगेशकर के साथ कई लोकप्रिय युगलगीत गाया है। अधिकतर लोगों का अनुमान रहा है कि इन दोनों ने साथ में पहली बार ’लव स्टोरी’ फ़िल्म में गीत गाये हैं, जबकि यह तथ्य सही नहीं है। लता-अमित का गाया पहला युगल गीत आया था साल 1979 में; फ़िल्म थी ’दुनिया मेरी जेब में’ और गीत के बोल थे "देख मौसम कह रहा है..."। फ़िल्म के फ़्लॉप होने और इस गीत में भी कोई ख़ास बात ना होने की वजह से यह गीत ज़्यादा सुना नहीं गया। ख़ैर, आज हम चर्चा कर रहे हैं फ़िल्म ’लव स्टोरी’ के गीत "याद आ रही है.." की जिसके दो संस्करण हैं, एक लता-अमित का युगल, और दूसरा अमित का एकल सैड वर्ज़न। इस फ़िल्म को अभिनेता राजेन्द्र कुमार ने बनाई अपने बेटे कुमार गौरव को लौन्च करने के लिए। राजेन्द्र कुमार जब स्टार थे तब उनकी ज़्यादातर फ़िल्मों के संगीतकार या तो शंकर-जयकिशन हुआ करते थे या नौशाद साहब। दोनों बर्मन, यानी कि एस.डी. और आर.डी, कभी भी उनकी पहली पसन्द नहीं रहे। अमित कुमार के अनुसार रमेश बहल (जो राजेन्द्र कुमार के रिश्तेदार थे) के सुझाव पर ’लव स्टोरी’ के लिए राजेन्द्र कुमार ने राहुल देव बर्मन को साइन कर लिया। राजेन्द्र कुमार के लिए यह जायज़ था कि वो किसी ऐसे संगीतकार को अपनी फ़िल्म के लिए चुने जिनके विचार उनसे मेल खाते। इसलिए अन्य वरिष्ठ संगीतकारों को चुनने के बजाय पंचम को चुनना जितना आश्चर्यजनक था उससे भी ज़्यादा आश्चर्य की बात थी अपने बेटे के पार्श्वगायन के लिए अमित कुमार जैसे नए और अनभिज्ञ गायक को चुनना जो अब तक एक हिट गीत के लिए तरस रहा था। ’लव स्टोरी’ में राजेन्द्र कुमार और किशोर कुमार के बीच में ’किशोर का लड़का, मेरा लड़का’ वाला समीकरण आ गया, और राजेन्द्र कुमार और किशोर कुमार जिस विश्वविद्यालय से उत्तिर्ण हुए थे, उनके बेटे भी वहीं पे पढ़ रहे थे। इस तरह से राजेन्द्र कुमार का मन साफ़ हो गया।


"याद आ रही है..." गीत में बांसुरी-नवाज़ पंडित रणेन्द्रनाथ (रोनु) मजुमदार ने पहली बार किसी फ़िल्मी गीत में बांसुरी बजाया था। और इस गीत के लिए अमित कुमार को 1982 के सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला था। और रोचक बात यह है कि उस पुरस्कार के नामांकन में दो गीत उनके पिता किशोर कुमार के भी थे और दोनों गीत एक से बढ़ कर एक लाजवाब! वो गीत थे फ़िल्म ’कुदरत’ का "हमें तुमसे प्यार कितना..." और फ़िल्म ’याराना’ का "छू कर मेरे मन को..."। ये दोनों ही गीत इतने हिट हुए थे कि इन्हीं में से किसी को पुरस्कार मिलना स्वाभाविक था और लोगों का अनुमान भी। यहाँ तक कि ख़ुद किशोर कुमार भी हैरान रह गए थे। अमित कुमार ने ख़ुद एक बार इस बात का ज़िक्र किया है कि ’ल\व स्टोरी’ से पहले उनके पिता कभी उनकी तारीफ़ नहीं करते थे और हर गीत के बाद उससे बेहतर करने का सुझाव देते थे। पर ’लव स्टोरी’ के उस गीत ने जब ’कुदरत’ और ’याराना’ को मात दे दी तो उन्होंने अपने बेटे को शाबाशी दिये बिना नहीं रह सके और कहा कि आज तूने मुझे हरा दिया। और यह भी बताना आवश्यक है कि उसके बाद अगले चार सालों तक इस पुरस्कार पर किशोर कुमार ने किसी को भी हक़ जमाने नहीं दिया, यहाँ तक कि अपने बेटे को भी नहीं। 1983 में "कि पग घुंगरू बाँध मीरा नाची थी...", 1984 में "हमें और जीने की चाहत न होती...", 1985 में "मंज़िलें अपनी जगह हैं, रास्ते अपनी जगह..." और 1986 में "सागर किनारे दिल यह पुकारे..." के लिए किशोर दा को यह पुरस्कार मिला, और इसके अगले ही साल वो चल बसे। अमित कुमार से ’लव स्टोरी’ की सफलता के बारे में जब पूछा गया तब उन्होंने बताया कि ’लव स्टोरी’ के गीतों की अपार लोकप्रियता और खुशी को वो ठीक तरह से मना नहीं सके क्योंकि उन्हीं दिनों उनकी शादी टूट गई थी और पिता किशोर कुमार को दिल का दौरा पड़ गया था। कई महीनों तक अमित केवल अपने पिता के स्वास्थ्य की तरफ़ नज़र रख रहे थे। किशोर कमज़ोर हो गए थे, पर उनके मुख पर एक सुखद उत्तेजना थी जो बता रही थी कि वो ’लव स्टोरी’ की सफलता से कितने ख़ुश हुए हैं।


आइए अब बढ़ते हैं इस गीत के निर्माणाधीन समय की कुछ रोचक बातों की ओर। फ़िल्म के गाने रेकॉर्ड हो चुके थे। पर यह गाना पंचम को रेकॉर्ड होने के बावजूद जम नहीं रहा था। पंचम को यह गाना रोमान्टिक कम और भजन ज़्यादा लग रहा था। उनको धुन में मज़ा नहीं आ रहा था, लग रहा था कि धुन रोमान्टिक नहीं बल्कि भक्ति रस वाला है। और वो इस गाने को लेकर इतने पशोपेश में थे कि इस गाने को बदल देना चाहते थे। लेकिन सबको यह गाना बहुत अच्छा लग रहा था। इसलिए निर्माता, निर्देशक और तमाम लोगों के साथ बातचीत के बाद यह तय हुआ कि इस गीत को जैसा है, उसी रूप में फ़िल्म में रख लिया जाएगा। सबके फ़ैसले और सबके दबाव के बाद पंचम ने अनमने मन से अपने हथियार फेंक दिए और इस गाने को उसी रूप में फ़िल्म में जाने दिया जैसा रेकॉर्ड हुआ था। फ़िल्म रेलीज़ हुई और वह हुआ जो पंचम ने सोचा भी नहीं था। इस गाने को पंचम के सर्वश्रेष्ठ और कामयाब गानों में शुमार कर लिया गया। पंचम ने अमित कुमार से यह कहा कि "देख अमित, ज़िन्दगी में कुछ मोड़ कैसे आ जाती हैं; यह मेरे करीअर का सबसे ख़राब कम्पोज़िशन्स में से एक है और यह कितना बड़ा हिट हो गया"। 

फिल्म लव स्टोरी : "याद आ रही है..." : लता मंगेशकर और अमित कुमार : राहुलदेव बर्मन : आनन्द बक्शी



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




Saturday, November 7, 2015

"एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने..." - जानिए गुलज़ार और पंचम के नोक-झोक की बातें इस गीत के बनने के दौरान


एक गीत सौ कहानियाँ - 69
 

'एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने...' 




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 69-वीं कड़ी में आज जानिए 1977 की फ़िल्म ’किनारा’ के गीत "एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने..." के बारे में जिसे भूपेन्द्र और हेमा मालिनी ने गाया था। बोल गुलज़ार के और संगीत राहुल देव बर्मन का।


गुलज़ार उन गीतकारों में से हैं जो अपने गीतों का फ़िल्म की कहानी का हिस्सा बनाते हैं। दूसरे शब्दों में, उनके गीत फ़िल्म की कहानी को आगे बढ़ाते हैं। आम तौर पर फ़िल्मी गीतों को आइटम नम्बर्स के तौर पर फ़िल्मों में डाला जाता है। कहानी गीत के लिए रुक जाती है, और गीत समाप्त पर फिर से चल पड़ती है और अगले गीत पे जाकर दोबारा रुक जाती है। पर गुलज़ार जैसे गीतकार हमेशा लीक से अलग रहे हैं। इस तरह के कहानी को आगे बढ़ाने वाले गीतों में एक गीत है फ़िल्म ’किनारा’ का, "एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने..."। हालाँकि यह गीत कोई ट्रेन्ड-सेटर गीत नहीं सिद्ध हुआ, पर इस गीत की ख़ूब सराहना ज़रूर हुई थी। गुलज़ार के शब्दों में यह गीत एक गीत नहीं था, बल्कि एक दृश्य (सीन) था जिसे संगीत की दृष्टि से फ़िल्माया गया था। इस गीत में "टिकू की बच्ची, will you shut up?" जैसे बोल हैं। जब गुलज़ार इस गीत को पंचम के पास ले गए तो पंचम की पहली प्रतिक्रिया थी "क्या है यह... गाना है या सीन है?" गुलज़ार का जवाब था, "यह सीन है, पर इसे गाना है।" यह सुनने के बाद पंचम अपना हाथ अपने माथे पे मारते हुए कहा, "कोई काम सीधा नहीं करता है"। काफ़ी देर तक बड़बड़ाने के बाद पंचम पूरा पढ़ने के लिए तैयार हुए। पर दूसरी ही पंक्ति पे जा कर उनके माथे का शिकन गहराया क्योंकि पंक्ति थी "तूने साड़ी में उड़स ली हैं मेरी चाबियाँ घर की"। पंचम हारमोनियम को पीछे धकेलते हुए फिर से शुरू हो गए, "यह कोई गीत है? चाबियाँ कोई पोएट्री है?" मुखड़े की धुन को गुनगुनाते हुए हर बार पंचम "चाबियाँ" पे रुक जाया करते, थोड़ा बड़बड़ाते और गुलज़ार से इस शब्द को बदलने के लिए कहते। पर गुलज़ार भी अपने निर्णय पे अटल थे। पंचम के लाख चिल्लाने पर भी गुलज़ार इस शब्द को हटाने के लिए राज़ी नहीं हुए। आलम यह हुआ कि इसके बाद एक लम्बे समय तक पंचम गुलज़ार को ’चाबियाँ’ कह कर बुलाया करते थे। जब भी गुलज़ार म्युज़िक रूम में घुसते, पंचम कह उठते, "लो चाबियाँ आ गईं"। और इसके बाद जब भी गुलज़ार कोई इस तरह का शब्द अपने गीतों में इस्तेमाल करते, पंचम उनके पीछे पड़ जाते।



"एक ही ख़्वाब..." भूपेन्द्र और हेमा मालिनी ने गाया था। हेमा मालिनी ने इस गीत को बहुत ही अच्छी और सुरीली तरीके से निभाया जिससे यह हुआ कि भूपेन्द्र को थोड़ी परेशानी होने लगी। गुलज़ार साहब बताते हैं कि एक बार तो भूपेन्द्र अपने आप को रोक नहीं सके और बोल ही पड़े कि "She's too good, yaar!" ऐसा ही हुआ था मन्ना डे और मीना कुमारी के बीच फ़िल्म ’पिंजरे के पंछी’ फ़िल्म के गीत में। मन्ना दा मीना जी से तो कुछ नहीं बोले, पर गुलज़ार और साउन्ड्र रेकॉर्डिस्ट के पास जाकर शिकायत करने लगे कि "यार उनके सामने खड़े होकर गाना बहुत मुश्किल है। मैं उनको देखूँ, या उनसे बात करूँ, या गाना गाऊँ?" ख़ैर, वापस आते हैं ’एक ही ख़्वाब..." पर। गाना रेकॉर्ड होने के बाद पंचम को लगा कि गाने में कुछ कमी सी है, थोड़ा डल लग रहा है। इसलिए उन्होंने भूपेन्द्र को हेडफ़ोन दिया और उनसे अपने गीटार को अनायास बजाते रहने को कहा। सब को हैरान करते हुए भूपेन्द्र ने एक ही टेक में यह काम कर डाला। भूपेन्द्र एक और टेक देना चाहते थे पर पंचम को लगा कि पहला टेक ही उत्तम है। अन्तिम निर्णय हमेशा पंचम का ही होता था। हर किसी को पता था कि उन्हें अपना काम अच्छी तरह से पता है और इस पर उनसे कोई सवाल नहीं कर सकता। इस गीत से पहले हेमा मालिनी ने 1974 की फ़िल्म ’हाथ की सफ़ाई’ में किशोर कुमार के साथ "पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए..." गीत गा चुकी थीं। इसलिए इस गीत में उनकी आवाज़ को लेने का निर्णय लेने में कोई परेशानी नहीं हुई। इन दो गीतों के अलावा एक तीसरा गीत भी है जिसमें हेमा मालिनी की आवाज़ सुनाई दी है, वह है फ़िल्म ’शोले’ का "कोई हसीना जब रूठ जाती है तो...", जिसमें उनकी गाती हुई आवाज़ तो नहीं पर गाली देती हुई आवाज़ ("चल हट साले") सुनाई दी है।


अब आते हैं गीत के फ़िल्मांकन पर। इस गीत का एक फ़्लैशबैक गीत के रूप में प्रयोग में लाया जाने वाला था जिसके लिए एक स्टार कलाकार की तलाश चल रही थी। गुलज़ार हेमा मालिनी से इस रोल के लिए धर्मेद्र से बात करने के लिए कहने से थोड़ा हिचहिचा रहे थे। हालाँकि हेमा और धर्मेन्द्र के प्यार की ख़ुशबू उन दिनों हवाओँ में सुगन्ध फैला रही थी, पर औपचारिक रूप से दोनों ने इसे स्वीकारा नहीं था और एक-दूसरे को बस "अच्छा दोस्त" कहते थे। पर जब वहाँ इस रोल के लिए अलग-अलग नायकों के नाम लिए जा रहे थे तब गुलज़ार को चौंकाते हुए हेमा मालिनी ने शर्माते हुए उनसे पूछा, "मेरा दोस्त क्यों नहीं इस रोल को निभा सकता?" हेमा मालिनी ने अपनी ज़बान से धर्मेन्द्र का नाम नहीं लिया पर उनके पूरे चेहरे पर सिर्फ़ उन्हीं का नाम लिखा हुआ था। इसके बाद गुलज़ार ने धर्मेन्द्र को फ़ोन किया और उसी फ़ोन-कॉल में धर्मेन्द्र ने यह रोल अदा करने के लिए हामी भर दिया। धर्मेन्द्र को गुलज़ार की फ़िल्में अच्छी लगती थी और वो उनके साथ आगे भी काम करना चाहते थे, तभी एक दिन वो गुलज़ार से कहने लगे कि "क्या गेस्ट रोल ही करवाओगे मुझसे?" गुलज़ार ने जब ’देवदास’ बनाने का निर्णय लिया तो देवदास के रूप में धर्मेन्द्र का ही विचार उनके मन में आया। यह किरदार धर्मेन्द्र के करीयर का सबसे महत्वपूर्ण किरदार साबित हो सकता था, पर दुर्भाग्यवश दो शेड्युल के बाद इस फ़िल्म का निर्माण बन्द हो गया। फिर इसके बाद गुलज़ार और धर्मेन्द्र कभी साथ में काम नहीं कर सके और दोनों की एक दूसरे के साथ काम करने की ख़्वाहिश अधूरी ही रह गई, बस एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने...। लीजिए अब आप फिल्म 'किनारा' का यही गीत सुनिए। 


फिल्म - किनारा : 'एक ही ख्वाब कई बार देखा है मैंने...' : भूपेन्द्र और हेमा मालिनी : संगीत - राहुलदेव बर्मन



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




Saturday, November 1, 2014

"रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना" - कैसे बना था एक ही शॉट में फ़िल्माये जाने वाले हिन्दी सिनेमा का यह पहला गीत?


एक गीत सौ कहानियाँ - 44
 

रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना...





'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 44-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'आराधना' के मशहूर गीत "रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना..." के बारे में।


'आराधना' कई कारणों से हिन्दी सिनेमा की एक बेहद महत्वपूर्ण फ़िल्म है। जहाँ एक तरफ़ इस फ़िल्म ने अभिनेता राजेश खन्ना को स्टार बना दिया, वहीं दूसरी ओर गायक किशोर कुमार के करीयर की गाड़ी को सुपरफ़ास्ट ट्रैक पर ला खड़ा किया। एक लो बजट फ़िल्म होते हुए भी इस फ़िल्म ने लाखों का मुनाफ़ा कमाया। फ़िल्म-संगीत के चलन की अगर बात करें तो यह एक ट्रेण्डसेटर फ़िल्म रही जिसने 70 के दशक के फ़िल्म-संगीत शैली की नीव रखी। कहने का मतलब है कि 'आराधना' के गीतों की जो स्टाइल थी, वही स्टाइल आगे चलकर 70 के दशक के फ़िल्मी गीतों की स्टाइल बनी। यही नहीं इस फ़िल्म में शर्मीला टैगोर ने साड़ी जिस स्टाइल से पहनी थी, उस ज़माने की लड़कियों ने भी उस स्टाइल को अपनाया। राजेश खन्ना, आनन्द बक्शी और राहुलदेव बर्मन की तिकड़ी भी इसी फ़िल्म से शुरू हुई (हालाँकि इस फ़िल्म के संगीतकार सचिनदेव बर्मन थे)। 'आराधना' रिलीज़ हुई थी 1969 में 'बान्द्रा टॉकीज़' में, और मद्रास के एक थिएटर में यह फ़िल्म लगातार दो साल चली थी। 'आराधना' के गीत-संगीत से जुड़ा एक दिलचस्प पहलू यह है कि रफ़ी और किशोर, दोनों ने कैसे एक ही नायक का पार्श्वगायन किया, जबकि उस ज़माने में एक फ़िल्म में एक नायक का पार्श्वगायन एक ही गायक करता था। इस मुद्दे पर दो थियरी सुनने को मिलती है जिसे हम इस लेख में उजागर करने जा रहे हैं। पहली थिअरी है ख़ुद शक्ति दा की जो उन्होंने विविधभारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में कहे थे। शक्ति दा के शब्दों में - "शुरू में यह तय हुआ था कि मोहम्मद रफ़ी इस फ़िल्म के सभी गीतों को गायेंगे। पर वो एक लम्बे वर्ल्ड टूर पर निकल गये, इसलिए आपस में बातचीत कर यह तय हुआ कि किशोर कुमार को इस फ़िल्म के गीतों को गाने के लिए लाया जाये। पर उस समय किशोर कुमार देव आनन्द के लिए पार्श्वगायन किया करते थे, इसलिए मैं श्योर नहीं था कि किशोर एक नये हीरो के लिए गायेगा या नहीं। मैंने किशोर को फ़ोन किया। वो तब तक अशोक कुमार के ज़रिये मेरा दोस्त बन चुका था। किशोर ने कहा कि वो देव आनन्द के लिए गाता है। तो मैंने कहा कि नख़रे क्यों कर रहा है, हो सकता है कि यह तुम्हारे लिए कुछ अच्छा हो जाये! किशोर राज़ी हो गया और इस तरह से पहला गाना रेकॉर्ड हुआ। एक एक करके तीन गाने रेकॉर्ड हो गये - "कोरा कागज़ था यह मन मेरा...", "मेरे सपनों की रानी कब आयेगी तू...." और "रूप तेरा मस्ताना..."। जब रफ़ी वर्ल्ड टूर से वापस आए तो उन्होंने बाक़ी के दो गीत गाये - "गुनगुना रहे हैं भँवरें...." और "बाग़ों में बहार है..."।"


दूसरी थिअरी का पता हमें चला अन्नु कपूर से, उन्ही के द्वारा प्रस्तुत 'सुहाना सफ़र' कार्यक्रम में। "उन दिनों यह प्रचलन था कि फ़िल्म के शुरू होने पर लौन्चिंग पैड के तौर पर फ़िल्म के दो गाने रेकॉर्ड होते थे, और गानो के रेकॉर्ड होने की ख़बर इंडस्ट्री के प्रचलित अख़्बार 'स्क्रीन' में छप जाती थी। फ़िल्म के गीतों को गाने के लिए सचिनदेव बर्मन की पहली पसन्द थे मोहम्मद रफ़ी साहब। और यही वजह थी कि उन्होंने फ़िल्म के दो गीत रफ़ी से गवाये। "गुनगुना रहे हैं ..." और "बाग़ों में बहार है..."। इससे पहले कि वो और गानों को रेकॉर्ड करवा पाते, दादा की तबीयत ख़राब हो गई, बीमार पड़ गये। हेल्थ के हाथों मजबूर दादा के संगीत की ज़िम्मेदारी आन पड़ी उनके बेटे पंचम के कन्धों पर। पंचम की किशोर कुमार से बहुत अच्छी दोस्ती थी। और वो किशोर कुमार को, ऐज़ ए सिंगर लाइक भी बहुत करते थे। लेकिन किशोर कुमार का उस वक़्त करीयर अच्छा नहीं चल रहा था। पंचम के दिमाग़ में यह बात बस गई और उन्होंने किशोर कुमार की आवाज़ को लेने का निर्णय ले डाला। पंचम का मानना था कि राजेश खन्ना एक नया आर्टिस्ट है जिसके उपर किशोर की आवाज़ बहुत फ़िट रहेगी। बहुत सारी चीज़ों का ध्यान रखते हुए, उनके अपने विचार होंगे, किशोर कुमार के साथ रिहर्सलें शुरू कर दी। पंचम के साथ "मेरे सपनों की रानी...", "कोरा कागज़ था..." और "रूप तेरा मस्ताना...", इन गानों की तैयारी करनी शुरू कर दी। जब गानों की फ़ाइनल रेकॉर्डिंग चल रही थी, तब पिताजी यानी सचिनदेव बर्मन की हालत में कुछ सुधार आ गया और वो फ़ाइनल रेकॉर्डिंग को सुनने स्टुडियो जा पहुँचे। वहाँ जाकर क्या देखते हैं कि किशोर गाना गा रहा है। पंचम से बोले कि ये तूने क्या किया? मैं रफ़ी से गाने गवाना चाहता था क्योंकि वो इंडस्ट्री की नम्बर वन आवाज़ है, डिस्ट्रिब्युटर्स और फ़ाइनन्सर्स की वो पहली पसन्द है, वैसे भी राजेश खन्ना की पहले आई तीन फ़िल्में फ़्लॉप हो चुकी हैं, कम से कम गानों की वजह से तो फ़िल्म प्रोमोट की जा सकती है। क्या तुझे रफ़ी की आवाज़ में रेकॉर्ड की हुई पहले दो गीतों में कोई कमी लगी है? पंचम ने बहुत शान्त भाव से उत्तर दिया कि आप सही कह रहे हैं बाबा, मैंने वो दोनो गीत सुने हैं, और कहीं से भी कमतर नहीं है। पर बचे हुए गीतों के लिए मुझे लगा कि किशोर की आवाज़ बहुत ऐप्ट और पर्फ़ेक्ट रहेगी। मैं चाहता हूँ कि एक बार आप सुनें और फिर कहें। सचिन दा ने जब किशोर की आवाज़ में वो तीनो गाने सुने तो ख़ुश हो गये। पंचम ने उनकी रॉ ट्युन्स को जिस फ़ैशन में फ़ाइनल टच किया था, वो सचमुच बेहतरीन था। गाने फ़ाइनली किशोर की ही आवाज़ में रेकॉर्ड हुए। जब फ़िल्म रिलीज़ हुई तो किशोर के गाये इन गीतों को बहुत कामयाबी मिली। और इस फ़िल्म के गीत "रूप तेरा मस्ताना..." के लिए किशोर कुमार को उस साल फ़िल्मफ़ेयर अवार्ड भी मिला। और इस तरह से इसी फ़िल्म के साथ कमबैक हुआ किशोर कुमार का।"

सचिन दा, शक्ति दा, राजेश खन्ना और पंचम
अब इन दोनों थिअरी में से कौन सी थिअरी सच है और कौन सी ग़लत, यह कह पाना मुश्किल है। पर एक बात जो सच है, वह यह कि "रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना..." गीत की जो कम्पोज़िशन दादा सचिनदेव बर्मन ने बनाई थी, उसमें उतना सेन्सुअसनेस नहीं था। सीन जितना बोल्ड था, उस हिसाब से गीत की धुन ठंडी थी। रिहर्सल करते समय किशोर कुमार ने इसमें अपना अंदाज़ डाल दिया, मुड़कियाँ कम कर दीं और अपनी आवाज़-ओ-अंदाज़ में ऐसी सेन्सुअस अपील ले आये कि सीन के साथ पर्फ़ेक्ट मैच कर गया। कहना ज़रूरी है कि फिर इसके बाद इस तरह का मेल सेन्सुअस गीत दूसरा नहीं बन पाया है। अब इस गीत के पिक्चराइज़ेशन की कहानी भी सुन लीजिये। शक्ति सामन्त अपने गीतों के पिक्चराइज़ेशन के बारे में रात को अपने कमरे में बैठ कर गीतों को सुनते हुए सोचा करते थे और पिक्चराइज़ेशन की प्लैनिंग किया करते थे। तो इस गीत को जैसे वो सुन रहे थे, अचानक से उनके दिमाग़ में यह ख़याल आया कि इस गीत को एक ही शॉट में फ़िल्माया जा सकता है। उन्होंने एक कागज़ लिया और उस पर A, B, C लिखा - A हीरो के लिए, B हीरोइन के लिए, C कैमरे के लिए, और अपने मन-मस्तिष्क में गीत का पूरा फ़िल्मांकन कर बैठे। शूटिंग के दिन उन्होंने एक राउन्ड ट्रॉली मँगवाया और 'फ़िल्मालय' स्टुडियो में इसकी शूटिंग शुरू की। शुरू शुरू में कुछ लोगों ने उनके इस विचार का विरोध किया था कि गीत को एक ही शॉट में फ़िल्माया जाये। किसी ने कहा भी था कि इसका दिमाग़ ख़राब हो गया है जो इतना अच्छा गाना एक ही शॉट में ले रहा है। तब शक्ति दा ने यह दलील दी कि जब रात को मैं यह गाना सुन रहा था तो समझ ही नहीं आया कि "कट" कहाँ पर बोलूँ? इस तरह से यह गीत हिन्दी सिनेमा का वह पहला गीत बना जो एक ही शॉट में फ़िल्माया गया था। बस इतनी सी ही थी इस गीत के बनने की कहानी।  लीजिए, अब आप वह गीत सुनिए।

फिल्म - आराधना : 'रूप तेरा मस्ताना प्यार मेरा दीवाना...' : किशोर कुमार : संगीत - सचिनदेव बर्मन : गीत - आनन्द बक्शी 



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ'' स्तम्भ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 


अपना मनपसन्द स्तम्भ पढ़ने के लिए दीजिए अपनी राय 



नए साल 2015 में शनिवार के नियमित स्तम्भ रूप में आप कौन सा स्तम्भ पढ़ना सबसे ज़्यादा पसन्द करेंगे?

1.  सिने पहेली (फ़िल्म सम्बन्धित पहेलियों की प्रतियोगिता)

2. एक गीत सौ कहानियाँ (फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया से जुड़े दिलचस्प क़िस्से)

3. स्मृतियों के स्वर (रेडियो (विविध भारती) साक्षात्कारों के अंश)

4. बातों बातों में (रेडियो प्लेबैक इण्डिया द्वारा लिये गए फ़िल्म व टीवी कलाकारों के साक्षात्कार)

5. बॉलीवुड विवाद (फ़िल्म जगत के मशहूर विवाद, वितर्क और मनमुटावों पर आधारित श्रृंखला)


अपनी राय नीचे टिप्पणी में अथवा cine.paheli@yahoo.com  पर अवश्य बताएँ। 







The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ