Skip to main content

कहानी 'एक और मुखौटा' का पॉडकास्ट

पिछले महीने हिन्द-युग्म ने कहानियों के पॉडकास्ट के प्रसारण की शुरूआत की थी। आज हम आपके समक्ष दूसरा पॉडकास्ट लेकर प्रस्तुत हैं। इस बार श्रीकांत मिश्र 'कांत', शोभा महेन्द्रू और श्वेता मिश्रा की टीम ने रंजना भाटिया की कहानी 'एक और मुखौटा' का पॉडकास्ट बनाया। अपने प्रयास में हिन्द-युग्म की यह टीम कितनी सफल रही है, ये तो आप श्रोता ही बतायेंगे।

नीचे के प्लेयर से सुनें और ज़रूर बतायें कि कैसा लगा?
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो यहाँ से डाउनलोड कर लें।

Comments

बहुत बहुत शुक्रिया शोभा जी और श्रीकांत जी ..आप दोनों ने इस कहानी को अपनी आवाज़ दी और इस में जान फूंक दी ..जो आपने इस में बीच में ध्वनि का उचित उपयोग किया है उस में आपकी मेहनत नज़र आती है ..बहुत बहुत शुक्रिया इस को यूं सुनाने के लिए !!
मुझे रंजना जी की टिप्पणी से इत्तेफ़ाक है... कहानी पढने और कहानी सुनने में जमीन आसमान का अन्तर है... श्रीकान्त जी, शोभा जी व श्र्वेता जी बधाई के पात्र हैं...
कहानी एक छोटी सी गलतफ़हमी...शायद पाठको/श्रवणकारों को ऐसा लगे.. कि वजह से अचानक अन्त पा गई.. यह थोडा सा खला.
कहीं-कहीं कनैक्शन सतत न होने के कारण बाधा आई है, लेकिन प्रयास अनुकरणीय है। टीम को बधाई।
rajeev said…
आज आपके चिट्ठे पर कहानी और गीत सुनने का भी सुयोग मिला, बहुत ही बेहतरीन कोशिश है, डटे रहो हिन्द युग्म के भाइयों....हम आपके साथ हैं। मैंने भी ऑरकुट पर राजभाषा-सेवी नामक कम्यूनिटी शुरु की है, जहां सारे हिन्दी प्रेमियों व सेवियों का बहुमूल्य विचारों-प्रतिक्रियाओं सहित स्वागत है। सादर, राजीव सारस्वत
बहुत बढ़िया जी बहुत बढ़िया..
सुन्दर पोडकास्ट..

टीम को हार्दिक बधाई..
*कहानी सुनना अच्छा लगा.पहले पढ़ ली थी इसलिए घटना क्रम मालूम था.
*सब ने मेहनत की है. अच्छा प्रयास है
बहुत पहले आकाशवाणी पर ऐसी कहानियाँ सुना करती थी.
यह अच्छा किया कि आप ने दूसरा लिंक भी दिया है.
क्योंकि मैं ले प्लेयर नहीं सुन पाती हूँ.activate नहीं होता है.मैंने सारा सिस्टम चेक कर लिया है-
रियल प्लेयर सब ठीक है.मेरा सिस्टम भी up टू डेट है.

यही कारण है 'आवाज ' में श्रीकांत जी की कहानी भी इसीलिए अभी तक नहीं सुन पायी हूँ.
धन्यवाद -
प्रस्तुतिकरण बहुत सुन्दर है परन्तु कहानी का अन्त कुछ ज्यादा जल्दी हो गया।
एकदम अचानक ही !!!
टीम को बहुत बहुत बधाई।
sahil said…
बहुत ही अच्छा. पूरी टीम को बधाई.
आलोक सिंह "साहिल"
रंजना जी, आज शुक्र्वार को थोडा समय मिला तो सब से पहले मेने *'एक और मुखौटा' सुनी,ओर मुझे आकशबाणी का हवामहल याद आ गया,आप की सारी टीम को मेरी ओर से बाधाई,अरे हा कहानी बहुत ही सुन्दर लगी मन भावन, बस अन्त मे दिल थोडा उदास हो गया.
धन्यवाद
रंजना जी ! बहुत अच्छी कहानी है । इसपर शुरू में तो करुण भाव आता है परन्तु जब वह नीरज को पहचान लेती है तो तो एक संतोष और सम्मान का भाव आता है । दिखता है कि उसकी आत्मा जागती है । उसका आत्मविश्वास अभी ज़िन्दा है । वह असहाय और नादान नहीं है । ज़िन्दगी को बोझ की तरह नहीं बल्कि आत्मविश्वास और सम्मान के साथ जी रही है । यद्यपि नीरज का ऐसा होना समाज में ऐसे भावों की व्याप्ति के विषय में निराश सा कर सकता है परन्तु वह मीरा की स्वावलम्बन और स्वाभिमान के आगे दुःखी नहीं करता है । अच्छी कहानी के लिए बधाई । किसी का कुछ भी मत हो, मुझे इस कहानी का अन्त सकारात्मक लगा ।
बहुत बहुत धन्यवाद आप सबका जो इस कहानी को इतना प्यार दिया ..दिवाकर जी आपने कहानी के जिस सकारात्मक रूप को समझा वह सरहनीय है ..मैं कहना भी यही चाहती थी इस कहानी में कि अपने आत्म्समान से जीना ही जीना है .अभी आपके आईडी के लिए आपके ब्लाग को भी देखा और पहला ब्लाग देखा संस्कृत भाषा में .देख के बहुत अच्छा लगा मुझे ..संस्कृत भाषा पर इतनी पकड़ तो नही है पर इसको पढ़ने की कोशिश करना अच्छा लगता है ..अच्छा लगा आप यहाँ आये और इस कहानी को सराहा .शुक्रिया तहे दिल से आपका और सब दोस्तों का जिन्होंने इस पर दी गई आवाज़ की मेहनत को समझा और यूं हम सब को आगे बढ़ने के लिए होंसला दिया !!
प्रयास अनुकरणीय .....
टीम को बधाई।

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया