Showing posts with label sachindev barman. Show all posts
Showing posts with label sachindev barman. Show all posts

Sunday, September 17, 2017

भैरवी दादरा : SWARGOSHTHI – 335 : BHAIRAVI DADARA




स्वरगोष्ठी – 335 में आज

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी - 2 : भैरवी दादरा

उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ का गाया दादरा जब मन्ना डे ने दुहराया- “बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...”




उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ
मन्ना डे
‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी श्रृंखला “फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी” की इस दूसरी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र अपनी सहयोगी संज्ञा टण्डन के साथ आप सभी संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। पिछली श्रृंखला की भाँति इस श्रृंखला में भी हम एक नया प्रयोग कर रहे हैं। गीतों का परिचयात्मक आलेख हम अपने सम्पादक-मण्डल की सदस्य संज्ञा टण्डन की रिकार्ड किये आवाज़ में प्रस्तुत कर रहे हैं। आपको हमारा यह प्रयोग कैसा लगा, अवश्य सूचित कीजिएगा। दरअसल यह श्रृंखला पूर्व में प्रकाशित / प्रसारित की गई थी। हमारे पाठकों / श्रोताओं को यह श्रृंखला सम्भवतः कुछ अधिक रुचिकर प्रतीत हुई थी। अनेक संगीत-प्रेमियों ने इसके पुनर्प्रसारण का आग्रह किया है। सभी सम्मानित पाठकों / श्रोताओं के अनुरोध का सम्मान करते हुए और पूर्वप्रकाशित श्रृंखला में थोड़ा परिमार्जन करते हुए यह श्रृंखला हम पुनः प्रस्तुत कर रहे हैं। आज से शुरू हो रही हमारी नई लघु श्रृंखला 'फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के शीर्षक से ही यह अनुमान हो गया होगा कि इस श्रृंखला का विषय फिल्मों में शामिल की गई उपशास्त्रीय गायन शैली ठुमरी है। सवाक फिल्मों के प्रारम्भिक दौर से फ़िल्मी गीतों के रूप में तत्कालीन प्रचलित पारसी रंगमंच के संगीत और पारम्परिक ठुमरियों के सरलीकृत रूप का प्रयोग आरम्भ हो गया था। विशेष रूप से फिल्मों के गायक-सितारे कुन्दनलाल सहगल ने अपने कई गीतों को ठुमरी अंग में गाकर फिल्मों में ठुमरी शैली की आवश्यकता की पूर्ति की थी। चौथे दशक के मध्य से लेकर आठवें दशक के अन्त तक की फिल्मों में सैकड़ों ठुमरियों का प्रयोग हुआ है। इनमे से अधिकतर ठुमरियाँ ऐसी हैं जो फ़िल्मी गीत के रूप में लिखी गईं और संगीतकार ने गीत को ठुमरी अंग में संगीतबद्ध किया। कुछ फिल्मों में संगीतकारों ने परम्परागत ठुमरियों का भी प्रयोग किया है। इस श्रृंखला में हम आपसे ऐसी ही कुछ चर्चित-अचर्चित फ़िल्मी ठुमरियों पर बात करेंगे। आज के अंक में हम ‘आफ़ताब-ए-मौसिकी’ के खिताब से नवाज़े गए उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा करेंगे। साथ ही उनका गाया भैरवी का एक दादरा- “बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...” और इसी ठुमरी का पार्श्वगायक मन्ना डे की आवाज़ में फिल्म “मंज़िल” में किये गए रोचक उपयोग की चर्चा करेंगे। यह दादरा 1960 में प्रदर्शित, देव आनन्द, नूतन और महमूद अभिनीत फिल्म ‘मंज़िल’ में संगीतकार सचिनदेव बर्मन ने पहले दादरा ताल में और अन्त में तीनताल में प्रयोग किया था।


भैरवी दादरा : “बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...” : उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ
भैरवी दादरा : “बनाओ बतियाँ हटो काहे को झूठी...” : मन्ना डे : फिल्म – मंज़िल




संगीत पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ के 335वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक फिल्मी ठुमरी गीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। संगीत के इस अंश को सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक ही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 340वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष के चौथे सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा।






1 – संगीत के इस अंश को सुन कर पहचानिए कि यह कौन सा राग है?

2 – संगीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – यह किस फिल्मी पार्श्वगायक की आवाज़ है?

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार 23 सितम्बर, 2017 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। विजेता का नाम हम उनके शहर, प्रदेश और देश के नाम के साथ ‘स्वरगोष्ठी’ के 337वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ की 333वीं कड़ी की पहेली में हमने आपको उस्ताद अब्दुल करीम खाँ के स्वर में प्रस्तुत राग झिझोटी की ठुमरी का अंश सुनवा कर हमने आपसे तीन में से दो प्रश्नों का उत्तर पूछा था। पहले प्रश्न का सही उत्तर है, राग - झिझोटी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है, ताल - सोलह मात्रा का तिलवाड़ा अथवा जत ताल तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है, स्वर – उस्ताद अब्दुल करीम खाँ

इस अंक की पहेली प्रतियोगिता में प्रश्नों के सही उत्तर देने वाले हमारे नियमित प्रतिभागी हैं - चेरीहिल न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, जबलपुर मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी और पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया। आशा है कि हमारे अन्य पाठक / श्रोता भी नियमित रूप से साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ का अवलोकन करते रहेंगे और पहेली प्रतियोगिता में भाग लेंगे। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी श्रृंखला “फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी” की इस दूसरी कड़ी में आपने राग भैरवी के दादरा का रसास्वादन किया। आपके अनुरोध पर पुनर्प्रसारित इस श्रृंखला के अगले अंक में हम आपको एक और पारम्परिक ठुमरी और उसके फिल्मी रूप पर चर्चा करेंगे और शास्त्रीय और उपशास्त्रीय संगीत और रागों पर चर्चा करेंगे और सम्बन्धित रागों तथा संगीत शैली में निबद्ध कुछ रचनाएँ भी प्रस्तुत करेंगे। हमारी आगामी श्रृंखलाओं के लिए विषय, राग, रचना और कलाकार के बारे में यदि आपकी कोई फरमाइश हो तो हमें  swargoshthi@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः 8 बजे हम ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर सभी संगीत-प्रेमियों का स्वागत करेंगे।


वाचक स्वर : संज्ञा टण्डन   
आलेख व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र   

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Sunday, January 31, 2016

राग छायानट : SWARGOSHTHI – 255 : RAG CHHAYANAT



स्वरगोष्ठी – 255 में आज

दोनों मध्यम स्वर वाले राग – 3 : राग छायानट

राग छायानट के स्वरों में दो ठुमकती प्रस्तुतियाँ



‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी श्रृंखला – ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ की तीसरी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-रसिकों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत के कुछ ऐसे रागों की चर्चा कर रहे हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाता है। संगीत के सात स्वरों में ‘मध्यम’ एक महत्त्वपूर्ण स्वर होता है। हमारे संगीत में मध्यम स्वर के दो रूप प्रयोग किये जाते हैं। स्वर का पहला रूप शुद्ध मध्यम कहलाता है। 22 श्रुतियों में दसवाँ श्रुति स्थान शुद्ध मध्यम का होता है। मध्यम का दूसरा रूप तीव्र या विकृत मध्यम कहलाता है, जिसका स्थान बारहवीं श्रुति पर होता है। शास्त्रकारों ने रागों के समय-निर्धारण के लिए कुछ सिद्धान्त निश्चित किये हैं। इन्हीं में से एक सिद्धान्त है, “अध्वदर्शक स्वर”। इस सिद्धान्त के अनुसार राग का मध्यम स्वर महत्त्वपूर्ण हो जाता है। अध्वदर्शक स्वर सिद्धान्त के अनुसार राग में यदि तीव्र मध्यम स्वर की उपस्थिति हो तो वह राग दिन और रात्रि के पूर्वार्द्ध में गाया-बजाया जाएगा। अर्थात, तीव्र मध्यम स्वर वाले राग 12 बजे दिन से रात्रि 12 बजे के बीच ही गाये-बजाए जा सकते हैं। इसी प्रकार राग में यदि शुद्ध मध्यम स्वर हो तो वह राग रात्रि 12 बजे से दिन के 12 बजे के बीच का अर्थात उत्तरार्द्ध का राग माना गया। कुछ राग ऐसे भी हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वर प्रयोग होते हैं। इस श्रृंखला में हम ऐसे ही रागों की चर्चा करेंगे। श्रृंखला के तीसरे अंक में आज हम राग छायानट के स्वरूप की चर्चा करेंगे। साथ ही इस राग में पहले पण्डित सत्यशील देशपाण्डे के स्वर में एक आकर्षक बन्दिश प्रस्तुत करेंगे और फिर राग छायानट के स्वरो पर आधारित फिल्म ‘तलाश’ का एक गीत गायक मन्ना डे की आवाज़ में सुनवाएँगे।



जबहिं थाट कल्याण में, दोनों मध्यम पेखि,
प रे वादी-संवादि सों, छायानट को देखि।

दोनों मध्यम स्वर वाले रागों के क्रम में तीसरा राग ‘छायानट’ है। इससे पूर्व की कड़ियों में आपने राग कामोद और केदार का रसास्वादन किया था। यह दोनों राग, कल्याण थाट से सम्बद्ध हैं और इनको रात्रि के पहले प्रहर में ही गाने-बजाने की परम्परा है। आज का राग छायानट भी इसी वर्ग का राग है। राग छायानट, कल्याण थाट के अन्तर्गत माना जाता है। इसमें दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाता है। यह सम्पूर्ण-सम्पूर्ण जाति का राग होता है, अर्थात आरोह और अवरोह में सात-सात स्वरों का प्रयोग किया जाता है। अवरोह में काभी-कभी राग की सुन्दरता को बढ़ाने के लिए विवादी स्वर के रूप में कोमल निषाद स्वर का प्रयोग कर लिया जाता है। तीव्र मध्यम का अल्प प्रयोग दो पंचम स्वरों के बीच होता है। परन्तु गान्धार और पंचम स्वरों के बीच तीव्र मध्यम स्वर का प्रयोग कभी नहीं किया जाता। राग छायानट में तीव्र मध्यम स्वर को थाट-वाचक स्वर माना गया है। इसी आधार पर यह राग कल्याण थाट के अन्तर्गत माना जाता है। कुछ विद्वान इस राग में तीव्र मध्यम का प्रयोग नहीं करते और इसे बिलावल थाट का राग मानते है। इस राग का वादी स्वर ऋषभ और संवादी स्वर पंचम होता है। कुछ विद्वान इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ मानते हैं, किन्तु ऐसा मानने पर यह राग उत्तरांग प्रधान हो जाएगा। वास्तव में ऐसा है नहीं, राग में ऋषभ का स्थान इतना महत्त्वपूर्ण है कि इसे वादी स्वर माना जाता है। इस राग के गायन-वादन का समय रात्रि का प्रथम प्रहर माना जाता है।

पं.सत्यशील देशपाण्डे
आपको राग छायानट का उदाहरण सुनवाने के लिए हमने सुप्रसिद्ध संगीतज्ञ पण्डित सत्यशील देशपाण्डे के स्वरों में इस राग की एक आकर्षक बन्दिश का चयन किया है। पण्डित सत्यशील देशपाण्डे एक सृजनशील संगीतज्ञ और गायक हैं। 9 जनवरी, 1951 को मुम्बई में जन्मे पण्डित सत्यशील जी प्रख्यात संगीतज्ञ पण्डित वामनराव देशपाण्डे के पुत्र और शिष्य हैं। उनकी संगीत की शिक्षा जिस परिवेश में हुई उस परिवेश में पण्डित भीमसेन जोशी, विदुषी मोंगूबाई कुरडीकर पण्डित वसन्तराव देशपाण्डे, पण्डित कुमार गन्धर्व जैसे दिग्गज संगीतज्ञ छाए हुए थे। इनमें से पण्डित कुमार गन्धर्व की शैली ने पण्डित सत्यशील देशपाण्डे पर सर्वाधिक प्रभाव छोड़ा। आगे चल कर कुमार जी इनके प्रमुख गुरु बने। वर्तमान में पण्डित जी भावपूर्ण और कलात्मक गायकी में सिद्ध हैं। उन्होने कुछेक फिल्मों में भी अपनी गायकी का उदाहरण प्रस्तुत किया है। वर्ष 1982 में प्रदर्शित फिल्म ‘विजेता’ में राग अहीरभैरव के स्वरों में गीत- ‘मन आनन्द आनन्द छायों...’ और 1991 में प्रदर्शित फिल्म ‘लेकिन’ में राग बिलासखानी तोड़ी के स्वरो पर आधारित गीत- ‘झूठे नैना बोलें साँची बतियाँ...’। आज के अंक में हम आपको पण्डित सत्यशील देशपाण्डे से राग छायानट की एक आकर्षक बन्दिश सुनवा रहे हैं। तीनताल में निबद्ध इस बन्दिश के बोल हैं- ‘झनन झनन नन बाजे बिछुआ...’


राग छायानट : ‘झनन झनन नन बाजे बिछुआ...’ : पण्डित सत्यशील देशपाण्डे 




संगीतकार सचिनदेव बर्मन
राग छायानट का उल्लेख अनेक प्राचीन ग्रन्थों, जैसे- राग लक्षण, संगीत सारामृत, संगीत पारिजात आदि में मिलता है। परन्तु इन ग्राथों में राग छायानट का जो स्वरूप वर्णित किया गया है, वह आधुनिक छायानट से भिन्न है। अहोबल रचित ग्रन्थ ‘संगीत पारिजात’ में राग छायानट का जैसा स्वरूप दिया गया है वह आधुनिक छायानट के स्वरूप से थोड़ा समान है। राग छायानट का स्वरूप राग छाया और राग नट के मेल से बना है। इसमें सा रे, रे ग म प तथा सा रे सा, नट के और परे, रे ग म प, ग म रे सा, छाया राग के अंग हैं। परन्तु वर्तमान में छायानट का संयुक्त रूप इतना अधिक प्रचलित है कि बहुत कम संगीतज्ञों का ध्यान इसके दो मूल रागों पर जाता है। राग छायानट में इन दो रागों का मेल तो है ही, राग को गाते-बजाते समय कई अन्य रागों का आभास भी होता है, जैसे - अल्हैया बिलावल, कामोद और केदार। 

गायक मन्ना डे
राग छायानट पर आधारित एक फिल्मी गीत अब हम आपको सुनवाते हैं। यह राग आधारित गीत फिल्म ‘तलाश’ से पार्श्वगायक मन्ना डे की आवाज़ में है। हिन्दी फिल्मों के पार्श्वगायकों में मन्ना डे ऐसे गायक हैं जो गीतों की संख्या से नहीं बल्कि गीतों की गुणबत्ता और संगीत-शैलियों की विविधता से पहचाने जाते हैं। पूरे छः दशक तक फिल्मों में हर प्रकार के गीतों के साथ-साथ राग आधारित गीतों के गायन में मन्ना डे का कोई विकल्प नहीं था। मन्ना डे के स्वर में आज का यह गीत राग छायानट पर आधारित है, जिसके संगीतकार है, सचिनदेव बर्मन। बर्मन दादा मन्ना डे की प्रतिभा से भलीभाँति परिचित थे। अपने आरम्भिक दौर में बर्मन दादा मन्ना डे के चाचा के.सी. डे से मार्गदर्शन प्राप्त करते थे। कुछ फिल्मों में मन्ना डे, बर्मन दादा के सहायक भी रहे। 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘मशाल’ में मन्ना डे का गाये और बर्मन दादा का संगीतबद्ध किये गीत- ‘ऊपर गगन विशाल...’ को अपार सफलता मिली और दोनों कलाकार स्थापित हो गए। 1969 की फिल्म ‘तलाश’ के लिए बर्मन दादा ने राग ‘छायानट’ पर आधारित एक गीत- ‘तेरे नैना तलाश करें जिसे...’ की संगीत रचना की। इस गीत को स्वर देने के लिए दादा के सामने मन्ना डे का कोई विकल्प नहीं था। सितारखानी ताल में निबद्ध इस गीत को गाकर मन्ना डे ने फिल्म के प्रसंग के साथ-साथ राग ‘छायानट’ का पूरा स्वरूप श्रोताओं के सम्मुख उपस्थित कर दिया है। बर्मन दादा ने तबला, तबला तरंग के साथ दक्षिण भारतीय ताल वाद्य मृदंगम का प्रयोग कर गीत को मनमोहक रूप दिया है। लीजिए, आप भी सुनिए दो सुरीले कलाकारों की मधुर कृति और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग छायानट : ‘तेरे नैना तलाश करें जिसे...’ : मन्ना डे : फिल्म – तलाश





संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 255वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक राग आधारित फिल्मी गीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 260वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पहली श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत का यह अंश सुन कर बताइए कि आपको किस राग का आभास हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक की आवाज़ को पहचान रहे हैं? हमें उनका नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 6 फरवरी, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 257वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 253 की संगीत पहेली में हमने आपको 1960 में प्रदर्शित फिल्म ‘मुगल-ए-आजम’ से राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – केदार, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल – दादरा और तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायिका – लता मंगेशकर

इस बार की पहेली में कुल छः प्रतिभागियों ने सही उत्तर दिया है। इन विजेताओं में अहमदाबाद, गुजरात के अश्विनी विचारे ने पहली बार प्रतियोगिता में भाग लिया है। अश्विनी जी का ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर हार्दिक स्वागत है। हमारे अन्य नियमित प्रतिभागी विजेता हैं- जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया और चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल। सभी छः प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक अभिनन्दन है।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में आप हमारी श्रृंखला ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ का रसास्वादन कर रहे हैं। श्रृंखला के तीसरे अंक में आपने राग छायानट की चर्चा के सहभागी थे। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे एक पाठक और श्रोता नीरद जकातदार ने निम्नलिखित फरमाइश की है-

Respected Sir,

We would really appreciate if artists like Pt.Manu Srivastava gets a chance to perform with you. Manu Srivastava born and brought up in USA and performed all over in USA, Canada and India too. .He also runs an academy in USA named as 'Phoenix Gharana', where more than 300 students learning Indian Classical Music. And incredibally all our students learning and performing all over usa and getting such huge response. Manu sir has now performed in large crowds of India as well including prestigious Balagandharva Sangeet Mahotsav.
Sir, We want to grow indian classical music well not only in usa but also in india too. And for that purpose we won't mind in supporting you. As we are well aware that ,to organize good concerts of indian classical music, needs good financial background support.
Phoenix Gharana is looking to collaborate with major organizations like you and may be it would be beneficial for both parties in the future to collaborate and grow and take things overseas. We will support you in all ways possible if you are really working on grass route to promote Indian Classical Music...Lets Indian Classical Music reaches upto golden peak.. and i assure you, you will love my guru's performance and enjoy it. Hoping a positive response from you. We can have plan out everything if you are interested...You can find him on youtube too, also you can visit our official website of Phonenix Gharana.

Regards, Nirad Jakatdar

धन्यवाद, नीरद जी। हम आपकी फरमाइश को पूरा करने का प्रयत्न अवश्य करेंगे। आप भी अपने विचार, सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करते हैं। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  


Saturday, November 1, 2014

"रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना" - कैसे बना था एक ही शॉट में फ़िल्माये जाने वाले हिन्दी सिनेमा का यह पहला गीत?


एक गीत सौ कहानियाँ - 44
 

रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना...





'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 44-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'आराधना' के मशहूर गीत "रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना..." के बारे में।


'आराधना' कई कारणों से हिन्दी सिनेमा की एक बेहद महत्वपूर्ण फ़िल्म है। जहाँ एक तरफ़ इस फ़िल्म ने अभिनेता राजेश खन्ना को स्टार बना दिया, वहीं दूसरी ओर गायक किशोर कुमार के करीयर की गाड़ी को सुपरफ़ास्ट ट्रैक पर ला खड़ा किया। एक लो बजट फ़िल्म होते हुए भी इस फ़िल्म ने लाखों का मुनाफ़ा कमाया। फ़िल्म-संगीत के चलन की अगर बात करें तो यह एक ट्रेण्डसेटर फ़िल्म रही जिसने 70 के दशक के फ़िल्म-संगीत शैली की नीव रखी। कहने का मतलब है कि 'आराधना' के गीतों की जो स्टाइल थी, वही स्टाइल आगे चलकर 70 के दशक के फ़िल्मी गीतों की स्टाइल बनी। यही नहीं इस फ़िल्म में शर्मीला टैगोर ने साड़ी जिस स्टाइल से पहनी थी, उस ज़माने की लड़कियों ने भी उस स्टाइल को अपनाया। राजेश खन्ना, आनन्द बक्शी और राहुलदेव बर्मन की तिकड़ी भी इसी फ़िल्म से शुरू हुई (हालाँकि इस फ़िल्म के संगीतकार सचिनदेव बर्मन थे)। 'आराधना' रिलीज़ हुई थी 1969 में 'बान्द्रा टॉकीज़' में, और मद्रास के एक थिएटर में यह फ़िल्म लगातार दो साल चली थी। 'आराधना' के गीत-संगीत से जुड़ा एक दिलचस्प पहलू यह है कि रफ़ी और किशोर, दोनों ने कैसे एक ही नायक का पार्श्वगायन किया, जबकि उस ज़माने में एक फ़िल्म में एक नायक का पार्श्वगायन एक ही गायक करता था। इस मुद्दे पर दो थियरी सुनने को मिलती है जिसे हम इस लेख में उजागर करने जा रहे हैं। पहली थिअरी है ख़ुद शक्ति दा की जो उन्होंने विविधभारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम में कहे थे। शक्ति दा के शब्दों में - "शुरू में यह तय हुआ था कि मोहम्मद रफ़ी इस फ़िल्म के सभी गीतों को गायेंगे। पर वो एक लम्बे वर्ल्ड टूर पर निकल गये, इसलिए आपस में बातचीत कर यह तय हुआ कि किशोर कुमार को इस फ़िल्म के गीतों को गाने के लिए लाया जाये। पर उस समय किशोर कुमार देव आनन्द के लिए पार्श्वगायन किया करते थे, इसलिए मैं श्योर नहीं था कि किशोर एक नये हीरो के लिए गायेगा या नहीं। मैंने किशोर को फ़ोन किया। वो तब तक अशोक कुमार के ज़रिये मेरा दोस्त बन चुका था। किशोर ने कहा कि वो देव आनन्द के लिए गाता है। तो मैंने कहा कि नख़रे क्यों कर रहा है, हो सकता है कि यह तुम्हारे लिए कुछ अच्छा हो जाये! किशोर राज़ी हो गया और इस तरह से पहला गाना रेकॉर्ड हुआ। एक एक करके तीन गाने रेकॉर्ड हो गये - "कोरा कागज़ था यह मन मेरा...", "मेरे सपनों की रानी कब आयेगी तू...." और "रूप तेरा मस्ताना..."। जब रफ़ी वर्ल्ड टूर से वापस आए तो उन्होंने बाक़ी के दो गीत गाये - "गुनगुना रहे हैं भँवरें...." और "बाग़ों में बहार है..."।"


दूसरी थिअरी का पता हमें चला अन्नु कपूर से, उन्ही के द्वारा प्रस्तुत 'सुहाना सफ़र' कार्यक्रम में। "उन दिनों यह प्रचलन था कि फ़िल्म के शुरू होने पर लौन्चिंग पैड के तौर पर फ़िल्म के दो गाने रेकॉर्ड होते थे, और गानो के रेकॉर्ड होने की ख़बर इंडस्ट्री के प्रचलित अख़्बार 'स्क्रीन' में छप जाती थी। फ़िल्म के गीतों को गाने के लिए सचिनदेव बर्मन की पहली पसन्द थे मोहम्मद रफ़ी साहब। और यही वजह थी कि उन्होंने फ़िल्म के दो गीत रफ़ी से गवाये। "गुनगुना रहे हैं ..." और "बाग़ों में बहार है..."। इससे पहले कि वो और गानों को रेकॉर्ड करवा पाते, दादा की तबीयत ख़राब हो गई, बीमार पड़ गये। हेल्थ के हाथों मजबूर दादा के संगीत की ज़िम्मेदारी आन पड़ी उनके बेटे पंचम के कन्धों पर। पंचम की किशोर कुमार से बहुत अच्छी दोस्ती थी। और वो किशोर कुमार को, ऐज़ ए सिंगर लाइक भी बहुत करते थे। लेकिन किशोर कुमार का उस वक़्त करीयर अच्छा नहीं चल रहा था। पंचम के दिमाग़ में यह बात बस गई और उन्होंने किशोर कुमार की आवाज़ को लेने का निर्णय ले डाला। पंचम का मानना था कि राजेश खन्ना एक नया आर्टिस्ट है जिसके उपर किशोर की आवाज़ बहुत फ़िट रहेगी। बहुत सारी चीज़ों का ध्यान रखते हुए, उनके अपने विचार होंगे, किशोर कुमार के साथ रिहर्सलें शुरू कर दी। पंचम के साथ "मेरे सपनों की रानी...", "कोरा कागज़ था..." और "रूप तेरा मस्ताना...", इन गानों की तैयारी करनी शुरू कर दी। जब गानों की फ़ाइनल रेकॉर्डिंग चल रही थी, तब पिताजी यानी सचिनदेव बर्मन की हालत में कुछ सुधार आ गया और वो फ़ाइनल रेकॉर्डिंग को सुनने स्टुडियो जा पहुँचे। वहाँ जाकर क्या देखते हैं कि किशोर गाना गा रहा है। पंचम से बोले कि ये तूने क्या किया? मैं रफ़ी से गाने गवाना चाहता था क्योंकि वो इंडस्ट्री की नम्बर वन आवाज़ है, डिस्ट्रिब्युटर्स और फ़ाइनन्सर्स की वो पहली पसन्द है, वैसे भी राजेश खन्ना की पहले आई तीन फ़िल्में फ़्लॉप हो चुकी हैं, कम से कम गानों की वजह से तो फ़िल्म प्रोमोट की जा सकती है। क्या तुझे रफ़ी की आवाज़ में रेकॉर्ड की हुई पहले दो गीतों में कोई कमी लगी है? पंचम ने बहुत शान्त भाव से उत्तर दिया कि आप सही कह रहे हैं बाबा, मैंने वो दोनो गीत सुने हैं, और कहीं से भी कमतर नहीं है। पर बचे हुए गीतों के लिए मुझे लगा कि किशोर की आवाज़ बहुत ऐप्ट और पर्फ़ेक्ट रहेगी। मैं चाहता हूँ कि एक बार आप सुनें और फिर कहें। सचिन दा ने जब किशोर की आवाज़ में वो तीनो गाने सुने तो ख़ुश हो गये। पंचम ने उनकी रॉ ट्युन्स को जिस फ़ैशन में फ़ाइनल टच किया था, वो सचमुच बेहतरीन था। गाने फ़ाइनली किशोर की ही आवाज़ में रेकॉर्ड हुए। जब फ़िल्म रिलीज़ हुई तो किशोर के गाये इन गीतों को बहुत कामयाबी मिली। और इस फ़िल्म के गीत "रूप तेरा मस्ताना..." के लिए किशोर कुमार को उस साल फ़िल्मफ़ेयर अवार्ड भी मिला। और इस तरह से इसी फ़िल्म के साथ कमबैक हुआ किशोर कुमार का।"

सचिन दा, शक्ति दा, राजेश खन्ना और पंचम
अब इन दोनों थिअरी में से कौन सी थिअरी सच है और कौन सी ग़लत, यह कह पाना मुश्किल है। पर एक बात जो सच है, वह यह कि "रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना..." गीत की जो कम्पोज़िशन दादा सचिनदेव बर्मन ने बनाई थी, उसमें उतना सेन्सुअसनेस नहीं था। सीन जितना बोल्ड था, उस हिसाब से गीत की धुन ठंडी थी। रिहर्सल करते समय किशोर कुमार ने इसमें अपना अंदाज़ डाल दिया, मुड़कियाँ कम कर दीं और अपनी आवाज़-ओ-अंदाज़ में ऐसी सेन्सुअस अपील ले आये कि सीन के साथ पर्फ़ेक्ट मैच कर गया। कहना ज़रूरी है कि फिर इसके बाद इस तरह का मेल सेन्सुअस गीत दूसरा नहीं बन पाया है। अब इस गीत के पिक्चराइज़ेशन की कहानी भी सुन लीजिये। शक्ति सामन्त अपने गीतों के पिक्चराइज़ेशन के बारे में रात को अपने कमरे में बैठ कर गीतों को सुनते हुए सोचा करते थे और पिक्चराइज़ेशन की प्लैनिंग किया करते थे। तो इस गीत को जैसे वो सुन रहे थे, अचानक से उनके दिमाग़ में यह ख़याल आया कि इस गीत को एक ही शॉट में फ़िल्माया जा सकता है। उन्होंने एक कागज़ लिया और उस पर A, B, C लिखा - A हीरो के लिए, B हीरोइन के लिए, C कैमरे के लिए, और अपने मन-मस्तिष्क में गीत का पूरा फ़िल्मांकन कर बैठे। शूटिंग के दिन उन्होंने एक राउन्ड ट्रॉली मँगवाया और 'फ़िल्मालय' स्टुडियो में इसकी शूटिंग शुरू की। शुरू शुरू में कुछ लोगों ने उनके इस विचार का विरोध किया था कि गीत को एक ही शॉट में फ़िल्माया जाये। किसी ने कहा भी था कि इसका दिमाग़ ख़राब हो गया है जो इतना अच्छा गाना एक ही शॉट में ले रहा है। तब शक्ति दा ने यह दलील दी कि जब रात को मैं यह गाना सुन रहा था तो समझ ही नहीं आया कि "कट" कहाँ पर बोलूँ? इस तरह से यह गीत हिन्दी सिनेमा का वह पहला गीत बना जो एक ही शॉट में फ़िल्माया गया था। बस इतनी सी ही थी इस गीत के बनने की कहानी।  लीजिए, अब आप वह गीत सुनिए।

फिल्म - आराधना : 'रूप तेरा मस्ताना प्यार मेरा दीवाना...' : किशोर कुमार : संगीत - सचिनदेव बर्मन : गीत - आनन्द बक्शी 



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ'' स्तम्भ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 


अपना मनपसन्द स्तम्भ पढ़ने के लिए दीजिए अपनी राय 



नए साल 2015 में शनिवार के नियमित स्तम्भ रूप में आप कौन सा स्तम्भ पढ़ना सबसे ज़्यादा पसन्द करेंगे?

1.  सिने पहेली (फ़िल्म सम्बन्धित पहेलियों की प्रतियोगिता)

2. एक गीत सौ कहानियाँ (फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया से जुड़े दिलचस्प क़िस्से)

3. स्मृतियों के स्वर (रेडियो (विविध भारती) साक्षात्कारों के अंश)

4. बातों बातों में (रेडियो प्लेबैक इण्डिया द्वारा लिये गए फ़िल्म व टीवी कलाकारों के साक्षात्कार)

5. बॉलीवुड विवाद (फ़िल्म जगत के मशहूर विवाद, वितर्क और मनमुटावों पर आधारित श्रृंखला)


अपनी राय नीचे टिप्पणी में अथवा cine.paheli@yahoo.com  पर अवश्य बताएँ। 







Saturday, September 6, 2014

"तुम जियो हज़ारों साल...", आशा जी के जन्मदिन पर यही कह कर उन्हें शुभकामनाएँ देते हैं


एक गीत सौ कहानियाँ - 40
 

‘तुम जियो हज़ारों साल...





'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्युटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 40वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'सुजाता' के गीत "तुम जियो हज़ारों साल..." के बारे में। 

फ़िल्म-संगीत की एक ख़ास बात यह रही है कि इसमें मानव जीवन के हर रंग को, हर मूड को, हर त्योहार-पर्व को, और रोज़-मर्रा के जीवन के हर पहलू को दर्शाने वाले गीत मौजूद हैं। ये गीत हमारे पारिवारिक, सामाजिक, और धार्मिक जीवन से इस तरह से जुड़े हुए हैं कि अगर इन गीतों को हमारे जीवन से निकाल दिया जाये तो ये पर्व, ये त्योहार बड़े ही बदरंग, बड़े ही सूने से लगने लगेंगे। जन्मदिन पर बजाये या गाये जाने वाले गीत भी बहुत सारे बने हैं समय-समय पर। लेकिन जिन दो गीतों की गिनती सबसे पहले होती रही है, वो हैं फ़िल्म 'फ़र्ज़' का "बार-बार दिन यह आये, बार-बार दिन यह गाये" और दूसरा गीत है फ़िल्म 'सुजाता' का "तुम जियो हज़ारों साल, साल के दिन हों पचास हज़ार"। ये गीत फ़िल्मी गीत होते हुए भी फ़िल्म की कहानी के बाहर भी उतने ही सार्थक हैं। दूसरे शब्दों में यूँ कह सकते हैं कि ये यूनिवर्सल गीत हैं जो हर दौर में, हर समाज में, हर उम्र में समान अर्थ रखते हैं। 'सुजाता' को हिन्दी सिनेमा का एक माइलस्टोन फ़िल्म कहा जा सकता सकता है। इसमें बिमल राय ने नायक सुनील दत्त के एक निम्न जाति की लड़की सुजाता (नूतन द्वारा अभिनीत) से प्यार को दिखाया गया है। 'सुजाता' नाम का चुनाव भी बड़े सोच-समझ कर रखा गया था क्योंकि 'सुजाता' शब्द का अर्थ है 'अच्छी जाति का'। इस फ़िल्म में नूतन के जानदार और दिल को छू लेनेवाले अभिनय ने उन्हें जितवाया उस वर्ष की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार। गीत-संगीत की बात करें तो सचिनदेव बर्मन के सुरीले संगीत और मजरूह सुल्तानपुरी के अर्थपूर्ण बोलों ने इस फ़िल्म के गीतों को अमर बना दिया है। "जलते हैं जिसके लिए मेरी आँखों के दीये" को न केवल तलत महमूद के सर्वोत्तम गीतों में माना जाता है, बल्कि रोमांटिक गीतों की श्रेणी में भी बहुत ऊपर स्थान दिया जाता है। दादा बर्मन की आवाज़ में "सुन मेरे बन्धु रे" हमें बंगाल के भटियाली जगत में ले जाता है तो रफ़ी साहब का गाया "वाह भई वाह" हमें गुदगुदा जाता है। गीता दत्त और आशा भोसले की आवाज़ों में "बचपन के दिन भी क्या दिन थे", गीता जी की एकल आवाज़ में "नन्ही कली सोने चली हवा धीरे आना", तथा आशा जी की एकल आवाज़ में "काली घटा छाये मोरा जिया तड़पाये" को सुनना जैसे एक स्वर्गिक अनुभूति है।

अगर आप यह सोच रहे हैं कि उपर इस फ़िल्म के गीतों और गायक कलाकारों का उल्लेख करते हुए "तुम जियो हज़ारों साल" का उल्लेख क्यों नहीं किया गया, तो उसके पीछे एक कारण है। और वह कारण यह कि एक लम्बे समय तक इस बात पर संशय बना रहा कि आख़िर इस गीत को गाया किसने है - गीता दत्त या फिर आशा भोसले। और यही है इस गीत से जुड़ा हुआ सबसे मज़ेदार किस्सा। हुआ यूँ कि सचिनदेव बर्मन ने शुरू शुरू में इस फ़िल्म के चार फ़ीमेल सोलो गीतों में से दो गीत गीता दत्त के लिए और दो गीत आशा भोसले के लिए विभाजित कर रखे थे। (लता मंगेशकर से हुए मन-मुटाव के कारण उन दिनों लता और उनका आपस में काम बन्द था)। "तुम जियो हज़ारों साल" गीत को दादा ने गीता दत्त की झोली में डाल रखा था और उनकी ही आवाज़ में इसे रेकॉर्ड भी कर लिया। गाना बहुत अच्छा बना, गीता दत्त ने भी बहुत ख़ूब गाया, दादा बर्मन को किसी भी शिकायत का मौका नहीं दिया। पर बर्मन दादा को पता नहीं क्यों इस गीत में कुछ कमी सी महसूस होने लगी। सब कुछ ठीक-ठाक होने के बावजूद उन्हें ऐसा लग रहा था कि कुछ तो कमी है इस गीत में। जब कुछ समझ नहीं आया तो उन्होंने यह निर्णय लिया कि वो इस गीत को दोबारा आशा भोसले की आवाज़ में रेकॉर्ड करेंगे। इस बात का पता न गीता जी को चला और ना ही आशा जी को यह किसी ने बताया कि गीता जी यह गीत रेकॉर्ड करवा चुकी हैं। नतीजा, आशा जी की आवाज़ में भी यह गीत रेकॉर्ड हो गया। और इस बार सचिन दा को गीत पसन्द आ गया और उन्होंने इसे ही फ़िल्म में और साउण्डट्रैक में रखने का फ़ैसला किया। और इसी फेर-बदल के चलते 'बिमल राय प्रोडक्शन्स' ने गलती से आशा जी के गाये इस गीत के लिए गीता जी का नाम डाल कर HMV को भेज दिया। इस तरह से ग्रामोफ़ोन रेकॉर्ड के कवर पर गीता दत्त का नाम प्रकाशित हो गया। अब आशा जी और गीता जी की आवाज़ों में और अंदाज़ में थोड़ी-बहुत समानता तो थी ही, जिस वजह से जनता तो क्या फ़िल्म-संगीत के बड़े से बड़े समीक्षक भी धोखा खा गए। सालों तक इस गीत के रेकॉर्ड पर गीता जी का नाम छपता चला गया। यहाँ तक कि गीता दत्त के देहान्त के बाद जब HMV ने उन पर एक LP जारी किया 'In Memorium Geeta Dutt' के शीर्षक से, उसमें आशा भोसले के गाये इस गीत को शामिल कर दिया गया। यह अपने आप में बहुत बड़ी गड़बड़ी थी। राहुलदेव बर्मन, जो इस गीत के निर्माण के समय अपने पिता के सहायक के रूप में कार्य कर रहे थे, ने यह कन्फ़र्म किया कि गीता जी के गाये गीत को उनके पिता ने दोबारा आशा जी से गवाया। HMV ने इस ग़लती का इल्ज़ाम अपने सर लेने से यह कहते हुए मना कर दिया कि उन्होंने वही छापा है जो उन्हें 'बिमल राय प्रोडक्शन्स' के तरफ़ से मिला था। लेकिन यह वाक़ई आश्चर्य में डालने वाली बात है कि बिमल राय, सचिन देव बर्मन, आशा भोसले और गीता दत्त में से किसी ने भी कभी इस बात का उल्लेख कभी नहीं किया! इस गीत के बनने के 27 साल बाद, 1986 में आशा भोसले ने यह स्वीकारा कि उन्होंने इस गीत को गाया था, पर उन्हें इस बात का पता ही नहीं चला कि रेकॉर्ड पर गीता दत्त का नाम दिया गया है क्योंकि न तो वो कभी रेडियो सुनती थी और न ही अपने गाये हुए गीतों को। गीत एक बार रेकॉर्ड हो गया तो वो अगले दिन से अगले गीत के पीछे लग जाती। आशा जी के इस खुलासे के बाद HMV ने इस ग़लती को सुधारा और आशा भोसले के गाये गीतों के अगले कलेक्शन में इस गीत को शामिल करवा दिया, तथा गीता जी के कलेक्शन से हटा दिया। आशा जी ने बड़प्पन का परिचय देते हुए और इस विवाद को ख़त्म करते हुए अन्त में कहा - "अगर इस गीत के लिए गीता जी को क्रेडिट दिया भी गया है, तो इससे न उनके नाम को कोई फ़र्क पड़ता है और न ही मेरे नाम को। यह बहुत ही छोटी सी बात है। और मैं उनकी बहुत इज़्ज़त करती हूँ।"
और अब आप यही गीत सुनिए-

फिल्म - सुजाता : 'तुम जियो हजारों साल, साल के दिन हों पचास हजार...' : आशा भोसले : संगीत - सचिनदेव बर्मन : गीत - मजरूह सुल्तानपुरी 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।



खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

Sunday, August 31, 2014

‘बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...’ : SWARGOSHTHI – 183 : DADARA BHAIRAVI


स्वरगोष्ठी – 183 में आज

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी - 2 : भैरवी दादरा


उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ का गाया दादरा जब मन्ना डे ने दुहराया- ‘बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...’






‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। यह पूर्व में प्रकाशित / प्रसारित श्रृंखला का परिमार्जित रूप है। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के कुछ स्तम्भ केवल श्रव्य माध्यम से प्रस्तुत किये जाते हैं तो कुछ स्तम्भ आलेख, चित्र दृश्य माध्यम और गीत-संगीत श्रव्य माध्यम के मिले-जुले रूप में प्रस्तुत होते हैं। इस श्रृंखला से हम एक नया प्रयोग कर रहे हैं। श्रृंखला के अंक हम प्रायोगिक रूप से दोनों माध्यमों में प्रस्तुत कर रहे हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की प्रमुख सहयोगी संज्ञा टण्डन की आवाज़ में पूरा आलेख और गीत-संगीत श्रव्य माध्यम से भी प्रस्तुत किया जा रहा है। हमारे इस प्रयोग पर आप अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिएगा। 

‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ श्रृंखला में हम कुछ ऐसी ठुमरियों पर चर्चा कर रहे हैं, जिनके पारम्परिक रूप को बरकरार रखते हुए अथवा आंशिक परिवर्तन के साथ फिल्म में भी इस्तेमाल किया गया है। पिछले अंक में हमने आपको राग झिंझोटी में निबद्ध एक परम्परागत ठुमरी उस्ताद अब्दुल करीम खाँ और कुन्दनलाल सहगल की आवाज़ में सुनवाया था। आज के अंक में हम ‘आफ़ताब-ए-मौसिकी’ के खिताब से नवाज़े गए उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के व्यक्तित्व पर चर्चा करेंगे। साथ ही उनका गाया भैरवी का एक दादरा- “बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...” और इसी ठुमरी का फिल्म ‘दूज का चाँद’ में किये गए रोचक उपयोग की चर्चा करेंगे।




न्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम दशक से लेकर पिछली शताब्दी के मध्यकाल तक के जिन संगीतज्ञों की गणना हम शिखर-पुरुष के रूप में करते हैं, उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ उन्ही में से एक थे। ध्रुवपद-धमार, खयाल-तराना, ठुमरी-दादरा, सभी शैलियों की गायकी पर उन्हें सिद्धि प्राप्त थी। प्रकृति ने उन्हें घन, मन्द्र और गम्भीर कण्ठ का उपहार तो दिया ही था, उनके शहद से मधुर स्वर श्रोताओं पर रस-वर्षा कर देते थे। फ़ैयाज़ खाँ का जन्म ‘आगरा घराना’ के ध्रुवपद गायकों के परिवार में हुआ था। दुर्भाग्य से फ़ैयाज़ खाँ के जन्म से लगभग तीन मास पूर्व ही उनके पिता सफदर हुसैन खाँ का इन्तकाल हो गया। जन्म से ही पितृ-विहीन बालक को उनके नाना ग़ुलाम अब्बास खाँ ने अपना दत्तक पुत्र बनाया और पालन-पोषण के साथ-साथ संगीत-शिक्षा की व्यवस्था भी की। यही बालक आगे चल कर आगरा घराने का प्रतिनिधि बना और भारतीय संगीत के अर्श पर आफताब बन कर चमका। फ़ैयाज़ खाँ की विधिवत संगीत शिक्षा उस्ताद ग़ुलाम अब्बास खाँ से आरम्भ हुई, जो फ़ैयाज़ खाँ के गुरु और नाना तो थे ही, गोद लेने के कारण पिता के पद पर भी प्रतिष्ठित थे। फ़ैयाज़ खाँ के पिता का घराना ध्रुपदियों का था, अतः ध्रुवपद अंग की गायकी इन्हें संस्कारगत प्राप्त हुई।

आगे चल कर फ़ैयाज़ खाँ ध्रुवपद के ‘नोम-तोम’ के आलाप में इतने दक्ष हो गए थे कि संगीत समारोहों में उनके समृद्ध आलाप की फरमाइश हुआ करती थी। उनकी ख्याति के कारण बड़ौदा राज-दरबार में संगीतज्ञ के रूप में उनकी नियुक्ति हुई। 1938 में उन्हे मैसूर दरबार से “आफताब-ए-मौसिकी” (संगीत के सूर्य) की उपाधि से नवाजा गया। ध्रुवपद और खयाल गायकी में दक्ष होने के साथ-साथ ठुमरी-दादरा गायन में भी वे अत्यन्त कुशल थे। फ़ैयाज़ खाँ ने कलकत्ता (अब कोलकाता) में भैया गनपत राव और मौजुद्दीन खाँ से ठुमरी-दादरा सुना था और संगीत की इस विधा से अत्यन्त प्रभावित हुए थे। ठुमरी के दोनों दिग्गजों से प्रेरणा पाकर उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ ने इस विधा में भी दक्षता प्राप्त की। खाँ साहब ठुमरी और दादरा के बीच उर्दू के शे’र जोड़ कर गीत में चार-चाँद लगा देते थे। इसके साथ ही टप्पे की तानों को भी वे ठुमरी गाते समय जोड़ लिया करते थे। आज हम आपको उनका गाया भैरवी का बेहद लोकप्रिय दादरा- ‘बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...’ सुनवाते हैं।


भैरवी दादरा : ‘बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी...’ : उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ






 
उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के स्वर में प्रस्तुत भैरवी का यह दादरा श्रृंगार-रस प्रधान है। नायिका, नायक से सौतन के घर न जाने की मान-मनुहार करती है, और यही इस दादरा का प्रमुख भाव है। यह दादरा 1960 में प्रदर्शित, देव आनन्द, नूतन और महमूद अभिनीत फिल्म ‘मंज़िल’ में संगीतकार सचिनदेव बर्मन ने प्रयोग किया था। यद्यपि इस फिल्म के प्रायः सभी गीत लोकप्रिय हुए थे, किन्तु पार्श्वगायक मन्ना डे के स्वर में प्रस्तुत यह दादरा सदाबहार गीतों की श्रेणी में शामिल हो गया था। फिल्म में यह दादरा हास्य अभिनेता महमूद के लिए मन्ना डे ने पार्श्वगायन किया था। गीत चूँकि महमूद पर फिल्माना था इसलिए बर्मन दादा और मन्ना डे ने इस श्रृंगार प्रधान गीत को अपने कौशल से हास्य गीत के रूप में ढाल दिया। मूल दादरा की पहचान को बनाए रखते हुए गीत को फिल्म में शामिल किया गया था। हाँ, स्थायी के शब्दों में ‘चलो’ के स्थान पर ‘हटो’ अवश्य जोड़ा गया और गीत के अन्तिम भाग में तीनताल जोड़ा गया। लीजिए अब आप इस दादरा का फिल्मी संस्करण सुनिए-


भैरवी दादरा : फिल्म – मंज़िल : ‘बनाओ बतियाँ हटो काहे को झूठी...’ : मन्ना डे : संगीत – सचिनदेव बर्मन







'स्वरगोष्ठी' की इस श्रृंखला में अब हम आपको आज के इस आलेख और गीतों का समन्वित श्रव्य रूप प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसे 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' परिवार की सक्रिय सदस्य संज्ञा टण्डन ने अपनी आवाज़ से सजाया है। आप इस प्रस्तुति का आनन्द लीजिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।



भैरवी दादरा : ‘बनाओ बतियाँ हटो काहे को झूठी...’ : फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी : वाचक स्वर – संज्ञा टण्डन 






आज की पहेली 


‘स्वरगोष्ठी’ के 183वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक फिल्मी ठुमरी गीत का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 190वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा। 
 



1 – कण्ठ संगीत की इस रचना के अंश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का आधार है?

2 – क्या आप गायक की आवाज़ को पहचान रहे है? यदि हाँ, तो हमें गायक का नाम बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 185वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता 


‘स्वरगोष्ठी’ की 181वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको सुप्रसिद्ध गायक उस्ताद अब्दुल करीम खाँ की गायी झिंझोटी की ठुमरी का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग झिंझोटी और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- गायक उस्ताद अब्दुल करीम खाँ। इस अंक की पहेली के दोनों प्रश्नो के सही उत्तर एक लम्बे अन्तराल के बाद मिन्नेसोटा, अमेरिका से दिनेश कृष्णजोइस के साथ ही हमारी नियमित प्रतिभागी जबलपुर से क्षिति तिवारी और पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई। इस बार हमारे एक नए प्रतिभागी गोविन्द मकवाना ने भी पहेली में हिस्सा लिया है। हम उनका हार्दिक स्वागत करते हैं।


अपनी बात 


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हम पारम्परिक ठुमरी और उसके फिल्मी प्रयोग पर चर्चा कर रहे हैं। इस लघु श्रृंखला में हम एक नया प्रयोग भी कर रहे हैं। आपको ‘स्वरगोष्ठी’ का यह स्वरूप कैसा लगा? हमें अवश्य बताइएगा। आप भी यदि भारतीय संगीत के किसी विषय में कोई जानकारी हमारे बीच बाँटना चाहें तो अपना आलेख अपने संक्षिप्त परिचय के साथ ‘स्वरगोष्ठी’ के ई-मेल पर भेज दें। अपने पाठको/श्रोताओं की प्रेषित सामग्री प्रकाशित/प्रसारित करने में हमें हर्ष होगा। आगामी श्रृंखलाओं के लिए आप अपनी पसन्द के कलासाधकों, रागों या रचनाओं की फरमाइश भी कर सकते हैं। हम आपके सुझावों और फरमाइशों का स्वागत करेंगे। अगले अंक में रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इस मंच पर आप सभी संगीत-प्रेमियों की हमें प्रतीक्षा रहेगी।


वाचक स्वर : संज्ञा टण्डन  
आलेख व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  

Saturday, July 5, 2014

"मोरा गोरा अंग ल‍इ ले..." - जानिये किन मुश्किलों से गुज़रते हुए बना था यह गीत


एक गीत सौ कहानियाँ - 35
 

मोरा गोरा अंग ल‍इ ले...’



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार! दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्युटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारी ज़िन्दगियों से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 35-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'बन्दिनी' के गीत "मोरा गोरा अंग ल‍इ ले..." के बारे में। 




गुलज़ार
फ़िल्म 'बन्दिनी' का निर्माण चल रहा था, जिसके निर्देशक थे बिमल राय, संगीतकार थे सचिनदेव बर्मन और बतौर गीतकार शैलेन्द्र फ़िल्म के गाने लिखने वाले थे। अब हुआ यूँ कि दादा बर्मन और शैलेन्द्र के बीच किसी वजह से मनमुटाव हो गया और ग़ुस्से में आकर सचिन दा ने कह दिया कि वो शैलेन्द्र के साथ काम नहीं करेंगे। इसी समय बिमल दा के लिए इस फ़िल्म का पहला गीत शूट करना बेहद ज़रूरी हो गया था। वो मुश्किल में पड़ गये; लाख समझाने पर भी सचिन दा शैलेन्द्र जी के साथ काम करने के लिए तैयार नहीं हुए। जब बिमल दा ने यह बात शैलेन्द्र को बताई तो शैलेन्द्र जी सोच में पड़ गये कि बिमल दा को इस मुश्किल से कैसे निकाला जाये। उन्हीं दिनों शैलेन्द्र Bombay Youth Choir के सदस्य हुआ करते थे जिसके गुलज़ार भी सदस्य थे। यह कॉयर किशोर कुमार की पत्नी रूमा देवी चलाती थीं। गुलज़ार उन दिनों एक गराज में गाड़ियों को रंगने का काम किया करते थे और एक लेखक बनने का ख़्वाब देखा करते। क्योंकि शैलेन्द्र को गुलज़ार के इस लेखन-रुचि का पता था, उन्होंने गुलज़ार से कहा कि जाकर बिमल दा से मिले और बताया कि बिमल दा के लिए एक गीत लिखना है। क्योंकि गुलज़ार को गीत लेखन में कोई रुचि नहीं थी और न ही वो फ़िल्मों के लिए कुछ लिखना चाहते थे, इसलिए उन्होंने शैलेन्द्र जी को मना कर दिया। पर शैलेन्द्र जी कहाँ मानने वाले थे। आख़िरकार शैलेन्द्र की ज़िद के आगे गुलज़ार को झुकना पड़ा। गुलज़ार अपने एक दोस्त देबू के साथ, जो उन दिनों बिमल दा के सहायक थे, पहुँच गये बिमल राय के डेरे पर। बिमल दा ने गुलज़ार को उपर से नीचे तक देखा और देबू की तरफ़ मुड़ कर बांगला में बोले, "भद्रलोक कि बैष्णब कोबिता जाने?" (क्या इस महाशय को वैष्णव कविता पता है?) जब देबू ने बिमल दा को बताया कि गुलज़ार को बांगला समझ आती है, तो बिमल दा को शर्म आ गई। ख़ैर, बिमल दा ने गुलज़ार को सिचुएशन समझाया और सचिन दा के पास भेज दिया धुन सुनने के लिए। दादा बर्मन से धुन लेकर गुलज़ार चले गये घर और एक सप्ताह बाद गीत लेकर वापस पहुँच गये सचिन दा के पास। सचिन को जब गीत सुनाया तो उन्हें पसन्द आया। गुलज़ार ने पूछा कि क्या मैं बिमल दा को जा कर गीत सुना दूँ? सचिन ने पूछा कि क्या तुम्हे गाना आता है? गुलज़ार के ना कहने पर सचिन ने उन्हें बिमल दा को गीत सुनाने से मना करते हुए कहा, "अरे तुम कैसा भी सुनायेगा और हमारा ट्युन रीजेक्ट हो जायेगा"। ख़ैर, बिमल राय को गीत और धुन, दोनों बहुत पसन्द आया और गायिका के रूप में लता मंगेशकर का नाम चुन लिया गया। गुलज़ार को ये सब कुछ सपना जैसा लग रहा था। एक सप्ताह पहले वो एक गराज में मकेनिक थे और एक सप्ताह बाद उनके लिखे पहले फ़िल्मी गीत के साथ सचिनदेव बर्मन और लता मंगेशकर का नाम जुड़ रहा था। वाकई यह किसी सपने से कम नहीं था।

बिमल राय
"मोरा गोरा अंग लै ले" की सिचुएशन कुछ ऐसी थी कि नूतन, यानी कल्याणी, मन ही मन बिकाश, यानी अशोक कुमार को चाहने लगी है। एक रात चुल्हा-चौका समेट कर गुनगुनाती हुई बाहर निकल रही है। इस सिचुएशन पर यह गीत आता है। गीत बनने के बाद बिमल राय और सचिन देव बर्मन के बीच एक और विवाद खड़ा हो गया। बिमल दा चाहते थे कि गीत घर के अन्दर फ़िल्माया जाये, जबकि सचिन देव बर्मन आउटडोर के लिए इन्टरल्युड बना चुके थे। बिमल राय ने तर्क दिया, यह कहते हुए कि ऐसा करेक्टर घर से बाहर जाकर नहीं गा सकती। सचिन दा ने कहा कि बाहर नहीं जायेगी तो बाप के सामने गायेगी कैसे? दादा बर्मन के सवाल पर बिमल राय ने दलील दी कि बाप से हमेशा वैष्णव कवितायें सुना करती हैं तो गा क्यों नहीं सकती? सचिन दा बोले, "यह कविता पाठ नहीं है दादा, यह गाना है"। इस बात पर बिमल दा बोले कि तो फिर कविता लिखो, वो कविता गायेगी। अब सचिन देव बर्मन को झल्लाहट होने लगी। फिर भी उन्होंने अपनी दलील दी कि गाना घर में घुट जायेगा। उनके इस बात पर बिमल दा ने कहा कि तो फिर आंगन में ले जाओ, लेकिन बाहर नहीं जायेगी। सचिन देव अब इस बात पर अड़ गये कि अगर वो बाहर नहीं जायेगी तो हम भी गाना नहीं बनायेगा। इस तरह थोड़ी देर बहस चलती रही। और बाद में दोनों ने डिसाइड किया कि चलो कल्याणी यानी नूतन को घर के आंगन में ले जाते हैं और तय हो गया कि यह गाना कल्याणी आंगन में ही गायेगी। बिमल राय और दादा बर्मन ने अब गुलज़ार से बोला कि अब तुम इस गाने को आंगन का गाना बनाओ। गुलज़ार फिर देबू के पास गये। उससे वैष्णव कवितायें ली, जो कल्याणी अपने पिता से सुना करती थी। बिमल दा ने गुलज़ार से कहा कि सिचुएशन कुछ ऐसी होगी कि रात का वक़्त है, कल्याणी को यह डर है कि चाँदनी रात में उसे कोई देख न ले। इसलिए वो घर से बाहर नहीं जा रही है। वो आंगन से आगे नहीं जा पाती। इस पर सचिन देव बर्मन ने भी अपनी बात ऐड कर दी, चांदनी रात में भी वो डरती तो है, मगर बाहर चली आयी है। अब मुड़-मुड़ कर आंगन की तरफ़ देखती है, ऐसा कुछ भी होगा, इस पर भी कुछ लिखो। तो गुलज़ार साहब ने बिमल राय और सचिन देव बर्मन, दोनों की बातों को मिला कर, कल्याणी की हालत समझ कर जो गीत लिखा, वह गीत था "मोरा गोरा अंग लै ले, मोहे श्याम रंग दै दे"। क्या मास्टरपीस गीत लिखा गुलज़ार ने। इस गीत को सुनने के बाद शैलेन्द्र ने भी स्वीकार किया कि इतना अच्छा शायद वो भी नहीं लिख पाते इस सिचुएशन पर। बिमल दा और शैलेन्द्र, दोनो यह चाहते थे कि 'बन्दिनी' के बाकी के गीत भी गुलज़ार ही लिखे। पर सचिन देव बर्मन ने गुलज़ार जैसे नये गीतकार के साथ काम करने से मना कर दिया। जल्द ही उनकी शैलेन्द्र से दोस्ती हो गई और उन्होंने ऐलान किया कि इस फ़िल्म के बाकी गीत शैलेन्द्र ही लिखेंगे। सचिन दा का मिज़ाज कुछ ऐसा हुआ करता था कि उनकी बात को टालना किसी के बस की बात नहीं होती। इस बात पर बिमल दा और शैलेन्द्र, दोनों को गुलज़ार के लिए बुरा लगा, पर गुलज़ार ने कुछ भी नहीं कहा और शैलेन्द्र जी को उनकी कुर्सी वापस देते हुए कहा कि यह आप ही की कुर्सी है, आप ही सम्भालिये। बस, इतनी सी है इस गीत के पीछे की कहानी। लीजिए, अब आप भी उस गीत को सुनिए।

फिल्म - बंदिनी : 'मोरा गोरा अंग लइले मोहे श्याम रंग दइदे...' : लता मंगेशकर : संगीत - सचिनदेव बर्मन : गीत - गुलजार 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ