Showing posts with label rag kamod. Show all posts
Showing posts with label rag kamod. Show all posts

Sunday, January 17, 2016

राग कामोद : SWARGOSHTHI – 253 : RAG KAMOD





स्वरगोष्ठी – 253 में आज

दोनों मध्यम स्वर वाले राग – 1 : राग कामोद

‘ए री जाने न दूँगी...’



‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर नये वर्ष की पहली श्रृंखला – ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ की आज से शुरुआत हो रही है। श्रृंखला की पहली कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-रसिकों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत के कुछ ऐसे रागों की चर्चा करेंगे, जिनमें दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाता है। संगीत के सात स्वरों में ‘मध्यम’ एक महत्त्वपूर्ण स्वर होता है। हमारे संगीत में मध्यम स्वर के दो रूप प्रयोग किये जाते हैं। स्वर का पहला रूप शुद्ध मध्यम कहलाता है। 22 श्रुतियों में दसवाँ श्रुति स्थान शुद्ध मध्यम का होता है। मध्यम का दूसरा रूप तीव्र या विकृत मध्यम कहलाता है, जिसका स्थान बारहवीं श्रुति पर होता है। शास्त्रकारों ने रागों के समय-निर्धारण के लिए कुछ सिद्धान्त निश्चित किये हैं। इन्हीं में से एक सिद्धान्त है, “अध्वदर्शक स्वर”। इस सिद्धान्त के अनुसार राग का मध्यम स्वर महत्त्वपूर्ण हो जाता है। अध्वदर्शक स्वर सिद्धान्त के अनुसार राग में यदि तीव्र मध्यम स्वर की उपस्थिति हो तो वह राग दिन और रात्रि के पूर्वार्द्ध में गाया-बजाया जाएगा। अर्थात, तीव्र मध्यम स्वर वाले राग 12 बजे दिन से रात्रि 12 बजे के बीच ही गाये-बजाए जा सकते हैं। इसी प्रकार राग में यदि शुद्ध मध्यम स्वर हो तो वह राग रात्रि 12 बजे से दिन के 12 बजे के बीच का अर्थात उत्तरार्द्ध का राग माना गया। कुछ राग ऐसे भी हैं, जिनमें दोनों मध्यम स्वर प्रयोग होते हैं। इस श्रृंखला में हम ऐसे ही रागों की चर्चा करेंगे। श्रृंखला के पहले अंक में आज हम राग कामोद के स्वरूप की चर्चा कर रहे हैं। राग कामोद में पहले हम पण्डित राजन और साजन मिश्र के युगल स्वरों में एक बन्दिश प्रस्तुत करेंगे। इसके बाद इसी बन्दिश के फिल्मी प्रयोग का एक उदाहरण लता मंगेशकर की आवाज़ में सुनवाएँगे।


कल्याणहिं के थाट में दोनों मध्यम लाय,
प-रि वादी-संवादि कर, तब कामोद सुहाय।

राजन और साजन मिश्र
संगीत के विद्यार्थियों को राग के ढाँचे का परिचय देने के उद्देश्य से उपरोक्त दोहे का प्रयोग किया जाता है। इसके साथ ही राग के स्वरों की जानकारी ‘लक्षण गीत’ के माध्यम से भी दी जाती है। इस श्रृंखला और आज के अंक में हम आपसे दोनों मध्यम स्वरों से युक्त राग कामोद पर चर्चा करेंगे। कल्याण थाट और कल्याण अंग से संचालित होने वाले इस राग को कुछ गायक प्राचीन ग्रन्थकारों के आधार पर बिलावल थाट के अन्तर्गत भी मानते हैं। औड़व-सम्पूर्ण जाति के इस राग के आरोह में गान्धार और निषाद स्वर का प्रयोग नहीं किया जाता। तीव्र मध्यम का अल्प प्रयोग केवल आरोह में पंचम के साथ और शुद्ध मध्यम का प्रयोग आरोह और अवरोह दोनों में किया जाता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ होता है। राग कामोद के आरोह के स्वर हैं- सा रे प म(तीव्र) प ध प नि ध सां तथा अवरोह के स्वर हैं- सां नि ध प म(तीव्र) प ध प ग म(शुद्ध) रे सा। राग वर्गीकरण के प्राचीन सिद्धान्तों के अनुसार राग कामोद को राग दीपक की पत्नी माना जाता है। इस राग का गायन-वादन पाँचवें प्रहर अर्थात रात्रि के प्रथम प्रहर में किया जाता है। राग हमीर के समान कामोद राग के वादी और संवादी स्वर रागों के समय सिद्धान्त की दृष्टि से खरा नहीं उतरता। रागों के समय सिद्धान्त के अनुसार जो राग दिन के पूर्व अंग में उपयोग किये जाते हैं, उनका वादी स्वर सप्तक के पूर्व अंग में होना चाहिए। कामोद राग को इस नियम का अपवाद माना गया है, क्योंकि यह रात्रि के प्रथम प्रहर गाया जाता है और इसका वादी स्वर पंचम है। यह स्वर सप्तक के उत्तरांग का एक स्वर है। अब आपको इस राग की एक बन्दिश सुप्रसिद्ध युगल गायक पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र की आवाज़ में प्रस्तुत कर रहे हैं। राग कामोद की यह अत्यन्त प्रचलित परम्परागत रचना है, जिसके बोल हैं- ‘एरी जाने न दूँगी...’। इस प्रस्तुति में तबला संगति सुधीर पाण्डेय ने और हारमोनियम संगति महमूद धौलपुरी ने की है।


राग कामोद : ‘एरी जाने न दूँगी...’ : पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र 



सी. रामचन्द्र के साथ रोशन और लता
श्रृंगार रस की अभिव्यक्ति के लिए कामोद आदर्श राग है। इस राग में ऋषभ-पंचम स्वरों की संगति अधिक होती है। ऋषभ से पंचम को जाते समय सर्वप्रथम मध्यम से मींड़युक्त झटके के साथ ऋषभ स्वर पर आते हैं और फिर पंचम को जाते हैं। यह ध्यान रखना चाहिए कि इस प्रक्रिया में पंचम के साथ ऋषभ की संगति कभी न हो। राग हमीर और केदार के समान राग कामोद में भी कभी-कभी कोमल निषाद का प्रयोग अवरोह में राग की रंजकता बढ़ाने के लिए किया जाता है। राग कामोद में गान्धार का प्रयोग कभी भी सपाट नहीं बल्कि वक्र प्रयोग होता है। राग हमीर और केदार इसके समप्रकृति राग हैं। इन रागो की चर्चा हम इसी श्रृंखला के आगामी अंकों में करेंगे। ऊपर आपने राग कामोद की जो बन्दिश सुनी है, उस बन्दिश का उपयोग फिल्म में भी हुआ है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार भगवतीचरण वर्मा के चर्चित कथानक ‘चित्रलेखा’ पर आधारित 1964 में इसी नाम से फिल्म बनी थी, जिसमें यह बन्दिश शामिल की गई थी। फिल्म के गीतकार साहिर लुधियानवी हैं, जिन्होने राग कामोद की मूल पारम्परिक बन्दिश की स्थायी के शब्दों को यथावत रखते हुए अन्तरों में परिवर्तन किया है। फिल्म में यह गीत लता मंगेशकर ने रोशन के संगीत निर्देशन में गाया था। संगीतकार रोशन ने भी साहिर का यह गीत राग कामोद के स्वरों में संगीतबद्ध किया है। अब आप लता मंगेशकर की आवाज़ में राग कामोद की इस खयाल रचना का फिल्मी रूप सुनिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग कामोद : ‘एरी जाने न दूँगी...’ : लता मंगेशकर : फिल्म – चित्रलेखा




संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 253वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक रागबद्ध फिल्म संगीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 260वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पहली श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत का यह अंश सुन कर बताइए कि आपको किस राग की अनुभूति हो रही है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत की गायिका को पहचान रहे हैं? हमें उनका नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 23 जनवरी, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 255वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के 251वें अंक में हमने संगीत पहेली को विराम दिया था, अतः इस अंक का कोई भी परिणाम और विजेता नहीं है। 252वें अंक की पहेली का परिणाम और विजेताओं की सूची हम अगले अंक में प्रकाशित करेंगे।


अपनी बात

मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में आज से आरम्भ श्रृंखला ‘दोनों मध्यम स्वर वाले राग’ का यह पहला अंक था, जिसमें आप राग कामोद की चर्चा के सहभागी थे। इससे पहले 251 और 252वें अंकों में आप बीते वर्ष के सिंहावलोकन अंकों के साक्षी बने। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारी एक नियमित पाठक और श्रोता तथा वर्ष 2015 की पहेली की एक महाविजेता, पेंसिलवेनिया, अमेरिका की श्रीमती विजया राजकोटिया ने निम्नलिखित विचार व्यक्त किया है – 
‘I want to take this opportunity to express my gratitude to you and all those who worked with you for making "Swargoshthi" a wonderful base for all music lovers, classical, light or film music where they can listen to music, read about the life-sketch of different artists, expand their awareness of music to be able to appreciate and enjoy the divinity felt as a result. I am also very impressed by the Shrunkhala and Paheli which I look forward to every week and try and participate as much as possible.Today, it gives me such joy to win the music quiz and I am speechless to describe how it touches my heart. I think this is very important to make our thinking and feelings so engrossed in music which will enable us to increase our knowledge. With regards, Vijaya Rajkotia.
आप भी अपने विचार, सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करते हैं। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  




Sunday, October 18, 2015

सरोद और अमजद अली : SWARGOSHTHI – 240 : SAROD & AMJAD ALI



स्वरगोष्ठी – 240 में आज

संगीत के शिखर पर – 1 : सरोद वादन

सरोद वादन में अप्रतिम उस्ताद अमजद अली खाँ



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ हो रही हमारी नई श्रृंखला – ‘संगीत के शिखर पर’ की पहली कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीतानुरागियों का स्वागत करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत की विभिन्न विधाओं में शिखर पर विराजमान व्यक्तित्व और उनकी प्रस्तुतियों की चर्चा करेंगे। संगीत गायन और वादन की विविध लोकप्रिय शैलियों में किसी एक शीर्षस्थ कलासाधक का चुनाव कर उनके व्यक्तित्व और उनकी कृतियों को प्रस्तुत करेंगे। आज श्रृंखला की पहली कड़ी में हम अत्यन्त लोकप्रिय तंत्रवाद्य सरोद और इसके विश्वविख्यात वादक उस्ताद अमजद अली खाँ के व्यक्तित्व तथा कृतित्व की संक्षिप्त चर्चा करेंगे और उनका बजाया राग श्याम कल्याण, कामोद और भैरवी की रचनाएँ सुनेगे।




संगीत रत्नाकर’ ग्रन्थ के अनुसार भारतीय संगीत के वाद्ययंत्रों को चार मुख्य वर्ग- तत्, सुषिर, अवनद्ध और घन में बांटा गया है। जिन वाद्यों में ताँत या तार से ध्वनि उत्पन्न होती है उन्हें तत् वाद्य कहा जाता है। जैसे- सितार, सरोद, गिटार, सारंगी, वायलिन आदि। आगे चल कर तत् श्रेणी के वाद्यों को वादन शैली में भिन्नता के कारण दो भागों में बाँटा जाता है। कुछ तत् वाद्ययंत्र गज या कमानी द्वारा वाद्य के तारों पर रगड़ कर बजाया जाता है। इस श्रेणी के व्वाद्ययंत्रों में सारंगी, वायलिन, इसराज, दिलरुबा, चेलो आदि आते हैं। दूसरी श्रेणी में वाद्ययंत्रों के तारों पर मिज़राब, जवा या उँगलियों से आघात करके बजाया जाता है। इस श्रेणी में वीणा, सुरबहार, सितार, सरोद, गिटार आदि वाद्य रखे गए हैं। सरोद वाद्य इसी श्रेणी का है। आधुनिक सरोद प्राचीन वाद्य ‘रबाब’ का संशोधित और विकसित रूप है। आज की ‘स्वरगोष्ठी में हम सरोद और उसके अप्रतिम साधक और वादक उस्ताद अमजद अली खाँ पर चर्चा कर रहे हैं।

विश्वविख्यात संगीतज्ञ और सरोद-वादक उस्ताद अमजद अली खाँ का जन्म 9 अक्टूबर, 1945 को ग्वालियर में संगीत के सेनिया बंगश घराने की छठी पीढ़ी में हुआ था। संगीत इन्हें विरासत में प्राप्त हुआ था। इनके पिता उस्ताद हाफ़िज़ अली खाँ ग्वालियर राज-दरबार में प्रतिष्ठित संगीतज्ञ थे। इस घराने के संगीतज्ञों ने ही ईरान के लोकवाद्य ‘रबाब’ को भारतीय संगीत के अनुकूल परिवर्द्धित कर ‘सरोद’ नामकरण किया। अमजद अली अपने पिता हाफ़िज़ अली के सबसे छोटे पुत्र हैं। उस्ताद हाफ़िज़ अली खाँ ने परिवार के सबसे छोटे और सर्वप्रिय सन्तान को बहुत छोटी उम्र में ही संगीत-शिक्षा देना आरम्भ कर दिया था। मात्र बारह वर्ष की आयु में एकल सरोद-वादन का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन किया था। एक छोटे से बालक की सरोद पर अनूठी लयकारी और तंत्रकारी सुन कर दिग्गज संगीतज्ञ दंग रह गए। उस्ताद अमजद अली खाँ और उनके सरोद पर चर्चा जारी रहेगी, आइए, उस्ताद के सरोद-वादन का एक उदाहरण सुनते हैं। उस्ताद अमजद अली खाँ प्रस्तुत कर रहे हैं, कल्याण थाट का राग ‘श्याम कल्याण’। इस राग में दोनों मध्यम स्वर प्रयोग किये जाते हैं और आरोह में धैवत स्वर वर्जित होता है। रचना मध्यलय तीनताल में निबद्ध है।



राग श्याम कल्याण : मध्यलय तीनताल की रचन : उस्ताद अमजद अली खाँ




उस्ताद अमजद अली खाँ को बचपन में ही सरोद से ऐसा लगाव हुआ कि युवावस्था तक आते-आते एक श्रेष्ठ सरोद-वादक के रूप में पहचाने जाने लगे। उन्होने सरोद-वादन की शैली में विकास के लिए कई प्रयोग किये। उनका एक महत्त्वपूर्ण प्रयोग यह है कि सरोद के तारों को उँगलियों के सिरे से बजाने के स्थान पर नाखून से बजाना। सितार की भाँति सरोद में स्वरों के पर्दे नहीं होते, इसीलिए जब उँगलियों के सिरे के स्थान पर नाखूनों से इसे बजाया जाता है तब स्वरों की स्पष्टता और मधुरता बढ़ जाती है। अब आप सरोद पर बजाया राग ‘कामोद’ सुनिए। राग कामोद कल्याण थाट और सम्पूर्ण जाति का राग है। इस राग में भी दोनों मध्यम स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ होता है। रात्रि के प्रथम प्रहर में इस राग का गायन-वादन सुखदायी होता है। आप उस्ताद अमजद अली खाँ का बजाया, चाँचर या दीपचन्दी ताल में निबद्ध यह रचना सुनिए।


राग कामोद : चाँचर ताल में निबद्ध रचना : उस्ताद अमजद अली खाँ




युवावस्था में ही उस्ताद अमजद अली खाँ ने सरोद-वादन में अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कर ली थी। 1971 में उन्होने द्वितीय एशियाई अन्तर्राष्ट्रीय संगीत-सम्मेलन में भाग लेकर ‘रोस्टम पुरस्कार’ प्राप्त किया था। यह सम्मेलन यूनेस्को की ओर से पेरिस में आयोजित किया गया था, जिसमें उन्होने ‘आकाशवाणी’ के प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया था। अमजद अली ने यह पुरस्कार मात्र 26 वर्ष की आयु में प्रपट किया था, जबकि इससे पूर्व 1969 में यही ‘रोस्टम पुरस्कार’ उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ को शहनाई-वादन के लिए प्राप्त हो चुका था। 1963 में मात्र 18 वर्ष की आयु में उन्होने पहली अमेरिका यात्रा की थी। इस यात्रा में पण्डित बिरजू महाराज के नृत्य-दल की प्रस्तुति के साथ अमजद अली खाँ का सरोद-वादन भी हुआ था। इस यात्रा का सबसे उल्लेखनीय पक्ष यह था कि खाँ साहब के सरोद-वादन में पण्डित बिरजू महाराज ने तबला संगति की थी और खाँ साहब ने बिरजू महाराज की कथक संरचनाओं में सरोद की संगति की थी। उस्ताद अमजद अली खाँ ने देश-विदेश के अनेक महत्त्वपूर्ण संगीत केन्द्रों में प्रदर्शन कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया है। इनमें कुछ प्रमुख हैं- रायल अल्बर्ट हाल, रायल फेस्टिवल हाल, केनेडी सेंटर, हाउस ऑफ कामन्स, फ़्रंकफ़र्ट का मोजर्ट हाल, शिकागो सिंफनी सेंटर, आस्ट्रेलिया के सेंट जेम्स पैलेस और ओपेरा हाउस आदि। खाँ साहब अनेकानेक पुरस्कारों और सम्मानों से अलंकृत किये जा चुके हैं। इनमें कुछ प्रमुख सम्मान हैं- भारत सरकार द्वारा प्रदत्त ‘पद्मश्री’ और ‘पद्मभूषण’ सम्मान, संगीत नाटक अकादेमी पुरस्कार, तानसेन सम्मान, यूनेस्को पुरस्कार, यूनिसेफ का राष्ट्रीय राजदूत सम्मान आदि। वर्तमान में उस्ताद अमजद अली खाँ के दो पुत्र, अमान और अयान सहित देश-विदेश के अनेक शिष्य सरोद वादन की पताका फहरा रहे हैं। अब हम उस्ताद अमजद अली खाँ द्वारा सरोद पर प्रस्तुत राग ‘भैरवी’ में एक दादरा सुनवाते हैं। आप यह दादरा सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग भैरवी : दादरा में रचना : उस्ताद अमजद अली खाँ





संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 240वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको भारतीय संगीत की एक मशहूर गायिका द्वारा प्रस्तुत कण्ठ-संगीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के इस अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की चौथी श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत का यह अंश सुन कर बताइए कि यह गीत किस राग में निबद्ध है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – गीतांश में गायिका के स्वरों को पहचानिए और हमे उनका नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 24 अक्टूबर, 2015 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 242वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 238 की संगीत पहेली में हमने 1959 में प्रदर्शित फिल्म ‘चाचा ज़िन्दाबाद’ से मदन मोहन का संगीतबद्ध एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग ललित, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल तीनताल तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है- मन्ना डे और लता मंगेशकर। 

इस बार की पहेली में करवार, कर्नाटक से सुधीर हेगड़े, जबलपुर से क्षिति तिवारी, वोरहीज़, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया और हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी ने सही उत्तर दिये हैं। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात 



मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर लघु श्रृंखला ‘संगीत के शिखर पर’ का यह पहला अंक था। अगले अंक में हम भारतीय संगीत की किसी अन्य विधा के किसी शिखर व्यक्तित्व के कृतित्व पर आधारित कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे। इस श्रृंखला के लिए यदि आप किसी राग, गीत अथवा कलाकार को सुनना चाहते हों तो अपना आलेख या गीत हमें शीघ्र भेज दें। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करते हैं। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 




Saturday, February 21, 2015

‘जाओ रे जोगी तुम जाओ रे...’ - एक दिन के अन्दर बन कर तैयार हुआ था यह गीत


एक गीत सौ कहानियाँ - 53
 

जाओ रे जोगी तुम जाओ रे...




'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 53वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'आम्रपाली' के मशहूर गीत "जाओ रे जोगी तुम जाओ रे" से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें। 



फ़िल्म संगीत जगत में कुछ संगीतकार ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपने करिअर के शुरुआत में धार्मिक और ऐतिहासिक फ़िल्मों में संगीत देने की वजह से "टाइप-कास्ट" हो गए और जिसकी वजह से सामाजिक और पॉपुलर फ़िल्मों में संगीत कभी नहीं दे सके। पर ऐसा भी नहीं कि इन संगीतकारों को धार्मिक और ऐतिहासिक फ़िल्मों में बड़ी सफलता प्राप्त हुई हो। तब इन संगीतकारों ने यह तर्क दिया कि इन जौनरों के गीतों को सफलता नहीं मिलती है। इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता क्योंकि संगीतकार जोड़ी शंकर-जयकिशन ने यह कई बार साबित किया है कि फ़िल्म चाहे सामाजिक हो या धार्मिक, या फिर ऐतिहासिक, अगर संगीतकार में काबिलियत है तो उसे सफलता की बुलन्दी तक पहुँचा सकता है। 'हलाकू', 'यहूदी' और 'आम्रपाली' आदि ऐसी फ़िल्में हैं जो ऐतिहासिक और पौराणिक जौनर के होते भी अपने गीत-संगीत की वजह से बेहद कामयाब रहीं। 'आम्रपाली' लेख टंडन की फ़िल्म थी जिसमें वैजयन्तीमाला और सुनील दत्त मुख्य किरदारों में थे। फ़िल्म की कहानी 500 BC काल के वैशाली राज्य की नगरवधू आम्रपाली पर केन्द्रित थी। मगध साम्राज्य के राजा अजातशत्रु आम्रपाली से प्यार करने लगता है और उसे पाने के लिए वैशाली को तबाह कर देता है। पर तब तक आम्रपाली गौतम बुद्ध के विचारों से प्रभावित होकर बुद्ध के शरण में चली जाती है। इस फ़िल्म को लेख टंडन ने इतनी ख़ूबसूरती के साथ परदे पर उतारा कि इस फ़िल्म को उस साल ऑस्कर के लिए भारत की तरफ़ से 'Best Foreign Language Film' के लिए भेजा गया। फ़िल्म को बॉक्स ऑफ़िस पर भले बहुत ज़्यादा कामयाबी न मिली हो पर इसे एक क्लासिक फ़िल्म का दर्जा दिया गया है। फ़िल्म के गीत-संगीत ने भी फ़िल्म को चार-चाँद लगाए। शंकर-जयकिशन के शास्त्रीय-संगीत पर आधारित इस फ़िल्म की रचनाएँ आज भी कानों में शहद घोलती है। फ़िल्म में कुल पाँच गीत थे, जिनमें से चार गीत लता मंगेशकर की एकल आवाज़ में थे ("नील गगन की छाँव में...", "तड़प ये दिन रात की...", "जाओ रे जोगी तुम जाओ रे...", "तुम्हे याद करते करते जायेगी रैन सारी...") और पाँचवाँ गीत "नाचो गाओ धूम मचाओ..." एक समूह गीत था। इनमें से केवल एक गीत "नील गगन की छाँव में" हसरत जयपुरी का लिखा हुआ था, और बाक़ी चार गीत शैलेन्द्र के थे।

और अब बारी एक मज़ेदार क़िस्से की। गीत बन रहा था "जाओ रे जोगी तुम जाओ रे"। रेकॉर्डिंग स्टूडियो में शंकर, जयकिशन, शैलेन्द्र और लता मंगेशकर इस गीत का रिहर्सल कर रहे थे। संयोग से राज कपूर भी किसी काम से उस स्टूडियो में उस समय मौजूद थे। इस गीत की धुन उनके कानों में पड़ते ही वो उठ खड़े हुए और रिहर्सल के जगह पर पहुँच गए। उन्होंने शंकर-जयकिशन से कहा कि यह धुन तो मेरी है, इसे तुम लोग किसी और की फ़िल्म में कैसे इस्तेमाल कर सकते हो? दरसल बात ऐसी थी कि जिस धुन पर "जाओ रे जोगी तुम..." को बनाया गया था, वह धुन इससे पहले शंकर जयकिशन ने राज कपूर की किसी फ़िल्म के लिए बनाई थी जिसका इस्तेमाल राज कपूर ने उस फ़िल्म में नहीं किया था। इसलिए शंकर-जयकिशन यह समझ बैठे कि राज साहब को वह धुन नहीं चाहिए। पर राज कपूर उस धुन का इस्तेमाल अपनी आनेवाली किसी फ़िल्म में करना चाहते थे। तो उस रिहर्सल रूम में राज कपूर से यह ऐलान कर दिया कि वो इस धुन का इस्तेमाल 'मेरा नाम जोकर' के किसी गीत में करना चाहते हैं, इसलिए "जाओ रे जोगी" के लिए शंकर-जयकिशन कोई और धुन बना ले। यह कह कर राज कपूर वहाँ से चले गए। एक पल के लिए जैसे रूम में सन्नाटा हो गया। लेख टंडन एक समय राज कपूर के सहायक हुआ करते थे और राज कपूर से उन्होंने फ़िल्म निर्माण के महत्वपूर्ण पहलू सीखे थे; ऐसे में वो राज कपूर के ख़िलाफ़ कैसे जाते या उनसे बहस करते, पर अब इस उलझन से कैसे निकले?

लेख टंडन
स्टूडियो की चुप्पी को तोड़ा लता मंगेशकर ने। उन्होंने हारमोनियम को अपनी तरफ़ खींचा और ऐलान किया कि चलिए हम एक और गीत बनाते हैं! शंकर-जयकिशन ने मिनटों में मुखड़े की धुन बना दी, और शैलेन्द्र के मुख से भी तुरन्त मुखड़े के बोल निकल पड़े "जाओ रे जोगी तुम जाओ रे, यह प्रेमियों की नगरी, यहाँ प्रेम ही है पूजा"। लता जी के मुख से इस मुखड़े की अद्भुत अदायगी को सुन कर सब ख़ुशी से उछल पड़े। पर अभी भी उलझन खतम नहीं हुई, मुखड़ा तो बन गया, पर अन्तरे इतनी जल्दी कैसे बनेंगे! तब शैलेन्द्र ने यह ऐलान कर दिया - "इस वक़्त 10 बज रहे हैं, सभी को 3 बजे वापस बुलाओ, मेरा गाना पूरा हो जाएगा"। यह कह कर शैलेन्द्र ने लेख टंडन को अपनी कार में बिठाया और 'आरे मिल्क कॉलोनी' ले गए। जाते हुए बीअर की कुछ बोतलें भी साथ ले लिए। आरे कॉलोनी की सुन्दर गलियों में टहलते हुए शैलेन्द्र मुखड़े को गुनगुनाए जा रहे थे, पर लाख कोशिशें करने के बावजूद अन्तरे का कुछ भी उन्हें सूझ नहीं रहा था। टहलते टहलते घड़ी के काँटें भी आगे बढ़ते चले जा रहे थे। घड़ी में 3 बजने में जब कुछ ही समय बाक़ी थे, तब लेख टंडन घबराते हुए शैलेन्द्र से पूछा कि अब क्या होगा? शैलेन्द्र ने सीधे सीधे उनसे माफ़ी माँग ली और कहा कि आज की रेकॉर्डिंग रद्द करनी पड़ेगी। वापसी में गाड़ी में लेख टंडन और शैलेन्द्र की बीच कोई भी बातचीत नहीं हुई। शायद लेख साहब शैलेन्द्र जी से ख़फ़ा हो गए थे। स्टूडियो के बाहर पहुँचते ही जब दोनों ने लता जी की गाड़ी को खड़ा देखा तो लेख साहब डर गए और शैलेन्द्र से कहा, "अब आप ही उन्हें सम्भालिएगा, हमने उनका पूरा दिन खराब कर दिया, वो बहुत नाराज़ होंगी"। शैलेन्द्र सिर्फ़ मुस्कुराए।

स्टूडियो के अन्दर पहुँच कर दोनों ने देखा कि लता मंगेशकर काँच से घिरे सिंगर के केबिन में पहुँच चुकी हैं। लेख टंडन ने मॉनिटर रूम में जाते हुए शैलेन्द्र जी से कहा कि वो जाकर लता जी से बात करे। शैलेन्द्र और लता के बीच क्या बातचीत हो रही थी यह लेख साहब को पता नहीं चला, वो सिर्फ़ शीशे से देख रहे थे। उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि आख़िर इतनी क्या बातें हो रही हैं दोनों में जबकि गाना लिखा ही नहीं गया है। अपनी उत्सुकता को काबू में न रख पाते हुए लेख टंडन ने रेकॉर्डिस्ट से कहा कि वो सिंगर का माइक्रोफ़ोन ऑन कर दे ताकि वो वहाँ क्या चल रहा है उसे सुन सके। जैसे ही माइक्रोफ़ोन ऑन हुआ तो जो शब्द उनके कान में गए वो थे - "शैलेन्द्र जी, बस... दो ही अन्तरे काफ़ी हैं इस गाने के लिए... बहुत अच्छे हैं!" लेख टंडन चकित रह गए। उन्हें ज़रा सा भी पता नहीं चला कि कविराज शैलेन्द्र ने किस समय ये अन्तरे बना लिए थे। शायद आरे कॉलोनी से वापस आते समय गाड़ी में जो चुप्पी साधे दोनो बैठे थे, उस वक़्त वो असल में अन्तरे ही रच रहे थे। क्या लिखा है शैलेन्द्र ने, राग कामोद के सुरों का आधार लेकर क्या कम्पोज़ किया है शंकर जयकिशन ने और क्या गाया है लता मंगेशकर ने। आप भी सुनिए।


फिल्म आम्रपाली : 'जाओ रे जोगी तुम जाओ रे...' : लता मंगेशकर : शंकर जयकिशन : शैलेन्द्र 


अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तम्भ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।



खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 

Sunday, December 7, 2014

‘छेड़ दिये मेरे दिल के तार क्यों...’ : SWARGOSHTHI – 197 : RAG KAMOD



स्वरगोष्ठी – 197 में आज

शास्त्रीय संगीतज्ञों के फिल्मी गीत – 6 : राग कामोद


पार्श्वगायक किशोर कुमार के लिए जब उस्ताद अमानत अली खाँ ने स्वर दिया




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी है, हमारी लघु श्रृंखला, ‘शास्त्रीय संगीतज्ञों के फिल्मी गीत’। फिल्म संगीत के क्षेत्र में चौथे से लेकर आठवें दशक के बीच शास्त्रीय संगीत के कई विद्वानों और विदुषियों ने अपना योगदान किया है। छठें दशक के फिल्म संगीत में इस प्रकार के गीतों की संख्या अधिक थी। इस श्रृंखला में हमने कुछ ऐसे ही फिल्मी गीतों का चुनाव किया है, जिन्हें रागदारी संगीत के प्रयोक्ताओं और विशेषज्ञों ने रचा है। इन रचनाओं में राग के स्पष्ट स्वरूप की उपस्थिति मिलती है। श्रृंखला के छठें अंक में आज हम आपसे 1958 में प्रदर्शित नृत्य प्रधान फिल्म ‘रागिनी’ के एक गीत पर चर्चा करेंगे। फिल्म का यह गीत राग कामोद के स्वरों में गूँथा गया है। पटियाला घराने के युगल गायक उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ ने इस गीत को स्वर दिया है। फिल्म के संगीतकार ओ.पी. नैयर ने इस गीत का प्रयोग मंच पर अभिनेत्री-नृत्यांगना पद्मिनी द्वारा प्रदर्शित किये जाने वाले नृत्य के लिए किया था। इस गीत के साथ ही राग कामोद के स्वरूप को स्पष्ट करने के लिए सुप्रसिद्ध युगल गायक पण्डित राजन और साजन मिश्र के स्वरों में इस राग की एक मोहक बन्दिश भी प्रस्तुत कर रहे हैं।



उस्ताद अमानत अली व फतेह अली खाँ
ओ.पी. नैयर 
फिल्म संगीत के क्षेत्र में सफलतम संगीतकारों की सूची ओ.पी. नैयर के नाम के बिना अधूरी रहेगी। उनके सांगीतिक जीवन से जुड़े कई अनोखे तथ्य रहे हैं, जिनकी चर्चा समय-समय पर होती रही है। इनमें सर्वाधिक उल्लेखनीय तथ्य यह है कि नैयर साहब ने अपने लम्बे सांगीतिक जीवन में लता मंगेशकर से कभी भी, कोई भी गीत नहीं गवाया। उनके अधिकतर गीतों को शमशाद बेगम, गीता दत्त और आशा भोसले ने अपना स्वर देकर लोकप्रिय बनाया। नैयर के स्वरबद्ध अधिकतर गीत पंजाब के लोक संगीत की धुनों और तालों पर ही आधारित रहे हैं। ओ.पी. नैयर का जन्म 16 जनवरी 1926 को लाहौर में हुआ था। उन्हें विधिवत संगीत शिक्षा प्राप्त नहीं हुई थी, परन्तु अपनी सीखने-समझने की अनूठी क्षमता के कारण बचपन से ही रेडियो पर बाल कार्यक्रमों में गाने लगे थे। फिल्मों में उनका प्रवेश पंजाबी फिल्म ‘दूल्हा भट्ठी’ से हुआ, जिसमें उन्होने संगीतकार गोविन्दराम के निर्देशन में गीत गाये थे। कुछ समय के लिए उन्होने एच.एम.वी. के लिए गायन भी किया और संगीत भी रचे। इस दौर का सबसे लोकप्रिय गीत प्रसिद्ध गायक सी.एच. आत्मा की आवाज़ मे गैर फिल्मी गीत ‘प्रीतम आन मिलो...’ था। इस गीत की संगीत रचना ओ.पी. नैयर ने की थी। विभाजन के बाद नैयर लाहौर छोड़ कर पहले पटियाला और फिर तत्कालीन बम्बई आ गए। 1952 में प्रदर्शित फिल्म ‘आसमान’ में उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिला। इसी फिल्म के एक गीत को गाने के प्रश्न पर उनका लता मंगेशकर से मतभेद हुआ और आजीवन उन्होने लता से कोई गीत नहीं गवाया।

1958 में नैयर के संगीत निर्देशन में फिल्म ‘रागिनी’ का निर्माण हुआ था। फिल्म में किशोर कुमार शास्त्रीय गायक और अभिनेत्री पद्मिनी शास्त्रीय नृत्यांगना के चरित्र में प्रस्तुत किये गए थे। ऐसे चरित्रों के लिए संगीत में रागों का आधार अनिवार्य था। फिल्म के लिए ओ.पी. नैयर ने लीक से हट कर संगीत तैयार किया। एक प्रसंग में अभिनेत्री पद्मिनी को मंच पर भाव प्रदर्शन के साथ शुद्ध नृत्य के कुछ टुकड़े प्रस्तुत करने थे। गायन संगतकार के रूप में किशोर कुमार अपने एक सहयोगी गायक के साथ थे। नैयर ने इस प्रसंग के लिए राग कामोद का सहारा लेकर गीत रचा था। किशोर कुमार स्वयं एक पार्श्वगायक थे, किन्तु यह गीत उनसे न गवा कर पटियाला घराने के सुप्रसिद्ध गायक उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ से गवाया गया। फिल्म का यह गीत तीनताल में निबद्ध है। लीजिए, पहले आप यह गीत सुनिए।


राग कामोद : ‘छेड़ दिये मेरे दिल के तार क्यों...’ : उस्ताद अमानत अली खाँ और फतेह अली खाँ : फिल्म – रागिनी : संगीत - ओ.पी. नैयर




कल्याणहिं के थाट में दोनों मध्यम लाय,

प-रि वादी-संवादि कर, तब कामोद सुहाय।

पण्डित राजन व साजन मिश्र 
संगीत के विद्यार्थियों को राग के ढाँचे का परिचय देने के उद्देश्य से उपरोक्त दोहे का प्रयोग किया जाता है। इसके साथ ही राग के स्वरों की जानकारी ‘लक्षण गीत’ के माध्यम से भी दी जाती है। आज के अंक में हम आपसे राग कामोद पर चर्चा करेंगे। कल्याण थाट और कल्याण अंग से संचालित होने वाले इस राग को कुछ विद्वान काफी थाट के अन्तर्गत भी मानते हैं। औड़व-सम्पूर्ण जाति के इस राग के आरोह में गान्धार और निषाद स्वर का प्रयोग नहीं किया जाता। अवरोह में दोनों मध्यम का प्रयोग और शेष सभी शुद्ध स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ होता है। राग कामोद के आरोह के स्वर हैं- सा रे प म(तीव्र) प ध प नि ध सां तथा अवरोह के स्वर हैं- सां नि ध प म(तीव्र) प ध प ग म(शुद्ध) रे सा। राग वर्गीकरण के प्राचीन सिद्धान्तों के अनुसार राग कामोद को राग दीपक की पत्नी माना जाता है। इस राग का गायन-वादन पाँचवें प्रहर अर्थात रात्रि के प्रथम प्रहर में किया जाता है। अब आपको इस राग की एक बन्दिश सुप्रसिद्ध युगल गायक पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र की आवाज़ में प्रस्तुत कर रहे हैं। राग कामोद की यह अत्यन्त प्रचलित परम्परागत रचना है, जिसके बोल हैं- ‘एरी जाने न दूँगी...’। श्रृंगार रस की अभिव्यक्ति के लिए यह आदर्श राग है। इस बन्दिश का उपयोग फिल्म में भी हुआ है। सुप्रसिद्ध साहित्यकार भगवतीचरण वर्मा के चर्चित कथानक ‘चित्रलेखा’ पर आधारित 1964 में इसी नाम से फिल्म बनी थी, जिसमें यह बन्दिश शामिल की गई थी। फिल्म में यह गीत लता मंगेशकर ने रोशन के संगीत निर्देशन में गाया था। यह गीत हम किसी अन्य अवसर पर आपको सुनवाएँगे। अभी आप पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र के स्वरों में आप राग कामोद की यह खयाल रचना सुनिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग – कामोद : ‘एरी जाने न दूँगी...’ : पण्डित राजन मिश्र और साजन मिश्र : तबला संगति – सुधीर पाण्डेय : हारमोनियम संगति – महमूद धौलपुरी





आज की पहेली


 ‘स्वरगोष्ठी’ के 197वें अंक की पहेली में आज हम आपको एक गैर हिन्दी भाषा की भारतीय फिल्म का गीतांश सुनवा रहे हैं। फिल्म में उत्तर भारतीय संगीत शैली में रचे-बसे गीत-संगीत का वर्चस्व था। इस राग रचना को सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 200वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का और सभी पाँच श्रृंखलाओं में सर्वाधिक अंक पाने वाले प्रतिभागी को वर्ष 2014 का विजेता घोषित किया जाएगा।




1 – गीत के इस अंश को सुन कर बताइए कि आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – यह रचना किस ताल में निबद्ध है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार, 13 दिसम्बर, 2014 को मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 199वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत किये गए गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस मंच पर स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 195वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको 1955 में प्रदर्शित फिल्म ‘झनक झनक पायल बाजे’ के एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग अड़ाना और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल द्रुत तीनताल। इस बार की पहेली में पूछे गए दोनों प्रश्नो के सही उत्तर पूर्व की भाँति जबलपुर से क्षिति तिवारी, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी और पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हम भारतीय शास्त्रीय संगीत के विद्वानों द्वारा फिल्मों के लिए गाये गए गीतों पर चर्चा कर रहे हैं। वर्ष 2015 से ‘स्वरगोष्ठी’ की श्रृंखलाओं के बारे में हमे अनेक पाठकों और श्रोताओ के बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हो रहे हैं। इन सभी सुझाव पर विचार-विमर्श कर हम नये वर्ष से अपनी प्रस्तुतियों में आवश्यक संशोधन करने जा रहे हैं। यदि आपने अभी तक अपने सुझाव और फरमाइश नहीं भेजी हैं तो आविलम्ब हमें भेज दें। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के नये अंक के साथ हम उपस्थित होंगे। अगले अंक भी हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 


Sunday, February 10, 2013

पाँचवें प्रहर के कुछ आकर्षक राग



स्वरगोष्ठी – 107 में आज
राग और प्रहर – 5

शाम के अन्धकार को प्रकाशित करते राग


‘स्वरगोष्ठी’ के 107वें अंक में, मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-प्रेमियों का इस मंच पर हार्दिक स्वागत करता हूँ। मित्रों, पिछले रविवार को इस स्तम्भ का अगला अंक मैं अपनी पारिवारिक व्यस्तता के कारण प्रस्तुत नहीं कर सका था। आज के अंक में हम प्रस्तुत कर रहे हैं, पाँचवें प्रहर के कुछ मधुर रागों में चुनी हुई रचनाएँ। तीन-तीन घण्टों की अवधि में विभाजित दिन और रात के चौबीस घण्टों को आठ प्रहरों के रूप में पहचाना जाता है। इनमें पाँचवाँ प्रहर अर्थात रात्रि का पहला प्रहर, सूर्यास्त के बाद से लेकर रात्रि लगभग नौ बजे तक की अवधि को माना जाता है। इस प्रहर में गाये-बजाए जाने वाले राग गहराते अन्धकार में प्रकाश के विस्तार की अनुभूति कराते हैं। आज के अंक में हम ऐसे ही कुछ रागों पर आपसे चर्चा करेंगे।

पाँचवें प्रहर के रागों में आज हम सबसे पहले राग कामोद पर चर्चा करेंगे। कल्याण थाट और कल्याण अंग से संचालित होने वाले इस राग को कुछ विद्वान काफी थाट के अंतर्गत भी मानते हैं। औड़व-सम्पूर्ण जाति के इस राग के आरोह में गान्धार और निषाद स्वर का प्रयोग नहीं किया जाता। अवरोह में दोनों मध्यम का और शेष सभी शुद्ध स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर ऋषभ और संवादी स्वर पंचम होता है। राग वर्गीकरण के प्राचीन सिद्धान्तों के अनुसार राग कामोद को राग दीपक की पत्नी माना जाता है। अब आपको इस राग पर आधारित एक फिल्मी गीत सुनवाते हैं। सुप्रसिद्ध उपन्यासकार भगवतीचरण वर्मा की कालजयी कृति ‘चित्रलेखा’ पर 1964 में इसी नाम से फिल्म का निर्माण हुआ था। फिल्म के संगीतकार रोशन थे। उन्होने फिल्म का एक गीत- ‘ए री जाने ना दूँगी...’ राग कामोद पर आधारित स्वरबद्ध किया था। सितारखानी ताल में निबद्ध यह गीत लता मंगेशकर के स्वरों में श्रृंगार रस की सार्थक अनुभूति कराता है। लीजिए, आप यह मोहक गीत सुनिए।


राग कामोद : फिल्म चित्रलेखा : ‘ए री जाने ना दूँगी...’ : लता मंगेशकर 



पाँचवें प्रहर में गाये-बजाए जाने वाले रागों में एक सदाबहार राग है- ‘पूरिया धनाश्री’। यह राग पूर्वी थाट के अन्तर्गत माना जाता है। सम्पूर्ण-सम्पूर्ण जाति, अर्थात आरोह-अवरोह में सात-सात स्वरों के इस राग में तीव्र मध्यम, कोमल ऋषभ और कोमल धैवत सहित शेष शुद्ध स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर षडज होता है। राग पूरिया धनाश्री में लगने वाले स्वर राग श्री में भी प्रयोग किए जाते हैं, किन्तु इसका चलन भिन्न होता है। आपको राग पूरिया धनाश्री का आकर्षक उदाहरण सुनवाने के लिए आज हमने सरोद वाद्य चुना है। भरपूर गमक से युक्त इस वाद्य पर राग पूरिया धनाश्री में तीनताल की एक मोहक रचना प्रस्तुत कर रहे हैं, विश्वविख्यात सरोद-वादक उस्ताद अमजद अली खाँ। यह रचना उनके पिता और गुरु उस्ताद हाफ़िज़ अली खाँ की है।


राग पूरिया धनाश्री : सरोद पर मध्य लय तीनताल की गत : उस्ताद अमजद अली खाँ



एक अत्यन्त प्रचलित राग है भूपाली, जिसे राग भूप भी कहा जाता है। ‘स्वरगोष्ठी’ के आज के अंक में हम पाँचवें प्रहर के कुछ रागों पर चर्चा कर रहे हैं। भूपाली इस प्रहर का एक प्रमुख राग है। यह राग कर्नाटक संगीत के राग मोहनम् के समतुल्य है। कल्याण थाट के अन्तर्गत माना जाने वाला यह राग औड़व-औड़व जाति का होता है। इसमें मध्यम और निषाद स्वर का प्रयोग नहीं किया जाता। शेष सभी स्वर शुद्ध प्रयोग होते हैं। राग भूपाली का वादी स्वर गान्धार और संवादी स्वर धैवत होता है। यह पूर्वांग प्रधान राग है। राग देशकार में भी इन्हीं स्वरों का प्रयोग होता है, किन्तु उत्तरांग प्रधान होने के कारण यह भूपाली से अलग हो जाता है। आज हम आपको राग भूपाली में सितार वादन सुनवाते हैं। जाने-माने सितारनवाज उस्ताद शाहिद परवेज़ राग भूपाली में सितार पर तीनताल की गत और झाला प्रस्तुत कर रहे हैं। तबला संगति वाराणसी के रामकुमार मिश्र ने की है।


राग भूपाली : सितार पर तीनताल की गत और झाला : उस्ताद शाहिद परवेज़ 



आज के इस अंक में हम पाँचवें प्रहर अर्थात रात्रि के पहले प्रहर के कुछ रागों की चर्चा कर रहे हैं। आजकल संगीत की अधिकतर सभाओं के आयोजन का यही समय होता है। इसी कारण इस प्रहर के राग संगीत-प्रेमियों के बीच अधिक लोकप्रिय हैं। ऐसा ही एक अत्यन्त लोकप्रिय राग है, यमन। प्राचीन संगीत के ग्रन्थों में इस राग का नाम कल्याण कहा गया है। इसका यमन नाम मुगल शासनकाल में प्रचलित हुआ। कर्नाटक संगीत का राग कल्याणी इसके समतुल्य है। इसे कल्याण थाट का आश्रय राग माना गया है। सम्पूर्ण-सम्पूर्ण जाति के इस राग में मध्यम स्वर तीव्र और शेष सभी स्वर शुद्ध लगते हैं। इस राग का वादी स्वर गान्धार और संवादी स्वर निषाद होता है। इस राग के अवरोह में यदि दोनों मध्यम स्वरों का प्रयोग किया जाए तो यह राग यमन कल्याण कहलाता है। यदि आरोह-अवरोह में तीव्र मध्यम के स्थान पर शुद्ध मध्यम का प्रयोग का दिया जाए तो यह राग बिलावल तथा यदि शुद्ध निषाद के स्थान पर कोमल निषाद का प्रयोग कर दिया जाए तो यह राग वाचस्पति की अनुभूति कराने लगता है। आज इस राग में हम आपको एक अत्यन्त आकर्षक तराना सुनवाते हैं, जिस प्रस्तुत कर रही हैं, विदुषी मालिनी राजुरकर। यह तराना द्रुत एकताल में निबद्ध है। आप यह तराना सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए।


राग यमन : द्रुत एकताल का तराना : विदुषी मालिनी राजुरकर



आज की पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ की 107वीं संगीत पहेली में हम आपको एक राग आधारित फिल्मी गीत का अंश सुनवा रहे है। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 110वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।



1 - संगीत के इस अंश को सुन कर पहचानिए कि यह गीत किस राग पर आधारित है?

2 – यह गीत किस ताल में निबद्ध है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 109वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।

पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ के 105वें अंक में हमने आपको फिल्म ‘हमदर्द’ से राग गौड़ सारंग पर आधारित एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग गौड़ सारंग और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- तीनताल। दोनों प्रश्नो के सही उत्तर लखनऊ के प्रकाश गोविन्द, बैंगलुरु के पंकज मुकेश, जौनपुर के डॉ. पी.के. त्रिपाठी और मिनिसोटा, अमेरिका से दिनेश कृष्णजोइस ने दिया है। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक शुभकामनाएँ।

झरोखा अगले अंक का

मित्रों, ‘स्वरगोष्ठी’ पर इन दिनों ‘राग और प्रहर’ शीर्षक से लघु श्रृंखला जारी है। श्रृंखला के आगामी अंक में हम आपके लिए दिन के छठें प्रहर अर्थात रात्रि के दूसरे प्रहर में गाये-बजाए जाने वाले कुछ आकर्षक रागों की प्रस्तुतियाँ लेकर उपस्थित होंगे। आप हमारे आगामी अंकों के लिए आठवें प्रहर तक के प्रचलित रागों और इन रागों में निबद्ध अपनी प्रिय रचनाओं की फरमाइश भी कर सकते हैं। हम आपके सुझावों और फरमाइशों को पूरा सम्मान देंगे। अगले अंक में रविवार को प्रातः 9-30 ‘स्वरगोष्ठी’ के इस मंच पर आप सब संगीत-रसिकों की हम प्रतीक्षा करेंगे। 

कृष्णमोहन मिश्र 


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ