Showing posts with label Himesh Reshmiya. Show all posts
Showing posts with label Himesh Reshmiya. Show all posts

Wednesday, June 1, 2016

"हिमेश जी एक अच्छे संगीतकार ही नहीं एक बहुत नेकदिल इंसान भी है" - संगीतकार आर्व

एक मुलाक़ात ज़रूरी है (13)



क मुलाकात ज़रूरी है के इस एपिसोड में मिलये उभरते हुए बेहद प्रतिभवान संगीतकार आशीष विश्वकर्मा उर्फ़ आर्व से....जल्दी ही प्रदर्शित होने वाली फिल्म "खेल तो अब शुरू होगा" का शीर्षक गीत इन्होने स्वरबद्ध किया है, इसके आलावा आर्व बतौर स्वतंत्र संगीतकार अब तक चार फ़िल्में कर चुके हैं. लीजिये सुनिए सजीव सारथी के साथ इस युवा संगीतकार की दिलचस्प बातचीत

 एक मुलाकात ज़रूरी है के इस एपिसोड को आप यहाँ से डाउनलोड भी कर सकते हैं, लिंक पर राईट क्लिक करें और सेव एस का विकल्प चुने.

Wednesday, May 28, 2014

एक दर्द भरा नगमा हिमेश मार्का

ताज़ा सुर ताल - दर्द दिलों के  (एक्सपोस)

जब से हिमेश रेशमिया संगीत निर्देशन में आये हैं, तब से हम उन्हें बहुत से मुक्तलिफ़ रूपों में देख चुके हैं, हिमेश केवल हिट गीत देने में विश्वास रखते हैं और बहुत अधिक अपने 'कम्फर्ट ज़ोन' से बाहर जाकर काम नहीं करते हैं, बावजूद इसके उनकी धुनों में एक ख़ास मिठास हमेशा से रही है (ओढ़नी , क्यों किसी को वफ़ा के बदले, तेरी मेरी प्रेम कहानी  आदि), हिमेश इन दिनों अपने निर्माताओं को डबल बोनान्जा बाँट रहे हैं, यानी कि जो उनकी अपनी कहानी पर फिल्म बनायेगा उसके लिए वो अभिनय भी करेगें और जाहिर है जब अभिनय करेगें तो संगीत में भी अपनी पूरी ताकत झोंक देंगें. कुछ ऐसा ही है उनकी ताज़ा पेशकश एक्सपोस  का हाल. इस एल्बम में भी हर मूड के गीत हैं और सब के साब हिमेश की पक्की छाप वाले. कुछ बहुत नया न देते हुए भी हिमेश ऐसे गीत बनाने में कामियाब हुए हैं जिनका हिट होना लगभग तय है. खासकर ये गीत जो हम आपको सुना रहे हैं इसमें वही चिर परिचित हिमेशिया माधुर्य भी है और शास्त्रीयता की मिठास भी. मोहम्मद इरफ़ान ने बहुत दिल से गाया है इसे (शुक्र है हिमेश ने खुद नहीं गाया ये गीत). समीर के लिखे इस गीत में, हर तबके में हर उम्र के लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने की कुव्वत है. बस दर्द को उभरने के लिए इरफ़ान की आवाज़ में जो जबरन कम्पन पैदा किया गया है वो कुछ खटकता है....खैर आज सुनिए ये ताज़ा तरीन गीत.  

Tuesday, June 22, 2010

बहुत कुछ खत्म होके भी हिमेश भाई और संगीत के दरम्यां कुछ तो बाकी है.. और इसका सबूत है "मिलेंगे मिलेंगे"

ताज़ा सुर ताल २३/२०१०

सुजॊय - सभी श्रोताओं व पाठकों का स्वागत है 'ताज़ा सुर ताल' के एक और ताज़े अंक में। इस शुक्रवार वह फ़िल्म आख़िर रिलीज़ हो ही गई जिसकी लोग बड़ी बेसबरी से इंतज़ार कर रहे थे। 'रावण'। अभी दो दिन पहले एक न्यूज़ चैनल पर इस फ़िल्म से संबंधित 'ब्रेकिंग्‍ न्यूज़' का शीर्षक था "मिया पर बीवी हावी"। ग़लत नहीं कहा था उस न्यूज़ चैनल ने। हालाँकि अभिषेक ने अच्छा काम किया है, लेकिन ऐश की अदाकारी की तारीफ़ करनी ही पड़ेगी। देखते हैं फ़िल्म कैसा व्यापार करता है इस पूरे हफ़्ते में।

विश्व दीपक - मैने रावण देखी और मुझे तो बेहद पसंद आई। मैने ना सिर्फ़ इस फिल्म का हिन्दी संस्करण देखा बल्कि इसका तमिल संस्करण (रावणन) भी देखा.. और दुगना आनंद हासिल किया । चलिए 'रावण' से आगे बढ़ते हैं। आज हम इस स्तंभ में जिस फ़िल्म के गानें सुनने जा रहे हैं, वह कई दृष्टि से अनोखा है। पहली बात तो यह कि इस फ़िल्म की मेकिंग बहुत पहले से ही शुरु हो गई थी जब शाहीद और करीना का ब्रेक-अप नहीं हुआ था। तभी तो यह जोड़ी नज़र आएगी इस फ़िल्म में। शायद यही बात फ़िल्म की सफलता का कारण बन जाए, किसे पता! दूसरी बात यह कि इसमें हिमेश रेशम्मिया का संगीत है, लेकिन वैसा संगीत नहीं जैसा कि वो आजकल की फ़िल्मों में दे रहे हैं। मेरा ख़याल है कि इस फ़िल्म के गानें भी बहुत पहले से ही बन चुके होंगे, जिस समय हिमेश अपनी आवाज़ के मुकाबले सोनू निगम, शान, अलका याज्ञ्निक, श्रेया घोषाल जैसे गायकों को ज़्यादा मौका दिया करते थे। इसलिए जिन श्रोताओं को हिमेश की आवाज़ से ऐलर्जी है, वो शायद इस बार इस फ़िल्म के गानें सुनने में दिलचस्पी लें।

सुजॊय - सही कहा आपने। दरसल मुझे जितना पता है, 'मिलेंगे मिलेंगे' आज से पाँच साल पहले प्लान की गई थी, और उस समय हिमेश का स्टाइल कुछ और ही हुआ करता था। इस फ़िल्म के गीतों में सुनने वालों को उस पुराने हिमेश और आज के हिमेश का संगम सुनाई देगा। 'मिलेंगे मिलेंगे' के निर्देशक हैं सतीश कौशिक, जिनके साथ हिमेश ने अपनी सब से बेहतरीन फ़िल्म 'तेरे नाम' में संगीत दिया था। इसके अलावा 'वादा' और 'रन' फ़िल्म में भी ये दोनों साथ में आए थे। और कहने की ज़रूरत नहीं कि इन दो फ़िल्मों के गानें भी चले थे भले ही फ़िल्में फ़्लॊप हुईं थीं। आज इस फ़िल्म के गीतों को सुनते हुए हमें अहसास हो जाएगा कि क्या हिमेश फिर से एक बार पिछले दशक के अपने मेलोडियस गीतों की तरह इस फ़िल्म में भी वैसा ही कुछ संगीत दे पाएँ हैं! 'तेरे नाम', 'दिल मांगे मोर', 'चुरा लिया है तुमने' आदि फ़िल्मों का ज़माना क्या वापस आ पाएगा इस फ़िल्म के ज़रिए?

विश्व दीपक - अब बातों को देते हैं विराम और सुनते हैं फ़िल्म का पहला गीत हिमेश की आवाज़ में। फ़िल्म के गानें लिखे हैं गीतकार समीर ने। और आपको बता दें कि इस गीत के ज़रिए ही फ़िल्म का प्रोमो इन दिनों दिखाया जा रहा है टेलीविज़न पर।

गीत: कुछ तो बाक़ी है


सुजॊय - "कुछ तो बाक़ी है"। विश्व दीपक जी, इस गीत को सुन कर हिमेश की आवाज़ और गायन शैली के बारे में कुछ नहीं कहूँगा क्योंकि कुछ नयी बात कहने की कोई गुंजाइश बाक़ी नहीं है। लेकिन संगीत और संगीत संयोजन अच्छा है और इतना तो ज़रूर कह सकते हैं कि हिमेश के संगीत में अभी बहुत कुछ बाक़ी है। आपका क्या ख़याल है?

विश्व दीपक - यह गीत यक़ीनन एक ऐसा गीत है जो एक मूड बना देता है और दोबारा सुनने के लिए उकसा देता है। समीर की लेखन शैली और स्टाइल साफ़ झलकता है इस गीत में। और जहाँ तक ऒर्केस्ट्रेशन का सवाल है, इसमें तबला, हारमोनियम और सारंगी जैसे साज़ों की ध्वनियों का सुंदर प्रयोग किया गया है। और सब से बड़ी बात यह कि इस गीत के जो बोल हैं वो फ़िल्म के किरदारों पर ही नहीं बल्कि शाहीद-करीना की निजी ज़िंदगी को भी छू जाते हैं। "सब ख़त्म होके भी तेरे मेरे दरमीयाँ कुछ तो बाक़ी है" - अब इस तरह के बोल जान बूझ कर डाले गऎ है या फिर एक महज़ इत्तेफ़ाक़ है, यह तो हम नहीं जानते हैं, लेकिन जो भी है मज़ेदार बन पड़ा है। मीडिया को भी भरपूर ख़ुराक मिलने वाला है इस फ़िल्म के रिलीज़ पर।

सुजॊय - आगे बढ़ते हैं और दूसरा जो गीत है उसे गाया है अलका याज्ञ्निक और जयेश गांधी ने। यह फ़िल्म का शीर्षक गीत है "मिलेंगे मिलेंगे", और इसी का एक और वर्ज़न भी है जिसे हम आगे चलकर सुनेंगे।

गीत: मिलेंगे मिलेंगे (अलका/जयेश)


सुजॊय - बहुत दिनों के बाद अलका की आवाज़ सुन कर अच्छा लगा। एक बात जो मैंने नोटिस की इस गीत को सुनते हुए कि इस गीत का जो ऒरकेस्ट्रेशन है, वह हिमेश के पहले के गीतों में कई कई बार हो चुका है। मुझे पता नहीं वह कौन-सा साज़ है, लेकिन इस गीत में आपको उस साज़ की धुन सुनाई देगी जिसका हिमेश ने "चुरा लिया है तुमने" गीत में भी प्रोमिनेण्ट तरीके से किया था। पार्श्व में कोरस का इस्तेमाल भी हिमेश ने अपने उसी पुराने शैली में किया है। गीत ठीक ठाक है, लेकिन कोई नई बात नज़र नहीं आई।

विश्व दीपक - और अब सोनू निगम और अलका याज्ञ्निक की युगल आवाज़ें। सुजॊय, क्या आप बता सकते हैं कि इससे पहले आपने सोनू और अलका की युगल आवाज़ें किस फ़िल्म में आख़िरी बार सुना था?

सुजॊय - मेरा ख़याल है पिछले ही साल फ़िल्म 'लाइफ़ पार्टनर' में "कल नौ बजे तुम चांद देखना" जो गीत है, उसी में ये दोनों साथ में आए थे।

विश्व दीपक - और उस गीत की तरह यह गीत भी नर्मोनाज़ुक है और इस जोड़ी ने पूरा न्याय किया है। वैसे इसे पूरी तरह से युगल कहना ग़लत होगा। भले ही फ़िल्म के सी.डी पर सोनू और अलका के नाम दिए गए हैं, लेकिन इसमें सुज़ेन डी'मेलो ने अंग्रेज़ी के बोल गाए हैं जिनकी इस गीत में कोई ज़रूरत नहीं थी।

गीत: तुम चैन हो


सुजॊय - बिलकुल सही कहा था आपने कि उन अंग्रेज़ी के शब्दों की कोई ज़रूरत नहीं थी। ज़रा याद कीजिए फ़िल्म 'लगान' के उस गीत को, "ओ री छोरी", जिसमें वसुंधरा दास ने अंग्रेज़ी की पंक्तियाँ गाईं थीं। इसका ज़िक्र मैं यहाँ इसलिए कर रहा हूँ यह बताने के लिए कि उस गीत में वह न्यायसंगत था, लेकिन इस गीत में उसकी ज़रूरत शायद ही थी। ख़ैर, सोनू निगम ने फिर एक बार अपने बेहतरीन अंदाज़ में गायन प्रस्तुत किया है, और हिमेश के अनुसार वो हैं ही आज के नंबर वन गायक। एक बार करण जोहर के 'कॊफ़ी विथ करण' में जब करण ने कई गायकों को १ से १० के स्केल में रेट करने को कहा था, तब हिमेश ने उदित नारयण को ७ और सोनू निगम को १० की रेटिंग्‍ दी थी। अलका के खाते में आए थे ८ की रेटिंग। ख़ैर, ये तो हिमेश की व्यक्तिगत राय थी।

विश्व दीपक - अगला गीत है "इश्क़ की गली है मखमली"। राहत फ़तेह अली ख़ान और जयेश गांधी की आवाज़ें। राहत साहब गाने की शुरुआत करते हैं और फिर उसके बाद जयेश गीत को आगे बढ़ाते हैं। राहत साहब अपने अंदाज़ के ऊँचे सुर में "इश्क़ की गली है मखमली रब्बा" गाते हैं, जब कि जयेश भी अपने ही अंदाज़ में "मेरे दिल को तुमसे कितनी मोहब्बत" गाते हैं। उनकी आवाज़ भी मौलिक आवाज़ है और किसी और से नहीं मिलती।

सुजॊय - इससे पहले राहत फ़तेह अली ने हिमेश रेशम्मिया की धुन पर फ़िल्म 'नमस्ते लंदन' का मशहूर गीत "मैं जहाँ रहूँ" गाया था। लेकिन उस गीत में जो बात थी, वह असर 'मिलेंगे मिलेंगे' के इस गीत में नहीं आ पाया है। चलिए सुनते हैं।

गीत: इश्क़ की गली है मखमली


विश्व दीपक - अगला जो गीत है वह थोड़ा सा अलग हट के है इसलिए क्योंकि आजकल इस तरह के गानें बनने लगभग बंद ही हो गए हैं। ९० के दशक और २००० के दशक के शुरुआती सालों तक इस तरह के "चूड़ी-कंगन" वाले गानें बहुत बनें हैं, लेकिन आज के फ़िल्मों के विषयवस्तु इस तरह के होते हैं कि इस तरह के गीतों के लिए कोई जगह या सिचुएशन ही नहीं पैदा हो पाती। यह है अलका यज्ञ्निक और साथियों की आवाज़ों में "ये हरे कांच की चूड़ियाँ, पहनी तेरे नाम की, राधा हो गई श्याम की"। वैसे बोल तो साधारण हैं लेकिन धुन ऐसी कैची है कि सुनते हुए अच्छा लगता है।

सुजॊय - और गाने के अंत में "मिलेंगे मिलेंगे" वाले गीत की धुन पर कोरस "मिलेंगे मिलेंगे" गा उठते हैं। और विश्व दीपक जी, इस गाने से याद आया कि ६० के दशक में एक फ़िल्म आई थी 'हरे काँच की चूड़ियाँ', जिसमें आशा भोसले का गाया शीर्षक गीत था "बज उठेंगे हरे काँच की चूड़ियाँ"। शैलेन्द्र जी ने उस गीत में मुखड़े और अंतरे में अंतर ना रखते हुए बड़े ही ख़ूबसूरत तरीक़े से लिखा था "धानी चुनरी पहन, सज के बन के दुल्हन, जाउँगी उनके घर, जिन से लागी लगन, आयेंगे जब सजन, जीतने मेरा मन, कुछ न बोलूँगी मैं, मुख न खोलूँगी मैं, बज उठेंगी हरे कांच की चूड़ियाँ, ये कहेंगी हरे कांच की चूड़ियाँ"।

विश्व दीपक - बिलकुल मुझे भी याद है यह गीत और इसे हमने 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर भी तो सुनवाया था। ख़ैर, अलका और सखियों की आवाज़ों में आइए यह गीत सुना जाए और हमारे श्रोताओं को सुनवाया जाए।

गीत: ये हरे काँच की चूड़ियाँ


सुजॊय - और अब हम आ पहुँचे हैं इस फ़िल्म के अंतिम गीत पर। जैसा कि उपर हमने बताया था कि अलका याज्ञ्निक और जयेश गांधी के गाए फ़िल्म के शीर्षक गीत "मिलेंगे मिलेंगे" का एक और वर्ज़न है, तो अब बारी है उसी दूसरे वर्ज़न को सुनने की जिसे ख़ुद हिमेश भाई और श्रेया घोषाल ने गाया है। यक़ीन मानिए, अलका-जयेश वाले वर्ज़न से यह वला वर्ज़न मुझे ज़्यादा अपील किया। और "मिलेंगे मिलेंगे" वाले जगह की ट्युन ऐसी है कि एक हौंटिंग वातावरण जैसा बन जाता है, और इसमें शक़ नहीं कि पूरे फ़िल्म में इसी ट्युन का बार बार इस्तेमाल होता रहेगा।

विश्व दीपक - और इस गीत में शाहीद कपूर भी कुछ लाइनें कहते हैं। सिंथेसाइज़र्स का ख़ूबसूरत इस्तेमाल हुआ है। और फिर से उसी "चुरा लिया है तुमने" वाले साज़ का इस्तेमाल ऒरकेस्ट्रेशन में सुनाई देता है। हिमेश और श्रेया की आवाज़ें एक साथ अच्छी लगती है। फ़िल्म 'रेडियो' का "जानेमन" गीत भी इन दोनों ने ख़ूब गाया था।

गीत: मिलेंगे मिलेंगे (हिमेश/श्रेया)


"मिलेंगे मिलेंगे" के संगीत को आवाज़ रेटिंग ***१/२

सुजॊय - इन सभी गीतों को सुन कर मैं यह कह सकता हूँ कि भले ही इन गीतों में बहुत ख़ास कोई बात नहीं है, लेकिन गानें मेलोडियस हैं, सुन कर अच्छा लगा। हालाँकि इन गीतों में वो बात नहीं है कि जो फ़िल्म को हिट करा दे, लेकिन अगर फ़िल्म दूसरे पक्षों की वजह से हिट हो जाती है तो ये गानें भी ख़ूब चलेंगे, जैसा कि हमेशा से होता आया है। बस हिमेश भाई को शुभकामनाएँ देते हुए यही कहूँगा कि हिमेश भाई, अभी भी आप में बहुत कुछ बाक़ी है, बेस्ट ऒफ़ लक!

विश्व दीपक - फिर भी इतना तो कहना होगा कि हिमेश भाई का पुराना प्रयास उनके नए प्रयासों से कई कदम आगे है। अपने हीं आप में टाईप-कास्ट हो चुके हिमेश भाई से हम यही अपील करते हैं कि कभी-कभार वो अपने खोल से बाहर निकला करें और "तेरे नाम" जैसे गाने तैयार किया करें। इसी उम्मीद के साथ हम चलते हैं। हाँ, चलते चलते 'ताज़ा सुर ताल' के श्रोताओं व पाठकों से हम यही कहेंगे कि अगले हफ़्ते फिर एक बार आप से इस स्तंभ में यकीनन मिलेंगे मिलेंगे।

और अब आज के ३ सवाल

TST ट्रिविया # ६७- "मिलेंगे मिलेंगे" शीर्षक गीत में शाहीद कपूर ने कुछ लाइनें कही हैं। क्या आप कोई और गीत बता सकते हैं जिसमें शाहीद कपूर की आवाज़ शामिल है?

TST ट्रिविया # ६८- 'मिलेंगे मिलेंगे' बोनी कपूर की फ़िल्म है। बोनी कपूर की वह और कौन सी फ़िल्म है जिसमें हिमेश रेशम्मिया ने संगीत दिया है?

TST ट्रिविया # ६९- यह एक सोनू निगम - अलका याज्ञ्निक डुएट है। हिमेश रेशम्मिया का म्युज़िक है। शाहीद कपूर ही नायक हैं। गीत का मुखड़ा उन चार शब्दों से ख़त्म होता है जिन चार शब्दों से अलका याज्ञ्निक का गाया हुआ वह गीत शुरु होता है जो एक मशहूर हॊरर फ़िल्म का है और जिसमे नायिका बनी थीं बिपाशा बासु। बताइए हम किन दो गीतों की बात कर रहे हैं।


TST ट्रिविया में अब तक -
पिछले हफ़्ते के सवालों के जवाब:

१. नरेश शर्मा
२. 'चश्म-ए-बद्दूर'
३. पलाश सेन

सीमा जी, आपने तीनों सवालों के सही जवाब दिए। बधाई स्वीकारें। "इंडलि" जी, हमें आपके प्रस्ताव पर विचार करने के लिए कुछ वक्त चाहिए। विधु जी, गाने पसंद करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Tuesday, June 8, 2010

रब्बा लक़ बरसा.... अपनी फ़िल्म "कजरारे" के लिए इसी किस्मत की माँग कर रहे हैं हिमेश भाई

ताज़ा सुर ताल २१/२०१०

सुजॊय - 'ताज़ा सुर ताल' की एक और ताज़े अंक के साथ हम हाज़िर हैं। विश्व दीपक जी, इस शुक्रवार को 'राजनीति' प्रदर्शित हो चुकी हैं, और फ़िल्म की ओपनिंग अच्छी रही है ऐसा सुनने में आया है, हालाँकि मैंने यह फ़िल्म अभी तक देखी नहीं है। 'काइट्स' को आशानुरूप सफलता ना मिलने के बाद अब देखना है कि 'राजनीति' को दर्शक किस तरह से ग्रहण करते हैं। ख़ैर, यह बताइए आज हम किस फ़िल्म के संगीत की चर्चा करने जा रहे हैं।

विश्व दीपक - आज हम सुनेंगे आने वाली फ़िल्म 'कजरारे' के गानें।

सुजॊय - यानी कि हिमेश इज़ बैक!

विश्व दीपक - बिल्कुल! पिछले साल 'रेडियो - लव ऑन एयर' के बाद इस साल का उनका यह पहला क़दम है। 'रेडियो' के गानें भले ही पसंद किए गए हों, लेकिन फ़िल्म को कुछ ख़ास सफलता नहीं मिली थी। देखते हैं कि क्या हिमेश फिर एक बार कमर कस कर मैदान में उतरे हैं!

सुजॊय - 'कजरारे' को पूजा भट्ट ने निर्देशित किया है, जिसके निर्माता हैं भूषण कुमार और जॉनी बक्शी। फ़िल्म के नायक हैं, जी हाँ, हिमेश रेशम्मिया, और उनके साथ हैं मोना लायज़ा, अमृता सिंह, नताशा सिन्हा, गौरव चनाना और गुल्शन ग्रोवर। संगीत हिमेश भाई का है और गानें लिखे हैं हिमेश के पसंदीदा गीतकार समीर ने। तो विश्व दीपक जी, शुरु करते हैं गीतों का सिलसिला। पहला गीत हिमेश रेशम्मिया और सुनिधि चौहान की आवाज़ों में। इस गीत को आप एक टिपिकल हिमेश नंबर कह सकते हैं। भारतीय और पाश्चात्य साज़ों का इस्तेमाल हुआ है। हिमेश भाई के चाहनेवालों को ख़ूब रास आएगा यह गीत।

गीत: कजरा कजरा कजरारे


विश्व दीपक - सुजॊय जी, इस गाने की शुरुआत मुझे पसंद आई। जिस तरह से "सुनिधि चौहान" ने "कजरा कजरा कजरारे" गाया है, वह दिल के किसी कोने में एक नटखटपन जगा देता है और साथ हीं सुनिधि के साथ गाने को बाध्य भी करता है। मुझे आगे भी सुनिधि का यही रूप देखने की इच्छा थी, लेकिन हिमेश ने अंतरा में सुनिधि को बस "चियर लिडर" बना कर रख दिया है और गाने की बागडोर पूरी तरह से अपने हाथ में ले ली है। हिमेश की आवाज़ इस तरह के गानों में फबती है, लेकिन शब्दों का सही उच्चारण न कर पाना और अनचाही जगहों पर हद से ज्यादा जोर देना गाने के लिए हानिकारक साबित होते हैं। हिमेश "उच्चारण" संभाल लें तो कुछ बात बने। खैर अब हम दूसरे गाने की ओर बढते हैं।

सुजॊय - अब दूसरा गीत भी उसी हिमेश अंदाज़ का गाना है। उनकी एकल आवाज़ में सुनिए "रब्बा लक बरसा"। इस गीत में महेश भट्ट साहब ने वायस ओवर किया है। गाना बुरा नहीं है, लेकिन फिर एक बार वही बात कहना चाहूँगा कि अगर आप हिमेश फ़ैन हैं तो आपको यह गीत ज़रूर पसंद आएगा।

विश्व दीपक - जी आप सही कह रहे हैं। एक हिमेश फ़ैन हीं किसी शब्द का बारंबार इस्तेमाल बरदाश्त कर सकता है। आप मेरा इशारा समझ गए होंगे। हिमेश/समीर ने "लक लक लक लक" इतनी बार गाने में डाला है... कि "शक लक बूम बूम" की याद आने लगती है और दिमाग से यह उतर जाता है कि इस "लक़" का कुछ अर्थ भी होता है। एक तो यह बात मुझे समझ नहीं आई कि जब पूरा गाना हिन्दी/उर्दू में है तो एक अंग्रेजी का शब्द डालने की क्या जरूरत थी। मिश्र के पिरामिडों के बीच घूमते हुए कोई "लक लक" बरसा कैसे गा सकता है। खैर इसका जवाब तो "समीर" हीं दे सकते हैं। हाँ इतना कहूँगा कि इस गाने में संगीत मनोरम है, इसलिए खामियों के बावजूद सुनने को दिल करता है। विश्वास न हो तो आप भी सुनिए।

गीत: रब्बा लक़ बरसा


सुजॊय - अब इस एल्बम का तीसरा गीत और मेरे हिसाब से शायद यह इस फ़िल्म का सब से अच्छा गीत है। हिमेश रेशम्मिया के साथ इस गीत में आवाज़ है हर्षदीप कौर की। एक ठहराव भरा गीत है "आफ़रीन", जिसमें पारम्परिक साज़ों का इस्तेमाल किया गया है। ख़ास कर ढोलक का सुंदर प्रयोग सुनने को मिलता है गीत में। भले ही हर्षदीप की आवाज़ मौजूद हो गीत के आख़िर में, इसे एक हिमेश रेशम्मिया नंबर भी कहा जा सकता है।

विश्व दीपक - जी यह शांत-सा, सीधा-सादा गाना है और इसलिए दिल को छू जाता है। इस गाने के संगीत को सुनकर "तेरे नाम" के गानों की याद आ जाती है। हर्षदीप ने हिमेश का अच्छा साथ दिया है। हिमेश कहीं-कहीं अपने "नेजल" से अलग हटने की कोशिश करते नज़र आते हैं ,लेकिन "तोसे" में उनकी पोल खुल जाती है। अगर हिमेश ऐसी गलतियाँ न करें तो गीतकार भी खुश होगा कि उसके शब्दों के साथ छेड़छाड़ नहीं की गई है। फिर भी इतना कहा जा सकता है कि यह गाना एल्बम के बाकी गानों से बढिया है। तो लीजिए पेश है यह गाना।

गीत: आफ़रीन


सुजॊय - फ़िल्म का चौथा गीत भी एक युगल गीत है, इस बार हिमेश का साथ दे रहीं हैं श्रेया घोषाल। गीत के बोल हैं "तुझे देख के अरमान जागे"। आपको याद होगा अभी हाल ही में फ़िल्म 'हाउसफ़ुल' में एक गीत आया था "वाल्युम कम कर पप्पा जग जाएगा"। तो भई हम तो यहाँ पर यही कहेंगे कि वाल्युम कम कर नहीं तो पूरा मोहल्ला जग जाएगा। जी हाँ, "तुझे देख के अरमान जागे" के शुरु में हिमेश साहब कुछ ऐसी ऊँची आवाज़ लगाते हैं कि जिस तरह से उनके "झलक दिखला जा" गीत को सुन कर गुजरात के किसी गाँव में भूतों का उपद्रव शुरु हो गया था, अब की बार तो शायद मुर्दे कब्र खोद कर बाहर ही निकल पड़ें! ख़ैर, मज़ाक को अलग रखते हुए यह बता दूँ कि आगे चलकर हिमेश ने इस गीत को नर्म अंदाज़ में गाया है और श्रेया के आवाज़ की मिठास के तो कहने ही क्या। वो जिस गीत को भी गाती हैं, उसमें मिश्री और शहद घोल देती हैं।

विश्व दीपक - सुजॊय जी, क्यों न लगे हाथों पांचवाँ गीत भी सुन लिया जाए| क्योंकि यह गीत भी हिमेश रेशम्मिया और श्रेया घोषाल की आवाजों में हीं है, और अब की बार बोल हैं "तेरीयाँ मेरीयाँ"। दोस्तों, जिस गीत में "ँ" का इस्तेमाल हो और अगर उस गाने में आवाज़ हिमेश रेशम्मिया की हो, तो फिर तो वही सोने पे सुहागा वाली बात होगी ना! नहीं समझे? अरे भई, मैं हिमेश रेशम्मिया के नैज़ल अंदाज़ की बात कर रहा हूँ। इस गीत में उन्हे भरपूर मौका मिला है अपनी उस मनपसंद शैली में गाने का, जिस शैली के लिए वो जाने भी जाते हैं और जिस शैली की वजह से वो एकाधिक बार विवादों से भी घिर चुके हैं। जहाँ तक इस गीत का सवाल है, संतूर की ध्वनियों का सुमधुर इस्तेमाल हुआ है। वैसे यह मैं नहीं बता सकता कि क्या असल में संतूर का प्रयोग हुआ है या उसकी ध्वनियों को सीन्थेसाइज़र के ज़रिये पैदा किया गया है। जो भी है, सुरीला गीत है, लेकिन श्रेया को हिस्सा कम मिला है इस गानें में।

गीत: तुझे देख के अरमान जागे


गीत: तेरीयां मेरीयां


सुजॊय - विश्व दीपक जी, मुझे ऐसा लगता है कि हिमेश रेशम्मिया जब भी कोई फ़िल्म करते हैं, तो अपने आप को ही सब से ज़्यादा सामने रखते हैं। बाके सब कुछ और बाकी सब लोग जैसे पार्श्व में चले जाते हैं। यह अच्छी बात नहीं है। अब आप उनकी कोई भी फ़िल्म ले लीजिए। वो ख़ुद इतने ज़्यादा प्रोमिनेन्स में रहते हैं कि वो फ़िल्म कम और हिमेश रेशम्मिया का प्राइवेट ऐल्बम ज़्यादा लगने लगता है। दूसरी फ़िल्मों की तो बात ही छोड़िए, 'कर्ज़', जो कि एक पुनर्जन्म की कहानी पर बनी कामयाब फ़िल्म का रीमेक है, उसका भी यही हाल हुआ है। ख़ैर, शायद यही उनका ऐटिट्युड है। आइए अब इस फ़िल्म का अगला गीत सुनते हैं "वो लम्हा फिर से जीना है"। हिमेश और हर्षदीप कौर की आवाज़ें, फिर से वही हिमेश अंदाज़। एक वक़्त था जब हिमेश के इस तरह के गानें ख़ूब चला करते थे, देखना है कि क्या बदलते दौर के साथ साथ लोगों का टेस्ट भी बदला है या फिर इस गीत को लोग ग्रहण करते हैं।

विश्व दीपक - सुजॊय जी, इस गाने के साथ हीं क्यों न हम फ़िल्म का अंतिम गाना भी सुन लें| हिमेश और सुनिधि की आवाज़ें, और एक बार फिर से हिमेश का नैज़ल अंदाज़। ढोलक के तालों पर आधारित इस लोक शैली वाले गीत को सुन कर आपको अच्छा लगेगा। जैसा कि अभी अभी आपने कहा कि आजकल हिमेश जिस फ़िल्म में काम करते हैं, बस वो ही छाए रहते हैं, तो इस फ़िल्म में भी वही बात है। हर गीत में उनकी आवाज़, हर गाना वही हिमेश छाप। अपना स्टाइल होना कोई बुरी बात नहीं है, लेकिन अगर विविधता के लिए थोड़ा सा अलग हट के किया जाए तो उसमें बुराई क्या है? ख़ैर, मैं अपना वक्तव्य यही कहते हुए समाप्त करूँगा कि 'कजरारे' पूर्णत: हिमेश रेशम्मिया की फ़िल्म होगी।

गीत: वो लम्हा फिर से जीना है


गीत: सानु गुज़रा ज़माना याद आ गया


"कजरारे" के संगीत को आवाज़ रेटिंग ***

सुजॊय - हिमेश के चाहने वालों को पसंद आएँगे फ़िल्म के गानें, और जिन्हे हिमेश भाई का गीत-संगीत अभी तक पसंद नहीं आया है, उन्हें इस फिल्म से ज्यादा उम्मीदें नहीं रखनी चाहिए, मैं तो ये कहूँगा की उन्हें इस एल्बम से दूर ही रहना चाहिए|

विश्व दीपक - सुजॊय जी, मुझे यह लगता है कि हमें इस एल्बम को सिरे से नहीं नकार देना चाहिए, क्योंकि संगीत बढ़िया है और कुछ गाने जैसे कि "रब्बा लक़ बरसा", "कजरारे" और "आफरीन" खूबसूरत बन पड़े हैं| हाँ इतना है कि अगर हिमेश ने अपने अलावा दूसरों को भी मौक़ा दिया होता तो शायद इस एल्बम का रंग ही कुछ और होता| लेकिन हम कर भी क्या सकते हैं, हिमेश भाई और पूजा भट्ट को जो पसंद हो, हमें तो वही सुनना है| मैं बस यही उम्मीद करता हूँ कि आगे चलकर कभी हमें "नमस्ते लन्दन" जैसे गाने सुनने को मिलेंगे... तब तक के लिए "मिलेंगे मिलेंगे" :)

और अब आज के ३ सवाल

TST ट्रिविया # ६१- "शाम-ए-ग़म की क़सम आज ग़मगीं हैं हम", इस गीत के साथ हिमेश रेशम्मिया का क्या ताल्लुख़ है?

TST ट्रिविया # ६२- "आपको कैसा लगेगा अगर मैं आपको नए ज़माने का एक गीत सुनाऊँ जिसमें ना कोई ख़त, ना इंतेज़ार, ना झिझक, ना कोई दर्द, बस फ़ैसला है, जिसमें हीरो हीरोइन को सीधे सीधे पूछ लेता है कि मुझसे शादी करोगी?" दोस्तॊम, ये अल्फ़ाज़ थे हिमेश रेशम्मिया के जो उन्होने विविध भारती पर जयमाला पेश करते हुए कहे थे। तो बताइए कि उनका इशारा किस गाने की तरफ़ था?

TST ट्रिविया # ६३- गीतकार समीर के साथ जोड़ी बनाने से पहले हिमेश रेशम्मिया की जोड़ी एक और गीतकार के साथ ख़ूब जमी थी जब उनके चुनरिया वाले गानें एक के बाद एक आ रहे थे और छा रहे थे। बताइए उस गीतकार का नाम।


TST ट्रिविया में अब तक -
पिछले हफ़्ते के सवालों के जवाब:

१. पेण्टाग्राम
२. सोना महापात्रा
३. "give me some sunshine, give me some rain, give me another chance, I wanna grow up once again".

आलोक, आपने तीनों सवालों के सही जवाब दिए, इसलिए आपको पुरे अंक मिलते हैं| सीमा जी, इस बार आप पीछे रह गईं| खैर कोई बात नहीं, अगली बार......

Monday, October 26, 2009

रफा दफा किया नहीं जाए....नए दौर के गीतकारों, संगीतकारों और गायकों के लिए बस यही कहेंगें हम भी

ताजा सुर ताल TST (33)

दोस्तों, ताजा सुर ताल यानी TST पर आपके लिए है एक ख़ास मौका और एक नयी चुनौती भी. TST के हर एपिसोड में आपके लिए होंगें तीन नए गीत. और हर गीत के बाद हम आपको देंगें एक ट्रिविया यानी हर एपिसोड में होंगें ३ ट्रिविया, हर ट्रिविया के सही जवाब देने वाले हर पहले श्रोता की मिलेंगें २ अंक. ये प्रतियोगिता दिसम्बर माह के दूसरे सप्ताह तक चलेगी, यानी 5 अक्टूबर से १४ दिसम्बर तक, यानी TST के ४० वें एपिसोड तक. जिसके समापन पर जिस श्रोता के होंगें सबसे अधिक अंक, वो चुनेगा आवाज़ की वार्षिक गीतमाला के 60 गीतों में से पहली 10 पायदानों पर बजने वाले गीत. इसके अलावा आवाज़ पर उस विजेता का एक ख़ास इंटरव्यू भी होगा जिसमें उनके संगीत और उनकी पसंद आदि पर विस्तार से चर्चा होगी. तो दोस्तों कमर कस लीजिये खेलने के लिए ये नया खेल- "कौन बनेगा TST ट्रिविया का सिकंदर"

TST ट्रिविया प्रतियोगिता में अब तक-

पिछले एपिसोड में तन्हा जी ने इस बार फुर्ती दिखाई, और दो सही जवाब देकर चार अंक बटोर लिए, पर सीमा जी ने भी २ अंक चुरा ही लिए अंतिम सवाल का सही जवाब देकर, तो दोस्तों मुकाबला अब सीधे सीधे सीमा जी और तन्हा जी के बीच है, दोनों को हमारी शुभकामनाएँ

सजीव - सुजॉय, एक और नए सप्ताह की शुरुआत हो रही है, और हम भी हाज़िर हैं इस नए सप्ताह के स्वागत के लिए तीन नए गीतों को लेकर।

सुजॉय - जी बिल्कुल हम हाज़िर हैं। और मेरे ख़याल से TST का मक़्सद यह है कि अपने श्रोताओं और पाठकों को बिल्कुल नई फ़िल्मों के संगीत से रु-ब-रु करवाएँ। क्योंकि क्या होता है कि आज हर फ़िल्म में नई नई आवाज़ें सुनाई देती हैं और लोगों को पता ही नहीं चलता कि कौन सा गीत किसने गाया है। इस शृंखला में गीत सुनवाने के साथ साथ फ़िल्म से संबंधित जो जानकारियाँ हम देते हैं, उससे शायद कुछ हद् तक लोगों की नए फ़िल्म संगीत के प्रति थोड़ी सी जागरुक्ता बढ़ रही होगी, ऐसा हम उम्मीद करते हैं।

सजीव - ठीक कहा तुमने, और सिर्फ़ आवाज़ें ही क्यों, बहुत सारे नए गीतकार भी इन दिनों क़दम रख रहे हैं फ़िल्म जगत में। कुल मिलाकर अगर नए ज़माने के साथ ताल से ताल मिलाकर चलना है तो TST की महफ़िल इस दृष्टि से लोगों का सहायक बन सकता है। तो अब बताओ कि आज कौन सा गीत सब से पहले तुम सुनवा रहे हो हमारे श्रोताओं को?

सुजॉय - आज पहला गीत है 'अजब प्रेम की ग़ज़ब कहानी' का। इस फ़िल्म के गानें इन दिनों बेहद लोकप्रिय हो रहे हैं, और सुनने में आया है कि इस फ़िल्म से काफ़ी उम्मीदें लगाई जा रही है। 'वेक अप सिद' तो बहुत ज्यादा नहीं चली, लेकिन शायद इस बार रणबीर की क़िस्मत चमक जाए!

सजीव - प्रोमोज़ तो लुभावनीय लग रहे हैं, देखते हैं क्या होता है। ख़ैर, गीत कौन सा है यह भी तो बताओ!

सुजॉय - गीत है "तेरा होने लगा हूँ"। संगीतकार प्रीतम की ख़ासीयत है कि वो किसी भी गीत के लिए गायक गायिका के चुनाव को बहुत ज़्यादा अहमीयत देते हैं। किस गीत में किस गायक की आवाज़ अच्छी लगेगी, इस बात पर हमेशा उनकी नज़र रहती है। और तभी तो समय समय पर वो श्रोताओं को सर्प्राइज़ देते रहते हैं। जैसे कि इस गीत के लिए उन्होने चुने हैं दो ऐसी आवाज़ें जो पहली बार साथ में कोई गीत गा रहे हैं। एक तरफ़ पॉप diva अलिशा चिनॉय और दूसरी तरफ़ जवाँ दिलों की धड़कन आतिफ़ अस्लम।

सजीव - अलिशा चिनॉय का अंदाज़ हमेशा से ही सेन्सुयल रहा है, उस पर आतिफ़ के आवाज़ में वो जुनूनी अंदाज़, कुल मिलाकर एक बहुत ही अच्छा कॊम्बिनेशन और एक सुरीला कॊम्पोज़िशन है यह गीत। चलो सुनते हैं। और हाँ, इस गीत को लिखा है इर्शाद कामिल ने। एक बात और सुजॉय इन दिनों हिंदी फ़िल्मी गीतों में पूरे पूरे अंग्रेजी प्रोस् का जम कर इस्तेमाल हो रहा है, इन अंग्रेजी शब्दों को कौन लिखता है, इसका कोई क्रेडिट नहीं दिया जाता....खैर प्रस्तुत गीत भी इसी नए चलन का एक उदाहरण है

तेरा होने लगा हूँ (अजब प्रेम की गजब कहानी)
आवाज़ रेटिंग - ***1/2



TST ट्रिविया # 19- किस अभिनेत्री के लिए अलीशा ने पार्श्वगायन किया है जिसमें उस अभिनेत्री के "घरेलु" (pet) नाम पर ही गीत रचा गया है ?

सजीव - आओ अब बढ़ते हैं आज के दूसरे गीत की ओर। पिछले अंक में हमने फ़िल्म 'क़ुर्बान' का चार्ट बस्टर्स पर सब से उपर चल रहे गीत "शुक्रान अल्लाह" को सुना था। इसी फ़िल्म से एक और गीत आज सुनवा रहे हैं। यह गीत है कुछ सूफी अंदाज़ का जिसका नाम है "अली मौला".

सुजॉय - सजीव, "शुक्रान अल्लाह" तो लोगों को पसंद आ रहा है, अली मौला गीत भी इस अल्बम का एक ख़ास आकर्षण है. वास्तव में यह एक प्रार्थना है, सलीम की आवाज़ में इस गीत में गजब का सम्मोहन है.

सजीव - हालांकि शब्द काफी गूढ़ है और आम फिल्म संगीतप्रेमियों को कुछ शब्दों को समझने में मशक्कत करनी पड़ सकती है पर गीत का थीम और संयोजन कुछ ऐसा गजब का है कि सुनकर मन उस परवरदिगार के जलवों में कहीं खो सा जाता है, ऑंखें बंद कर इसे सुनिए बेहद सकूं मिलेगा ये दावा है हमारा.

सुजॉय- अली मौला का मन्त्र और उस पर सलीम की आवाज़ में "ओ मौला" कहना बहुत सुहाता है. कुर्बान के ये दो गीत निश्चित रूप से फिल्म के प्रति उम्मीदें कायम रखता है, यदि सफल हुई तो ये सैफ की दूसरी हिट होगी इस साल की, लव आज कल के बाद.

सजीव- यह बात भी सही है आपकी। चलिए सुनते है 'क़ुर्बान' का ये सूफी गीत, और इस फ़िल्म के निर्माता के लिए यही दुआ करें कि इस फ़िल्म के चलते उन्हे किसी भी तरह की क़ुर्बानियाँ न देनी पड़े :-)

अली मौला (कुर्बान)
आवाज़ रेटिंग - ****



TST ट्रिविया # 20- किस राम गोपाल वर्मा निर्देशित फिल्म के पार्श्वसंगीत के लिए सलीम सुलेमान को एक प्रतिष्टित पुरस्कार प्राप्त हुआ था ?

सुजॉय - सजीव, आपको हिमेश रेशम्मिया की नई फ़िल्म 'रेडियो' के गानें कैसे लगे?

सजीव - अच्छे हैं। कम से कम पिछले दो एक सालों से वो जिस तरह वो लगभग एक ही तरह का संगीत देते चले आ रहे थे, उससे कुछ अलग हट के उन्होने काम किया है इस फ़िल्म में। अपने लुक्स और आवाज़ भी बदल डाली है। उनका यह चेंज-ओवर तो भई मुझे अच्छा लगा है।

सुजॉय - और मुझे भी। चलिए 'रेडियो' फ़िल्म का एक और गीत आज सुना जाए। इस फ़िल्म के गानें बहुत ही अलग तरह के हैं, जिन्हे ज़्यादातर हिमेश और कैलाश खेर ने गाए हैं। इस पूरे ऐल्बम की ख़ासीयत यही है कि हर गीत अलग अंदाज़ का है, लेकिन सारे गानें आपस में जुड़े से लगते हैं और ऐल्बम जैसे कम्प्लीट लगता है।

सजीव - ठीक ही कहा है तुमने। फ़िल्म में कुल १२ गानें हैं, और आज हम चलो इस ऐल्बम का अंतिम गीत सुनते हैं "रफ़ा दफ़ा किया नहीं जाए", जिसे हिमेश ने ही गाया है।

सुजॉय - यह गीत शुरु होता है एक धीमे संगीत से, लेकिन गीत के बोल भी उतने ही असरदार हैं।

सजीव - हम आज शुरु में ही नई आवज़ों और नए गीतकारों की बात कर रहे थे न, तो इस फ़िल्म में नए गीतकार सुब्रत सिन्हा ने सभी गानें लिखे हैं। उन्हे हम 'आवाज़' की तरफ़ से शुभकामनाएँ देते हैं, और सुनते हैं 'रेडियो - लव ऑन एयर' का यह गीत। बिलकुल जैसा इस गीत में खुद हिमेश ने कहा है कि, रफा दफा किया नहीं जाए, संगीत समीक्षक भी हिमेश को यूहीं रफा दफा करने की हिम्मत नहीं कर सकते

रफा दफा किया नहीं जाए (रेडियो)
आवाज़ रेटिंग -***1/2



TST ट्रिविया # 21-सुब्रत सिन्हा के लिखे गीत "छोटे छोटे पैरों तले" के संगीतकार कौन हैं?

आवाज़ की टीम ने इन गीतों को दी है अपनी रेटिंग. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसे लगे? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीतों को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

शुभकामनाएँ....



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

Monday, October 12, 2009

नए संगीतकारों में अमित त्रिवेदी का संगीत है जैसे एक ताजा हवा का झोंका

ताजा सुर ताल TST (29)

दोस्तों, ताजा सुर ताल यानी TST पर आपके लिए है एक ख़ास मौका और एक नयी चुनौती भी. TST के हर एपिसोड में आपके लिए होंगें तीन नए गीत. और हर गीत के बाद हम आपको देंगें एक ट्रिविया यानी हर एपिसोड में होंगें ३ ट्रिविया, हर ट्रिविया के सही जवाब देने वाले हर पहले श्रोता की मिलेंगें २ अंक. ये प्रतियोगिता दिसम्बर माह के दूसरे सप्ताह तक चलेगी, यानी 5 ओक्टुबर के एपिसोडस से लगभग अगले 20 एपिसोडस तक, जिसके समापन पर जिस श्रोता के होंगें सबसे अधिक अंक, वो चुनेगा आवाज़ की वार्षिक गीतमाला के ६० गीतों में से पहली १० पायदानों पर बजने वाले गीत. इसके अलावा आवाज़ पर उस विजेता का एक ख़ास इंटरव्यू भी होगा जिसमें उनके संगीत और उनकी पसंद आदि पर विस्तार से चर्चा होगी. तो दोस्तों कमर कस लीजिये खेलने के लिए ये नया खेल- "कौन बनेगा TST ट्रिविया का सिकंदर"

TST ट्रिविया प्रतियोगिता में अब तक -

पिछले एपिसोड में तो सीमा जी पूरा मैदान ही मार लिया, पूरे ६ अंक बटोरे. सीमा जी के कुल अंक हुए १०. दिशा जी और अन्य प्रतिभागियों को लगता है सीमा जी का खौफ हो गया है. खैर एक अच्छे मुकाबले की हम उम्मीद करेंगें इस एपिसोड में.

सजीव - सुजॉय, 'ताज़ा सुर ताल' में आज जिन तीन गीतों को हम लेकर आए हैं, उनमें से सब से पहले कौन सा गाना सुनवाओगे हमारे श्रोताओं को?

सुजॉय - पहला गीत है 'वेक अप सिद' का। याद है इसका शीर्षक गीत हमने सुनवाया था कुछ हफ़्ते पहले?

सजीव - हाँ, और उस दिन इस फ़िल्म के संगीतकार तिकड़ी शंकर अहसान लॉय के बारे में हमने तमाम जानकारियाँ भी दी थी। आज हम सुनवा रहे हैं इस फ़िल्म से "ओ रे मनवा तू तो बावरा है, तू ही जाने तू क्या सोचता है... गूँजा सा है कोई इकतारा इकतारा"।

सुजॉय - यह गीत बहुत ही सुंदर है, लेकिन क्या आपको पता है कि इस गीत को शंकर अहसान लॉय ने नहीं बल्कि अमित त्रिवेदी ने स्वरबद्ध किया है?

सजीव- वाक़ई? अगर इस गीत के गायकों की बात करें तो कविता सेठ और अमिताभ भट्टाचार्य की आवाज़ें बहुत ही सुंदर सुनाई दी है। जहाँ एक तरफ़ कविता सेठ मुख्य गायिका के रूप में गाती हैं, अमिताभ का गायन "गूँजा सा है कोई इकतारा इकतारा" बिल्कुल अलग दिशा में है। शायद इसी को मेलडी और काउंटर मेलडी कहते हैं।

सुजॉय- हो सकता है, मैं श्योर नहीं, लेकिन हमारे श्रोता व पाठकों में से कोई ज़रूर हमें बता सकेगा कि काउंटर मेलडी किसे कहते हैं। वैसे इस गीत में कविता सेठ की गायकी लोक शैली में रंगा हुआ सुनाई देता है। फ़्युज़न का बहुत अच्छा उदाहरण है यह गीत। थोड़ा शास्त्रीय और थोड़ा सा पॊप, इस गीत को एक बार सुनने के बाद बार बार सुनने का मन होता है। अमिताभ ने अच्छा निभाया है अपना हिस्सा। वरिष्ठ गीतकार जावेद अख़तर से हम आगे भी ऐसे अच्छे गीतों की उम्मीद रखेंगे। आइए सुनते हैं यह गीत।

इकतारा (वेक अप सिद)
आवाज़ रेटिंग - ****.



TST ट्रिविया # 07 - गायिका कविता सेठ की डेब्यू एल्बम का नाम क्या है?

सजीव - इस सुकून देनेवाले गीत को सुनकर सुजॉय, अब तो मुझे इसी तरह का एक और सॊफ़्ट मेलडियस गीत सुनने का मन कर रहा है। तो बोलो कौन सा गीत सुनाओगे?

सुजॉय - आप ने बिल्कुल ठीक कहा है। और इसीलिए हमने आज का दूसरा गीत भी कुछ ऐसा ही सॊफ़्ट रोमांटिक अंदाज़ का रखा है। यह है फ़िल्म 'रेडियो - लव ऑन एयर' का जिसे हिमेश रेशम्मिया और श्रेया घोषाल ने गाया है। हिमेश की आवाज़ बिल्कुल अलग सुनाई देती है उनके अब तक के गीतों से। यह गीत है "जानेमन"।

सजीव - हिमेश का गाया "मन का रेडियो बजने दे ज़रा" सुनवाते वक़्त तुमने उस गीत को ४ अंक दिए थे और तब तुमने कहा था कि अगर हम "जानेमन" सुनवाते तो तुम पूरे ५ अंक देते। क्या अब भी तुम्हारा यही ख़याल है?

सुजॉय - जी हाँ, आज भी मैं इस गीत को पूरे ५ अंक ही देना चाहूँगा। आज फ़िल्म संगीत जिस दौर से गुज़र रही है, हम श्रोताओं को ही निर्णय लेना है कि हम किस तरह के गानें सुनना पसंद करेंगे। फ़िल्म संगीत के स्तर को एक बार फिर से उपर लाने के लिए हम भी उतने ही ज़िम्मेदार हैं जितने की फ़िल्मकार और संगीतकार। इसलिए अगर कोई अच्छा गीत बनता है तो उसकी हमें खुले दिल से तारीफ़ करनी ही चाहिए।

सजीव - बहुत सही कहा सुजॉय तुमने। सही मायने में जो गानें अच्छे हैं, उनको बढ़ावा मिलना ही चाहिए। हिमेश और श्रेया ने बहुत सुंदर गाया है, हिमेश का संगीत भी लाजवाब है, और दिलकश बोल लिखे हैं सुब्रत सिन्हा ने। -

जानेमन (रेडियो)
आवाज़ रेटिंग - ****1/2



TST ट्रिविया # 08 - हिमेश के पिता भी एक संगीतकार थे, क्या था उनका नाम और किस भाषा की फिल्म में वो संगीत दिया करते थे ?

सुजॉय - और अब आज का तीसरा और अंतिम गीत सुनने की बारी। हिमेश रेशम्मिया का नाम सुनते ही जिस अभिनेता का नाम ज़हन में आता है वो हैं सलमान ख़ान। सल्लु भाई ने ही हिमेश को पहले पहले अपनी फ़िल्मों में संगीत देने के मौके दिए थे और हिमेश उनकी उम्मीदो पर खरे उतरे, और उसके बाद तो हिमेश - सलमान हिट्स की जैसे लाइन ही लग गई थी। इसी तरह से एक और संगीतकार जिनके साथ सलमान भाई का ज़बरदस्त साथ रहा है, वो हैं साजिद-वाजिद की जोड़ी। 'मुझसे शादी करोगी', 'गॊड तुस्सी ग्रेट हो', 'तुमको ना भूल पाएँगे' और भी न जाने कितने ऐसे हिट फ़िल्में हैं।

सजीव - मैं कुछ और नाम गिनाता हूँ। 'पार्टनर', 'तेरे नाम' का "लगन लगन लग गई है", और 'प्यार किया तो डरना क्या' का "तेरी जवानी बड़ी मस्त मस्त है"। लेकिन सुजॉय ये सलमान, हिमेश, साजिद वाजिद, बात क्या है? तीसरा गीत कौन सा बजाने वाले हो?

सुजॉय - तीसरा गीत है 'मैं और मिसेस खन्ना' फ़िल्म का। 'क्योंकि' फ़िल्म के बाद इस फ़िल्म में सलमान ख़ान और करीना कपूर एक बार फिर साथ साथ नज़र आ रहे हैं। इसी फ़िल्म से सोनू निगम और श्रेया घोषाल का गाया "डोन्ट से अल्विदा" हम सुनवा रहे हैं।

सजीव - क्या इत्तेफ़ाक़ है कि सलमान-करीना इस फ़िल्म में साथ साथ एक बार फिर से आए हैं, और देखो उनकी पिछली फ़िल्म 'क्योंकि' में भी कुछ ऐसा ही एक गीत था "क्योंकि इतना प्यार तुमको करते हैं हम"। इन दोनों गीतों का फ़ॊर्मैट कुछ कुछ एक जैसा ही है।

सुजॉय - और सलमान ख़ान के फ़िल्मों का संगीत हमेशा ही हिट रहा है, चाहे फ़िल्म चले या ना चले। इस प्रस्तुत गीत बड़ा ही नर्मोनाज़ुक गीत है, उर्दू शब्दों का भी इस्तेमाल हुआ है। सोनू निगम और श्रेया की गायकी का वही अंदाज़ बरकरार है इस गीत में भी, जिसके लिए ये दोनों जाने जाते हैं।

सजीव - तो आज हमने जो तीन गानें सुनवाए, उन सभी में कॉमन बात यही रही कि ये तीनों गीत बेहद नाज़ुक, रोमांटिक, और सुरीले हैं। इस गीत को सुनवाने से पहले हम यह भी बता दे कि 'मैं और मिसेस खन्ना' में सोहैल ख़ान, बप्पी लाहिरी और गोविंदा भी नज़र आएँगे। चलिए अब गाना सुन लिया जाए। गीतकार हैं जुनैद वासी.

डोंट से अलविदा (मैं और मिसेस खन्ना)
आवाज़ रेटिंग -**1/2



TST ट्रिविया # 09 -जुनैद वासी ने किस संगीतकार के साथ काम किया यश राज बैनर की हिट फिल्म में और वो गीत कौन सा है ?

आवाज़ की टीम ने इन गीतों को दी है अपनी रेटिंग. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसे लगे? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीतों को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

शुभकामनाएँ....



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

Monday, September 7, 2009

फुल टू एटीटियुड, दे दे तू ज़रा....अपनी नयी आवाज़ में हिमेश बजा रहे हैं मन का रेडियो

ताजा सुर ताल (20)

ताजा सुर ताल में आज हिमेश लौटे हैं नयी आवाज़ में नए गीत के साथ

सुजॉय - सजीव, एक गायक संगीतकार ऐसे हैं आज के दौर में जिनके बारे में इतना कहा जा सकता है कि चाहे लाख विवादों से वो घिरे रहे हों, लेकिन उनके गीत संगीत हमेशा कामयाब रहे हैं। कभी उनकी टोपी पहनने की अदा को लेकर लोगों ने मज़ाक बनाया, तो कभी उनके नैसल गायिकी पर लोगों ने समालोचना की। उनके संगीत को सुन कर गुजरात के किसी गाँव में भूतों के सक्रीय हो जाने की भी ख़बर फैली थी। और एक बार तो इन्होने ख़ुद ही आफ़त मोल ली थी एक बड़े संगीतकार के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी कर के।

सजीव- मैं तुम्हारा इशारा समझ गया, तुम हिमेश रेशमिया की ही बात कर रहे हो ना?

सुजॉय- बिल्कुल! कहते हैं ना कि 'any publicity is good publicity', तो इन सब कारणों से हिमेश को फ़ायदा ही हुआ। वैसे भी हिमेश जानते हैं कि इस पीढ़ी के जवाँ दिलों पर किस तरह से असर किया जा सकता है। तभी तो उनकी फ़िल्में चले या ना चले, उनका संगीत ज़रूर हिट हो जाता है। शायद ही उनका कोई ऐसा फ़िल्म हो जिसके गानें कामयाब न रहे हों!

सजीव- बिल्कुल ठीक कहा तुमने। बहुत दिनों के बाद हिमेश लौटे हैं अपनी नई फ़िल्म 'रेडियो- लव ऑन एयर' के साथ, जिसमें वो एक बार फिर से नायक भी हैं, गायक भी, और संगीतकार तो हैं ही। तो इसका मतलब आज तुम हमारे श्रोताओं को इसी फ़िल्म का गीत सुनवाने जा रहे हो?

सुजॉय- जी हाँ। इस फ़िल्म में हिमेश ने एक रेडियो जॉकी की भूमिका निभाई है। क्या आप कुछ और ऐसी फ़िल्मों के नाम गिना सकते हैं जिनमें नायक या नायिका रेडियो जॉकी के रोल निभाए हैं?

सजीव- प्रीति ज़िंटा ने 'सलाम नमस्ते' में और विद्या बालन ने 'लगे रहो मुन्ना भाई' में।

सुजॉय- बिल्कुल। एक और फ़िल्म आई थी अभी दो तीन साल पहले, '99.9 FM' के शीर्षक से, जिसमें नायक एक RJ होता है। अब देखना यह है कि हिमेश भाई क्या नया हमें दिखाते हैं इस फ़िल्म में।

सजीव- हिमेश के करीयर पर अगर ग़ौर करें तो हम इसे तीन भागों में बाँट सकते हैं। पहला भाग वह है जब वो केवल संगीतकार हुआ करते थे। जैसे कि 'प्यार किया तो डरना क्या', 'जोड़ी नम्बर वन', 'क्या दिल ने कहा', 'हेलो ब्रदर', 'तेरे नाम', 'कहीं प्यार ना हो जाए', 'चोरी चोरी चुपके चुपके', 'कुरुक्षेत्र', 'दुल्हन हम ले जाएँगे', 'हमराज़', 'चुरा लिया है तुमने', 'दिल माँगे मोर', 'ऐतराज़', और भी न जाने कितनी ऐसी फ़िल्में हैं जिनका संगीत उस ज़माने में सुपर डुपर हिट हुआ था। फिर उसके बाद आया वह दौर जिसमें हिमेश ने संगीत देने के साथ साथ अपनी आवाज़ भी मिलाई और चारों तरफ़ गूँजने लगे "आशिक़ बनाया आपने" के स्वर।

सुजॉय- वाक़ई बेहद मशहूर हुआ था यह गीत, और सब से मज़ेदार बात यह कि इस पहले ही गीत के लिए हिमेश को उस साल का सर्वश्रेष्ठ संगीतकार नही बल्कि सर्वश्रेष्ठ गायक का फ़िल्म-फ़ेयर अवार्ड मिला था। इससे पहले फ़िल्म-फ़ेयर के इतिहास में कभी ऐसा नहीं हुआ था कि किसी गायक-संगीतकार को गायन के लिए यह पुरस्कार दिया गया हो। इस फ़िल्म के बाद तो हिमेश ने कई फ़िल्मों में संगीत के साथ साथ गायन भी किया जैसे कि 'अक्सर', 'टॉम डिक ऐंड हैरी', '३६ चायना टाउन', 'हेरा फेरी' वगैरह वगैरह ।

सजीव- और तीसरा हिस्सा है वह हिस्सा जिसमें संगीतकार और गायक हिमेश रेशम्मिया बन गये एक नायक भी। 'आपका सुरूर', और 'कर्ज़' के बाद अब वो नज़र आएँगे 'रेडियो- लव ऑन एयर' में। रवि अगरवाल निर्मित इस फ़िल्म में हिमेश की नायिका बनीं हैं शेरनाज़ ट्रेज़रीवाला। और क्योंकि फ़िल्म रेडियो पर है, तो रेडियो मिर्ची बनें हैं इस फ़िल्म के मुख्य पार्टनर। रेडियो मिर्ची के जीतूराज हिमेश के पसंदीदा जॊकी हैं, और उन्ही का अंदाज़ इख़्तियार किया है हिमेश ने इस फ़िल्म में।

सुजॉय- सुनने में आया है कि इस फ़िल्म के लिए हिमेश ने कुछ औपरेशन करवाए हैं जिससे कि अब वो दो अलग अलग आवाज़ों में गा सकते हैं।

सजीव- सुना तो मैने भी है। और इस फ़िल्म के शीर्षक गीत "मन का रेडियो बजने दे ज़रा" में उनकी नई आवाज़ सुनाई देती है। कोई अगर बता न दे आपको तो शायद मुखड़ा सुन कर गेस न कर पाएँ कि इसे हिमेश ने गाया है। लेकिन जैसे ही अंतरे में ऊँचे सुर में वो गाते हैं तो वही पुराना हिमेश वापस आजाते हैं।

सुजॉय- हा हा हा ...वैसे तो गीत में बहुत ख़ास कुछ नहीं है, लेकिन बार बार सुनते सुनते गीत का रीदम जब ज़हन में उतर जाता है तो दिल थिरकने लगता है। इस गीत से बिल्कुल अलग हट के एक और रेडियो पर गीत इस फ़िल्म में हिमेश ने गाया है "ज़िंदगी जैसे एक रेडियो" जो पंजाबी भांगडा और पाश्चात्य संगीत का फ़्युज़न है, जिसमें ढोल के साथ साथ हिमेश ने भी खुल के अपनी आवाज़ मिलाई है।

सजीव- लेकिन सब से लाजवाब गीत इस फ़िल्म का मुझे जो लगता है वह है श्रेया घोषाल और हिमेश के युगल स्वरों में गाया हुआ "जानेमन"। इस साल अब तक जितने भी युगल गीत आए हैं उनमें यह टॉप टेन में ज़रूर आनी चाहिए।

सुजॉय - बिल्कुल, बहुत ही नर्मोनाज़ुक गीत। मेरे एक दोस्त का कहना है कि यह गीत 'कैंडल लाइट डिनर' के लिए सटीक है। एक और गीत है रेखा भारद्वाज के साथ, "पिया जैसे लड्डू मोतीचूर वाले", जिसमें हिमेश के शास्त्रीय संगीत पर अच्छी पकड़ के सबूत मिलते हैं।

सजीव- वैसे इस एल्बम को सुनकर लगता है की हिमेश अपनी उस पुरानी शैली में कुछ कुछ वापस आये हैं... जिसमें उन्होने कुछ बहुत ही मेलोडियस नाज़ुक-ओ-तरीन रोमांटिक गीत बनाए थे.

सुजॉय- हाँ मेरा भी यही ख्याल है. अब देखना यह है कि क्या इस फ़िल्म के गानें भी 'तेरे नाम' जैसा कमाल कर दिखाएगा! सजीव, आप क्या रेटिंग्‍ दे रहे हैं इस गीत को? मेरी तरफ़ से तो ४ अंक देता हूँ।

सजीव - मेरी तरफ से है ३.५...."तेरे नाम" जैसी कामियाब इस एल्बम को मिलेगी ये कहना ज़रा मुश्किल है. पर हाँ प्रस्तुत गीत के साथ साथ "जिंदगी जैसे एक रेडियो.." और "जानेमन" गीत जरूर हिट होंगें ये तय है....फिलहाल हम अपने श्रोताओं पर छोड़ते हैं की हिमेश की तथाकथित नयी आवाज़ में गीत "मन का रेडियो..." को वो कितने अंक देते हैं....

सुजॉय - गीत के बोल कुछ ऐसे हैं -

मन का रेडियो बजने दे ज़रा,
गम को भूल कर जी ले तू ज़रा,
स्टेशन कोई नया टियून कर ले ज़रा,
फुल टू एटीटियुड, दे दे तू ज़रा,
टूटा दिल, क्या हुआ,
हो गया जो हुआ....
भूले बिसरे गीत, गा के भूल जा,
बदल जो रिधम, उस पे झूल जा,
फुल टू एटीटियुड, दे दे तू ज़रा...
मन का रेडियो...

क्या होगा क्या नहीं होगा,
उपर वाले पे छोड़ दे,
आज इस पल में तू,
जिंदगी को जी ज़रा,
तुझको आकाश की वाणी का आसरा...
टुटा दिल...

क्या खोया क्या नहीं पाया,
उसपे रोना तू छोड़ दे,
बैंड जो बजे तेरा,
खुल के तू भी साथ गा,
दर्द ही बने दवा, फंडा है ये लाइफ का....
टुटा दिल....

मन का रेडियो....


और अब सुनिए ये गीत -



आवाज़ की टीम ने दिए इस गीत को 3.75 की रेटिंग 5 में से. अब आप बताएं आपको ये गीत कैसा लगा? यदि आप समीक्षक होते तो प्रस्तुत गीत को 5 में से कितने अंक देते. कृपया ज़रूर बताएं आपकी वोटिंग हमारे सालाना संगीत चार्ट के निर्माण में बेहद मददगार साबित होगी.

क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं.हाल ही में प्रर्दशित फिल्म "मोहनदास" एक साहित्यिक कृति पर आधारित है, कौन हैं इस मूल उपन्यास के लेखक... बताईये और हाँ जवाब के साथ साथ प्रस्तुत गीत को अपनी रेटिंग भी अवश्य दीजियेगा.

पिछले सवाल का सही जवाब दिया सीमा जी ने, हिमेश रेशमिया के करियर के विभिन्न आयामों से तो अब आप सब परिचित हो ही गए हैं, सीमा जी बधाई...मंजू जी, शमिख जी और विनोद जी रेटिंग देने के लिए शुक्रिया


अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं. क्या आप को भी आजकल कोई ऐसा गीत भा रहा है, जो आपको लगता है इस आयोजन का हिस्सा बनना चाहिए तो हमें लिखे.

Wednesday, July 16, 2008

लता मंगेशकर को अपना रोल मॉडल मानती हैं, गायिका -मानसी पिम्पले, आवाज़ पर इस हफ्ते का उभरता सितारा

आवाज़ पर इस हफ्ते की हमारी "फीचर्ड आर्टिस्ट" हैं - मानसी पिम्पले, हिंद युग्म पर अपने पहले गीत "बढ़े चलो" से चर्चा में आयीं मानसी रमेश पिम्पले, मूल रूप से महाराष्ट्र से हैं, और इन्हे हिंद युग्म से जोड़ने का श्रेय जाता है, युग्म की बेहद सक्रिय कवयित्री सुनीता यादव को. मानसी इन्हीं की शिष्या थीं कभी, और तभी से सुनीता ने इनके हुनर को परख लिया था. मानसी ने अभी-अभी ही अपनी बारहवीं की पढ़ाई पूरी की है, और अब अपने कैरियर से जुड़ी दिशा की तरफ़ अग्रसर है. संगीत को अपना जनून मानने वाली मानसी, लता जी को अपना रोल मॉडल मानती हैं, तथा आज के दौर के, श्रेया घोषाल और शान इनके सबसे पसंदीदा गायिका/गायक हैं. Zee tv के कार्यक्रम Hero Honda सा रे गा मा पा, के लिए भी मानसी का चुनाव हुआ था,जहाँ हिमेश रेशमिया भी बतौर जज़ मौजूद थे, पर नियति ने शायद पहले ही, उनकी कला को दुनिया तक पहुँचने का माध्यम, हिंद युग्म को चुन लिया था. चित्रकला और टेबल टेनिस का भी शौक रखने वाली मानसी, युग्म को एक शानदार प्लेटफोर्म मानती हैं, नए कलाकारों के लिए. जब हमने उनसे बात की तो वो अपने पहले गीत को मिली आपार सराहना से बेहद खुश नज़र आयीं. "I saw a means of pursuing my passion through Hind Yugm, which is a very good platform for new talent and art" - ये कथन थे मानसी के.

नीचे पेश है, हिंद युग्म की मानसी से हुई बातचीत के कुछ अंश, आप भी मानसी की आवाज़ में ये दमदार गीत "बढ़े चलो" अवश्य सुनें और इस उभरती हुई प्रतिभावान गायिका को अपना स्नेह दे.

हिंद युग्म - मानसी स्वागत है एक बार फ़िर, ये बताइए कि संगीत आपके जीवन में क्या महत्त्व रखता है ?

मानसी - संगीत मेरा जनून है, और ये मेरे जीवन में विशेष स्थान रखता है, मेरा मानना है शब्द जब संगीत में ढल कर आते हैं तो हर व्यक्ति तक अपनी पहुँच बना पाते हैं, संगीत वो कड़ी है जो आपको इश्वर से जोड़ती है.

हिद युग्म - आप zee tv के सा रे गा मा पा शो के लिए भी चुनी गई थीं, उसके बारे में बताइए.

मानसी - मैं २००४ में चुनी गई थी पहले राउंड के लिए मगर १८ वर्ष से कम उम्र होने के कारण प्रतियोगिता का हिस्सा नहीं बन पायी, उसके बाद कभी कोशिश नही की, फ़िर पढ़ाई की तरफ फोकस बदल गया.

हिंद युग्म - क्या आपके अभिभावक आपके इस जनून को बढ़ावा देते हैं ?

मानसी - जी बिल्कुल, ये उनकी प्रेरणा और मार्गदर्शन ही है जो मैं आज यहाँ हूँ, वो मेरे सबसे अच्छे समीक्षक है, जब भी मुझे कुछ गाना होता है, सब से पहले उन्हें ही सुनाती हूँ, ध्यान से सुनकर वो मेरी कमियों को दुरुस्त करते हैं, अगर मैंने कुछ अच्छा गाया है तो ये उन्ही की बदौलत है .

हिंद युग्म - अब आप B Pharma की पढ़ाई करने जा रही हैं, पढ़ाई के साथ-साथ अपने शौक को कैसे प्लान किया है आपने ?

मानसी - अभी तो सारा ध्यान दाखिले और पढ़ाई की तरफ़ ही है, पर संगीत तो हमेशा ही दिनचर्या का हिस्सा रहेगा, मेरी कोशिश रहेगी की इस दौरान अपने रियाज़ के लिए और अधिक समय निकालूं और ख़ुद को इतना काबिल कर लूँ कि किसी भी नए गीत और उन्दा तरीके से निभा पाऊं.

हिंद युग्म - आप हिंद युग्म के लिए एक खोज हैं, हमारे संगीतकार ऋषि एस के साथ काम करना कैसा रहा ?

मानसी - मैं सुनीता मेम की शुक्रगुजार हूँ जिन्होंने मुझे हिंद युग्म और ऋषि एस से मिलवाया, ऋषि जी के संगीत के एक आत्मा है, वो हर गीत पर बहुत मेहनत करते हैं, और गायक को अपनी बात बड़े अच्छे तरीके से समझाते हैं, वो आपको हमेशा सहज महसूस कराते हैं, उनके साथ काम करना बेहद बढ़िया अनुभव रहा.

हिंद युग्म - "बढे चलो" में आपकी गायकी की बहुत तारीफ हुई है, आप कैसा महसूस कर रही हैं ?

मानसी - मैं बहुत खुश हूँ, साथ ही धन्येवाद देना चाहूंगी ऋषि जी और सजीव जी को, जिन्होंने मुझे इस गीत को गाने का मौका दिया, और अलोक शंकर जी का जिन्होंने बहुत सुंदर लिखा इस गीत को, और अपने तमाम समीक्षकों /श्रोताओं का जिन्होंने अपनी टिप्पणियों से मुझे प्रोत्साहित किया, मेरा सोलो गीत "मैं नदी" भी सब को पसंद आएगा, ऐसी मुझे आशा है.

हिंद युग्म - बहुत बहुत शुक्रिया मानसी, आपके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनायें, संगीत का जनून बरकरार रहे और आप इसी तरह मधुर गीत गाती रहें, यही हमारी कामना है ...

मानसी - जी शुक्रिया, मैं हर गाने में अपना बेस्ट देने की कोशिश करूंगी, और उम्मीद करती हूँ कि हिंद युग्म परिवार भी मुझे यूँ ही प्रोत्साहित करता रहेगा .


मूल इंटरव्यू ( original interview )

Hind Yugm - Hi Manasi, Welcome once again, first of all tell us, what place music has in your life, how you connect with music?

Manasi - Music is my passion. It is very close to my heart and it holds a very high place in my life. Music has the power to convey every human feeling which words alone cannot do. And I feel that music is a form of worship, too.

Hind Yugm - You also got selected for ZEE TV, sa re ga ma pa, what was that story?

Manasi- I gave the auditions for Sa Re Ga Ma in 2004 and I just got short-listed in the preliminary round when they informed me that I was under-age (below 18) and so could not participate in the competition. So there was no further development in that and I haven’t tried to participate again after that as studies became my priority.

Hind Yugm - Do your parents support your interest?

A patriotic SongManasi - Oh yes, of course. Without their support and guidance I couldn’t have been whatever I am today. They are my biggest and best critics. If I have to perform or sing, they personally hear the song and point out all the mistakes and make me correct them before I give my performance. Their guidance and support is of extreme importance in my life.

Hind Yugm - Now you are going to study B Pharma, what plan you have, to manage your interest of singing in the coming days ?

Manasi - Right now I am concentrating mainly on my admission and studies. But that doesn’t mean I’ll put a full stop to my passion. I would try to train my voice in this period of my studies so that I can sing even better and be prepared to face any sort of challenge, i.e., to be able to sing any song flawlessly and with the same ease. I would try to continue my ‘riyaaz’ so that I stay in touch with music.

Hind Yugm - You are a found to hind yugm ( thanks to sunita yadav ) how was the experience of working with Rishi S. the composer ?

Manasi - Definitely, I myself wish to thank Sunita ma’am for introducing me to Hind Yugm and Rishi S Balaji. It was really a pleasant experience working on these two songs with Rishi Sir. He is an excellent upcoming composer and his music is definitely the soul of his songs. He makes it a point that the singer understands whatever he wants them to sing and is ready to explain it until it is understood. I consider myself very fortunate to have worked with such a talented person.

Hind Yugm - We are looking forward to hear your first solo song “main nadi",”badhe chalo“ is also well received by the audience, how is the feeling?

Manasi - I am feeling elated and at the same time I wish to thank Rishi sir and Sajeev sir for giving me an opportunity to sing these two songs. and Alok Shankar ji for providing such excellent lyrics, I also wish to thank all our critics who have given their precious comments which will help us to eliminate our flaws and present something much better. I only wish to request all of them to always give their support and encouragement. I am myself looking forward to the release of ‘Main Nadi’ and I hope it gets a good response.

Hind Yugm - Thank you very much manasi, and all the best for your future plans.....keep this passion for music, and keep singing such beautiful songs always ...

Manasi - Thanks for everything. I’ll try my best to give my best to each song I sing and I hope my association with Hind Yugm continues…

बिल्कुल मानसी, हम भी यही उम्मीद करेंगे, कि आप युहीं अपनी आवाज़ का जादू अपने हर गीत में बिखेरती रहें, हिंद युग्म कि समस्त टीम की तरफ़ से आपके उज्जवल भविष्य के लिए ढेरों शुभकामनायें.

Wednesday, July 9, 2008

कहाँ गए संगीत के सुर! मर गई क्या मेलोडी ? जवाब देंगे मनीष कुमार

Most of the time people Criticized today's music saying that it has nothing worth listening comparing to the music that created by the old masters in their time, while the composer of this generation claimed that they make music for the youth and deliver what they like, but seriously do we need any comparsion like that ? music can ever lost its sweetness or its melody ? Well, who better than our music expert Manish Kumar can answer this question, so guys over to manish and read what he wants to comment on this issue


समय समय पर जब भी आज के संगीत परिदृश्य की बात उठती है, इस तरह के प्रश्न उठते हैं और उठते रहेंगे। पर मेरा इस बात पर अटूट विश्वास है कि भारत जैसे देश में संगीत की लय ना कभी मरी थी ना कभी मरेगी। समय के साथ साथ हमारे फिल्म संगीत में बदलाव जरूर आया है। ५० के दशक के बाद से इसमें कई अच्छे-बुरे उतार-चढ़ाव आये हैं । अक्सर लोग ये कहते हैं कि आज के संगीत में कुछ भी सुनने लायक नहीं है। आज का संगीतकारों में मेलोडी की समझ ही नहीं है। पर मुझे इस तरह के वक्तव्य न्यायोचित नहीं लगते। इससे पहले कि मैं आज के संगीतकारों के बारे में कुछ कहूँ, भारतीय फिल्म संगीत के अतीत पर एक नज़र डालना लाज़िमी होगा ।

इसमें कोई शक नहीं पुरानी फिल्मों के गीत इतने सालों के बाद भी दिल पर वही तासीर छोड़ते हैं ।
एस. डी. बर्मन, सलिल चौधरी, मदनमोहन, हेमंत, नौशाद, शंकर जयकिशन, जैसे कमाल के संगीतकारों,
तलत महमूद,सहगल, सुरैया, गीता दत्त, लता, रफी, मन्ना डे, मुकेश, आशा, किशोर जैसे सुरीले गायकों
और राज कपूर, विमल राय, महबूब खान और गुरूदत जैसे संगीत पारखी निर्माता निर्देशकों ने ५० से ७० के दशक में जो फिल्म संगीत दिया वो अपने आप में अतुलनीय है। इसीलिये इस काल को हिन्दी फिल्म संगीत का स्वर्णिम काल कहा जाता है । ये वो जमाना था जब गीत पहले लिखे जाते थे और उन पर धुनें बाद में बनाई जाती थीं ।

वक्त बदला और ७० के दशक में पंचम दा ने भारतीय संगीत के साथ रॉक संगीत का सफल समावेश पहली बार 'हरे राम हरे कृष्ण' में किया । वहीं ८० के दशक में बप्पी लाहिड़ी ने डिस्को के संगीत को अपनी धुनों का केन्द्र बिन्दु रखा । मेरी समझ से ८० का उत्तरार्ध फिल्म संगीत का पराभव काल था । बिनाका गीत माला में मवाली, हिम्मतवाला सरीखी फिल्मों के गीत भी शुरू की पायदानों पर अपनी जगह बना रहे थे । और शायद यही वजह या एक कारण रहा कि उस समय के हालातों से संगीत प्रेमी विक्षुब्ध जनता का एक बड़ा वर्ग गजल और भजन गायकी की ओर उन्मुख हुआ। जगजीत सिंह, पंकज उधास, अनूप जलोटा, तलत अजीज, पीनाज मसानी जैसे कलाकार इसी काल में उभरे।

९० का उत्तरार्ध हिन्दी फिल्म संगीत के पुनर्जागरण का समय था । पंचम दा तो नहीं रहे पर जाते-जाते १९४२ ए लव स्टोरी (१९९३) का अमूल्य तोहफा अवश्य दे गए । कविता कृष्णामूर्ति के इस काव्यात्मक गीत का रस आपने ना लिया हो तो जरूर लीजिएगा

क्यूँ नये लग रहे हैं ये धरती गगन
मैंने पूछा तो बोली ये पगली पवन
प्यार हुआ चुपके से.. ये क्या हुआ चुपके से

मैंने बादल से कभी, ये कहानी थी सुनी
पर्वतों से इक नदी, मिलने सागर से चली
झूमती, घूमती, नाचती, दौड़ती
खो गयी अपने सागर में जा के नदी
देखने प्यार की ऐसी जादूगरी
चाँद खिला चुपके से..प्यार हुआ चुपके से..


पुरानी फिल्मों से आज के संगीत में फर्क ये है कि रिदम यानि तर्ज पर जोर ज्यादा है। तरह-तरह के वाद्य यंत्रों का प्रयोग होने लगा है। धुनें पहले बनती हैं, गीत बाद में लिखे जाते हैं। नतीजन बोल पीछे हो जाते हैं और सिर्फ बीट्स पर ही गीत चल निकलते हैं।
ऐसे गीत ज्यादा दिन जेहन में नहीं रह पाते। पर ये ढर्रा सब पर लागू नहीं होता ।

१९९५-२००६ तक के हिन्दी फिल्म संगीत के सफर पर चलें तो ऐसे कितने ही संगीतकार हैं जिन पर आपका कथन आज का संगीतकार 'मेलॉडियस' संरचना .................बिलकुल सही नहीं बैठता । कुछ बानगी पेश कर रहा हूँ ताकि ये स्पष्ट हो सके कि मैं ऐसा क्यूँ कह रहा हूँ।

साल था १९९६ और संगीतकार थे यही ओंकारा वाले विशाल भारद्वाज और फिल्म थी माचिस ! आतंकवाद की पृष्ठभूमि में बनी इस फिल्म का संगीत कमाल का था ! भला

छोड़ आये हम वो गलियाँ.....
चप्पा चप्पा चरखा चले.. और
तुम गये सब गया, मैं अपनी ही मिट्टी तले दब गया


जैसे गीतों और उनकी धुनों को कौन भूल सकता है ?

इसी साल यानी १९९६ में प्रदर्शित फिल्म इस रात की सुबह नहीं में उभरे एक और उत्कृष्ट संगीतकार एम. एम. करीम साहब ! एस. पी. बालासुब्रमण्यम के गाये इस गीत और वस्तुतः पूरी फिल्म में दिया गया उनका संगीत काबिले तारीफ है

मेरे तेरे नाम नये है
ये दर्द पुराना है,
जीवन क्या है
तेज हवा में दीप जलाना है

दुख की नगरी, कौन सी नगरी
आँसू की क्या जात
सारे तारे दूर के तारे, सबके छोटे हाथ
अपने-अपने गम का सबको साथ निभाना है..
मेरे तेरे नाम नये है.....


१९९९ में आई हम दिल दे चुके सनम और साथ ही हिन्दी फिल्म जगत के क्षितिज पर उभरे इस्माइल दरबार साहब ! शायद ही कोई संगीत प्रेमी हो जो उनकी धुन पर बने इस गीत का प्रशंसक ना हो

तड़प- तड़प के इस दिल से आह निकलती रही....
ऍसा क्या गुनाह किया कि लुट गये,
हां लुट गये हम तेरी मोहब्बत में...



पर हिन्दी फिल्म संगीत को विश्व संगीत से जोड़ने में अगर किसी एक संगीतकार का नाम लिया जाए तो वो ए. आर रहमान का होगा । रहमान एक ऐसे गुणी संगीतकार हैं जिन्हें पश्चिमी संगीत की सारी विधाओं की उतनी ही पकड़ है जितनी हिन्दुस्तानी संगीत की । जहाँ अपनी शुरूआत की फिल्मों में वो फ्यूजन म्यूजिक (रोजा, रंगीला,दौड़ ) पेश करते दिखे तो , जुबैदा और लगान में विशुद्ध भारतीय संगीत से सारे देश को अपने साथ झुमाया। खैर शांत कलेवर लिये हुये मीनाक्षी - ए टेल आफ थ्री सिटीज (२००४) का ये गीत सुनें

कोई सच्चे ख्वाब दिखाकर, आँखों में समा जाता है
ये रिश्ता क्या कहलाता है
जब सूरज थकने लगता है
और धूप सिमटने लगती है
कोई अनजानी सी चीज मेरी सांसों से लिपटने लगती है
में दिल के करीब आ जाती हूँ , दिल मेरे करीब आ जाता है
ये रिश्ता क्या कहलाता है



२००४ में एक एड्स पर एक फिल्म बनी थी "फिर मिलेंगे" प्रसून जोशी के लिखे गीत और शंकर-एहसान-लॉय का संगीत किसी भी मायने में फिल्म संगीत के स्वर्णिम काल में रचित गीतों से कम नहीं हैं। इन पंक्तियों पर गौर करें

खुल के मुस्कुरा ले तू, दर्द को शर्माने दे
बूंदों को धरती पर साज एक बजाने दे
हवायें कह रहीं हैं, आ जा झूमें जरा
गगन के गाल को चल जा के छू लें जरा

झील एक आदत है, तुझमें ही तो रहती है
और नदी शरारत है तेरे संग बहती है
उतार गम के मोजे जमीं को गुनगुनाने दे
कंकरों को तलवों में गुदगुदी मचाने दे



और फिर २००५ की सुपरिचित फिल्म परिणिता में आयी एक और जुगल जोड़ी संगीतकार शान्तनु मोइत्रा और गीतकार स्वान्द किरकिरे की !
अंधेरी रात में परिणिता का दर्द क्या इन लफ्जो में उभर कर आता है

रतिया अंधियारी रतिया
रात हमारी तो, चाँद की सहेली है
कितने दिनों के बाद, आई वो अकेली है
चुप्पी की बिरहा है, झींगुर का बाजे साथ



गीतों की ये फेरहिस्त तो चलती जाएगी। मैंने तो अपनी पसंद के कुछ गीतों को चुना ये दिखाने के लिये कि ना मेलोडी मरी है ना कुछ हट कर संगीत देने वाले संगीतकार।

हमारे इतने प्रतिभावान संगीतकारों और गीतकारों के रहते हुये आज के संगीत से ये नाउम्मीदी उनके साथ न्याय नहीं है । मैं मानता हूँ कि हिमेश रेशमिया जैसे जीव अपनी गायकी से आपका सिर दर्द करा देते होंगे पर वहीं सोनू निगम और श्रेया घोषाल की सुरीली आवाज भी आपके पास हैं। अगर एक ओर अलताफ रजा हैं तो दूसरी ओर जगजीत सिंह भी हैं । अगर रीमिक्स संगीत पुराने गीतों को रसातल में ले जाता दिखता है तो वहीं कैलाश खेर ने सूफी संगीत के माध्यम से संगीत की नई ऊँचाईयों को छुआ है। आपको MTV का पॉप कल्चर ही आज के युवाओं का कल्चर लगता है तो एक नजर Zee के शो सा-रे-गा-मा पर नजर दौड़ाइये जहाँ युवा प्रतिभाएँ हिन्दी फिल्म संगीत को ऊपर ले जाने को कटिबद्ध दिखती हैं ।

हाँ, ये जरूर है कि आज के इस बाजार शासित संगीत उद्योग में ऍसे गीतों की बहुतायत है जो लफ़्जों से ज्यादा अपनी रिदम की वज़ह से चर्चित होते हैं। आखिर ऐसा क्यूँ है कि एक अच्छे गीत को सुनने के लिए हमें दस बेकार गीतों का शोर सुनना पड़ता है ?

इस समस्या की तह तक जाएँ तो ये पाएँगे कि आज की इस शिक्षा प्रणाली में साहित्य चाहे वो हिंदी हो या उर्दू, पर कोई जोर नहीं है। अच्छे नंबर लाने के लिए दसवीं में लोग हिंदी छोड़ संस्कृत ले लेते हैं। जब ये युवा अपने कैरियर की दिशा चुनने के लिए चिकित्सा, अभियांत्रिकी और प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में जाते हैं तो ये कटाव और गहरा हो जाता है। जब तक हम आरंभ से ही नई पीढ़ी में हिन्दी और उर्दू साहित्य रुझान नहीं पैदा करेंगे तब तक काव्यात्मक गीत संगीत को प्रश्रय देने वाला एक वर्ग तैयार नहीं होगा और ना ही गुलज़ार, जावेद अख्तर, प्रसून जोशी और स्वानंद किरकिरे जैसे गीतकार संगीत जगत पर समय समय पर उभरते रहेंगे ।

पर यह बात भी गौर करने की है कि जैसी विविधता संगीत के क्षेत्र में आज उपलब्ध है वैसी पहले कभी नहीं थी। मैं मानता हूँ कि ८० के दशक की गिरावट के बाद पिछले १५ सालों में एक नया संगीत युवा प्रतिभावान संगीतकारों की मदद से उभरा है । आज संगीत की सीमा देश तक सीमित नहीं, और जो नये प्रयोग हमारे संगीतकार कर रहे हैं उन्हें बिना किसी पूर्वाग्रह के हमें खुले दिल से सुनना चाहिए। ये नहीं कि ये उस स्वर्णिम काल की पुनरावृति कर देंगे पर इनमें कुछ नया करने और देने की ललक और प्रतिभा दोनों है जिसे निरंतर बढ़ावा देने की जरूरत है।
जब तक संगीत को चाहने वाले रहेंगे, सुर और ताल कभी नहीं मरेंगे । जरूरत है तो अच्छे गीतकारों की एक पौध तैयार करने की और एक अच्छे श्रोता के नाते संगीत के सही चुनाव की।

(मूल रूप में ये आलेख मेरे चिट्ठे एक शाम मेरे नाम पर अगस्त २००६ में छपा था । हिन्द-युग्म,आवाज़ के लिए थोड़ी फेर बदल के बाद यहाँ प्रकाशित कर रहा हूँ।)

- मनीष कुमार
आवाज़ के संगीत समीक्षक

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ