Tuesday, August 13, 2019

चित्रों की ज़ुबान (संतोष श्रीवास्तव)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी की आवाज़ में हरिशंकर परसाई का व्यंग्य 'पुराना खिलाड़ी" (उर्फ़ अपनी अपनी बीमारी)' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं संतोष श्रीवास्तव की कथा 'चित्रों की ज़ुबान', शीतल माहेश्वरी के स्वर में।

कथा "चित्रों की ज़ुबान" का कुल प्रसारण समय 27 मिनट 17 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। इस कथा का गद्य अंतरराष्ट्रीय द्वैभाषिक मासिक सेतु पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


जबलपुर में जन्मी संतोष श्रीवास्तव हिंदी साहित्य का एक पहचाना हस्ताक्षर हैं। वे कालिदास पुरस्कार, महाराष्ट्र राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार, साहित्य शिरोमणि पुरस्कार, प्रियदर्शनी अकादमी पुरस्कार, महाराष्ट्र दलित साहित्य अकादमी पुरस्कार, बसंतराव नाईक लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड, कथाबिंब पुरस्कार, तथा कामलेश्वर स्मृति पुरस्कार सम्मान पा चुकी हैं।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

फूल बनकर हम महकना जानते हैं। मुस्कुरा के ग़म भुलाना जानते हैं ...
(संतोष श्रीवास्तव की कथा 'चित्रों की ज़ुबान' से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
चित्रों की ज़ुबान MP3

#Eighteenth Story, Chitron Ki Zubaan: Santosh Shrivastav /Hindi Audio Book /2019/18. Voice: Sheetal Maheshwari

3 comments:

Anonymous said...

My brother recommended I might like this website. He was totally right.
This post actually made my day. You cann't imagine simply how much time I had spent for this info!
Thanks!

Anonymous said...

Its like you learn my thoughts! You seem to know a lot approximately this, such as
you wrote the guide in it or something. I feel that you just can do with
some % to drive the message home a bit, but instead of that,
this is wonderful blog. A fantastic read. I will certainly be back.

Anonymous said...

I am really loving the theme/design of your web site. Do you ever run into any internet browser compatibility issues?
A couple of my blog visitors have complained about my website
not working correctly in Explorer but looks great in Safari.
Do you have any recommendations to help fix this
issue?

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ