रविवार, 4 सितंबर 2016

गौड़ मल्हार : SWARGOSHTHI – 282 : GAUD MALHAR




स्वरगोष्ठी – 282 में आज

पावस ऋतु के राग – 3 : मिलन की आतुरता और गौड़ मल्हार

“गरजत बरसत भीजत आई लो...”




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला – “पावस ऋतु के राग” की तीसरी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सभी संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आपको स्वरों के माध्यम से बादलों की उमड़-घुमड़, बिजली की कड़क और रिमझिम फुहारों में भींगने के लिए आमंत्रित करता हूँ। यह श्रृंखला, वर्षा ऋतु के रस और गन्ध से पगे गीत-संगीत पर केन्द्रित है। इस श्रृंखला के अन्तर्गत हम आपसे वर्षा ऋतु में गाये-बजाए जाने वाले रागों और उनमें निबद्ध कुछ चुनी हुई रचनाओं पर चर्चा करेंगे। इसके साथ ही सम्बन्धित राग के आधार पर रचे गए फिल्मी गीत भी प्रस्तुत करेंगे। भारतीय संगीत के अन्तर्गत मल्हार अंग के सभी राग पावस ऋतु के परिवेश की सार्थक अनुभूति कराने में समर्थ हैं। आम तौर पर इन रागों का गायन-वादन वर्षा ऋतु में अधिक किया जाता है। इसके साथ ही कुछ ऐसे सार्वकालिक राग भी हैं जो स्वतंत्र रूप से अथवा मल्हार अंग के मेल से भी वर्षा ऋतु के अनुकूल परिवेश रचने में सक्षम होते हैं। इस श्रृंखला की तीसरी कड़ी में आज हम राग गौड़ मल्हार पर चर्चा करेंगे। इस राग के गायन-वादन से संगीतज्ञ वर्षा ऋतु में उपजने वाले भावों का सृजन करते हैं। आज की कड़ी में हम आपको पहले 1951 में प्रदर्शित फिल्म ‘मल्हार’ का एक गीत सुनवाते हैं। यह गीत लता मंगेशकर की आवाज़ में है और इसे संगीतकार रोशन ने राग गौड़ मल्हार के स्वरों में पिरोया है। इसके साथ ही राग का वास्तविक स्वरूप उपस्थित करने के लिए सुप्रसिद्ध गायिका विदुषी मालिनी राजुरकर के स्वर में राग गौड़ मल्हार में प्रस्तुत एक खयाल रचना सुनवा रहे हैं।


लता मंगेशकर
ल्हार अंग के रागों की श्रृंखला में पिछले दो अंकों में आपने मेघ मल्हार और मियाँ मल्हार रागों की स्वर-वर्षा का आनन्द प्राप्त किया। इस श्रृंखला में आज हम आपके लिए लेकर आए है, राग गौड़ मल्हार। पावस ऋतु का यह एक ऐसा राग है जिसके गायन-वादन से सावन मास की प्रकृति का सजीव चित्रण तो किया ही जा सकता है, साथ ही ऐसे परिवेश में उपजने वाली मानवीय संवेदनाओं की सार्थक अभिव्यक्ति भी इस राग के माध्यम से की जा सकती है। आकाश पर कभी मेघ छा जाते हैं तो कभी आकाश मेघरहित हो जाता है। इस राग के स्वर-समूह उल्लास, प्रसन्नता, शान्ति और मिलन की लालसा का भाव जागृत करते हैं। मिलन की आतुरता को उत्प्रेरित करने में यह राग समर्थ होता है। फिल्मों में राग गौड़ मल्हार का प्रयोग बहुत कम किया गया है। रोशन और बसन्त देसाई, दो ऐसे फिल्म संगीतकार हुए हैं, जिन्होने इस राग का बेहतर इस्तेमाल अपनी फिल्मों में किया है। पार्श्वगायक मुकेश ने 1951 में फिल्म ‘मल्हार’ का निर्माण किया था। इस फिल्म के संगीतकार रोशन थे। फिल्म के शीर्षक संगीत के रूप में रोशन ने राग गौड़ मल्हार की एक परम्परागत बन्दिश का चुनाव किया। लता मंगेशकर ने फिल्म में शामिल इस बन्दिश को स्वर दिया था। अच्छे संगीत के बावजूद फिल्म ‘मल्हार’ व्यावसायिक रूप से असफल रही और गीत भी अनसुने रह गए। लगभग एक दशक बाद रोशन ने इसी धुन का 1960 में प्रदर्शित फिल्म ‘बरसात की रात’ में थोड़े शाब्दिक फेर-बदल के साथ दोबारा प्रयोग किया। फिल्म ‘मल्हार’ और ‘बरसात की रात’ में शामिल राग गौड़ मल्हार के स्वरों में पिरोये दोनों गीतों का प्रयोग फिल्मों के शीर्षक संगीत के रूप में किया गया था। आइए अब हम आपको हम फिल्म ‘मल्हार का गीत सुनवाते है। लता मंगेशकर की आवाज़ में फिल्म ‘मल्हार’ का गीत सुनिए, जिसमें रोशन ने राग गौड़ मल्हार के स्वरों का प्रयोग कर गीत को मूल बन्दिश के निकट ला दिया।


राग गौड़ मल्हार : ‘गरजत बरसत भीजत आई लो...’ : लता मंगेशकर : फिल्म - मल्हार



मालिनी राजुरकर
राग गौड़ मल्हार में गौड़ और मल्हार अंग का अत्यन्त आकर्षक मेल होता है। वक्र सम्पूर्ण जाति के इस राग में दोनों निषाद स्वरों का प्रयोग किया जाता है। अन्य सभी स्वर शुद्ध होते हैं। इस राग में गान्धार स्वर का अत्यन्त विशिष्ट प्रयोग किया जाता है। राग गौड़ मल्हार को कुछ गायक-वादक खमाज थाट के अन्तर्गत, तो अधिकतर इसे काफी थाट के अन्तर्गत प्रयोग करते हैं। सुप्रसिद्ध संगीतज्ञ पण्डित रामाश्रय झा इस राग को विलावल थाट के अन्तर्गत प्रयोग करते थे। राग गौड़ मल्हार की कुछ विशेषताओं की चर्चा करते हुए संगीत-शिक्षक और संगीत विषयक कई पुस्तकों के लेखक पण्डित मिलन देवनाथ जी ने बताया कि इस राग के आरोह में शुद्ध गान्धार के साथ शुद्ध निषाद और अवरोह में कोमल निषाद का प्रयोग किया जाता है। जो गायक-वादक कोमल गान्धार का प्रयोग करते हैं वे इस राग को काफी थाट के अन्तर्गत प्रयोग करते हैं। श्री देवनाथ ने बताया कि इस राग में मध्यम पर न्यास करना और ऋषभ-पंचम की संगति आवश्यक होती है। यह प्रयोग मल्हार अंग का परिचायक होता है। उन्होने बताया कि गौड़ मल्हार में पण्डित विद्याधर व्यास और विदुषी किशोरी अमोनकर ने नि(कोमल),ध,नि,सा (मियाँ मल्हार) का जैसा मोहक परम्परागत प्रयोग किया है, वह सुनने योग्य है। आइए अब हम आपको राग गौड़ मल्हार की एक बन्दिश सुप्रसिद्ध गायिका मालिनी राजुरकर के स्वरों में सुनवाते हैं। उन्होने द्रुत तीनताल में इसे एक अलग ही रस-रंग में प्रस्तुत किया है।


राग गौड़ मल्हार : ‘गरजत बरसत भीजत आई लो...’ : विदुषी मालिनी राजुरकर





संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 282वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 290वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की चौथी श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत के इस अंश को सुन का आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – इस गीत में कण्ठ-स्वर को पहचानिए और हमे इस गायिका का नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 10 सितम्बर, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 284वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 280 की संगीत पहेली में हमने आपको 1998 में प्रदर्शित फिल्म ‘साज’ से एक राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – मियाँ की मल्हार, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है – ताल – तीनताल तथा तीसरे प्रश्न का उत्तर है- स्वर – सुरेश वाडकर

इस बार की पहेली में पाँच प्रतिभागियों ने सही उत्तर देकर विजेता बनने का गौरव प्राप्त किया है। पहेली का सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी हैं - चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी और पेंसिलवेनिया और अमेरिका से विजया राजकोटिया। इन सभी विजेताओं ने दो-दो अंक अर्जित किये है। सभी विजेता प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात

मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में हमारी श्रृंखला ‘पावस ऋतु के राग’ जारी है। आज के अंक में आपने राग गौड़ मल्हार का रसास्वादन किया। श्रृंखला के अगले अंक में हम पावस ऋतु के एक अन्य राग का परिचय प्राप्त करेंगे। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पाठक और श्रोता नियमित रूप से हमें पत्र लिखते है। हम उनके सुझाव के अनुसार ही आगामी विषय निर्धारित करते है। हमारी अगली श्रृंखला के लिए आप अपने सुझाव हमे भेज सकते हैं। श्रृंखला “पावस ऋतु के राग” के लिए आप अपने सुझाव या फरमाइश ऊपर दिये गए ई-मेल पते पर शीघ्र भेजिए। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 8 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  



शनिवार, 3 सितंबर 2016

"तू ही सागर तू ही किनारा...", जानिए कि कैसे एक "ग़ैर फ़िल्मी" भक्ति गीत ने सुलक्षणा पण्डित को दिलाया फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड



एक गीत सौ कहानियाँ - 91
'तू ही सागर तू ही किनारा ...' 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों,
हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 91-वीं कड़ी में आज जानिए 1974 की फ़िल्म ’संकल्प’ की भक्ति रचना "तू ही सागर तू ही किनारा..." के बारे में जिसे सुलक्षणा पंडित ने गाया था। बोल कैफ़ी आज़मी के और संगीत ख़य्याम का। 


सिंगिंग् स्टार्स की आख़िरी पीढ़ी में शायद दो ही नाम आते हैं - एक सलमा आग़ा और दूसरा सुलक्षणा पंडित।
ख़ूबसूरती और आवाज़, दोनों में सुलक्षणा पंडित भीड़ से अलग थीं। हालाँकि सफलता उनसे दूर दूर ही रही, पर उन्होंने जितना काम किया, अच्छा काम किया, स्तरीय काम किया। उनके गाए बहुत से फ़िल्मी गीत मशहूर हुए थे उस ज़माने में जब लता और आशा चोटी पर विराजमान थीं। 1974 की फ़िल्म ’संकल्प’ के गीत "तू ही सागर तू ही किनारा, ढूंढ़ता है तू किसका सहारा" के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायिका का फ़िल्मफ़ेअर पुरस्कार मिला था। आज इसी गीत के बनने की कहानी प्रस्तुत है सुलक्षणा जी के ही शब्दों में जिसका विस्तृत वर्णन उन्होंने ’विविध भारती’ के ’उजाले उनकी यादों के’ कार्यक्रम के लिए वरिष्ठ उद्‍घोषक कमल शर्मा से किया था। "मैं यह कहूँगी कि गाना एक ऐसी चीज़ है जो हम माइक के सामने गाते हैं। हम समझते हैं कि म्युज़िक डिरेक्टर एक प्रोड्युसर भी होता है एक हिसाब से, क्योंकि वो अपने बच्चे को सिंगर को सौंप देता है। और उसका अंजाम गायक को देना चाहिए। ख़य्याम साहब एक फ़िल्म कर रहे थे और मैं चाहती थी कि ख़य्याम साहब कोई मुझे गाना दे, तो अक्सर उनके यहाँ मैं जाया करती थी। एक भजन है उनका जो मैंने गाया है, दो भजन हैं, वो आज तक सुबह 6 बजे किसी भी चैनल में आ जाते हैं। "प्रभु तुम अन्तर्यामी, दया करो दया करो स्वामी...", यह गाया था मैंने ख़य्याम साहब के साथ।" सुलक्षणा जी की बातों को आगे बढ़ाने से पहले यह बता दें कि उनका गाया यह ग़ैर-फ़िल्मी भक्ति गीत उस समय बहुत लोकप्रिय हो गया था और रेडियो पर भक्ति गीतों के कार्यक्रमों में अक्सर बजा करता था।

अब आगे की दासतान सुलक्षणा जी के शब्दों में - "प्रभु तुम अन्तर्यामी, दया करो दया करो स्वामी..., यह गाया
था मैंने ख़य्याम साहब के साथ। इस गाने के दौरान ख़य्याम साहब की एक और फ़िल्म भी चल रही थी और उस फ़िल्म के निर्देशक थे रमेश सहगल। ये वोही रमेश स्हगल थे जिन्होंने सुनिल दत्त साहब को ’रेल्वे प्लैटफ़ॉर्म’ फ़िल्म में पहली बार इन्ट्रोड्युस किया था। जब मैंने "प्रभु तुम अन्तर्यामी" गाया, तो रमेश सहगल साहब ने कहा कि यह लड़की जो है, मुझे ये ही चाहिए इस फ़िल्म में, मैं किसी को नहीं लेने वाला। मैं हैरान रह गई। जैसे विजेता ने ऐक्टिंग् सीखी, शुरुआत उसकी ऐसे हुई, लेकिन मैंने कोई ऐक्टिंग् नहीं सीखी, तो यह जो बात है, यह joint हो गई शबाना जी से और मेरे से। वो चाहते थे या तो शबाना आज़मी हो या मैं हो‍ऊँ। मैंने शबाना जी से रीक्वेस्ट किया कि आप यह कर दीजिए क्योंकि मैं ऐक्टिंग् बिलकुल नहीं जानती हूँ। बोले तुम नहीं जानती हो> झूठ बोलती हो, जो इंसान के अन्दर गाना होता है, वही तो ऐक्टिंग् होती है। मैं देखती रह गई कि क्या कहा है इन्होंने। फिर खैयाम साहब ने कहा कि कर ही लो बेटा, क्या फ़र्क पड़ता है, कर लो अगर वो चाहते हैं तो। मैंने वह फ़िल्म साइन की।" यह फ़िल्म थी ’संकल्प’ जिसमें रमेश सहगल ने सुलक्षणा पंडित को एक पुजारिन के किरदार के लिए चुना और उन्हीं पर उनका गाया यह भक्ति गीत फ़िल्माया। इस गीत के लिए फ़िल्मफ़ेअर के अलावा तानसेन पुरस्कार और स्वामी हरिदास पुरस्कार से भी सुलक्षणा जी को सम्मानित किया गया था। "तू ही सागर, तू ही किनारा", इस गीत को फ़िल्म में तीन भागों में रखा गया है, क्रम से 3:10, 5:32 और 3:05 मिनट की अवधि के। यह भी उल्लेखनीय बात है कि इस फ़िल्म में केवल यही एक गीत गायिका की आवाज़ में है। फ़िल्म की नायिका या किसी अन्य अभिनेत्री पर कोई भी गीत नहीं है। बाक़ी के गीत मुकेश और महेन्द्र कपूर ने गाए हैं।



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 



आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




गुरुवार, 1 सितंबर 2016

नाज़ था खुद पर मगर ऐसा न था...... 'कहकशाँ’ में आज छाया की माया

 महफ़िल ए कहकशाँ 11


छाया गाँगुली 
दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित "कहकशां" और "महफिले ग़ज़ल" का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, "महफिल ए कहकशां" के रूप में पूजा अनिल और रीतेश खरे  के साथ।  अदब और शायरी की इस महफ़िल में आज पेश है छाया गाँगुली की आवाज़, इब्राहिम अश्क के बोल और भूपिंदर सिंह का संगीत




मुख्य स्वर - पूजा अनिल एवं रीतेश खरे 

स्क्रिप्ट - विश्व दीपक एवं सुजॉय चटर्जी




The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ