मंगलवार, 8 दिसंबर 2015

असगर वजाहत की जब वह बुलाएगा

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा के स्वर में हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार हरिशंकर परसाई की लघुकथा "समझौता" का पाठ सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, असगर वजाहत की लघुकथा जब वह बुलाएगा, जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

इस कहानी जब वह बुलाएगा का कुल प्रसारण समय 1 मिनट 47 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। असगर वजाहत की निम्न कहानियाँ भी रेडियो प्लेबैक इंडिया पर सुनी जा सकती हैं:
यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


रात के वक्त़ रूहें अपने बाल-बच्चों से मिलने आती हैं।
 ~ असगर वजाहत

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"जन्नत के दरवाजे खुल जाएँगे। हूरें मिलेंगी।”
 (असगर वजाहत की लघुकथा "जब वह बुलाएगा" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
जब वह बुलाएगा MP3

#Twenty Sixth Story, Jab Woh Bulayega; Asghar Wajahat; Hindi Audio Book/2015/26. Voice: Anurag Sharma

रविवार, 6 दिसंबर 2015

मोहनवीणा और विश्वमोहन भट्ट : SWARGOSHTHI – 247 : MOHAN VEENA & VISHWAMOHAN BHATT




स्वरगोष्ठी – 247 में आज

संगीत के शिखर पर – 8 : पण्डित विश्वमोहन भट्ट

मोहनवीणा के अन्वेषक और वादक पण्डित विश्वमोहन भट्ट



रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी सुरीली श्रृंखला – ‘संगीत के शिखर पर’ की आठवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-रसिकों का एक बार पुनः हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस श्रृंखला में हम भारतीय संगीत की विभिन्न विधाओं में शिखर पर विराजमान व्यक्तित्व और उनके कृतित्व पर चर्चा कर रहे हैं। संगीत गायन और वादन की विविध लोकप्रिय शैलियों में किसी एक शीर्षस्थ कलासाधक का चुनाव कर हम उनके व्यक्तित्व का उल्लेख और उनकी कृतियों के कुछ उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं। आज श्रृंखला की आठवीं कड़ी में हम पश्चिम के लोकप्रिय तंत्रवाद्य हवाइयन गिटार या स्लाइड गिटार के परिवर्तित भारतीय रूप ‘मोहनवीणा’ के अन्वेषक और विश्वविख्यात वादक पण्डित विश्वमोहन भट्ट के व्यक्तित्व और कृतित्व की संक्षिप्त चर्चा कर रहे हैं। इसके साथ ही इस वाद्य के मूल उद्गम पर भी चर्चा करेंगे। आज हम आपको पण्डित विश्वमोहन भट्ट द्वारा मोहनवीणा पर बजाया राग हंसध्वनि और राग किरवानी की रचनाएँ सुनवाएँगे। 



भारतीय संगीत के कई वाद्ययंत्र ऐसे हैं, जिनका उद्गम वैदिककालीन माना जाता है। एक ऐसा ही तंत्रवाद्य है “मोहनवीणा”। आज के अंक में हम तंत्रवाद्य मोहनवीणा के अन्वेषक और वादक के व्यक्तित्व पर चर्चा कर रहे हैं। यह वाद्य विश्व-संगीत-जगत की लम्बी यात्रा कर आज पुनः भारतीय संगीत का हिस्सा बन चुका है। वर्तमान में “मोहनवीणा” नाम से हम जिस वाद्ययंत्र को पहचानते हैं, वह पश्चिम के 'हवाइयन गिटार' या 'स्लाइड गिटार' का संशोधित रूप है। इस वाद्य के प्रवर्तक हैं, सुप्रसिद्ध संगीतज्ञ पण्डित विश्वमोहन भट्ट, जिन्होंने अपने इस अनूठे वाद्य से समूचे विश्व को सम्मोहित किया है। श्री भट्ट इस वाद्य के सर्जक ही नहीं, बल्कि उच्चकोटि के वादक भी हैं। सुप्रसिद्ध सितार वादक पण्डित रविशंकर के शिष्य विश्वमोहन भट्ट का परिवार मुग़ल सम्राट अक़बर के दरबारी संगीतज्ञ तानसेन और उनके गुरु स्वामी हरिदास से सम्बन्धित है। प्रारम्भ में उन्होंने सितार वादन की शिक्षा प्राप्त की, किन्तु 1966 की एक रोचक घटना ने उन्हें एक नये वाद्य के सृजन की ओर प्रेरित कर दिया। एक बातचीत में श्री भट्ट ने बताया था – ‘1966 के आसपास एक जर्मन हिप्पी लड़की अपना गिटार लेकर मेरे पास आई और मुझसे आग्रह करने लगी कि मैं उसे उसके गिटार पर ही सितार बजाना सिखा दूँ। उस लड़की के इस आग्रह पर मैं गिटार को इस योग्य बनाने में जुट गया कि इसमें सितार के गुण आ जाएँ।‘ श्री भट्ट के वर्तमान 'मोहनवीणा' में केवल सितार और गिटार के ही नहीं बल्कि प्राचीन वैदिककालीन तंत्रवाद्य विचित्रवीणा और सरोद के गुण भी हैं। मोहनवीणा का मूल उद्‍गम 'विचित्रवीणा' ही है। श्री भट्ट मोहनवीणा पर सभी भारतीय संगीत शैलियों – ध्रुपद, धमार, ठुमरी आदि का वादन करने में समर्थ हैं। आइए, पहले पण्डित विश्वमोहन भट्ट से मोहनवीणा पर राग 'हंसध्वनि' की एक मोहक रचना सुनते हैं। यह रचना तीनताल में निबद्ध है। तबला-संगति पण्डित रामकुमार मिश्र ने की है।


राग हंसध्वनि : मोहन वीणा पर तीनताल में निबद्ध रचना : विश्वमोहन भट्ट




प्राचीन काल से प्रचलित वाद्य 'विचित्रवीणा' के स्वरूप में समय चक्र के अनुसार बदलाव आते रहे। पाश्चात्य संगीत का हवाइयन गिटार वैदिककालीन विचित्रवीणा का ही सरलीकृत रूप है। वीणा के तुम्बे से ध्वनि में जो गमक उत्पन्न होती है, पाश्चात्य संगीत में उसकी बहुत अधिक उपयोगिता नहीं होती। यूरोप और अमेरिका के संगीत विद्वानों ने अपनी संगीत पद्यति के अनुकूल इस वाद्य में परिवर्तन किया। विचित्रवीणा में स्वर के तारों पर काँच का एक बट्टा फेर (Slide) कर स्वर का परिवर्तन किया जाता है। तारों पर एक ही आघात से श्रुतियों के साथ स्वर परिवर्तन होने से यह वाद्य गायकी अंग में वादन के लिए उपयोगी होता है। प्राचीन ग्रन्थों में गायन के साथ वीणा की संगति का उल्लेख मिलता है। हवाइयन गिटार बन जाने के बाद भी यह गुण बरकरार रहा, इसीलिए पश्चिमी संगीत के गायक कलाकारों का भी यह प्रिय वाद्य रहा। पं. विश्वमोहन भट्ट ने गिटार के इस स्वरुप में परिवर्तन कर इसे भारतीय संगीत वादन के अनुकूल बनाया। उन्होंने एक सामान्य गिटार में 6 तारों के स्थान पर 19 तारों का प्रयोग किया। यह अतिरिक्त तार 'तरब' और 'चिकारी' के हैं जिनका उपयोग स्वरों में अनुगूँज के लिए किया जाता है। श्री भट्ट ने इसकी बनावट में भी आंशिक परिवर्तन किया है। मोहनवीणा के वर्तमान स्वरूप में भारतीय संगीत के रागों को 'गायकी' और 'तंत्रकारी' दोनों अंगों में बजाया जा सकता है। अपने आकार-प्रकार और वादन शैली के बल पर यह वाद्य पूरे विश्व में चर्चित हो चुका है। अब हम आपको मोहनवीणा पर राग किरवानी का रसास्वादन कराते हैं। राग हंसध्वनि की भाँति राग किरवानी भी मूलतः दक्षिण भारतीय राग है, जो उत्तर भारतीय संगीत में समान रूप से प्रचलित है। राग किरवानी की इस रचना में तबला संगति सुखाविन्दर सिंह नामधारी ने की है। आप पण्डित विश्वमोहन भट्ट का बजाया राग किरवानी सुनिए और मुझे इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग किरवानी : कहरवा ताल में रचना : विश्वमोहन भट्ट




संगीत पहेली


 ‘स्वरगोष्ठी’ के 247वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक स्वर-वाद्य पर संगीत रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इस संगीतांश को सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। पहेली क्रमांक 250 के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पाँचवीं श्रृंखला (सेगमेंट) के विजेताओं के साथ ही वार्षिक विजेताओं की घोषणा ‘स्वरगोष्ठी’ के 252वें अंक में की जाएगी।



1 – वाद्ययंत्र पर कौन सा राग बजाया जा रहा है? राग का नाम बताइए।

2 – प्रस्तुत रचना किस ताल में निबद्ध है? ताल का नाम बताइए।

3 – यह किस वाद्ययंत्र की आवाज़ है? वाद्य का नाम बताइए।

आप इन तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार, 12 दिसम्बर, 2015 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 249वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत किये गए गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस मंच पर स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।

पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के 245वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको रुद्रवीणा के सुविख्यात वादक उस्ताद असद अली खाँ द्वारा प्रस्तुत वादन का एक अंश सुनवाया था और आपसे तीन में से किन्हीं दो प्रश्न का उत्तर पूछा था। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – आसावरी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल – चौताल और तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है- वाद्य – रुद्रवीणा

इस बार की पहेली के प्रश्नों का सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी हैं, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया और वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात



मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी लघु श्रृंखला ‘संगीत के शिखर पर’ के आज के अंक में हमने आपको पाश्चात्य वाद्य हवाइयन गिटार के भारतीय रूपान्तरण, मोहनवीणा पर दो दक्षिण भारतीय राग सुनवाया। अगले अंक में एक अन्य विधा के शिखर पर प्रतिष्ठित व्यक्तित्व पर चर्चा करेंगे। इस श्रृंखला को हमारे अनेक पाठकों ने पसन्द किया है। हम उन सबके प्रति आभार व्यक्त करते हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के विभिन्न अंकों के बारे में हमें पाठकों, श्रोताओं और पहेली के प्रतिभागियों की अनेक प्रतिक्रियाएँ और सुझाव मिलते हैं। प्राप्त सुझाव और फरमार्इशों के अनुसार ही हम अपनी आगामी प्रस्तुतियों का निर्धारण करते हैं। आप भी यदि कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के नये अंक के साथ हम उपस्थित होंगे। हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  




 


शनिवार, 5 दिसंबर 2015

"जाँ की यह बाज़ी आख़िरी बाज़ी खेलेंगे हम..." - क्यों इस गीत की धुन चुराने पर भी अनु मलिक को दोष नहीं दिया जा सकता!


एक गीत सौ कहानियाँ - 71
 

'जाँ की यह बाज़ी आख़िरी बाज़ी खेलेंगे हम...' 




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 71-वीं कड़ी में आज जानिए 1989 की फ़िल्म ’आख़िरी बाज़ी’ के शीर्षक गीत "जाँ की यह बाज़ी आख़िरी बाज़ी खेलेंगे हम..." के बारे में जिसे अमित कुमार ने गाया था। बोल इंदीवर के और संगीत अनु मलिक का।

अनु मलिक
मेरे पोलैंड का सफ़र जारी है। आज एक आश्चर्यजनक बात हुई। कार्यालय में एक पोलिश कर्मचारी के मोबाइल का रिंग् टोन बज उठते ही मैं चौंक उठा। अरे, यह तो एक हिन्दी फ़िल्मी गीत की धुन है! याद करने में बिल्कुल समय नहीं लगा कि यह 1989 की हिट फ़िल्म ’आख़िरी बाज़ी’ के शीर्षक गीत की धुन है। बचपन में यह गीत बहुत बार रेडियो पर सुना है। मुझे यक़ीन हो गया कि इस गीत की धुन ज़रूर किसी विदेशी गीत या कम्पोज़िशन से प्रेरित या ’चोरित’ होगा जो अभी-अभी उस रिंग् टोन में सुनाई दी है। कार्यालय से वापस आकर जब गूगल पर खोजने लगा तो हैरान रह गया कि कहीं पर भी इस गीत के किसी विदेशी गीत से प्रेरित होने की बात नहीं लिखी है। ऐसे बहुत से वेबसाइट हैं जिनमें लगभग सभी प्रेरित गीतों की सूची दी गई है, और कहीं कहीं तो संगीतकारों के नाम के अनुसार क्रमबद्ध सूची दी गई है। उसमें अनु मलिक के प्रेरित गीतों की सूची में इस गीत को न पाकर एक तरफ़ हताशा हुई और दूसरी तरफ़ एक रोमांच सा होने लगा यह सोच कर कि एक ऐसे गीत की खोज की है जो विदेशी धुन से प्रेरित है पर किसी को अब तक इसका पता नहीं है, कम से कम इन्टरनेट पर तो नहीं! अब मुश्किल यह थी कि कैसे पता लगाएँ, कहीं कोई सूत्र मिले भी तो कैसे मिले? ’आख़िरी बाज़ी’ के गीत की धुन को लगातार गुनगुनाते हुए अनु मलिक के प्रेरित गीतों की सूची को ध्यान से देख ही रहा था कि एक गीत पे जाकर मेरी नज़र टिक गई। गीत था 1995 की मशहूर फ़िल्म ’अकेले हम अकेले तुम’ का "राजा को रानी से प्यार हो गया..."। चौंक उठा, इस गीत की पहली पंक्ति की धुन भी तो कुछ हद तक ’आख़िरी बाज़ी’ के गीत के धुन से मिलती जुलती है। पाया कि यह गीत प्रेरित है 1972 की फ़िल्म ’The Godfather' के गीत "speak softly, love" से, जिसका एक instrumental version भी है जिसे ’The Godfather Theme' शीर्षक दिया गया है। संगीतकार हैं निनो रोटा।


निनो रोटा
यू-ट्युब पर ’The Godfather Theme' सुनने पर एक और रोचक बात पता चली। फ़िल्म ’आख़िरी बाज़ी’ का गीत हू-ब-हू इस धुन पर आधारित है, कोई प्रेरणा नहीं, सीधी चोरी है। दूसरी ओर "राजा को रानी से..." गीत में इस धुन से बेशक़ सिर्फ़ प्रेरणा ली गई है, चोरी नहीं। जो गीत हू-ब-हू नकल है (आख़िरी बाज़ी...), उसका कहीं कोई उल्लेख नहीं जबकि एक अच्छी प्रेरणा के उदाहरण (राजा को रानी से...) को लोगों ने चोरी करार दिया है। उसी सूची वाले वेब-पेज पर जब "Godfather" लिख कर खोजा तो पाया कि एक और गीत इसी धुन से प्रेरित है। और वह गीत है वर्ष 2000 की फ़िल्म ’आशिक़’ का गीत "तुम क्या जानो दिल करता तुमसे कितना प्यार...", जिसके संगीतकार हैं संजीव-दर्शन। इस तरह से ’Godfather' के उस धुन पर तीन-तीन हिन्दी फ़िल्मी गीत बन चुके हैं। एक रोचक तथ्य यह भी है कि जिस ’The Godfather Theme' की हम बात कर रहे हैं, वह धुन भी प्रेरित है (या कुछ समानता है) वर्ष 1951 के एक कम्पोज़िशन से। फ़िल्म ’High Noon' में दिमित्री तिओमकिन के संगीत निर्देशन में "Do not forsake me o my darling..." गीत की धुन को अगर ग़ौर से सुनें तो निनो रोटा के कम्पोज़िशन से हल्की समानता महसूस की जा सकती है। दिमित्री को अपने गीत के लिए ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। और निनो को क्या कोई पुरस्कार मिला? इसमें भी एक रोचक कहानी है। निनो रोटा ने ’The Godfather' में जो धुन बनाई थी, उस धुन को एक अलग अंदाज़ में (comedic version) उन्होंने 1958 की फ़िल्म ’Fortunella' के लिए बनाया था। ऑस्कर कमिटी ने शुरू-शुरू में 'The Godfather' की धुन को Best Original Score की श्रेणी के नामांकन में जगह दी थी, पर जैसे ही ’Fortunella' के धुन का सच्चाई सामने आई तो उसे पुरस्कार के अयोग्य ठहराया गया। इसके अगले ही साल जब ’The Godfather Part II' फ़िल्म बनी तो निनो रोटा ने यही धुन फिर एक बार प्रयोग कर एक नई कम्पोज़िशन बनाई। लेकिन इस बार ऑस्कर कमिटी ने न केवल उनकी धुन को नामांकित किया, बल्कि Best Score का पुरस्कार भी दिया।

निनो रोटा की यह धुन इतना ज़्यादा लोकप्रिय हुआ समूचे विश्व में कि बहुत से कलाकारों ने इसे अपने-अपने ऐल्बमों में शामिल किया। जहाँ एक तरफ़ कलाकारों ने मूल गीत को ही अपनी आवाज़ में रेकॉर्ड करवाया, बहुत से कलाकार ऐसे भी थे जिन्होंने अपनी-अपनी भाषाओं के बोलों को इस धुन पर फ़िट किया। अब एक नज़र ऐसे ही कुछ गीतों और भाषाओं पर डालते हैं। 

इटली - "Parla più piano..."
फ़्रांस - "Parle Plus Bas..."
यूक्रेन - "Skazhy scho lyubysh..."
यूगोस्लाविया - "Govori Tiše..."
हंगरी - "Gyöngéden ölelj át és ringass szerelem..."
कम्बोडिया - "Khum Joll Snaeha..."
स्लोवाकिया - "Býval som z tých..."
पोर्तुगल - "Fale Baixinho..."
इरान - "Booye Faryad..."

ये तो थे कुछ ऐसे उदाहरण जिनमें इस धुन पर अलग-अलग भाषाओं के गीत बने। इनके अलावा और भी असंख्य कलाकारों ने अपनी-अपनी साज़ पर इस धुन को instrumental के रूप में रेकॉर्ड करवाया। ऐसे में जहाँ दुनिया भर के कलाकारों ने इस धुन को गले लगाया, तो फिर क्या अनु मलिक या संजीव दर्शन पर इस धुन की चोरी का इलज़ाम लगाना ठीक होगा? फ़ैसला आप पर छोड़ते हैं, फ़िल्हाल सुनते हैं ’The Godfather' की धुन पर आधारित फ़िल्म ’आख़िरी बाज़ी’ का शीर्षक गीत। 


फिल्म आखिरी बाज़ी : 'जाँ की यह बाज़ी आखिरी बार...' : अमित कुमार : इन्दीवर : अनु मालिक





अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ