शुक्रवार, 15 अगस्त 2008

जीत के गीत संग, मनाएं जश्न -ऐ- आज़ादी

दूसरे सत्र के सातवें गीत का विश्वव्यापी उदघाटन आज.

सभी संगीत प्रेमियों को आज़ाद भारत की ६१ वीं सालगिरह मुबारक.

कुछ तो है बात जो, हस्ती मिटती नही हमारी,
सदियों रहा है दुश्मन, दौरे जहाँ हमारा.

महंगाई की मार से बेहाल, आतंकवादी हमलों से सहमे, सांप्रदायिक हिंसा से खौफ खाये, एक बेहद मुश्किल दौर से गुजरते आम आदमी के चेहरे पर तब मुस्कराहट लौट आती है जब दूर बीजिंग से ख़बर आती है, कि एक २४ वर्षीय युवा ने ओलंपिक में तिरंगा लहराया है. अपनी तमाम चिताएं, और परेशानियों को भूलकर कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर भारतीय फ़िर एक
बार भारतीय होने का गर्व महसूस करने लगता है. आज हमें एक नही, दो नही हजारों, करोड़ों अभिनव बिंद्रा चाहिए, जो असंख्य देश प्रेमियों की, अनगिनत कुर्बानियों की बदौलत मिले इस आज़ादी के तोहफे का मान रख सके. आज हिंद युग्म, देश के युवाओं से अपील करता है कि वो आगे बढ़ें और कमान संभालें, राष्ट्रहित को सर्वोपरि रखें, अपने लिए सही राह चुनें, जीत के लक्ष्य को लेकर चलें, और अपने भीतर छुपे "अभिनव" को बाहर लेकर आयें. कुछ ऐसे ही भावों से ओत प्रेत है, हमारा आज के ये गीत भी. इस गीत के माध्यम से एक बार फ़िर हिंद युग्म अपनी एक और नई खोज, एक नई आवाज़ को विश्वमंच दे रहा हैं. ओडिसा की मिट्टी से उड़कर एक आवाज़ जो दूर UK में जाकर बस गयी थी,बिस्वजीत की,जिसे ढूंढ निकला हमारी टीम ने. संगीत है, ऋषि एस का और बोल लिखे हैं, सजीव सारथी ने. तो सुनिए ये ताज़ातरीन गीत और इस युवा गायक को अपना मार्गदर्शन देकर प्रोत्साहित कीजिये.

गीत को सुनने के लिए नीचे के प्लेयर पर क्लिक करें -




"Jeet Ke geet" is an inspirational song for people fighting for different purposes in life. This song is for motivating them to keep going ahead when they loose hopes at the times of failure. The uniqueness of the song is, it is a song of everyone as life is never complete without hurdles.

This has been rendered by Biswajit, the newest Hind Yugm discovery presently working in Bristol,UK for whom singing is his life. About making of this song, he states-
"The major challenge in this song was to have an inspirational voice while singing. So, I was remembering how my father used to inspire when I was not doing well in the exams. How he was sounding at that time. That really helped”.

Composer Rishi S. put the experience in these words -

कुछ गाने ऐसे होते हैं जो मैं अपने ख़ुद के लिये बनाता हूँ ."जीत के गीत" ऐसा ही एक गाना है. बिस्वजीत जी का यह पहला गाना है युग्म के लिए. मैंने तस्वीर बनाई तो, सजीव जी ने उसमें रंग भर दिए और बिस्वजीत जी की आवाज़ ने उसमें जान फूंक दी जैसे. अगर धुन बनाते समय यह पता होता कि इस गाने के बोल और आवाज़ इतनी बढ़िया होगी तो शायद इससे बेहतर कुछ बना लेता ! Thanks to Sajeev and Biswajith

Like earlier songs of Hind Yugm, this song also has been made through
the internet jamming ( This time it was between India, US and UK ). Hope this song is going to inspire the listeners to achieve their dreams.

To listen to this brand new song, please click on the player below





Lyrics - गीत के बोल

बहते बहते धारे,
कहते तुझसे सारे,
चलना है राही ये जीवन,
छाए बादल कारे,
डूबे चन्दा तारे,
डूबे न साथी तेरा मन,
साँस में आस के सुर,
दिल में मंजिल की धुन,
जीत के गीत गा रे ....
बहते बहते धारे,
कहते तुझसे सारे,
चलना है साथी ये जीवन,

माना राहें तेरी,
इस पल हैं अँधेरी,
ढलने ही वाली है ये रात,
बदलेगा ये मौसम,
कल ये सारा आलम,
समझेगा तेरे दिल की बात,
थम ना जाना, बीच सफर राही,
है किनारा, तेरा, आज भंवर साथी,
तूफानों से तू लड़ता चल...
बहते बहते....

पर्वत सा इरादा,
कर ले ख़ुद से वादा,
हारेगा न तू हौसला,
निश्चल तेरा मन हो,
सच्ची जो लगन हो,
तो फ़िर है क्या ये फासला,
मन के हारे, हार है साथी
मन के जीते, बढ़ते, जाते राही,
सच की डगर तू चलता चल...
बहते बहते...

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)




VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis



SONG # 07, SEASON # 02, "JEET KE GEET" OPENED ON 15/08/2008 @ HINDYUGM AWAAZ.
Music @ Hind Yung, where music is a passion

गुरुवार, 14 अगस्त 2008

कृष्णा...अल्लाह...जीसस...

आज़ादी दिवस पर दो नायाब वीडियो

खुदा ने इंसान को बनाया, इंसान ने मजहब. और फ़िर मजहबों, खुदाओं और इंसानों ने मिलकर बाँट ली जमीनें, और खींच दी सरहदें दिलों के दरमियाँ...कल ६१ वीं बार आज़ाद भारत में, लहराएगा तिरंगा लालकिले पर, मगर तमाम उपलब्धियों और भविष्य की असीम संभावनाओं के बीच सुलग रहा है, आज भी हिंद.

Religion is the reason, the world is breaking up into pieces….everybody wants control, don't hesitate to kill one another.... कहते है लुईस, इस महीने के हमारे विडीयो ऑफ़ दा मंथ में, और कितना सही कहते हैं, ये विडियो आज के हिंद के लिए एक प्रार्थना समान है.

Fusion music यानी दो या अधिक तरह के संगीत विधाओं को मिला कर एक नया संगीत रचना, यहाँ ये प्रयोग किया दो महान कलाकारों, हरिहरन और लेसली लुईस ने, भारतीय शास्त्रीय संगीत और वेस्टर्न पॉप को मिलाने का, जब राग यमन कल्याणी को गिटार पर गाया गया तो, युवाओं के मन पर छा गया.

गीत का संदेश, बहुत अच्छे रूप में सबके सामने रखने में हाथ रहा है इसके विडियो का भी, black and white फॉर्मेट में चित्रित हुए इस विडियो में एक मार्मिक कहानी बुनी गई है, इस कहानी में जो बच्चा अपनी राह से भटकता दिखाया गया है, क्या इस बच्चे में हम सब को अपनी तस्वीर नज़र नही आती. यही समय है की हम चेतें और हिंदू , मुस्लिम, दलित या ब्राह्मण कहलाने से पहले भारतीय कहलाने में गर्व महसूस करें....गीत के अंत में जब हरिहरन अपनी मखमली आवाज़ में " गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो..." का जाप करते हैं, तो वो किसी खास धरम के अनुयायी बन कर नही, वरन इन्सान को इंसान समझने वाले हर हिन्दुस्तानी के मन की आशा का प्रतिनिधित्व करते नज़र आते हैं....देखते हैं ये विडियो और दुआ करें एक बार फ़िर अपने हिंदुस्तान के लिए, कि हर तरफ़ अमन हो, शान्ति हो, प्रेम हो और हो सदभाव....



मगर चूँकि आज हम एक दिन पहले मिल रहे हैं देश की आज़ादी की ६१ वीं वर्षगांठ से, तो एक और विशेष विडियो को आपके सामने रखना अवश्यक लग रहा है. आज से ठीक २० वर्ष पहले यानी कि १९८८ में, यह विडियो ओपन हुआ था, दूरदर्शन पर तत्कालिन प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम संदेश के बाद, लोक सेवा संचार परिषद् द्वारा निर्मित इस विडियो के लिए बोल लिखे थे पियूष पाण्डेय ने और स्वरबद्ध किया था एक बार फ़िर लुईस बैंक ने, १४ भाषाओँ में एक ही बात कही गई थी " मिले सुर मेरा तुम्हारा ". हिन्दी, कश्मीरी, पंजाबी, सिन्दी, उर्दू, तमिल, कन्नड़, तेलुगु, मलयालम, बंगला, असामी, ओडिया, गुजरती और मराठी, हर आवाज़ में बस एक ही कामना, मिल कर बनी थी जो आवाज़ पूरे भारत की, वो आज भी हर भारतीय को अपने मन की आवाज़ ही लगती है. इस गीत का जादू इतने बरसों के बाद भी वैसा का वैसा ही है....ज़रा देखें तो कौन कौन दिखेंगे आपको इस नायाब विडियो में - पंडित भीमसेन जोशी, एम् बलामुरालिकृष्ण, और लता मंगेशकर जैसी आवाजें, फिल्मकार मृणाल सेन अगर है तो सैयद किरमानी, अरुण लाल, प्रकाश पादुकोण, नरेन्द्र हिरवानी, जैसे खिलाड़ी भी हैं, मल्लिका साराभाई जैसी नृत्यांगना है तो अमिताभ बच्चन, मिथुन, कमल हसन, रेवती, जीतेन्द्र, वहीदा रहमान, शर्मीला टैगोर, शबाना आज़मी, ओमपुरी, दीना पाठक और मीनाक्षी शेषाद्री, जैसे बड़े फिल्मी सितारों ने भी इस विडियो में अपना योगदान दिया...तो दोस्तो, क्यों न एक बार यादों के गलियारे में लौटें, और कामना करें कि, अलगाव का रास्ता छोड़, सब भारतीय फ़िर एक सुर में गायें, तमाम भारतीय भाषाओँ में, हम सब की आवाजें फ़िर से मिलें और बने एक नया सुर - पूरे भारत का सुर.


जय हिंद

बुधवार, 13 अगस्त 2008

और दिल जुनून पर है...

राख हो जायेंगे हम, आग का हुस्न फुनून पर है,
मोहब्बत बे-इन्तहा है, और दिल जुनून पर है.

Love or material needs, whatever you may want is not what you will get. Life moves on & so does your soul. But somewhere deep inside you, there is a place where that vacancy always exists forever & its irreplaceable.

ये कहना है सुदीप यशराज का, जो हैं आवाज़ पर इस हफ्ते के, उभरते सितारे. हमने कोशिश की, कि सुदीप भी हमें अपने बारे में हिन्दी में ही लिख कर दें, पर अतिव्यस्तता के चलते वो ऐसा नही कर पाये. तो हमने उनके कथन मूल रूप में ही आपके सामने रख रहे हैं.

दिल्ली में जन्मे और पढ़े बढ़े सुदीप इन दिनों मुंबई में हैं. हिंद युग्म पर अपने पहले गीत "बेइंतेहा प्यार..." को मिले प्रोत्साहन से सुदीप बेहद संतुष्ट हैं. उनका मानना है -

Business or music is creative outburst of mind which should achieve satisfaction, life is just a memory if not lived the way you want to.



I am not a trained musician & make music for personal satisfaction.

I have been lucky to be in the company of some of the great musicians of Varanasi, anything that i learnt or i know is a gift of my stay at Reeva Kothi on Assi Ghat in Varanasi. Born & bought up in a modest Brahmin family of Delhi, I have played with many popular bands in Delhi & I am now a veteran in that circuit.

I have actively composed ad jingles, musical shows for many producers in India.

Professionally I m a CRM consultant & work with one of India's biggest loyalty company in marketing domain. Whenever get free time I love spending it with my 9 months old daughter.

My music is highly influenced by my life where each songs denote moments of what I call as living. I write, compose & sing for the simple reason that the journey called life is much better with ones own creative expression.

If I ever go missing, I would be found on top of a hill along with my Guitar. Just follow the voice & you will find me.

मेरी आवाज़ ही पहचान है.... बिल्कुल ठीक है सुदीप, हम आपके संगीत के पीछा करते करते आप तक पहुँच ही जायेंगे.

सुदीप जल्द ही संगीत की दुनिया में अपनी एक नई पहचान लेकर उतरेंगे, हिंद युग्म की टीम अपनी समस्त शुभकामनायें सुदीप को देती है. सुदीप के संगीत की ताज़गी को एक बार फ़िर से महसूस कीजिये यह गीत सुनकर.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ