Showing posts with label ustad rais khan. Show all posts
Showing posts with label ustad rais khan. Show all posts

Saturday, May 13, 2017

चित्रकथा - 18: उस्ताद रईस ख़ाँ के सितार का फ़िल्म संगीत में योगदान


अंक - 18

उस्ताद रईस ख़ाँ के सितार का फ़िल्म संगीत में योगदान

"मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है.." 



’रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। समूचे विश्व में मनोरंजन का सर्वाधिक लोकप्रिय माध्यम सिनेमा रहा है और भारत कोई व्यतिक्रम नहीं। बीसवीं सदी के चौथे दशक से सवाक् फ़िल्मों की जो परम्परा शुरु हुई थी, वह आज तक जारी है और इसकी लोकप्रियता निरन्तर बढ़ती ही चली जा रही है। और हमारे यहाँ सिनेमा के साथ-साथ सिने-संगीत भी ताल से ताल मिला कर फलती-फूलती चली आई है। सिनेमा और सिने-संगीत, दोनो ही आज हमारी ज़िन्दगी के अभिन्न अंग बन चुके हैं। ’चित्रकथा’ एक ऐसा स्तंभ है जिसमें बातें होंगी चित्रपट की और चित्रपट-संगीत की। फ़िल्म और फ़िल्म-संगीत से जुड़े विषयों से सुसज्जित इस पाठ्य स्तंभ में आपका हार्दिक स्वागत है। 


6 मई को सुप्रसिद्ध सितार वादक उस्ताद रईस ख़ाँ साहब के निधन हो जाने से सितार जगत का एक उज्ज्वल नक्षत्र अस्त हो गया। शास्त्रीय संगीत जगत में उनका जितना योगदान रहा है, वैसा ही योगदान उन्होंने सिने संगीत जगत में भी दिया है। उनके सितार के टुकड़ों से सजे हिन्दी फ़िल्मी गीत जैसे खिल उठते थे। आइए आज ’चित्रकथा’ में उस्ताद रईस ख़ाँ साहब को याद करते हुए उन हिन्दी फ़िल्मी गीतों की बातें करें जिनमें उन्होंने अपने सितार और उंगलियों के जादू चलाए थे। आज के ’चित्रकथा’ का यह अंक समर्पित है उस्ताद रईस ख़ाँ साहब की पुण्य स्मृति को।




उस्ताद रईस ख़ाँ
(25 नवंबर 1939 - 6 मई 2017)

2017 का वर्ष सितार जगत के लिए अब तक एक दुर्भाग्यपूर्ण वर्ष रहा है। 4 जनवरी को उस्ताद अब्दुल हलीम जाफ़र ख़ाँ, 12 अप्रैल को पंडित जयराम आचार्य, और अब 6 मई को उस्ताद रईस ख़ाँ साहब। सितार जगत के तीन तीन उज्वल नक्षत्र अस्त हो गए एक के बाद एक, और पैदा हो गया एक महाशून्य शास्त्रीय संगीत जगत में। हलीम जाफ़र ख़ाँ और जयराम आचार्य ही की तरह रईस ख़ाँ साहब का भी फ़िल्म संगीत में महत्वपूर्ण योगदान रहा। हालाँकि संगीतकार मदन मोहन के साथ ख़ाँ साहब ने सबसे उम्दा काम किया, और क्यों ना करते, दोनों जिगरी दोस्त जो थे, लेकिन अन्य संगीतकारों के लिए भी ख़ाँ साहब ने सितार बजाया और गीतों के अन्तराल संगीत को ऐसा सुरीला अंजाम दिया कि इन तमाम गीतों की इन सितार की ध्वनियों के बग़ैर कल्पना भी नहीं की जा सकती। सितार के इन स्वर्गिक ध्वनियों को अगर इन गीतों से निकाल दिया जाए तो शायद इन गीतों की आत्माएँ ही चली जाएँगी। 1964 की फ़िल्म ’ग़ज़ल’ की ग़ज़ल "नग़मा-ओ-शेर की सौग़ात किसे पेश करूँ" में साहिर के बोल, मदन मोहन की तर्ज़, और लता मंगेशकर की आवाज़ के साथ-साथ उस्ताद रईस ख़ान के सितार के टुकड़ों ने इस ग़ज़ल को अमर बना दिया। इसके इन्टरल्युड्स में सारंगी और वायलिन तो थे ही, पर सबसे ज़्यादा प्रॉमिनेन्स ख़ाँ साहब के सितार को ही मिला। 1966 की फ़िल्म ’मेरा साया’ में तो जैसे ख़ाँ साहब का सितार अपने पूरे शबाब पर था। "नैनों में बदरा छाये" का शुरुआती संगीत से भला कौन अंजान है! राजस्थान के किसी जलमहल का दृश्य है, सुनिल दत्त महल के छत पर धूप में लेटे हैं, छत से चारों तरफ़ झील के नज़ारे हैं। ऐसे में संतूर की ध्वनियाँ बजने लगती हैं और जल्द ही संतूर पर सितार के चमत्कारी तानें हावी हो जाते हैं। और फिर सितार पर शुरुआती धुन बजने के बाद गीत शुरु होता है "नैनों में बदरा छाए, बिजली सी चमके हाए"। इस गीत को सुनते हुए अगर यह शुरुआती संगीत ही न सुन पाए तो जैसे यह सुनना अधूरा ही रह गया। इन्टरल्युड्स में भी क्या ख़ूब संतूर और सितार की जुगलबन्दी है, जैसे कोई स्वर्गिक अनुभूति हो रही हो! जानकारी के लिए बता दें कि इस गीत में संतूर पंडित शिव कुमार शर्मा ने बजाया था। 1967 की फ़िल्म ’दुल्हन एक रात की’ के गीत "मैंने रंग ली आज चुनरिया सजना तोरे रंग में" में ख़ाँ साहब के सितार का जादू सुनाई देता है। नायिका को प्रेम हो गया है, इस सिचुएशन में यह गीत शुरु होता है सितार के एक पीस से। ख़ाँ साहब ने इस पीस के ज़रिए नायिका के मन के भाव को ऐसे उजागर किया है कि पीस सुनते ही जैसे नायिका का दिल हमें दिखाई देने लगता है। इस गीत के इन्टरल्युड्स और गीत के अन्त में भी सितार के पीसेस हैं, और अन्त में तो गीत के मुखड़े की धुन ही सितार पर बजती है। इसी फ़िल्म का अन्य गीत है "सपनों में अगर तुम मेरे आओ तो सो जाऊँ"। लता जी की आवाज़ में इस लोरी की शुरुआत ख़ाँ साहब के सितार से होती है। अन्तराल संगीत में सितार के साथ-साथ अन्य वाद्यों का भी प्रयोग हुआ है, पर सितार के टुकड़ों को सुनते हुए यकीन हो जाता है कि ज़रूर किसी उस्ताद की उंगलियाँ चली होंगी।

उस्ताद रईस ख़ाँ साहब उस्ताद विलायत ख़ाँ साहब के भतीजे थे। विलायत ख़ाँ साहब मदन जी के दोस्त हुआ करते थे। इस तरह से रईस ख़ाँ मदन मोहन के सम्पर्क में आये और पहली बार सन 1964 की फ़िल्म 'पूजा के फूल' के गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है" में सितार बजाया था। विविध भारती के लोकप्रिय कार्यक्रम 'उजाले उनकी यादों के' के शीर्षक संगीत में इसी गीत के शुरुआती संगीत का अंश सुनाई देता है जिसे रईस ख़ाँ साहब ने बजाया था। "मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है..." की कहानी। गाना रेकॉर्ड हो चुका था और मदन मोहन इस गाने से बहुत ख़ुश भी थे। फिर ऐसा क्या हुआ कि उन्होंने इस गाने को दोबारा रेकॉर्ड करने का फ़ैसला ले लिया? इस गीत में छोटे-छोटे इन्टरल्यूड्स रईस ख़ान ने बजाए। पर मुख्य रूप से पंडित शिव कुमार शर्मा के सन्तूर को बहुत प्रॉमिनेन्टली इस्तमाल किया गया। रेकॉर्डिंग् हो गई, सबकुछ सही हो गया। अब हुआ यूं कि एक दिन मदन मोहन ने यह गाना रईस ख़ान को दोबारा सुनवाया। गाने का टेप बज रहा था, तभी रईस ख़ान ने अपना सितार उठाया, और गाने के साथ सितार छेड़ने लगे। इस बार नए नए इन्टरल्यूड्स बजने लगे। नई सुर, नई तरकीबें। रईस ख़ान के सितार से इस तरह के सुर सुन कर मदन मोहन का दिल हो गया बाग़-बाग़। उन्होंने फ़ौरन AVM Productions को फ़ोन लगाया और कहा कि वो इस गाने को दोबारा रेकॉर्ड करना चाहते हैं। मदन मोहन रईस ख़ान के बजाए सितार के पीसेस से इतना मुतासिर हो गए कि जिस गाने को रेकॉर्ड करके मुतमाइन थे, उस गाने को एक बार फिर से रेकॉर्ड करने की ठान ली।

लता और मदन मोहन की ग़ज़लों को ख़ाँ साहब ने ख़ूबसूरत जामा तो पहनाया ही, कुछ रफ़ी साहब और मदन जी के नग़मों को भी उन्होंने सँवारा। 1967 की फ़िल्म ’नौनिहाल’ की ग़ज़ल "तुम्हारी ज़ुल्फ़ के साये में शाम कर लूँगा" के इन्टरल्युड्स में क्रम से वायलीन, सारंगी और सितार के पीसेस सुनाई पड़ते हैं, जिनमें सितार वाला हिस्सा सबसे लम्बा। मदन मोहन का यह सितार से इश्क़ और ख़ाँ साहब के हुनर पे ऐतबार का ही नतीजा था। 1969 की फ़िल्म ’चिराग़’ में "छायी बरखा बहार पड़े अंगना फुहार" एक दीर्घ गीत है जिसकी अवधि 7 मिनट से उपर है। इस गीत के दीर्घ शुरुआती संगीत में सितार नहीं है, पर पहले अन्तराल संगीत में ख़ाँ साहब तशरीफ़ लाते हैं और क्या ख़ूब लाते हैं! इसी तरह से 1970 की फ़िल्म ’हीर रांझा’ के ग़मज़दा नग़मे "दो दिल टूटे दो दिल हारे" में भी ख़ाँ साहब के सुन्दर सितार का प्रयोग हुआ है। 1970 में ’दस्तक’ फ़िल्म की ग़ज़ल "हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह" एक और कालजयी रचना है। वीणा और सितार की क्या ख़ूबसूरत समावेश है इस ग़ज़ल में। ख़ाँ साहब के सितार के इन्टरल्युड़्स ऐसे प्रॉमिनेन्टली उभर कर सामने आते हैं कि ग़ज़ल के बोल और गायकी को सीधा सीधा टक्कर देते हैं। इससे पहले जितनी रचनाओं की हमने बात की, उन सब में सारंगी, संतूर और वायलीन भी शामिल थे, पर ’दस्तक’ की यह ग़ज़ल पूर्णत: सितार पर आधारित है, हाँ, पार्श्व में वीणा का आधार ज़रूर है। इसी फ़िल्म की शास्त्रीय रचना "बैयाँ ना धरो हो बलमा" भी एक कालजयी गीत है और फ़िल्म-संगीत के शास्त्रीय आधारित गीतों में इसका शुमार शीर्ष के गीतों में होता है। और इस गीत में भी ख़ाँ साहब का सितार कूट कूट कर भरा हुआ है। सितार और तबला, बस! कितनी सीधी, कितनी सरल रचना है, वाद्यों का कुंभ नहीं, गायकी में कोई दिखावा नहीं, सुन्दर काव्यात्मक बोल, और क्या चाहिए एक सुरीले गीत में। 1973 में ’हँसते ज़ख़्म’ फ़िल्म की ग़ज़ल "आज सोचा तो आँसू भर आए" शुरु होती है उस्ताद रईस ख़ाँ साहब के सितार के एक उदासी भरे तान से। ग़मज़दा इस ग़ज़ल के इन्टरल्युड़्स में मूड को बरकरार रखते हुए एक ऐसा दर्द भरा सुर छेड़ा जो बिल्कुल जैसे कलेजा चीर कर रख देता है। एक और ख़ास बात यह कि इस ग़ज़ल के तीन इन्टरल्युड्स में उन्होंने अलग अलग धु्ने बजाई है। एक और उल्लेखनीय लता - मदन मोहन गीत है जो किसी फ़िल्म में तो नहीं जा सका लेकिन 2009 में जारी ’तेरे बग़ैर’ ऐल्बम में इसे शामिल किया गया। राजेन्द्र कृष्ण का लिखा यह गीत है "खिले कमल सी काया तेरी"। इस गीत में ख़ाँ साहब ने सितार ने उतनी ही शहद घोली जितनी लता जी की आवाज़ ने। सुरीली आवाज़ और सुरीले साज़ का इससे बेहतर जुगलबन्दी कुछ और नहीं हो सकती।

1973 की फ़िल्म ’दिल की राहें’ की ग़ज़ल "रस्म-ए-उल्‍फत को निभाएं तो निभाएं कैसे में रईस खां साहब का सितार फिर एक बार अपने पूरे शबाब पर है। मदन मोहन सितार से इस तरह जज़्बाती रूप से जुड़े थे और ख़ास तौर से रईस ख़ाँ के साथ उनकी टीमिंग्‍ कुछ ऐसी जमी थी कि 1974 में जब किसी ग़लत फ़हमी की वजह से एक दूसरे से दोनो अलग हो गये तब मदन मोहन ने अपने गीतों में सितार का प्रयोग ही बन्द कर दिया हमेशा के लिए। वो इतने ही हताश हुए थे। इस वजह से मदन मोहन के अन्तिम दो वर्षों, अर्थात्‍ 1974 और 1975 में 'मौसम', 'साहिब बहादुर' आदि फ़िल्मों के गीतों में हमें सितार सुनने को नहीं मिले। नक्श साहब की ख़ुशक़िस्मती थी कि 1973 में 'दिल की राहें' बन गई और उनकी इस अमर ग़ज़ल को रईस ख़ाँ साहब के सितार ने चार चाँद लगाये। "रस्म-ए-उल्फ़त" के अलग अलग अन्तरों  के इन्टरल्युड्स में सितार के अलग अलग तरह के टुकड़ों ने जैसे इस ग़ज़ल को ज़ेवर पहना दिए हों। जब ये टुकड़े बजते हैं तब ऐसा लगता है जैसे कोई कॉनसर्ट सुन रहे हों! इस ग़ज़ल के आख़िर में जिस तेज़ रफ़्तार में ख़ाँ साहब की उंगलियाँ सितार पर चलती हैं, क्या समा बंध जाता है, क्या कलाकारी है, क्या हुनर है, वाह! हाल ही में मदन मोहन की पुत्री संगीता जी से पता चला कि बाद में मदन मोहन जी ने उस्ताद शमिम अहमद ख़ाँ से सितार सीखा और अपनी आख़िर की कुछ फ़िल्मों में अहमद साहब से बजवाया। लेकिन ऐसा क्या हुआ था कि उस्ताद रईस ख़ाँ साहब के साथ मदन जी की बरसों की जोड़ी, बरसों की दोस्ती टूट गई? हुआ यूं कि एक मोड़ पर मदन मोहन को यह लगने लगा कि उनकी महफ़िलों में रईस ख़ान का सिर्फ़ दोस्ती की ख़ातिर सितार बजाना ठीक नहीं है। रईस ख़ान को वो इस तरह बुला कर, सितर बजवा कर दोस्ती का ग़लत फ़ायदा उठा रहे हैं। इसलिए उन्होंने रईस ख़ान को उनका वाजिब मेहनताना देने की सोची। मगर परेशानी यह थी कि अपने दोस्त से पैसों की बात कैसे करे? सो उन्होंने 1973 की एक महफ़िल के बाद अपने मैनेजर से कहा कि वो ख़ान साहब से उनकी फ़ीस के बारे में पूछेंगे। मैनेजर ने रईस ख़ान से पूछा। रईस ख़ान ने उस वक़्त तो कुछ नहीं कहा, मगर उन्हें यह बात बहुत चुभ गई और उन्होंने इसे अपना अपमान मान लिया। अपने दोस्त मदन मोहन से वो इस तरह की उम्मीद नहीं कर रहे थे। रईस ख़ान जितने बेहतरीन कलाकार थे उतने ही तुनक मिज़ाज भी थे। वो चुपचाप बैठने वाले नहीं थे। बात चुभ गई थी। उन्होंने कुछ दिन बाद मदन मोहन को फ़ोन किया और कहा कि उनके एक दोस्त के घर में एक शादी है और शादी के जलसे में गाने के लिए आपको बुलाया है। "तो मदन भाई, आप कितने पैसे लेंगे?" अब चौंकने की बारी मदन मोहन की थी। बहुत अजीब लगा मदन मोहन को कि रईस ख़ान ने उन जैसे कलाकार को शादी में गाने के लिए कह कर उनकी तौहीन कर रहा है। यह तौहीन अब मदन मोह बर्दाश्त नहीं कर सके। बस यहीं से दोनो के मन में ऐसी खटास पड़ी कि इन दोनों अज़ीम फ़नकारों का साथ सदा के लिए ख़त्म हो गया।

ऐसा नहीं कि उस्ताद रईस ख़ाँ साहब ने केवल मदन मोहन की रचनाओं में ही सितार का अमूल्य योगदान दिया हो। 1961 की फ़िल्म ’गंगा जमुना’ में नौशाद साहब का संगीत था। लता जी की आवाज़ में "ढूंढ़ो ढूंढ़ो रे साजना मोरे कान का बाला" बेहद लोकप्रिय रहा। गीत के शुरुआती संगीत में ख़ाँ साहब का सितार गीत का मूड तैयार कर देता है। अन्तराल संगीत में बांसुरी के साथ सितार का संगम भी बेहद दिलकश बन पड़ा है इस गीत में। 1972 में जब ’पाक़ीज़ा’ में ग़ुलाम मोहम्मद साहब के इन्तकाल के बाद नौशाद साहब फ़िल्म का संगीत पूरा कर रहे थे, तब पार्श्व-संगीत और शीर्षक-संगीत के लिए ख़ाँ साहब को ही चुना। क़रीब क़रीब चार मिनट का शीर्षक संगीत घुंघरू और तबले से शुरु ज़रूर होती है, लेकिन जल्दी ही ख़ाँ साहब का सितार हर अन्य वाद्य पर हावी हो जाता है। क्या फिरी हैं उनकी उंगलियाँ सितार पर, वाह! सारंगी, संतूर, घुंघरू और तबले के साथ सितार की यह महफ़िल फ़िल्म के नग़मों और ग़ज़लों से कम दिलकश नहीं है। और फिर सोने पे सुहागा, इस शीर्षक संगीत के मध्य भाग से लता जी की आवाज़ में आलाप और ताल गायन है जो इस पूरे आयोजन पे चार चाँद लगा देती है।

ओ. पी. नय्यर एक ऐसे संगीत रहे जिनके गीतों में आधुनिक शैली के होते हुए भी आत्मा हिन्दुस्तानी संगीत की ही रही और उन्होंने पाश्चात्य साज़ों के साथ-साथ भारतीय वाद्यों का भी बहुतायत में प्रयोग किया। 1962 की फ़िल्म ’एक मुसाफ़िर एक हसीना’ का गीत "आप यूंही अगर हमसे मिलते रहे, देखिए एक दिन प्यार हो जाएगा" रफ़ी-आशा का एक यादगार डुएट है। इस गीत में सबसे उल्लेखनीय वाद्य हैं सारंगी और सितार, जिसे रईस ख़ाँ साहब ने बजाया था।  "कैसी जादूगरी की अरे जादूगर" इस गीत की एक पंक्ति है; इस पंक्ति को सुनते हुए मन में यह ख़याल आता है कि यह शायद ख़ाँ साहब को ही कहा गया है। गीत के एक अन्तराल संगीत में पंख फैला कर एक मोर को नाचते हुए दिखाया जाता है जिसके पार्श्व में ख़ाँ साहब का सितार बज रहा है। मोर के साथ-साथ जैसे सितार की ध्वनियाँ भी झूम रही हैं। 1964 की फ़िल्म ’कशमीर की कली’ में एक बार फिर नय्यर साहब ने ख़ाँ साहब के सितार से सजाया "इशारों इशारों में दिल लेने वाले" गीत को। अन्तरालों में सितार और घुंघरू का एक साथ प्रयोग हुआ है। ये सभी टुकड़े जैसे इन गीतों की पहचान हैं। और नय्यर साहब के गीतों की यह ख़ासियत भी है कि उनके गीतों में हर साज़ और हर टुकड़ा बहुत ही प्रॉमिनेन्ट सुनाई देता है। इसी तरह से 1965 की फ़िल्म ’मेरे सनम’ का आशा भोसले का गाया सदाबहार गीत "जाइए आप कहाँ जाएंगी" में भी ख़ाँ साहब का सितार है। शुरुआती धुन में संतूर है, लेकिन अन्तराल संगीत में सितार के वो टुकड़े हैं जो इस गीत की पहचान भी हैं। 

1966 के वर्ष में रईस ख़ाँ साहब के सितार से सजे बहुत से गीत बने जिनमें से मदन मोहन की रचनाओं का ज़िक्र हम कर चुके हैं। इस वर्ष संगीतकार ख़य्याम के संगीत से सजी फ़िल्म आई ’आख़िरी ख़त’। फ़िल्म का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत था "बहारों मेरा जीवन भी सँवारो"। पूरे गीत में सितार छाया हुआ है। मुखड़े में "बहारों" और "मेरा" शब्दों के बीच में सितार के छोटे टुकड़े का क्या सुन्दर प्रयोग हुआ है। अन्तराल संगीत में सितार और बांसुरी का सुन्दर संगम है। शंकर-जयकिशन के संगीत में पौराणिक विषय पर बनी फ़िल्म ’आम्रपाली’ को अपने गीत-संगीत के लिए याद किया जाता है। "तुम्हें याद करते करते जाएगी रैन सारी" गीत की जितनी तारीफ़ें की जाए कम होगी। क्या बोल, क्या धुन, क्या गायकी, क्या जज़्बात, सब लाजवाब; और उस पर उस्ताद ख़ाँ साहब के सितार का नशा जो अन्तरालों को एक अलग ही मुकाम तक लेकर गया है। यह संगीत जैसे स्वर्ग में रचा गया हो! ख़ाँ साहब के सितार ने हर जज़्बात को साकार किया है। कभी झूमते हुए मोर का उत्साह, कभी नए नए प्यार होने की ख़ुशी, और कभी बिरहा का दर्द, हर मौके के गीत में ख़ाँ साहब के सितार ने इतिहास रचा है। इसी वर्ष शंकर-जयकिशन के ही संगीत वाले एक और फ़िल्म ’तीसरी क़सम’ के एक गीत में ख़ाँ साहब का सितार सुनाई पड़ा। "सजनवा बैरी हो गए हमार" में मुकेश की आवाज़ ने जो दर्द पैदा की थी, उससे टक्कर लेकर ख़ाँ साहब के सितार ने भी दर्द भरे ऐसे तान छेड़े कि जिसने गीत के भाव, गीत के बोलों और गायकी को कॉम्प्लिमेण्ट किया।

संगीतकार जोड़ी कल्याणजी-आनन्दजी ने भी ख़ाँ साहब के सितार को अपने गीतों में जगह दी। 1968 की कालजयी फ़िल्म ’सरस्वती चन्द्र’ के यादगार गीत "चंदन सा बदन चंचल चितवन" के शुरुआती संगीत में सितार का पीस इस गीत के पहचान और विशेषता है। इस गीत के दो संस्करण हैं और दोनों में उन्होंने दोनो में अलग अलग तरीक़े से सितार के सुरों को पिरोया है। संगीतकार जयदेव के सुरीले संगीत में 1977 की फ़िल्म ’आंदोलन’ में मीराबाई की लिखी एक सुन्दर रचना थी "पिया को मिलन कैसे होए री मैं जानु नाही"। नीतू सिंह पर फ़िल्माया यह ख़ूबसूरत गीत और भी ज़्यादा ख़ूबसूरत बन पड़ा ख़ाँ साहब के दीर्घ सितार के टुकड़ों से। जयदेव के गीतों में हमें अनर्थक साज़ों की भीड़ नहीं मिलती, एक या दो साज़ों को लेकर उनकी सीधी सरल रचनाएँ सुनने वालों के दिलों में घर कर लेती है। आशा भोसले की आवाज़ में यह रचना भी उन्हीं गीतों में से एक है। मूलत: सितार पर आधारित यह रचना दर्द भरा होते हुए भी बेहद आकर्षक और सुरीला है। 

70 के दशक में धूम मचाने वाले संगीतकारों में एक नाम लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल का है। 1971 की फ़िल्म ’महबूब की मेहन्दी’ आज केवल इसके गीतों के लिए याद की जाती है। फ़िल्म के लगभग सभी गीत मक़बूल हुए, जिनमें लता-रफ़ी के डुएट "इतना तो याद है मुझे कि उनसे मुलाक़ात हुई" को एल.पी के श्रेष्ठ लता-रफ़ी डुएट्स में गिना जाता है। बहुत कम लोगों को मालूम है कि इस लोकप्रिय गीत में भी उस्ताद रईस ख़ाँ साहब के सितार के टुकड़े थे। ख़ास कर गीत के दूसरे अन्तराल संगीत में लीना चन्दावरकर जब नृत्य कर रही है तब नृत्य-संगीत के रूप में ख़ाँ साहब का सितार ही बज रहा होता है। ख़ाँ साहब का पेशा भले सितार रहा है, लेकिन कई बार उन्होंने अपने सितार वादन के लिए निर्माता से अपनी पारिश्रमिक नहीं ली। ऐसा ही एक क़िस्सा जुड़ा है ’सत्यम शिवम् सुन्दरम्’ फ़िल्म के साथ। बात यह हुई कि एक सीन के लिए लक्ष्मी-प्यारे को उचित पार्श्व-संगीत नहीं सूझ रहा था। सीन शायद आपको याद हो, जब ज़ीनत अमान सुबह सुबह जलप्रपात के नीचे चल कर जाती हैं शशि कपूर से मिलने। उस समय वहाँ ख़ाँ साहब मौजूद थे जिन्होंने सितार पर एक पीस बजा कर सुनाया जिसे सुन कर राज कपूर सहित सभी लोग वाह वाह कर उठे। ’सत्यम शिवम सुन्दरम’ फ़िल्म के तमाम गीतों में भी ख़ाँ साहब के सुमधुर सितार की ध्वनियाँ शहद घोलती हुई सी लगती है। यह 1978 की फ़िल्म थी और इसी वर्ष लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल के संगीत से सजी एक और फ़िल्म आई थी ’बदलते रिश्ते’। इसमें लता मंगेशकर और महेन्द्र कपूर का गाया एक शास्त्रीय संगीत आधारित रचना थी "मेरी साँसों को जो महका रही है"। गीत के पहले अन्तराल संगीत में अगर संतूर है तो दूसरे अन्तराल में मुख्यत: वायलिन है, लेकिन तीसरे अन्तराल में ख़ाँ साहब के सितार की लहरियाँ जैसे गीत का रुख़ ही मोड़ देती हैं। 

70 के दशक में ख़ाँ साहब ने शास्त्रीय संगीत के कॉनसर्ट्स में बजाना कुछ कम कर दिया था। लेकिन 80 के दशक के आते ही वो फिर एक बार उस तरफ़ सक्रीय हो उठे जब उस्ताद अली अकबर ख़ाँ साहब ने उन्हें अमरीका के कैलिफ़ोर्निया में बजाने के लिए आमन्त्रित किया। रईस ख़ाँ साहब हिन्दी फ़िल्मों से धीरे धीरे सन्यास ले लिए। 1979 में उन्होंने चौथी शादी की पाक़िस्तानी गायिका बिलक़ीस ख़ानुम से और 1986 वो उनके साथ पाक़िस्तान जा कर बस गए। आज ख़ाँ साहब हमारे बीच नहीं हैं। उनके बजाए सितार के तमाम कॉन्सर्ट्स की रेकॉर्डिंग्स और स्टुडियो रेकॉर्डिंग्स तो हमारे पास हैं ही, इनके साथ-साथ वो तमाम फ़िल्मी गीत भी हैं जिन्हें उनके सितार ने चार चाँद लगाए। उस्ताद रईस ख़ाँ की पुण्य स्मृति को ’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ का नमन!


आपकी बात

’चित्रकथा’ के पिछले दो अंकों में हमने गीतकार नक़्श ल्यालपुरी के लिखे मुजरों पर लेख प्रकाशित की थी जिस पर हमें हमारे पाठकों की प्रतिक्रिया प्राप्त हुई हैं। आदियोग जी ने इस लेख को "शानदार" कह कर टिप्पणी की है तो रमेश शर्मा जी लिखते हैं - "बेहतरीन... नायाब मोतियों का संग्रह... हार्दिक बधाई स्वीकारिए!" संज्ञा टंडन जी लिखती हैं - "ग़ज़ब का शोध सुजॉय जी। धन्यवाद इस शानदार जानकारी के लिए।" और सर्वोपरि नक़्श साहब के सुपुत्रा राजन ल्यालपुरी जी ने इस लेख पर कहा है - "मैंने पहला भाग पढ़ा है, बहुत अच्छा है और सही जानकारी है।"


आख़िरी बात

’चित्रकथा’ स्तंभ का आज का अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। इस स्तंभ में आप किस तरह के लेख पढ़ना चाहते हैं, यह हम आपसे जानना चाहेंगे। आप अपने विचार, सुझाव और शिकायतें हमें निस्संकोच लिख भेज सकते हैं। साथ ही अगर आप अपना लेख इस स्तंभ में प्रकाशित करवाना चाहें तो इसी ईमेल पते पर हमसे सम्पर्क कर सकते हैं। सिनेमा और सिनेमा-संगीत से जुड़े किसी भी विषय पर लेख हम प्रकाशित करेंगे। आज बस इतना ही, अगले सप्ताह एक नए अंक के साथ इसी मंच पर आपकी और मेरी मुलाक़ात होगी। तब तक के लिए अपने इस दोस्त सुजॉय चटर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार, आपका आज का दिन और आने वाला सप्ताह शुभ हो!




शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र  



रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Sunday, June 12, 2016

राग पीलू : SWARGOSHTHI – 274 : RAG PILU




स्वरगोष्ठी – 274 में आज

मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 7 : मदन मोहन और लता का सुरीला संगम

‘मैंने रंग ली आज चुनरिया, सजना तोरे रंग में...’




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हमारी श्रृंखला – ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ जारी है। श्रृंखला की सातवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र अपने साथी सुजॉय चटर्जी के साथ आप सभी संगीत-प्रेमियों का एक बार फिर हार्दिक स्वागत करता हूँ। यह श्रृंखला आप तक पहुँचाने के लिए हमने फिल्म संगीत के सुपरिचित इतिहासकार और ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के स्तम्भकार सुजॉय चटर्जी का सहयोग लिया है। हमारी यह श्रृंखला फिल्म जगत के चर्चित संगीतकार मदन मोहन के राग आधारित गीतों पर केन्द्रित है। श्रृंखला के प्रत्येक अंक में हम मदन मोहन के स्वरबद्ध किसी राग आधारित गीत की चर्चा और फिर उस राग की उदाहरण सहित जानकारी दे रहे हैं। श्रृंखला की सातवीं कड़ी में आज हम आपको राग पीलू के स्वरों में पिरोये गए 1966 में प्रदर्शित फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ से राग पीलू पर आधारित एक गीत का रसास्वादन कराएँगे। इस राग आधारित गीत को स्वर दिया है, मदन मोहन की मुहबोली बहन, सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका लता मंगेशकर ने। संगीतकार मदन मोहन द्वारा राग पीलू के स्वर में निबद्ध फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ के इस गीत के साथ ही राग का यथार्थ स्वरूप उपस्थित करने के लिए हम विश्वविख्यात सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खाँ का सरोद पर बजाया राग पीलू की एक रसपूर्ण रचना भी प्रस्तुत कर रहे हैं। 


दन मोहन द्वारा स्वरबद्ध राग आधारित फ़िल्मी गीतों की इस श्रृंखला की आज की कड़ी में फिर एक बार लता मंगेशकर और मदन मोहन का सुरीला संगम प्रस्तुत है। अपने मदन भ‍इया को याद करती हुईं लता जी कहती हैं - "ज़रा यह सुनिए कि उनको संगीत की कितनी बड़ी देन थी। आमद का यह हाल था कि बस हारमोनियम लेकर बैठते और धुन चुटकियों में बन जाती। कभी मोटर चलाते हुए, कभी लिफ़्ट पर उपर या नीचे आते हुए भी उनकी धुन तैयार हो जाती। मदन भ‍इया एक दो साल मिलिटरी में थे, और शायद इसी वजह से उनके बरताव में एक उपरी सख़्ती हुआ करती थी। कई बार बड़े रफ़ से लगते थे। बातें खरी खरी मुँह पर सुना देते थे। प्यार भी उनका यूँ होता था कि बस हाथ उठाया और धम से मार दिया। मगर यह सख़्ती सिर्फ़ उपर की थी, अन्दर से तो वे बड़े भावुक थे और बड़े नर्म थे। यह नरमी, यह भावुकता कभी कभी अपनी झलक दिखला जाती थी दिल को छू लेने वाली धुनों में ढल कर। बड़े खुद्दार थे मदन भ‍इया। अपने आदर्शों को वो न किसी के सामने झुकने देते थे, न दबने देते थे। ’वो कौन थी’ के गीतों की सफलता पर मुमकिन था कि उन्हें एक बहुत बड़ा अवार्ड मिले। कुछ लोग उनके पास आए और उस अवार्ड के लिए उनसे सौदा करना चाहा। मदन भ‍इया ने साफ़ इनकार कर दिया। वह अवार्ड मदन भ‍इया को नहीं मिला और ना मिलने पर जब मैंने अफ़सोस ज़ाहिर किया तो वो कहने लगे कि मेरे लिए क्या यह कम अवार्ड है कि तुम्हे अफ़सोस हुआ!" आज हम लता और मदन मोहन जोड़ी की जिस रचना को प्रस्तुत कर रहे हैं उसे हमने चुना है 1966 की फ़िल्म ’दुल्हन एक रात की’ से - "मैंने रंग ली आज चुनरिया सजना तोरे रंग में..." जिसे लिखा था राजा मेंहदी अली ख़ाँ ने और फ़िल्माया गया था अभिनेत्री नूतन पर। गीत आधारित है राग पीलू पर और ताल है कहरवा।

आप सभी ने यह महसूस किया होगा कि मदन मोहन की अधिकतर रचनाओं में सितार के बेहद सुरीले टुकड़े सुनाई देते हैं, गीत के शुरुआत में या अन्तराल संगीत के दौरान। आज के प्रस्तुत गीत में भी सितार कई जगहों पर सुनाई देता है। ये तमाम सितार के टुकड़े इतने सुरीले क्यों न हो जब इन्हें बजाने वाले हों उस्ताद रईस ख़ाँ जैसे सितार वादक। मदन जी के गीतों में ख़ाँ साहब का सितार पहली बार सुनाई दिया था 1964 की फ़िल्म 'पूजा के फूल' के गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है" में। ख़ाँ साहब उस्ताद विलायत ख़ाँ साहब के भतीजे थे। विलायत ख़ाँ साहब मदन जी के दोस्त हुआ करते थे। इस तरह से रईस ख़ाँ मदन मोहन के सम्पर्क में आये और मदन जी के गीतों को चार चाँद लगाया। "नैनों में बदरा छाए...", "रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएँ..." जैसे कई गीतों में सितार बेहद ख़ूबसूरत बन पड़ा है। मदन मोहन सितार से इस तरह जज़्बाती रूप से जुड़े थे और ख़ास तौर से रईस ख़ाँ के साथ उनकी ट्यूनिंग कुछ ऐसी जमी थी कि 1974 में जब किसी ग़लतफ़हमी की वजह से एक दूसरे से दोनो अलग हो गये तब मदन मोहन ने अपने गीतों में सितार का प्रयोग ही बन्द कर दिया। वो इतने ही हताश हुए थे। इस वजह से मदन मोहन के अन्तिम दो वर्षों, अर्थात 1974 और 1975 में 'मौसम', 'साहिब बहादुर' आदि फ़िल्मों के गीतों में हमें सितार सुनने को नहीं मिले। यह भी उल्लेखनीय तथ्य है कि हाल ही में मदन मोहन की पुत्री संगीता जी ने मुझे स्वयं बताया कि बाद में मदन मोहन जी ने उस्ताद शमीम अहमद से ख़ुद सितार सीखा और अपनी आख़िर की कुछ फ़िल्मों में शमीम अहमद साहब से बजवाया। अब कुछ बातें इस गीत के गीतकार राजा मेंहदी अली ख़ाँ साहब की। राजा साहब और मदन जी की जोड़ी के बारे में मदन जी के छोटे पुत्र समीर कोहली बताते हैं, "राजा साहब भी पिताजी के बहुत अच्छे दोस्त थे। ’आँखें’ (1950, ’अदा’ (1951) और ’मदहोश’ (1951) के बाद एक लम्बे अरसे के बाद दोनों साथ में ’अनपढ़’ (1962) में काम कर रहे थे। ’अनपढ़’ से पहले राजा साहब ज़्यादातर हास्य गीत लिखा करते थे, पर ’अनपढ़’ के गीतों के बाद वो गम्भीर शायरी की वजह से मशहूर हो गए। बहुत जल्दी उनका निधन हो गया ’जब याद किसी की आती है’ (1966) का शीर्षक गीत लिखने के बाद ही। मदन जी का राजा साहब के लिए दिल में क्या जगह थी इसका पता चलता है एक घटना से। पिताजी समय के बड़े पाबन्द हुआ करते थे, फिर भी एक बार एक पत्रकार-सम्मेलन (press conference) में वो देर से पहुँचे। इस बात पर एक पत्रकार ने उनसे इस देरी का कारण पूछा तो उनका जवाब था कि मैं घर से समय पर ही चला था। रास्ते में मुझे राजा साहब की कब्र दिख गई और मैं अपने आप को रोक नहीं सका। मैं वहाँ दो मिनट के लिए रुका, उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी। इस वजह से मुझे देर हो गई, इसके लिए आप सब मुझे क्षमा करें।" अब आप राजा मेंहदी अली खाँ का लिखा, मदन मोहन का संगीतबद्ध किया और लता मंगेशकर का गाया, फिल्म ‘दुल्हन एक रात की’ का वही गीत सुनिए।


राग पीलू : ‘मैंने रंग ली आज चुनरिया, सजना तेरे रंग में...’ : लता मंगेशकर : फिल्म – दुल्हन एक रात की


राग पीलू का सम्बन्ध काफी थाट से जोड़ा जाता है। आमतौर पर इस राग के आरोह में ऋषभ और धैवत स्वर वर्जित किया जाता है। अवरोह में सभी सात स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इसलिए राग की जाति औड़व-सम्पूर्ण होती है, अर्थात आरोह में पाँच और अवरोह में सात स्वर प्रयोग होते हैं। इस राग में ऋषभ, गान्धार, धैवत और निषाद स्वर के कोमल और शुद्ध, दोनों रूप का प्रयोग किया जाता है। राग का वादी स्वर गान्धार और संवादी स्वर निषाद होता है। इस राग के गायन-वादन का समय दिन का तीसरा प्रहर माना गया है। इस राग के प्रयोग करते समय प्रायः अन्य कई रागों की छाया दिखाई देती है, इसीलिए राग पीलू को संकीर्ण जाति का राग कहा जाता है। यह चंचल प्रकृति का और श्रृंगार रस की सृष्टि करने वाला राग है। इस राग में अधिकतर ठुमरी, दादरा, टप्पा, गीत, भजन आदि का गायन बेहद लोकप्रिय है। फिल्मी गीतों में भी इस राग का प्रयोग अधिक किया गया है। इस राग में ध्रुपद और विलम्बित खयाल का प्रचलन नहीं है। राग पीलू पूर्वांग प्रधान राग है। इसमे पूर्वांग के स्वर इतने प्रमुख रहते हैं कि प्रायः गायक या वादक मध्यम स्वर को अपना षडज मान कर गाते-बजाते हैं, जिससे मंद्र सप्तक के स्वरों में सरलता से विचरण किया जा सके। राग पीलू के गायन-वादन का समय यद्यपि दिन का तीसरा प्रहर निर्धारित किया गया है, किन्तु परम्परागत रूप से यह सार्वकालिक राग हो गया है। ठुमरी अंग का राग होने से किसी भी गायन-वादन की सभा के अन्त में पीलू की ठुमरी, दादरा या सुगम संगीत से कार्यक्रम के समापन की परम्परा बन गई है। अब आप विश्वविख्यात सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खाँ से सरोद पर राग पीलू की एक रसपूर्ण रचना सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति प्रदान कीजिए।


राग पीलू : सरोद पर दादरा ताल की रचना : उस्ताद अमजद अली खाँ




संगीत पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 274वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक बार पुनः संगीतकार मदन मोहन के संगीत से सजे एक राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 280वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – गीत के इस अंश को सुन का आपको किस राग का अनुभव हो रहा है?

2 – गीत में प्रयोग किये गए ताल का नाम बताइए।

3 – क्या आप गीत के गायक को पहचान सकते हैं? हमे गायक का नाम बताइए।

आप उपरोक्त तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार, 18 जून, 2016 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते है, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर भेजने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 276वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ क्रमांक 272 की संगीत पहेली में हमने आपको मदन मोहन के संगीत निर्देशन में बनी और 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘आँखें’ से एक राग आधारित गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे तीन प्रश्न पूछा था। आपको इनमें से किसी दो प्रश्न का उत्तर देना था। इस पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग – पहाड़ी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है – ताल – कहरवा तथा तीसरे प्रश्न का उत्तर है- गायिका – मीना कपूर

इस बार की पहेली में चार प्रतिभागियों ने सही उत्तर देकर विजेता बनने का गौरव प्राप्त किया है। सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी हैं - चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी और पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया। इन सभी विजेताओं ने दो-दो अंक अर्जित किये है। सभी विजेता प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ में जारी हमारी श्रृंखला ‘मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन’ की आज की कड़ी में आपने राग पीलू का परिचय प्राप्त किया। इस श्रृंखला में हम फिल्म संगीतकार मदन मोहन के कुछ राग आधारित गीतों को चुन कर आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ साप्ताहिक स्तम्भ के बारे में हमारे पाठक और श्रोता नियमित रूप से हमें पत्र लिखते है। हम उनके सुझाव के अनुसार ही आगामी विषय निर्धारित करते है। राग पीलू के बारे में कोटा, राजस्थान के तुलसी राम वर्मा ने हमसे अनुरोध किया था। आज के अंक में हमने श्री वर्मा के अनुरोध पर आपको राग पीलू की जानकारी दी। ‘स्वरगोष्ठी’ पर आप भी अपने सुझाव और फरमाइश हमें भेज सकते है। हम आपकी फरमाइश पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। आपको हमारी यह श्रृंखला कैसी लगी? हमें ई-मेल अवश्य कीजिए। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 8 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे।


शोध व आलेख : सुजॉय चटर्जी 
 प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  



 

Saturday, June 7, 2014

"रस्म-ए-उल्फ़त" के बाद और कोई गाना मत बजाना


एक गीत सौ कहानियाँ - 33
 

रस्म-ए-उल्फ़त को निभायें तो निभायें कैसे...’



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार! दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कप्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारी ज़िन्दगियों से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़ी दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह साप्ताहिक स्तंभ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 33वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म 'दिल की राहें' की दिल को छू लेने वाली ग़ज़ल "रस्म-ए-उल्फ़त को निभायें तो निभायें कैसे..." के बारे में.




"मैं यह समझता हूँ कि हर फ़नकार का जज़्बाती होना ज़रूरी है, क्योंकि अगर उसमें इन्सानियत का जज़्बा नहीं है, तो वो सही फ़नकार नहीं हो सकता। भगवान ने कुछ फ़नकारों को ज़्यादा ही जज़्बाती बनाया है। यह गाना मुझे बहुत पसन्द है, बहुत ख़ूबसूरती से गाया गया है, सुन के कुछ एक अजीब सी कैफ़ियत तारी होती है। दर्द भरा गाना है, पर दर्द भी इन्सान की ज़िन्दगी का हिस्सा है। इससे इन्सान कब तक दूर भाग सकता है?", ये शब्द निकले थे संगीतकार मदन मोहन के मुख से विविध भारती के जयमाला कार्यक्रम में फ़िल्म 'दिल की राहें' की ग़ज़ल "रस्म-ए-उल्फ़त को निभायें तो निभायें कैसे" सुनवाने से पहले। मदन मोहन के फ़िल्मी गीतों व ग़ज़लों की बात करें तो ऐसा अक्सर हुआ कि वो फ़िल्में नहीं चली पर उन फ़िल्मों को आज तक अगर लोगों ने याद रखा तो सिर्फ़ और सिर्फ़ उनके गीतों की वजह से। केवल 70 के दशक की ही अगर बात करें तो 'महाराजा', 'दस्तक', 'माँ का आँचल', 'हँसते ज़ख़्म', 'मौसम' और 'दिल की राहें' कुछ ऐसी फ़िल्में हैं जो बॉक्स ऑफ़िस पर ज़्यादा कमाल नहीं दिखा सके, पर आज इन फ़िल्मों के ज़िक्र पर सबसे पहले इनके गानें याद आते हैं। मदन मोहन की मौसिक़ी और लता मंगेशकर की आवाज़ में जितनी भी ग़ज़लें बनीं हैं, वो सभी एक से बढ़ कर एक है, और उन्हें सुनते हुए ऐसा लगता है कि जैसे ये जन्नत में बन कर धरती पर उतारे गये हैं। इन ग़ज़लों का पूरा श्रेय मदन मोहन और लता जी को दे दें और इनके शायरों को याद न करें, यह बहुत ग़लत बात जो जायेगी। राजा मेहन्दी अली ख़ाँ, राजेन्द्र कृष्ण और मजरूह सुल्तानपुरी के लिखे ग़ज़लों को मदन मोहन ने सबसे ज़्यादा स्वरबद्ध किया। पर 1973 में दो फ़िल्में ऐसी आईं जिनमें बतौर गीतकार नक्श लायलपुरी साहब ने कमान सम्भाली। ये फ़िल्में थीं 'प्रभात' और 'दिल की राहें'। फ़िल्म 'प्रभात' में लता के गाये कई गीत थे जिनमें सबसे ज़्यादा उल्लेखनीय है मुजरा गीत "साक़ीया क़रीब आ, नज़र मिला..."। और फ़िल्म 'दिल की राहें' के गीतों और ग़ज़लों के तो क्या कहने! मन्ना डे और उषा मंगेशकर की युगल आवाज़ों में "अपने सुरों में मेरे सुरों को बसा लो, मेरा गीत अमर हो जाये..." और लता मंगेशकर की गायी "रस्म-ए-उल्फ़त..." फ़िल्म की दो श्रेष्ठ रचनायें थीं। इन दो फ़िल्मों के अलावा नक्श साहब ने मदन जी के साथ एक और फ़िल्म के लिए भी गीत लिखे पर वह फ़िल्म नहीं बनी। 

नक्श ल्यायलपुरी और लता
"रस्म-ए-उल्फ़त को निभायें" ग़ज़ल के बनने की कहानी चौंकाने वाली है। हुआ यूँ कि एक सिचुएशन पर गीत लिखने के लिए मदन मोहन ने नक्श लायलपुरी को एक धुन दे दी थी और नक्श साहब को गीत लिख कर रविवार की सुबह मदन जी के घर ले जाना था। और वह गीत अगले दिन (सोमवार) को रेकॉर्ड होना था क्योंकि लता जी ने डेट दे रखा था। तो नक्श साहब गीत लिख कर मदन मोहन के घर पहुँचे रविवार सुबह 11 बजे। उनका लिखा हुआ गीत मदन जी ने पढ़ा और उनसे कहा कि फ़िल्म के निर्माता (सुल्तान एच. दुर्रानी और एस. कौसर) ने कहा है कि उन्हें अपनी फ़िल्म में मदन मोहन से एक ग़ज़ल चाहिये। अगर मदन मोहन के साथ ग़ज़ल नहीं बनायी तो फिर क्या काम किया, ऐसा निर्माता महोदय ने मदन मोहन से कहा है। तो अब मदन जी भी चाहते हैं कि उसी धुन पर नक्श साहब एक ग़ज़ल लिख दे। अब नक्श साहब मदन जी को ना भी नहीं कह सकते थे, वो दुविधा में पड़ गये। यह तनाव भी था कि अगले ही दिन रेकॉर्ड करना है, अगर लिख ना सके तो क्या होगा! लता जी की डेट बेकार हो जायेगी, वगेरह वगेरह। ये सब सोचते सोचते वो मदन जी के घर से बाहर निकल आये। उन्होंने घड़ी देखा, सुबह के 11 बज रहे थे। उन्होंने सोचा कि अगर वो पेडर रोड से मुलुंड वापस जाकर लिखेंगे तो काफ़ी समय बरबाद हो जायेगा, और फिर वापस भी आना है, इसलिए वो चौपाटी में फुटपाथ के एक कोने में जाकर बैठ गये। और मन ही मन सोचने लगे कि इतने कम समय में लिखें तो लिखें कैसे, गीत को ग़ज़ल बनायें तो बनायें कैसे, इस मुसीबत से निकले तो निकले कैसे? और ये सब सोचते-सोचते उनके मुख से निकल पड़े कि रस्म-ए-उल्फ़त को निभायें तो निभायें कैसे। बस, कलम चलने लगी, कभी रुकती, कभी चलती, कभी वो सोचते, कभी मुस्कुराते, ऐसा करते करते ग़ज़ल पूरी हो गई। और शाम 4 बजे नक्श साहब जा पहुँचे मदन मोहन जी के घर। अगले दिन ग़ज़ल रेकॉर्ड हो गई। लता और मदन मोहन की जोड़ी के ग़ज़लों के बारे में तो सब जानते थे, इस बार नक्श साहब की भी ख़ूब तारीफ़ हुईं। नक्श साहब ने एक मुलाक़ात में बताया था कि बरसों बाद मदन मोहन जी की याद में मुंबई के चेम्बुर में एक कार्यक्रम आयोजित हुआ था जिसमें नक्श साहब को भी आमन्त्रित किया गया था। जब इस ग़ज़ल को बजाया गया, तब किसी ने कहा कि "रस्म-ए-उल्फ़त" के बाद और कोई गाना मत बजाना।

अपने मनचाहे साज़ के साथ मदन जी
मदन मोहन के बारे में गीतकार और शायर नक्श लायल्पुरी के क्या विचार हैं, उन्हीं के शब्दों में पढ़िये - "उनसे मिलने से पहले मैंने जो कुछ भी सुन रखा था मदन मोहन के बारे में, कि वो शॉर्ट-टेम्पर्ड हैं, वगेरह वगेरह, वो सब ग़लत बातें हैं। वो ऐसे पहले संगीतकार थे जिन्होंने मेरे सर पर कभी पहाड़ नहीं रखा। वो गीतकारों और शायरों को छूट देते थे। वो किसी सिटिंग्‍ में ज़्यादा से ज़्यादा 20 मिनट बैठते और मुझे कभी भी किसी गीत को पूरा करने के लिए कभी समय की पाबन्दी नहीं दी। निर्माता जब किसी धुन को सिलेक्ट कर लेते थे, तब मदन जी मुझे बुलाते और समझाते। वो समय के बड़े पाबन्द थे और अगर कोई देर से आया तो वो ग़ुस्सा हो जाते थे। किसी गीत को कम्पोज़ करने के लिए वो 10 मिनट का समय लेते थे। लेकिन जब कोई निर्माता उन्हें साइन करवाने आते तो वो उनसे एक महीने का समय माँग लेते ताकि उन्हें अपना मनपसन्द स्टुडियो, मनपसन्द कलाकार और साज़िन्दों से डेट्स मिल जाये। इन सब चीज़ों के लिए वो किसी की ख़ुशामद करना बिल्कुल पसन्द नहीं करते थे। स्टुडियो, साज़िन्दे और गायक तय हो जाने पर वो पाँच-छह गीत एक के बाद एक रेकॉर्ड कर लेते, एक गीत प्रति दिन के हिसाब से।" नक्श लायलपुरी के उस मुलाक़ात में उन्होंने यह बताया कि मदन मोहन फ़िल्म 'लैला मजनूं' में नक्श साहब को बतौर गीतकार लेना चाहते थे। मदन मोहन साहिर लुधियानवी को नहीं लेना चाहते थे क्योंकि साहिर अपने गीतों में फेर-बदल बिल्कुल पसन्द नहीं करते और उधर मदन मोहन की आदत थी कि हर गीत में कुछ न कुछ फेरबदल कर देते थे। पर 'लैला मजनूं' के निर्माता एच. एस. रवैल साहिर के पक्ष में थे, और मदन जी को झुकना पड़ा क्योंकि उन्हें उस वक़्त पैसों को सख़्त ज़रूरत थी अपने लोनावला के बंगले के निर्माण के लिए। 'लैला मजनूं' के रिलीज़ के बाद मदन मोहन जब नक्श लायलपुरी से मिले तो उनसे कहा कि वो 'लैला मजनूं' से भी बड़े फ़िल्म में नक्श साहब से गीत लिखवायेंगे, पर वह दिन आने से पहले ही मदन जी अचानक इस दुनिया को छोड़ कर चले गये। उसी मुलाक़ात में जब नक्श साहब से यह पूछा गया कि मदन जी का कौन सा गीत उन्हें सर्वाधिक पसन्द है, तो उन्होंने फ़िल्म 'अनपढ़' के "आपकी नज़रों ने समझा" की तरफ़ इशारा किया। नक्श साहब ने यह भी बताया कि इसी गीत के मीटर पर उन्होंने फ़िल्म 'दिल की राहें' में ही एक गीत लिखा था "आप की बातें करें या अपना अफ़साना कहें, होश में दोनो नहीं हैं किसको दीवाना कहें"। पर "रस्म-ए-उल्फ़त" ही ज़्यादा मशहूर हुआ।

उस्ताद रईस ख़ाँ

मदन मोहन के गीतों में बहुत बार हमें सुन्दर सितार की ध्वनियाँ सुनने को मिली हैं। अन्य गीतों की तरह "रस्म-ए-उल्फ़त" में भी जो सितार के सुरीले पीस बजे हैं, उन्हें बजाया है सितार के उस्ताद रईस ख़ाँ साहब ने। ख़ाँ साहब उस्ताद विलायत ख़ाँ साहब के भतीजे थे। विलायत ख़ाँ साहब मदन जी के दोस्त हुआ करते थे। इस तरह से रईस ख़ाँ मदन मोहन के सम्पर्क में आये और पहली बार सन 1964 की फ़िल्म 'पूजा के फूल' के गीत "मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है" में सितार बजाया था। विविध भारती के लोकप्रिय कार्यक्रम 'उजाले उनकी यादों के' के शीर्षक संगीत में इसी गीत के शुरुआती संगीत का अंश सुनाई देता है जिसे रईस ख़ाँ साहब ने बजाया था। इस गीत के बाद मदन जी के बहुत सारे यादगार गीतों में उन्होंने सितार बजाया और सितार के इन टुकड़ों ने गीतों को सजाने-सँवारने में अलंकार का काम किया। मदन मोहन सितार से इस तरह जज़्बाती रूप से जुड़े थे और ख़ास तौर से रईस ख़ाँ के साथ उनकी टाइमिंग कुछ ऐसी जमी थी कि 1974 में जब किसी ग़लतफ़हमी की वजह से एक दूसरे से दोनो अलग हो गये तब मदन मोहन ने अपने गीतों में सितार का प्रयोग ही बन्द कर दिया हमेशा के लिए। वो इतने ही हताश हुए थे। इस वजह से मदन मोहन के अन्तिम दो वर्षों, अर्थात 1974 और 1975 में 'मौसम', 'साहिब बहादुर' आदि फ़िल्मों के गीतों में हमें सितार सुनने को नहीं मिले। नक्श साहब की ख़ुशक़िस्मती थी कि 1973 में 'दिल की राहें' बन गईं और उनकी इस अमर ग़ज़ल को रईस ख़ाँ साहब के सितार ने चार चाँद लगाये। बस इतनी सी थी आज के गीत की दास्तान। लीजिए, अब आप यही गीत सुनिए। गीत आरम्भ होने से पहले मदन मोहन की ही आवाज़ में वह टिप्पणी भी सुनिए जिसका उल्लेख इस आलेख के आरम्भ में किया गया है। गीत के अन्त में उस्ताद रईस खाँ का बजाया सितार पर झाला भी आप सुन सकते हैं।


फिल्म - दिल की राहें : 'रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएँ तो निभाएँ कैसे...' : गायिका - लता मंगेशकर : संगीत - मदन मोहन : गीत - नक्श लायलपुरी 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ